electrical system works in vehicles – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

electrician. light switch. busbar. switchgear. ac current. ac and dc current. ac dc current electrical current.

इलेक्ट्रिकल सिस्टिम ka mhatva. इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य. Electrical और Electronic सिस्टिम कैसे काम करता है. इलेक्ट्रिकल सिस्टिम ka mahtv kary.इलेक्ट्रिकल सिस्टिम ka Upyog kaise kare? इलेक्ट्रिकल सिस्टिम in Hindi. 

 

electrical system works in vehicles - इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

Electrical system ka Upyog Kaise kare – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

नमष्कार, दोस्तों apna sandesh वेब पोर्टल पर आपका स्वागत है. आज हम वाहनों के इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली के बारे में जानकारी प्राप्त करने वाले है. तो इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम क्या है? और यह कैसे काम करता है? वाहनों में इलेक्ट्रिकल सिस्टिम कैसे काम करता है, [How the electrical system works in vehicles], इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय कैसे करे, [Electrical System kaise kam karta hai], वाहन में विद्युत प्रणाली का कार्य क्या है [What is the function of electrical system in vehicle], यह सभी जानकारी हम आज के लेख में जानने वाले है. तो आइये फ्रेंड्स जानते है.

alternating current. direct current. electric current definition. 1 ampere

वाहनों में विद्युत प्रणाली का महत्व [electrical system works in vehicles]:

तो दोस्तों सभी वाहनों में इलेक्ट्रिकल प्रणाली कैसे काम करती है, उसके घटको के बारे में सविस्तर जानकारी प्राप्त करेंगे. उपयुक्त विषय की जानकारी प्राप्त करने से पहले इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली के कुछ मौलिक शब्दों का विवरण आपको बता देते है.

alternating current. direct current. electric current definition. 1 ampere

मौलिक शब्द | इलेक्ट्रिकल सिस्टम का महत्व

ऐम्पियर (Amps) :- यह एक इलेक्ट्रॉन प्रवाह की इकाई है. ऐम्पियर के उपयोग से कितने इलेक्ट्रॉन एक चालक (कंडक्टर) में एक सेकण्ड
में कितने प्रेरित हो रहे जान सकते है. इसे Amps (A) नामक यूनिट दिया है.

वोल्ट (Volts) :- यह विद्युत विभक (इलेक्ट्रिक पोटेनशल) का मापक है. Volts (V) = E (इलेक्ट्रोमोटिव्ह बल)

रेजिस्टेन्स (प्रतिरोधक) (Ohms या Ω) :- ओहम प्रतिरोधक की इकाई है. Ohms (Ω) = R (प्रतिरोध इलेक्ट्रॉन का प्रवाह)

ओहम का नियम :- सर्किट में विद्युत प्रवाह का प्रवाह उपयोग किए गए वोल्टेज और प्रतिरोध के लिए सीधे आनुपातिक है।ओहम के नियम को समीकरण के रूप में व्यक्त किया गया है, जो वोल्ट (E या EMF) विद्युत धरा के प्रवाह (I) और प्रतिरोधक (R) के बिच संबंध दिखता है.

E = I * R or VOLTAGE = AMPS * RESISTANCE

Ohms Law:- V = I * R

 

 

शक्ति (Power) :- कई सारे विद्युत उपकरणों का मुल्यांकन करने के लिए पावर का उपयोग किया जाता है. शक्ति के खपत को Watt में
किया गया है जो (W) से निर्दिष्ट किया गया है. शक्ति, वोल्ट, और विद्युत धारा को विभिन्न समीकरणों में व्यक्त किया है.

W = E * I

W = V * I

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

विद्युत प्रणाली के प्रमुख घटक :-

electrical system works in vehicles - इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

बैटरी :- आप जानते है की बैटरी का उपयोग वाहनों में विद्युत शक्ति के पूर्ति के लिए होता है. जिससे गाड़ी की स्टार्टिंग मोटर स्टार्ट होकर इग्निशन सिस्टिम तक विद्युत धारा कम करती है. बैटरी कुछ समय तक ऊर्जा भंडार करती है. जिससे गाड़ी को स्टार्ट किया जा सकता है. आधुनिक समय में सभी वाहनो में इलेक्ट्रिक सिस्टिम का उपयोग किया जाता है.

बैटरी ऐसी प्रणाली है जो पुरे वाहन को शक्ति प्रदान करती है. जब इंजिन बंद रहता है तब सभी इलेक्ट्रॉनिक सहायक को विद्युत ऊर्जा प्रदान करने का काम बैटरी करती है. बैटरी में विद्युत ऊर्जा का उत्पादन रासायनिक प्रक्रिया द्वारा होता है. बैटरी कितनी मात्रा में ऊर्जा उत्पन कर सकती है यह उसके आकार, प्लेट, भार, ये सब सामग्री से और लिड एसिड इलेक्ट्रोलाइट पर निर्भर है.

Read mora – electrical engineer kaise bne 

alternating current. direct current. electric current definition. 1 ampere

लिड एसिड बैटरी के विभिन्न घटक –

1. पोझिटिव प्लेट,

2. निगेटिव प्लेट,

3. सेपरेटर,

4. इलेक्ट्रोलाइट,

5. कवर,

6. इंटर सेल कनेक्टर्स,

7. टर्निनल,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

इलेक्ट्रिकल सिस्टम के मुख्य भाग और महत्व –

स्टार्टिंग मोटर :- स्टार्टिंग मोटर बैटरी से डायरेक्ट करंट को Traction (कर्षण) करके इंजिन को चालू करती है. जब स्टार्टिंग मोटर इंजिन को ट्रैक्शन करती है तो बैटरी से कुछ समय तक (4 – 5 सेकण्ड) 250 Amps विद्युत धारा track होती है.

अल्टरनेटर [Alternator]:- अलटरनेटर में इंजिन चल रहा होता है तो अल्टरनेटर इंजिन के एक पुल्ली के साथ V बेल्ट से चलाया जाता है, और उसीसे अल्टरनेटिंग करंट उत्पन होता है. और रेक्टिफायर के सहायता से Alternating current को Visible current में परिवर्तित करता है. जब इंजिन चल रहा होता है तो चार्जिंग सर्किट के मदत से बैटरी को करंट प्रदान करता है.

इग्निशन कॉइल [Ignition coil] :- यह एक ट्रान्सफार्मर जैसा यूनिट होकर इसे इंजिन के इग्निशन सिस्टिम में फिट किया जाता है. जिसके मदत से 12 वोल्ट डी -सी (डाइरेक्ट करंट) को 2200 वोल्ट डी – सी में कन्वर्ट करके लो टेंशन को हाय टेंशन करंट में प्रवृत करके स्पार्क
प्लग को प्रदान करता है.

डिस्ट्रीब्यूटर [distributor]: – डिस्ट्रीब्यूटर का कार्य हाय टेंशन करंट को फायरिंग क्रम के नुसार स्पार्क प्लग को वितरित करना होता है.

alternating current. direct current. electric current definition. 1 ampere

अन्य महत्वपूर्ण उपकरण :- हेड लाइट, साइड लाइट, रिअर लाइट, ब्रेक लाइट, रिवर्स लाइट, फॉग लाइट, इंडिकेटर लाइट, हार्न, स्क्रीन वाइपर, इंधन पंप, सेंसर ये सब बैटरी के विद्युत ऊर्जा से चलाये जाते है.

यह जरूर पढ़े –

 

Inspection supervision:

Overview:- electrical system works in vehicles – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

Name- electrical system ka Mahtva – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से electrical system works in vehicles – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख
को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें…

 

Thank you Dosto

 

Tags:- electrical system works in vehicles – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य. Electrical System ka mahtva.

silver rate today. eddy current. electric current. current stock market. alternating current. current gold price.

Post Comments

error: Content is protected !!