Peppermint is potent veg – Peppermint (पुदीना) एक गुणकारी वनस्पति

Peppermint ( पुदीना ) एक गुणकारी वनस्पति – Peppermint is potent veg, पुदीने के चमत्कारी फायदे – Miracle Benefits of Mint, पुदीना के महत्वपूर्ण लाभ [Significant benefits of Peppermint], पुदीना वनस्पति के फायदे [Benefits of Mint Vegetable], आयुर्वेदिक पुदीना के फायदे [Benefits of Ayurvedic Mint] सभी जानकारी हम आपकी भाषा हिंदी में जानने वाले है.

पिपरमिंट का नाम सूनते ही च्विंग गम याद आता है,  इस पिपरमिंट को हिन्दी में विलायती पुदीना (Pudina in hindi) भी कहते हैं. आयुर्वेद में पिपरमिंट के पत्तों (mint leaves) का प्रयोग कई तरह के बीमारियों के लिए इस्तेमाल किया जाता है. ये मूल रुप से यूरोप में पाया जाने वाला पौधा है.

नमस्कार, apnasandesh.com वेब पोर्टल में आप सभी का स्वागत है. दोस्तों आज इस का आर्टिकल के माध्यम से हम महत्वपूर्ण गुणकारी वनस्पति ”पुदीना” के बारे में जानने वाले है.

Peppermint is potent veg – Peppermint (पुदीना) एक गुणकारी वनस्पति

दोस्तों, आप आए दिन अपनी सेहत के लिए बहुत मेहनत करते हैं. स्वास्त अच्छा होना जरुरी है इसलिए हम योगा या ध्यान करते है. इसके साथ हमे स्वास्त अच्छा रखने के लिए कुछ आयुर्वेदिक मेडिसिन का भी उपयोग करना जरुरी है. हमारे प्रकृति में ऐसी बहुत सारि मेडिसिन है जो बड़े बड़े रोगों को दूर करती है. प्राचीन वर्ष में, मनुष्यों ने अपने स्वास्थ्य को आयुर्वेद और योग अभ्यास के माध्यम से स्वस्थ रखते थे. लेकिन अभीके जमाने में प्रदुषण बढ़ रहा है और मानवी जीवन कम होते जा रहा है.  दोस्तों हमारे भारतीय संस्कृति के अनुसार आयुर्वेद में बहुत मेडिसिन का रहस्य छुपा है, लेकिन हमे पता नहीं की कोनसा पौधा किस बिमारी के लिए उपयोगी होता है. दोस्तों आज हम  इस आर्टिकल के माध्यम से आयुर्वेद के पुदीने का उपयोग जानने वाले है.

Peppermint ( पुदीना ) एक गुणकारी वनस्पति - Peppermint is a potent vegetable

Peppermint (pudina) अत्यन्त सुगन्धित क्षुप (shrub) होता है. इसके तेल और रस आदि का इस्तेमाल इलाज में किया जाता है. यह एक 30-60 सेमी ऊँचा, सीधा, सुगन्धित पौधा होता है. इसका तना सीधा, बैंगनी, हरे रंग का, चार कोणों वाला तथा शाखा-प्रशाखायुक्त होता है. peppermint का दर्दनिवारक गुण कई तरह के बीमारियों से राहत दिलाने में मदद करता है, जैसे- दांतों का दर्द, पेट का दर्द, सर का दर्द, पेट की गड़बड़ी आदि. चलिये आगे जानते हैं कि पिपरमिंट खाने के अलावा किन-किन बीमारियों के लिए उपचार स्वरुप प्रयोग किया जाता है.

Peppermint ( पुदीना ) एक गुणकारी वनस्पति [Peppermint is a potent vegetable] :

1.  आयुर्वेद के अनुसार हरा Peppermint पेट दर्द , खाना हजम नहीं होना , खट्टी डकार के लिए उपयोगी होता है.

2.   एक रिसर्च के अनुसार पुदीने का तेल साइनस की समस्या में भी मदद करती है क्योंकि इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है।

3.  Peppermint का उपयोग सुप व सॉस , रायता आदि को सुगंधित करने के लिए किया जाता है.

4.  इसका रस 20 ग्राम एक ग्लास पानी में 25 ग्राम शहद मिलाकर पिने से गैस की बीमारी में लाभ होता है.

5.  हरा Peppermint पीसकर चहरे पर 20 मिनिट तक लगाकर रखे यह त्वचा की गर्मी निकाल देता है.

6.  अरुचि की शिकायत होने पर आधा छोटा चम्मच जीरा , थोड़ा सा हींग , काली मिर्च पाउडर व नमक को सूखे Peppermint में घोलकर पि ले राहत मिलेगी.

7.  गर्मियों में पुदीना, नींबू के साथ खाएं, आपको अच्छा आराम मिलेगा.

8.  दस्त होने पर हर दो घंटे में Peppermint का जूस पिएं.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े………

AUTOMOBILE  TECHNOLOGY    NATURE (  प्रकुर्ती  )
1. वाहन चलाने के नियम, पंजीकरण और ड्रायविंग लाइसेंस 1. Rain Gage बनाने के आसान तरीके
2. वाहन सर्विसिंग और जॉब कार्ड  2. पानी को कैसे बचायें
3. ऑटोमोबाइल वाहन की नई तकनीक और विकास 3. सौर ऊर्जा का महत्व

Peppermint ( पुदीना ) एक गुणकारी वनस्पति - Peppermint is a potent vegetable

 

Peppermint ( पुदीना ) के फायदे (Benefits of peppermint)

1.  Peppermint कच्चे आम , प्याज , नमक , जीरा , हरी मिर्च , काला नमक आदि से बनी चटनी बहुत पौस्टिक होती है. यह खाना आसानी से पचाती है.

2. इसकी चटनी बहुत स्वादिष्ट लगती है और रस पीने में भी स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक होता है.

3.  खाना हजम ना होना , खट्टी डकार की शिकायत होने पर ताजे पानी के साथ Peppermint का रस डालकर सेवन करे.

4.  धुप के कारन त्वचा सावली हो जाती है. त्वचा का सावलापन दूर करने के लिए 50 ग्राम Peppermint की पत्तिया , 10 ग्राम चिरंजी को रातभर पानी में भिगोकर रखे.  सुबह पीसकर उसमे चुटकी भर हल्दी मिलाकर चेहरे को धो ले.

5.  चेहरे पर अच्छा निखार आता है और चेहरा चमकने लगता है.

Read More – Organic kheti ke labh

 

Peppermint ( पुदीना ) के नुकसान [Disadvantages of Peppermint]:

1. अधिक पुदीना खाने से मुंह सूखना, मतली और उल्टी जैसे लक्षण हो सकते हैं. जो ऐसे रोगी हैं उन्हें बिल्कुल नहीं खाना चाहिए.

2. पुदीने के पत्तों का सेवन अधिक मात्रा सेवन हमारे गुर्दे और आंतों के लिए नुकसानदेह साबित होता है.

3. किडनी रोगियों को इसका सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.

4. यदि आप एक गर्भवती महिला हैं और स्तनपान करवा रही हैं, तो आपको पुदीना खाने से बचना चाहिए.

5. 8 साल से ऊपर के बच्चों के लिए पुदीना का तेल सुरक्षित माना जाता है, लेकिन यह नवजात शिशुओं को नुकसान पहुंचा सकता है.

6. यह वैवाहिक जीवन का आनंद लेने की इच्छा को कम करता है.

7. यदि आपके शरीर में हाइड्रोक्लोरिक एसिड ( Achlorideria ) का उत्पादन नहीं हो पा रहा, तो पेपरमिंट ऑयल का उपयोग नहीं करना चाहिए. इससे पाचन प्रक्रिया गड़बड़ा सकती है.

8. यह हमारे ब्लड शुगर को कम करता है. अत: जो मधुमेह रोगी है उन्हें पुदीने की चाय पीने से पहले डॉक्टर से संपर्क कर लेना चाहिए क्योंकि आपके डायबीटिज के दवाई के साथ मिलकर यह उलटा प्रभाव भी डाल सकता है.

 

conclusuon

दोस्तों आयुर्वेद के अनुसार Peppermint एक महत्वपूर्ण वनस्पति है, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है.

इसे उपयोग में लाने से पहले किसी अच्छे आयुर्वेद चिकित्सक की सलाह ले.

याने आपके स्वास्त के लिए Peppermint और भी अच्छा और गुणकारी हो सकता है.

उम्मीद है दोस्तों आपको पुदीना के लाभ और नुकसान समज आये होंगे इस तरह की जानकारी पाने के लिए हमारे apnasandesh.com से जुड़े रहे.

धन्यवाद ………

 

यह भी जरुर पढ़े

1.  परीक्षा का डर दूर करे 

2.  तुलसी है एक वरदान 

3.  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

4.  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

5.  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

6.  गुणकारी दही के लाभ 

7.  पनीर सलाद कैसे बनाए 

8.  रक्त और हिमोग्लोबिन 

9.  विटामिन के लाभ 

10.  संतुलित आहार के फायदे 

11.  5 ” S ” का महत्व 

1.  पढाई कैसे करे 

2.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

3.  मल्टीमीटर का उपयोग

4.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

5.  सफल होने का रहस्य 

6.  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

7.  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

8.  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

9.  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

10.  जी आय पाइप फिटिंग

11.  दमदार टेक्नोलॉजी

Post Comments

error: Content is protected !!