इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी – Electric Pump ka upyog kaise kare?

Basic Information on Electric Pump, इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी – Electric Pump ka upyog kaise kare? Electric Pump ke Prakar kitane hai? Kheton me Electric Pump ka Istemal kare, इलेक्ट्रिक पंप ki jankari in Hindi.

इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी - Electric Pump ka upyog kaise kare?

इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी – Electric Pump ka upyog kaise kare?

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का हमारे वेब पोर्टल Apnasandesh.com पर स्वागत है. दोस्तों आज हम इस लेख से आपको विद्युत पंप के बारे में जानकारी देने वाले है. घर काम, उची इमारते, औद्योगिक क्षेत्रों, और खेती, आदि में विद्युत पंप का उपयोग करते है.

पंप के माध्यम से कई द्रव पदार्थ और वायु पदार्थ यांत्रिकी माध्यम से खींचे जाते है. पंप की कार्य पद्धत मुख्य रूप से विद्युत ऊर्जा पे
निर्भर है. उदा. इलेक्ट्रिकल एनर्जी, टेक्निकल एनर्जी, इंजन, विंड एनर्जी, तकनीकी प्रणाली से पानी का उपसा, और इलेक्ट्रिक पंप आदि के लिए उपयोग किया जाता है.

 

विद्युत पंप के अलग अलग भाग [Different parts of the electric pump]

  • केसिंग [Casing] : केसिंग यह एक ऐसी प्रणाली है जिसके माध्यम से बाहरी गुणों की रक्षा की जाती है.
  • मोटर [Motor] : पंप को पावर देने वाला एकमात्र एकक, मतलब की AC और DC यह मोटर के ऊर्जा स्त्रोत है.
  • इमपेलर [Impeller] : यह एक पंप की गोलाकार चकती है, इस के माध्यम से द्रव पदार्थ को गति मिलती है.
  • शाफ़्ट [Shaft] : यह इमपेलर मोटर से जुड़ा रहता है, इसलिए पंप को पावर मिलता है.
  • व्हॉल्व [wolves] : पंप से द्रव पदार्थ को वहन करने के लिए नियंत्रित करता है.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

विद्युत पंप के प्रकार [Electric pump type] :

पिस्टन पंप : पिस्टन पंप एक प्रणाली है जिसे आप सभी जानते है. पिस्टन पंप याने हैंड पंप होता है, जिसे हम बोअरवेल के नाम से भी जानते है. ऐसे पंप विद्युत मोटर, डिझेल इंजिन, हवा का दबाव आदि घटको से उपयोग में लाए जाते है.

इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी - Electric Pump ka upyog kaise kare?

 

पिस्टन पंप के भाग [Piston pump parts] :-

सिलेंडर – मजबूती के लिए बाहर से लोहे का उपयोग और करोझन से बचने के लिए अंदर से पीतल की कोटिंग होती है.

पिस्टन – यह घटक सिलेंडर में दाहे – बाहे या ऊपर – निचे होता है. इस के माध्यम से पानी को जमीन से ऊपर लाया जाता है.

व्हॉल्व – इस सिस्टिम से पानी का प्रवाह एक ही दिशा में होता है, अगर दिशा बदले तो यह लॉक हो जाता है.

 

Piston pump के विशेष गुण [Special Qualification]:-

ऐसे पंप कम गति पर चलते है. इसलिए इसे हैंड पंप के नाम से भी जानते है.

सिलेंडर को पानी में एक बड़े से रॉड पाइप के अंदर से ऊपर एक मोटर या हैंडल को जोड़ते है. इसलिए यह (200 – 300 फिट) निचे से पानी को ऊपर लाने में मदत होती
है.

ऐसे पंप को प्राइमिंग (पहलेसे पानी भरना) की जरुरत नहीं होती.

यह जरूर पढ़े –

सेंट्रीफ्यूगल पंप [Centrifugal pump] ka Upyog kaise kare :

इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी इस लेख में हम देख रहे है. और Centrifugal pump एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. यह गोल घूमने वाले पंखो से पानी बाहर की और फेकता है, बिच की पोली जगह से बहार के पानी को खींचा जाता है, और दोनों फ़ोर्स को एक ही दिशा में सर्कुलेट किया जाता है.

इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी - Electric Pump ka upyog kaise kare?

Centrifugal pump की रचना [Formation] kaise hai?

Centrifugal pump सेंट्रीफ्यूगल के सिद्धांतो पर चलता है. सेंट्रीफ्यूगल पंप के केसिंग पर इमपेलर लगा होता है. पानी खींचने के लिए इनकमिंग बाजु से सक्शन पाइप लगया जाता है. हर बार प्राइमिंग रोकने के लिए सक्शन के ऐड को फुट व्हॉल्व लगा होता है.

और पंप बंद होने पर पानी के बहाव को रोक देता है. याने दुबारा पंप ऑन करने पर पानी भरना नहीं पड़ता. पानी को ऊपर लेने के लिए आउट लेट पाइप का उपयोग करते है. पंप को यांत्रिक शक्ति देने के लिए इलेक्ट्रिक मोटर लगाई जाती है.

 

Centrifugal pump के विशेष गूण [Special resonance]:-

प्राइमिंग – शुरुआत में हवा का दाब कम होने से पानी को पंप में डालना पड़ता है, और फिर दबाव ज्यादा होने से पानी बाहर खींचा जाता है.

यह पंप का रोटेशन अधिक गति में होना चाहिए, इसलिए मोटर या इंजिन हमेसा उपयोग में लाया जाता है.

सक्शन पाइप के निचे फुट व्हॉल्व लगाने से पानी लॉक हो जाता है और दुबारा पंप चालू करने में आसानी जाती है.

 

सबमर्सिबल पंप [submersible pump] ka Upyog:

दोस्तों सबमर्सिबल पम्प के बारे में आप सभी जानते है. यह एक पानी के अंदर उपयोग में आने वाला स्त्रोत है. यह जमीन के अंदर के पानी को ऊपर लाने की विशेषता रखता है.

वर्तमान में सभी जगह सबमर्शिबल पंप का उपयोग किया जा रहा है. इस पंप में पानी के खिचाव के लिए नए इम्पेलर का इस्तेमाल किया जाता है. पंप में अलग अलग स्टेज होते है जिस के माध्यम से निचे का पानी ऊपरी हिसे में जल्दी आता है.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

Inspection supervision:

Overview:- इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी – Electric Pump ka upyog kaise kare?

Name- Electrical Pump ka Mahtva – इलेक्ट्रिकल सिस्टिम का परिचय और कार्य

 

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से इलेक्ट्रिक पंप की मूल जानकारी – Electric Pump ka upyog kaise kare? के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें…

 

Thank you Dosto

 

 

 

Post Comments

error: Content is protected !!