vahan chalane ke niyam kya hai | Vehicle driving rules, registration and DL kaise kare?

वाहन चलाने के नियम kya hai, पंजीकरण kaise kare, driving लाइसेंस का उपयोग कैसे करे, RTO क्या है? वाहनों का पंजीकरण कैसे करते है. वेहिकल driving रूल्स क्या है? Vahan Chalane ke niyam, Driving License ke prakar kitane hai, in Hindi.

वाहन चलाने के नियम, - Vehicle driving rules, registration and driving license

वाहन चलाने के नियम,  – Vehicle driving rules, registration and driving license

नमस्कार, प्रिय पाठक आप सभी का हमारे apna sandesh वेब पोर्टल पर स्वागत है. दोस्तों ड्राइविंग नियमों की अवधारणा का मूल विचार यातायात को अधिक संगठित और सुरक्षित बनाता है, इसीलिए हम इस लेख के माध्यम से वाहन चलाने के नियम क्या है [What are the rules for driving a vehicle?], पंजीकरण कैसे करे [How to register], ड्रायविंग लाइसेंस का उपयोग कैसे करे? [How to use a driving license] RTO क्या है? [What is RTO ] वाहनों का पंजीकरण कैसे करते है. वाहन चलाने के नियम [Vehicle driving rules] क्या है? सभी जानकारी हम हिंदी में आगे देखने वाले है. driving, driving, driving.

तो दोस्तों हम देखते है की वाहन चलाने के लीये नियम बहुत महत्वपूर्ण होते है इसलिए सरकार ने नागरिको के लिए वाहन चलाने के नियम बनाए गए है जिससे इंसान की सुरक्षा होती है. इस नियमो का पालन प्रत्येक व्यक्ति, प्रत्येक नागरिक को करना चाहिए. यदि आप इसका उल्लघन करते है तो आपको जुर्माना [Penalty] देना होगा या अदालत के सामने पेश होना होगा.

 

यह भी पढ़े ☛
यातायात के नए नियम 2019 – New traffic rules – road safety rules

 

नियम और उनके नियमो की संख्या के साथ जुर्माने का विवरण :-

पंजीकरण – Registration :- तो देखिये दोस्तों जब एक वाहन को खरीदा जाता है तो राज्य परिवहन कार्यालय में इसका पंजीकरण [Registration] किया जाता है. सभी जिलों में सड़क परिवहन कार्यालय (RTO) होता है. यह आर.टी.ओ. सड़क पर चलने वाले वाहनों को एक पंजीकरण [Registration] संख्या देता है. प्रत्येक वाहन को पंजीकरण प्लेट लगाईं जाती है, जिसे सामान्य तौर पर नंबर प्लेट कहते है और इन नंबर प्लेटो को वाहन के आगे या पीछे लगाया जाता है.

 

पंजीकरण के नियम और प्रक्रिया [Registration Rules and Procedures]:-

पंजीकरण के नियम में जब कोई भी व्यक्ति किसी मोटर वाहन को या Motor vehicle मालिक अपने वाहन को किसी सार्वजनिक या अन्य स्थान पर तब तक नहीं चला सकता, जब तक वह भारतीय Motor vehicle अधिनियम 1988 के अध्याय 4 के अनुसार अपने वाहन का पंजीकरण नहीं करता .

 

पंजीकरण कहा कराया जाए [Where to register]

दोस्तों मोटर वाहन के प्रत्येक मालिक को पंजीकरण वृत्तचित्र द्वारा अपना वाहन पंजीकृत करना होगा, जिनके अधिकार क्षेत्र में उसका निवास या व्यापार का स्थान है. जहा सामान्य तौर पर वाहन को रखा जाता है.

 

अस्थायी पंजीकरण क्या है [What is temporary registration]

जब हम अस्थायी पंजीकरण करते है तो उसके के लिए आवेदन केंद्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के फॉर्म 20 में किया जाता है. जो पंजीकरण के लिए निर्धारित है. और अधिनियम के तहत पंजीकरण करने वाले प्राधिकारी या परिवहन आयुक्त द्वारा मान्यता प्राप्त किये गए नए मोटर वाहनों की बिक्री करने वाले डीलर द्वारा इस पर ”अस्थायी” अंकित किया जाता है.

अस्थायी पंजीकरण में यह अनिवार्य नहीं है की प्रपत्र में 23 से 32 तक भरा जाए, इसके बावजूद की यह एक परिवहन वाहन है.

 

स्थायी पंजीकरण क्या है [What is permanent registration]

स्थायी पंजीकरण [ermanent registration] में मोटर वाहन के पंजीकरण के लिए आवेदन पंजीकरण में उक्त वाहन की डिलीवरी की तारीख के 7 दिनों के भीतर फॉर्म 20 में किया जाना चाहिए, यात्रा की अवधि को छोड़कर और फॉर्म 21 में बिक्री प्रमाण पत्र के साथ.

फॉर्म 22 में निर्माता से सड़क पर चलने का प्रमाण पत्र (निकाय के निर्माता से फॉर्म 22)

  • वैध बीमा प्रमाणपत्र
  • पते का प्रमाण (राशन कार्ड, बिजली बिल इत्यादि.)
  • ट्रेलर या सेमी ट्रेलर के मामले में एसटीइए की अनुमोदन प्रती
  • पूर्व सेना वाहन होने के मामले में प्रपत्र 21 में संबधित प्राधिकारियों की और से मूल बिक्री प्रमाणपत्र
  • प्रदूषण नियत्रण अधीन प्रमाणपत्र
  • आयात किए गए वाहनों के मामले में सिमा शुल्क समाशोधन प्रमाणपत्र
  • सीएमवी नियमो के नियम 81 में निर्दिष्ट उपयुक्त शुल्क driving, driving, driving.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

ड्राइविंग लाईसेंस (Driving License kaise banaye) –

तो दोस्तो जैसे की आप जानते है की वाहन चलाने के लिए हर एक व्यक्ति या चालक के पास उसे चलाने का एक वैध दस्तावेज (प्रमाणपत्र) होना चाहिए और इस दस्तावेज को ड्राइविंग लाइसेंस [driving license] कहते है, और हम उसे ड्रायवर का लाइसेंस / ड्रायविंग लाइसेंस कह सकते है. यह अधिकारिक दस्तावेज है जिसमे बताया जाता है की यह व्यक्ति एक मोटर वाहन, जैसे मोटर साइकल, कार, ट्रक या बस को सार्वजनिक सडको पर चला सकता है. सभी वाहनों को चलने की न्यूनतम आयु 18 वर्ष है, जबकि ५० सीसी से कम क्षमता वाली मोटर साइकल को 16 वर्ष की आयु में चलाया जा सकता है.

 

मोटर वाहन अधिनियम, 1988 के अनुसार, सार्वजनिक सड़कों पर मोटर वाहन चलाने के लिए एक वैध ड्राइविंग लाइसेंस अनिवार्य है.

  • ड्राइविंग लाइसेंस यह मोटर वाहन निरीक्षक के कार्यालय में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (RTO) द्वारा व्यक्ति के वाहन चलाने की परीक्षा पास करने में और आवश्यक आयु सिध्द हो जाने पर जारी किया जाता है.
  • भारत में ड्राइविंग लाइसेंस को बहुत प्रकार में बाटा गया है जैसे मोटर साइकल की लाइसेंस , लाईट मोटर वाहन (LMV) लायसेंस तथा हैवी मोटर वाहन (HMV) लाइसेंस.
  • मोटर सैद्धांतिक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद शिक्षार्थी का लाइसेंस जारी किया जाता है.
  • ड्राइविंग लाइसेंस का विधान सड़क विनियमन के नियम और मोटर वाहन अधिनियम, 1988 के माध्यम से तय किया जाता है.
  • वाहन के ड्राइवर को वाहन चलते समय लाइसेंस की मूल प्रति अपने साथ रखनी जरुरी है.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

 

भारत में ड्राइविंग लाइसेंस के प्रकार – Types of Driving License in India

जब हम कोई भी वाहन चलाते है तो किसी सार्वजनिक स्थान पर मोटर चलने के लिए एक प्रभावी ड्राइविंग लाइसेंस बहुत जरुरी है. प्रभावी ड्राइविंग लाइसेंस का अर्थ एक व्यक्ति को उस विशेष श्रेणी के वाहन चलाने का अधिकार प्रदान करना. आर टी ओ [RTO] कार्यालयों द्वारा अलग अलग प्रकार के लाइसेंस जारी किए जाते है.

 

लर्निग ड्राइविंग लाइसेंस [Learn driving license]:-

यह अस्थायी लाइसेंस [temporary laisense] है, जो जारी होने की तिथि से 6 माह तक होती है. इसे मूल रूप से मोटर वाहनों को चलना सीखने के लिए जारी किया जाता है.

 

पर्मानेंट ड्राइविंग लाइसेंस [Permanent driving license]:-

स्थायी ड्राइविंग लाइसेंस जारी किया जाता है जो लर्निंग लाइसेंस जारी करने की तिथि से 30 दिन बाद (180 दिन के अंदर आवेदन करने के लिए) इसे पाने के पात्र बन जाते है. ऐसा माना जाता है की एक व्यक्ति को पर्मानेंट ड्राइविंग लाइसेंस तभी मिलती है जब वह वाहन की प्रणाली, उसे चलाने, यातायात के नियमो और विनियमों से अच्छी तरह परिचित रहता है.

 

यह भी पढ़े ☛
यातायात नियमों के बारे में जानकारी 

 

डुप्लीकेट ड्राइविंग लाइसेंस [Duplicate driving license] :-

डुप्लीकेट ड्राइविंग लाइसेंस यह खो जाने या चोरी हो जाने पर जारी किया जाता है और इसके दस्तावेज [Document] जमा किये जाते है . खोए हुए लाइसेंस की एफ.आई.आर. (F. I. R.), आर.टी.ओ. कार्यालय से चालन समाशोधन की रिपोर्ट (वाणिज्यिक लाइसेंस नविकरण के मामले में) और एल.एल.डी. से आवेदन पत्र इन विवरणों का सत्यापन प्राधिकरण द्वारा अपने रिकार्ड के साथ किया जाता ह. यहाँ लाइसेंस की अवधि भी पिछली लाइसेंस के समान होती है. यदि लाइसेंस खो जाता है और 6 माह बाद इसकी अवधि समाप्त हो जाती है, तो इसके लिए परिवहन विभाग के मुख्यालय से अनुमति की जरुरत होती है.

 

अंतरराष्ट्रीय ड्राइविंग लाइसेंस :-

अंतरराष्ट्रीय डाइविंग लाइसेंस में मोटर लाइसेंस प्राधिकरण द्वारा भी जारी किया जाता है. इस लाइसेंस की वैधता एक वर्ष की होती है. देश में आने वाले व्यक्ति को एक वर्ष की अवधि के अंदर वहां से अपना लाइसेंस लेना होता है. पते के प्रमाण और जन्म प्रमाणपत्र के अलावा इसके लिए वैध पासपोर्ट और वैध वीजा के साथ आवेदन किया जा सकता है.

 

मोटर साइकल या टू व्हीलर लाइसेंस [Motor cycle or two wheeler license]:-

 

दोस्तों क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण (RTO) द्वारा दोपहिया लाइसेंस दिया जाता है, जिससे केवल व्हीलर वाहन जैसे बाइक, स्कूटर और मोपेड की अनुमति मिलती है.

 

लाइट मोटर वाहन लाइसेंस ( L. M. V. ) :-

 

लाइट मोटर वाहन लाइसेंस जैसे ऑटो रिक्शा, मोटर, कार, जीप, टैक्सी, थ्री व्हीलर, डिलीवरी वैन अदि को चलाने के लिए लाइसेंस दिया जाता है.

 

हैवी मोटर वाहन लिइसेन्स ( H. M. V.) :-

 

हैवी मोटर वाहन लाइसेंस जैसे ट्रक, बस, टूरिस्ट कोच, क्रेन, आदि को चलाने के लिए लाइसेंस दिया जाता है. एक व्यक्ति के पास HMV लाइसेंस होने पर वह हलके वाहन चला सकता है, किन्तु LMV लाइसेंस रखसने वाला व्यक्ति भारी वहां नहीं चला सकता है.

 

यह आर्टिकल्स जरूर पढ़े…

 

वाहन चलाने के नियम, - Vehicle driving rules, registration and driving license

Inspection supervision:

 

Overview:- वाहन चलाने के नियम,  – Vehicle driving rules, driving license

 

Name- Vehicle driving rules क्या है?, driving license इनफार्मेशन,

 

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से वाहन चलाने के नियम,  – Vehicle driving rules, registration and driving license के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें…

 

Thank you Dosto

 

 

 

 

Post Comments

error: Content is protected !!