Change piston ring in such a way – इंजन पिस्टन रिंग को इस तरह से बदलें

Change piston ring in such a way – इंजन पिस्टन रिंग को इस तरह से बदलें, Piston ring kya hai? piston gol kyo hota hai. Engine piston ring ko change karne ki prakriya in Hindi.

नमष्कार दोस्तों Apnasandesh.com में आप सभी का स्वागत है. दोस्तों इन दिनों Automobile क्षेत्रों में नए नए आविष्कार होते जा रहे है. नए नए प्रकार के वाहन आ रहे है जैसे अभी टेक्नोलॉजी के दुनिया में फ़्लाइंग कार…. इन सभी वाहन की अच्छी देखरेख करते रहने बहुत जरुरी है. लेकिन क्या आपने कभी अपने वाहनों के कुछ महत्वपूर्ण हिस्सों की सर्विसिंग की है? दोस्तों जब हम वाहन खरीदते है तो उसका Maintenance भी करना जरुरी है. नहीं तो आपके वाहन की Life कम हो सकती है. जैसे हम अपने शरीर की देखरेख करते है वैसे ही अपने वाहनो की देखरेख करना जरुरी है.

Piston ring

Automobile वाहनों में ऐसे कई सारे Maintenance प्रक्रिया है जो वाहन की लाइफ बढाती है. लेकिन आज आप इस आर्टिकल के माध्यम से Engine के Piston Ring क्यों बदलना जरुरी है, ना बदले तो क्या हो शकता है, Engine Piston में, Piston Ring क्यों होती है, आदि. सभी प्रश्नो का Solution आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मिलने वाला है.

 

Change piston ring in such a way – इंजन पिस्टन रिंग को इस तरह से बदलें

Piston Ring क्या है [What is Piston Ring] –

पिस्टन रिंग यह Engine Piston Head और Piston Box के Piston Ring Groove में होते है. पिस्टन रिंग का गोलाकार आकार होता है. साधारणतः Piston में दो Ring होते है.

■  Oil Ring

■  Compression Ring

पिस्टन रिंग एक धातु विभाजन रिंग है जो आंतरिक दहन इंजन या स्टीम इंजन में पिस्टन के बाहरी व्यास से जुड़ी होती है.

 

इंजनों में पिस्टन के रिंग के मुख्य कार्य :

१) Combustion chamber को सील करना ताकि Crank मामले में गैसों का कम से कम नुकसान हो.

२) पिस्टन से सिलेंडर की दीवार तक गर्मी हस्तांतरण में सुधार.

३) पिस्टन और सिलेंडर की दीवार के बीच उचित मात्रा में तेल बनाए रखना.

४) सिलेंडर की दीवारों से तेल को स्क्रैप करके इंजन तेल की खपत को विनियमित करना.

 

Ring की रचना –

Piston ring

बहुतांश इंजिन में पिस्टन रिंग तीन होते है, दो Compression Ring और एक Oil रिंग. पिस्टन के ऊपरी हिस्से में दो कम्प्रेशन रिंग और निचले हिसे में Oil Ring होती है. Oil Ring के माध्यम से पिस्टन और सिलिंडर के अंदर के भागो को लुब्रिकेशन करने के लिए बनाया है.

यह आर्टीकल जरूर पढ़े………

AUTOMOBILE  TECHNOLOGY   NATURE (  प्रकुर्ती  )
1. वाहन चलाने के नियम, पंजीकरण और ड्रायविंग लाइसेंस1. Rain Gage बनाने के आसान तरीके
2. वाहन सर्विसिंग और जॉब कार्ड 2. पानी को कैसे बचायें
3. ऑटोमोबाइल वाहन की नई तकनीक और विकास3. सौर ऊर्जा का महत्व

Piston Ring कुछ इस तरह कार्य करती है –

1.  Compression Ring के माध्यम से Cylinder Head और Crank Case में Gas Proof Joint निर्माण करना.

2.  इंजिन में निर्माण होने वाले दबाव को कम करना. Compression Stroke के समय तैयार होने वाले Pressure को सहन करना. Piston Start की झिज ना होने देना, आदि.

3.  Piston Head की Heat, रिंग के जरिए Cylinder  वॉल्व को पहुंचाकर Piston  तापमान कम कम करना.

4.  Oil Ring के माध्यम से जब Piston Cylinder में कार्य करता है तब Lubrication  होता है। और Piston की झिज कम होती है। इसीलिए वाहन अच्छा परफॉर्मन्स देता है.

 

Piston Ring बदलना क्यों जरुरी है [Why it is important to replace the piston ring] –

1. Compression रिंग पर भारी तापमान निर्माण होना.

2. Piston Ring की झिज होना.

3. Ring की गोलाई कम होने से Free End Gap कम होना. आदि….

 

Piston रिंग बदलने के Tips कुछ ऐसे है [Here are some tips to change piston ring]-

1.  अपने वाहन को जमीन से समांतर लगाए.

2.  अब वाहनों के Wheel को सपोर्ट दे ताकि वह हिल ना शके.

3.  अपने वाहन के स्टीयरिंग सिस्टिम के बाजु में Lever को दबाके Bonnet खोले.

4.  अब बैटरी टर्मिनल से Negative और Positive Plug निकाले.

5.  इंजिन के निचले हिस्से में ट्रे लगाए.

6.  आवश्यक टूल्स ( Drain Plug ) का उपयोग कर इंजिन ऑइल बाहर निकाले.

7.  अब वाहनों का कूलिंग सिस्टम भाग निकाले, जैसे रेडिएटर, रेडिएटर फैन, वाटर पंप, रेडिएटर पाइप, होज पाइप, आदि.

8.  इंजिन हीटर कनेक्शन निकाले ,और हीटर लूज करे.

9.  इंजेक्टर को 23 -27 के टूल से निकाले.

10.  rocker arms के सभी बोल्ट लूज करे ,और पूस रॉड को निकाले.

11. अब Cylinder Head के सभी बोल्ट लूज करे और सिलिंडर Head निकाले.

12.  सिलिंडर Head gasket निकाले.

13.  Big End Bearing निकालकर 14 – 15 के spanner से piston  बोल्ट निकाले.

Piston ring

Engine Piston

1.  ऐसे सभी Piston bolt निकाल कर Piston रिंग Groove साफ़ करे.

2.  सभी सिलेंडर bore को अच्छे से साफ़ करे। और सभी Component की जांच करे.

3.  अब Valve Timing सेट करे साथ ही F.I.P. और Tapet सेट करे.

4.  free end gap जांच के लिए  0.002 MM इतना फिलर गेज सेट करे.

5.  Micrometer के माध्यम से फिलर गेज रीडिंग ले. और रीडिंग को नोट करे.

6.  Piston Clearance की जांच करे, आदि.

दोस्तों आपने पिस्टन रिंग के बारे में जाना है, उम्मी है डस्यो आपको यह लेख पसंद आया होगा. इसी तरीकेकी की जानकारी पाने के लिए हमारे apnasandesh.com  से जुड़े रहे.

धन्यवाद……

यह भी जरुर पढ़े

1.  परीक्षा का डर दूर करे 

2.  तुलसी है एक वरदान 

3.  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

4.  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

5.  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

6.  गुणकारी दही के लाभ 

7.  पनीर सलाद कैसे बनाए 

8.  रक्त और हिमोग्लोबिन 

9.  विटामिन के लाभ 

10.  संतुलित आहार के फायदे 

11.  5 ” S ” का महत्व 

1.  पढाई कैसे करे 

2.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

3.  मल्टीमीटर का उपयोग

4.  सफल होने का रहस्य 

5.  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

6.  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

7.  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

8.  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

9.  जी आय पाइप फिटिंग

10.  दमदार टेक्नोलॉजी

Post Comments

error: Content is protected !!