मल्टीमीटर का उपयोग कैसे करे – How to use Multi Meter

मल्टीमीटर का उपयोग कैसे करे – How to use Multi Meter, मल्टीमीटर क्या है – What is multimeter, मल्टीमीटर का उपयोग क्या है – What is the use of multimeter,

दोस्तों आप सभी का हमारे वेब पोर्टल में स्वागत है. दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से Electrical मापन साधन ( मल्टीमीटर – Multi meter ) का परिचय, उपयोग आदि के बारे में जानने वाले है.   मल्टीमीटर एक ऐसा उपकरण है जो कई भौतिक राशियों (प्रायः धारा, वोल्टता, प्रतिरोध, निरन्तरता  आदि) को मापने के काम में आता है. पहले एनालॉग मल्टीमीटर प्रचलन में आये किन्तु Electronics के विकास के साथ आजकल डिजिटल मल्टीमीटर (डी एम एम) भी खूब प्रचलन में आ गये हैं.

दोस्तों मल्टीमीटर का उपयोग विद्युत उपकरण , Current , Voltage आदि को मापने और परिक्षण के लिए किया जाता  है.  यह उपकरण बैटरी और बिजली के साथ संचारित किए जाते है. सामान्य  रूप से इस मेकानिझम का उपयोग Work Shop , Garage , Industries, आदि जगह होता है.

How to use Multi Meter

मल्टीमीटर कुछ तरह के Diode , Measurement , Temperature , Rotation Speed Temperature के लिए design किए होते है. मल्टीमीटर या मल्टीटैस्टर (बहुपरीक्षक), जिसे टव्ड (वोल्ट-ओममीटर) के रूप में भी जाना जाता है, यह एक इलेक्ट्राॅनिक माप उपकरण है जिस में अनेक मापन क्रियाएं एक इकाई में संयुक्त रहती हैं. एक विषिष्ट मल्टीमीटर में ऐसे लक्षण हो सकते हैं जिस में वोल्टेज, करॅन्ट और प्रतिरोध को मापने की क्षमता होती है. मल्टीमीटर, एक हाथ से आयोजित युक्ति हो सकती है, जिसे मूल दोषों को ज्ञात करने और क्षेत्र सेवा कार्य हेतु उपयोग में लाया जाता है. या बेंच आधारित उपकरण जिस से उच्च स्तर का परिषुद्ध मापन किया जा सकता है. इनका उपयोग औद्योगिक क्षेत्र और घरेलू उपकरणों जैसे कि इलेक्ट्राॅनिक उपकरण, मोटर नियंत्रण, घरेलू उपकरणों, बिजलीआपूर्ति, और वायरिंग प्रणाली की विद्युत समस्याओं के दोष निवारण हेतु किया जाता है.

 

मल्टीमीटर के साधारणतः दो प्रकार होते है –

❑  डिजिटल मल्टीमीटर

❑  एनॉलॉग मल्टीमीटर

 

 डिजिटल मल्टीमीटर [Digital Multi meter] :

एक डिजिटल मल्टीमीटर एक परीक्षण उपकरण है जिसका उपयोग दो या अधिक विद्युत मूल्यों को मापने के लिए किया जाता है – मुख्य रूप से वोल्टेज (वोल्ट), करंट (amps) और प्रतिरोध (ओम).  डिजिटल मल्टीमीटर एकल-कार्य मीटर-वोल्टमीटर (वोल्ट को मापने के लिए), एमीटर (amps) और ओममीटर (ohms).) की परीक्षण क्षमताओं को मिलाते हैं.

विद्युत दोष निवारण हेतु डिजिटल मीटर इलेक्ट्रिक सिक्रेटपर निश्चित है. डिजिटल मीटर दोष निवारण हेतु अच्छा performance देता है. डिजिटल मीटर सिर्फ एक संख्यात्मक मूल्य में माप प्रदर्शित करता है. सभी मीटर परिणामी सर्किट या जांच किए हुए भागो के संपर्क में होते है. लिड्स का संपर्क हर समय मीटर के साथ जुड़ा हो शकता है या अलग अलग उपयोग के लिए विभिन्न सॉकेट मे प्लगिंग कर शकते है. जब किसी समय आप सर्किट में Voltage व Current Measure करते है तो निश्चित कीजिए की मीटर ने सर्किट के साथ संबंध बनाए. एक लिड संभवतः Positive ( + ) टर्मिनल के लिए लाल कलर होता है और सर्किट के Positive साइड जोड़ा होता है. दूसरे भाग में संभवतः Negative ( – ) टर्मिनल के लिए काला होता है और वह सर्किट के Negative साइड जोड़ा होता है.

Three Types of Digital Multimeters:

  •  fluke digital multimeter का उपयोग मुख्य रूप से अंशांकन प्रयासों के लिए किया जाता है. इसका उपयोग वोल्ट, धाराओं और अन्य बिजली इकाइयों की जांच के लिए किया जा सकता है.
  •  clamp digital multimeter विद्युत प्रवाह को मापने के लिए अंतर्निहित उपकरणों का उपयोग करता है.
  •  autoranging digital multimeter यह आसान परियोजनाओं के लिए प्रयोग किया जाता है.

How to use Multi Meter

यह आर्टीकल जरूर पढ़े………

AUTOMOBILE  TECHNOLOGY   NATURE (  प्रकुर्ती  )
⍟ वाहन चलाने के नियम, पंजीकरण और ड्रायविंग लाइसेंस⍟ Rain Gage बनाने के आसान तरीके
⍟ वाहन सर्विसिंग और जॉब कार्ड ⍟ पानी को कैसे बचायें
⍟ ऑटोमोबाइल वाहन की नई तकनीक और विकास⍟ सौर ऊर्जा का महत्व

एनॉलॉग मल्टीमीटर[anolog Multimeter]:

एक एनालॉग मल्टीमीटर इलेक्ट्रॉनिक्स टेस्ट उद्योग के भरोसेमंद वर्कहॉर्स में से एक है. एनालॉग मल्टीमीटर बहुत वर्षों से उपयोग में हैं और कभी-कभी वीओए नाम से इस तथ्य के परिणामस्वरूप जाते हैं कि वे वोल्ट्स, ओम और एम्प्स को मापते हैं. ये मल्टीमीटर बहुत लचीले होते हैं और इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में पाए जाने वाले बहुत से दोषों को सक्षम करते हैं.

Read more – vidyut parikshan upakaran

मल्टीमीटर के माध्यम से विभिन्न परीक्षण प्रक्रिया [Various testing procedures through multi-meter] :

व्होल्टेज टेस्ट [Voltage test]:

मल्टीमीटर एक ऐसा इलेक्ट्रिक डिव्हाईस है जो AC और DC व्हॉल्टेज Measure कर सकता है. अब आपके मन में कुछ सवाल आये होंगे की AC और DC व्होल्टेज क्या है. हम आपको बता दे की जो विद्युत प्रवाह बैटरी के संपर्क  निर्माण हुआ वह DC Current और जो विद्युत प्रवाह महावितरण विभाग से है याने ट्रांसफॉर्मर से आता है वह AC व्होल्टेज है. मल्टीमीटर सभी प्रकार के विद्युत current की जांच कर सकता है. Automobile विभाग में सर्किट Measure करने के लिए DC स्विच निश्चित कीजिए. किसी भी बैटरी या अन्य Automobile उपकरणों की जांच करना है तो मल्टीमीटर DC में सेट कीजिए.

 

उदाहरण के लिए :

How to use Multi Meter

✠  बैटरी के मामले के वोल्टेज को मापने के लिए, फिर डीसी को पहले मल्टीमीटर पर सेट करें

✠  अब सकारात्मक (लाल) जांच और नकारात्मक (काला) जांच जोड़ें

✠  मल्टीमीटर की किसी भी मापने वाली इकाई में लाल जाँच रखी जाती है, जैसे कि वोल्ट (V)

✠  Com में ब्लैक एंड ब्लैक चेक डालें

✠  B बैटरी टर्मिनल को मल्टीमीटर जांच से कनेक्ट करें और डिजिटल मल्टीमीटर डिस्प्ले में वोल्टेज रीडिंग को जानें

 

 एमिटर परीक्षण [Ammeter Test]:

सर्किट में मल्टी मीटर प्रोब कनेक्ट करने से पहले Expected range ( अपेक्षित सीमा ) निश्चित कीजिए. याने मल्टीमीटर  माध्यम  एमिटर परीक्षण आसानी से हो सके.

एमिटर परीक्षण के तीन महत्वपूर्ण नियम –

❖यदि मीटर संचलन में नहीं है, तो सर्किट खुलता है और सर्किट जारी नहीं होता है.

❖सर्किट यदि मीटर कम है, तो सर्किट भरा हुआ है, लेकिन एक उच्च प्रतिरोध है.

❖दिखाता है कि मीटर एक उच्च धारा दिखाता है, कुछ सामान्य प्रतिरोध मिट्टी या शॉर्ट सर्किट, आदि के माध्यम से डाला जाता है.

 

ओहममीटर टेस्ट[Ohmmeter Test]:

ओहममीटर बैटरी द्वारा समर्पित है, इसलिए परीक्षण सर्किट की शक्ति को डिस्कनेक्ट करना आवश्यक है. ओहमोमीटर को जोड़कर, सर्किट भाग के समानांतर में खुली या उच्च प्रतिरोध शक्ति खोजना संभव है. अगर मीटर अनंत की पढ़ाई दिखाता है, तो इसका मतलब है कि मीटर चयनित पैमाने पर पढ़ सकता है. शून्य से, इसका मतलब है कि सर्किट के बीच कोई संघर्ष नहीं है, जिसे प्रतिरोध दिखाया जा सकता है.

दोस्तों “मल्टीमीटर का उपयोग कैसे करे” इस लेख में आपने MultiMeter का use कैसे करे यह जाना है, उम्मीद है दोस्तों आपको यह लेख पसंद आया होगा.

धन्यवाद……

 

यह भी जरुर पढ़े

➬  परीक्षा का डर दूर करे 

➬  तुलसी है एक वरदान 

➬  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे 

➬  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

➬  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

➬  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

➬  पनीर सलाद कैसे बनाए 

➬  रक्त और हिमोग्लोबिन 

➬  विटामिन के लाभ 

➬  संतुलित आहार के फायदे 

➬  5 ” S ” का महत्व 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  गुणकारी दही के लाभ  

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

➬  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

➬  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

➬  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

➬  जी आय पाइप फिटिंग 

➬  दमदार टेक्नोलॉजी 

Post Comments

error: Content is protected !!