How come computer in the world – कैसे आए दुनिया में कंप्यूटर

computer in the world – नमष्कार दोस्तों, आपका Apnasandesh.com वेब पोर्टल में दिल से स्वागत करता है. कंप्यूटर की जानकारी कैसे प्राप्त करें [How to get computer information], कंप्यूटर का इतिहास क्या है [What is the history of computer[, कैसे आए दुनिया में कंप्यूटर, How come computer in the world, कंप्यूटर का उपयोग [Computer use], कंप्यूटर क्या है [What is Computer], इस आर्टिकल के माध्यम से कंप्यूटर Related जानकारी प्राप्त होने जा रही है. आप इस लेख को अवश्य पढ़े.

कैसे आए दुनिया में कंप्यूटर - How come computer in the world

How come computer in the world – कैसे आए दुनिया में कंप्यूटर

दोस्तों कंप्यूटर का आविष्कार आज से दो हजार वर्ष पूर्व हुआ था. तब कंप्यूटर की शुरुआत अबेकस के रूप में हुई थी. अबेकस लकड़ी का बना एक rack होता है जिसमें दो तार लगे होते हैं. दोनों तार एक-दूसरे के समानांतर में स्थित होते हैं. तार के ऊपर मणिका आकार का वस्तु लगा होता था. उस मणिका को घुमाकर गणित के किसी आसान प्रश्नों का हल प्राप्त किया जाता था. दूसरे, वहाँ पर एस्ट्रोबेल लगा होता था जिसका उपयोग उसे आपस में जोड़ने में किया जाता था.

सभी आविष्कारों में कंप्यूटर का एक उपयुक्त अविष्कार है जो बदलाव लाने में उपयोगी आ रहा है. कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो सूचना या डेटा में हेरफेर करता है. इसमें डेटा को स्टोर, पुनर्प्राप्त और संसाधित करने की क्षमता है. आजकल, कंप्यूटर का उपयोग जैसे अलग अलग शाखाओ में वस्तु की देखरेख – Supervision of the Item , Billing , Department store , या इसके अलावा Railways, Schools, Airlines, Research Centers, आदि जगह कंप्यूटर एक महत्वपूर्ण साधन माना जा रहा है. कंप्यूटर के प्रमुख लाभ Speed, Accuracy, Diligence, Storage, Automation जिसके माध्यम से दुनिया विकसित हो रही है.

 

शुरुआती कंप्यूटर का इतिहास [History of Early Computer]:

शुरुआत में लोग, संख्या की गणना करने के लिए अपनी उंगलियों और पुरुषों का उपयोग करते थे. अँबँकस

पहला कंप्यूटर समुदाय है, इसकी खोज 5000 साल पहले शुरू हुई थी यह वैज्ञानिको का मानना है की, अभी भी इस कंप्यूटर का उपयोग किया जा रहा है. इस कंप्यूटर का इस्तेमाल मुख्य रूप में गणना के लिए किया जाता है. यह एक प्रकार का यंत्र है जो आयताकार फ्रेम का है जिसमें एक सितारा संलग्न होता है. प्रत्येक स्ट्रिंग में कई रत्न हैं. इस रत्नो का उपयोग गणना करने के लिए किया जाता है.

  •   3000 ई. पूर्व में Abacase का आविष्कार Babylonian ने किया गया था.
  •   1800 ई. पूर्व में संख्या की समस्या के लिए कलन विधि ( Algorithm ) का आविष्कार बेबीलोनियन लोगों ने किया.
  •   500 ई. पूर्व में, मिस्र के लोगों ने मेनिका और वायर एबैकस का आविष्कार किया था.
  •   200 ई. पूर्व में, कंप्यूटिंग ट्रे का उपयोग जापान समुदाय में किया गया था.
  •   1000 ई. पूर्व में, नया ऑरेलिक के Gerbert या पोप द्वारा लाया गया था.
  •   1617 ई. में, स्कॉटलैंड के आविष्कारक, जॉन नेपियर ने सिस्टम के घटाव को विभाजित करने का गुना यंत्र के बारे में बताया था.
  •   पहला क्वाड्रंट कैलक्यूलेटर-घड़ी का आविष्कार 1624 में हेडलबर्ग विश्वविद्यालय के विल्हेम सिकार्ड ने किया था.
  •   पहली संख्यात्मक गणना मशीन 1642 में पेरिस के ब्लेज़ पास्कल द्वारा बनाई गई थी.
  •   1958 ई. में, पहला मिनी कंप्यूटर पीडीपी -8 डिजिटल उपकरण कंपनी से बनाया गया था.

computer in the world

पास्कलाइन की खोज [Invention of Pascaline]:

जब कागज और पेन का उपयोग बढ़ गया, तो गिनती मशीन में सुधार हुआ. 1642 में ब्लेज़ पास्कलाइन ने पास्कल नामक एक सांख्यिकीय चक्र कैलकुलेटर का आविष्कार किया. इस पीतल के आयताकार बॉक्स में, वर्तमान चक्र का उपयोग आठ अंक संख्या देने के लिए किया गया था. लेकिन पास्कलाइन के नुकसान का मतलब था कि इस यंत्र में बेरीज के लिए सीमाएं थीं. इस उपकरण को बेहतर बनाने के बाद, गॉटफ्राइड विलियम वॉन ने गुणा उपकरण का आविष्कार किया. धीरे धीरे विकास होते गए और काँलमर थॉमस ने कॅल्क्युलेटर की रचना की.

computer in the world

चार्ल्स बबेज का शोध [Charles Babbage’s discovery]:

चार्ल्स बैबेज एक अंग्रेजी बहुश्रुत थे वह एक गणितज्ञ, दार्शनिक, आविष्कारक और यांत्रिक इंजीनियर थे, जो वर्तमान में सबसे अच्छे कंप्यूटर प्रोग्राम की अवधारणा के उद्धव के लिए जाने जाते हैं या याद किये जाते है चार्ल्स बैबेज को “कंप्यूटर का पिता”(Father of Computer) माना जाता है.

प्रसिद्ध गणितज्ञ चार्ल्स बैबेज ने एनालिटिकल इंजन नामक विक्टोरियन युग का कंप्यूटर डिजाइन किया.

charles Babbage’s एक English गणितीय प्रोफेसर थे, उन्हें कंप्यूटर के पिता के नाम से संदर्भित किया गया था. Charles Babbage’s नामांकित व्यक्ति ने डिफरनशिअल इंजन का पता लगाने के बाद, सभी गणितीय परिचालन सफल हुए. और धीरे-धीरे Analytical machine का विकास स्पष्ट हो गया जिसमें सभी कठिन गणितीय परिचालन किए जा सकते थे.

computer in the world

कंप्यूटर का विकास – Computer Development

Computer सिस्टम के विकास की चर्चा आमतौर पर विभिन्न पीढ़ियों के विकास के रूप में की जाती है. विभिन्न पीढ़ियों के उत्तराधिकार के साथ, कंप्यूटर प्रौद्योगिकी में उन्नति हुई.

कंप्यूटर इतिहास के विकास में विविध यंत्रों की अलग पीढ़ियों से जोड़ कर देखा जाता है. हर एक पीढ़ी में कंप्यूटर एक अहम् तकनिकी के साथ दिखाई देता है. कंप्यूटर के युग में बदलाव छोटे, सस्ते, अधिक शक्तिशाली और अधिक प्रभावी व भरोसेमंद उपकरण लगातार बनने लगे है. इस विकास से ओर भी नई तकनीकी का आविष्कार होता है.

आइए अब हम विभिन्न पीढ़ियों में कंप्यूटर प्रौद्योगिकी के विकास पर चर्चा करें.

Read more – janiye computer pidhi ke history ke bareme

computer in the world

★First Generation ( Vacuum Tube )

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर का पहला हिस्सा Vacuum tube से बना था. Vacuum tube एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिसमें डिजिटल संदेश बहुत तेज़ सक्रिय होता है. इस दौरान ENIAC, EDVAC, UNIVAC अन्य प्रकार के कंप्यूटर का आविष्कार हुआ.

लाभ:-

1. इसने व्हॅक्युम ट्यूब का उपयोग किया जो उन दिनों के दौरान उपलब्ध एकमात्र इलेक्ट्रॉनिक घटक हैं.

2. व्हॅक्युम ट्यूब कंप्यूटर मिलीसेकंड में गणना कर सकते हैं.

computer in the world

नुकसान:-

1. ये कंप्यूटर आकार में बहुत बड़े थे, वजन लगभग 30 टन था.

2. ये कंप्यूटर Vacuum tube पर आधारित थे.

3. ये कंप्यूटर बहुत महंगे थे.

4. यह चुंबकीय ड्रम की उपस्थिति के कारण केवल थोड़ी मात्रा में जानकारी स्टोर कर सकते थे. क्योंकि पहली     पीढ़ी के कंप्यूटरों के आविष्कार में व्हॅक्युम ट्यूब शामिल हैं, इसके कारण कंप्यूटरों में एक बड़ी शीतलन प्रणाली की आवश्यकता होती है.

5. ऊर्जा खपत की बड़ी मात्रा होना.

 

★ Second Generation ( Transistor )

Second Generation के कंप्यूटर व्हॅक्युम ट्यूब के बजाय ट्रांजिस्टर पर आधारित थे. ट्रांजिस्टर व्हॅक्युम ट्यूब से कार्यशील और सस्ते भी थे इसीलिए Second Generation के कंप्यूटर आकार से छोटे और वेगवान गणन क्षमता के बने. Honeywell 400, En: IBM 704, CDC 1604, CDC 3600, Univac 1108 इस तरह के कंप्यूटर का विकास हुआ. इस पीढ़ी में, Primary Core के रूप में चुंबकीय Core और secondary storage उपकरणों के रूप में चुंबकीय टेप और चुंबकीय डिस्क का उपयोग किया गया था. इस पीढ़ी में, Assembly language और उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे कि FORTRAN, COBOL का उपयोग किया गया था. कंप्यूटर बैच प्रोसेसिंग और मल्टीप्रोग्रामिंग ऑपरेटिंग सिस्टम का इस्तेमाल करते थे.

लाभ:-

  •  व्हॅक्युम ट्यूब के बजाय ट्रांजिस्टर की उपस्थिति के कारण, इलेक्ट्रॉन घटक का आकार घट गया. इसके     परिणामस्वरूप First Generation के कंप्यूटर की तुलना में Second Generation कंप्यूटर के आकार कम     हो गए.
  •  कम ऊर्जा और First Generation के रूप में ज्यादा गर्मी पैदा नहीं करते हैं.
  •  सभा की भाषा और पंच कार्ड इनपुट के लिए इस्तेमाल किया गया था.
  •  First Generation के कंप्यूटर की तुलना में कम लागत.
  •  बेहतर गति, microseconds में डेटा की गणना.
  •  Second Generation के कंप्यूटर First Generation की तुलना में बेहतर पोर्टेबल थे. आदि ,

computer in the world

नुकसान:-

  •   एक शीतलन प्रणाली की आवश्यकता थी.
  •   लगातार रखरखाव की आवश्यकता थी.
  •   केवल विशिष्ट उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है.

 

★ Third Generation ( Integrated Circuits )

तीसरी पीढ़ी का period 1965-1971 तक था. Third Generation में ट्रांजिस्टर के जगह पर IC chips का इस्तेमाल हुआ. आयसी चिप्स एक सिलिकॉन चिप थी जो एक से अधिक परतें से बनी थी. इसे लार्ज स्केल इंटीग्रेटेड [Large Scale Integrated( LSI )] सर्किट से सम्बोधा गया. कंप्यूटर के Third Generation में LSI के विकास के माध्यम से छोटे आकार वाले PDP-8, PDP-11, ICL 2900, IBM 360, IBM 370 कंप्यूटर का निर्माण हुआ. आईसी में संबंधित सर्किटरी के साथ कई ट्रांजिस्टर, प्रतिरोधक और कैपेसिटर होते हैं.

लाभ:-

  •  Third Generation के कंप्यूटर Second Generation के कंप्यूटर की तुलना में सस्ते थे.
  •  Third Generation के कंप्यूटर तेज़ और भरोसेमंद थे.
  •  कंप्यूटर में IC chips का उपयोग कंप्यूटर का छोटा आकार प्रदान करता है.
  •  IC chips केवल कंप्यूटर के आकार को कम न करते हुए, यह पिछले कंप्यूटर की तुलना में कंप्यूटर के प्रदर्शन में भी सुधार करता है.
  • कंप्यूटर की इस पीढ़ी में बड़ी भंडारण क्षमता है.
  • पंच कार्ड के बजाय, इनपुट के लिए माउस और कीबोर्ड का उपयोग किया जाता है.
  • उन्होंने बेहतर संसाधन प्रबंधन के लिए एक Operating System का उपयोग किया और समय-साझाकरण और एकाधिक Programming की अवधारणा का उपयोग किया.
  • ये कंप्यूटर Computational समय को माइक्रोसेकंड से नैनोसेकंड तक कम करते हैं.

नुकसान:-

  •  IC chips को बनाए रखना मुश्किल है.
  •  IC chips के निर्माण के लिए अत्यधिक परिष्कृत तकनीक की आवश्यकता है.
  •  एयर कंडीशनिंग की आवश्यकता है.

 

★ Fourth Generation ( Microprocessor )

Fourth Generation के कंप्यूटर नई तकनीक Microprocessor पर आधारित है। कंप्यूटर में किसी भी प्रोग्राम में किसी भी लॉजिकल और अंकगणितीय फ़ंक्शन के लिए एक Microprocessor का उपयोग किया जाता है। ग्राफिक्स यूजर इंटरफेस ( GUI ) प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल उपयोगकर्ताओं को अधिक आराम प्रदान करने के लिए किया गया था।

लाभ:-

  •  कंप्यूटर की Third Generation की तुलना में गणना और आकार में सबसे तेज़ हो जाता है.
  •  उत्पन्न गर्मी नगण्य है.
  •  Third Generation के कंप्यूटर की तुलना में Fourth Generation के कंप्यूटर का आकार में छोटा.
  •  कम रखरखाव की आवश्यकता है.
  •  इस प्रकार के कंप्यूटरों में सभी प्रकार की उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग किया जा सकता है.

नुकसान:-

  •  Microprocessor design और Fabrication बहुत Complex हैं.
  •  IC chips की उपस्थिति के कारण कई मामलों में एयर कंडीशनिंग की आवश्यकता है.
  •  IC chips बनाने के लिए Advance technology की आवश्यकता है.

 

★ Fifth Generation ( Artificial intelligence )

Fifth Generation के कंप्यूटर का period 1980-आज तक है. Fifth Generation में, VLSI technology ULSI (Ultra Large Scale Integration) तकनीक बन गई, जिसके परिणामस्वरूप microprocessor chips के उत्पादन में दस मिलियन इलेक्ट्रॉनिक घटक थे. Desktop, Laptop, A Notebook, Ultra Book, Chrome Book जैसे कंप्यूटर का विकास हुआ. Fifth Generation कृत्रिम बुद्धि पर आधारित है. Fifth Generation का उद्देश्य एक ऐसा उपकरण बनाना है जो प्राकृतिक भाषा इनपुट का जवाब दे सके और सीखने और आत्म-संगठन में सक्षम हो.

लाभ:-

  •  Fifth Generation के कंप्यूटर अधिक Reliable है और तेजी से काम करता है.
  •  यह विभिन्न आकारों और अद्वितीय सुविधाओं में उपलब्ध है.
  •  यह Multimedia सुविधाओं के साथ अधिक उपयोगकर्ता के अनुकूल इंटरफेस के साथ कंप्यूटर प्रदान     करता है.

नुकसान:-

  •  Fifth Generation के कंप्यूटर को कम स्तर की भाषाओं की आवश्यकता है.
  •  यह कंप्यूटर मानव मस्तिष्क को सुस्त और बर्बाद कर सकते हैं.

 

conclusion

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से कैसे आए दुनिया में कंप्यूटर – How come computer in the world के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें…

दोस्तों यह जानकारी अच्छी लगे तो हमे जरूर बताए। ऐसी जानकारी जानने के लिए हमारे website पर आए।

धन्यवाद……..

 

यह भी जरुर पढ़े

1.  RCC कॉलम तैयार करे

2.  इंजिन का कार्य 

3.  PUC कैसे बनाए 

4.  ट्रांसमिसन का कार्य

5.  मायक्रोमीटर का कार्य 

6.  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

7.  गुणकारी दही के लाभ 

8.  तुलसी है एक वरदान 

9.  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

10.  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

11.  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

12  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

4.  रस्ता संकेत 

5.  वाहनों का आविष्कार 

6.  पहिए का आविष्कार 

7.  पढाई कैसे करे 

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

9.  मल्टीमीटर का उपयोग

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

11. सफल होने का रहस्य 

12.  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

Post Comments

error: Content is protected !!