In nature treatment of all diseases – प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार

प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार – In nature, treatment of all diseases, प्रकृति रोग को नष्ट करने के लिए वरदान है – Nature is a boon to destroy the disease, प्राकृतिक रूप से करे रोगो को नष्ट – Naturally destroy diseases Info in Hindi.

प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार - In nature, treatment of all diseases

नमस्कार दोस्तों, आज के ज़माने में इंसान अपने कामो में इतना व्यस्त हो गया की, उसके पास अपने लिए समय नहीं है. अपने busy लाइफ के कारण अपने स्वास्थ के तरफ ध्यान नहीं दे पाता. इंसान एक कटपुतली बन कर रह गया है. इस लापरवाही के कारण शरीर में रोग उत्पन्न होने लगते हैं. जैसे समय के अभाव में पेट दर्द पर गोली खाएं, सिरदर्द होने पर गोली खाएं, लेकिन एनाल्जेसिक [analgesic] दवा केवल कुछ समय के लिए दर्द में आराम देती है. अगर आप हमेशा स्वस्थ और तंदरुस्त रहना चाहते हैं, तो अपना इलाज प्राकृतिक रूप से या किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह से करें. क्योंकि आपका शरीर अच्छा है तो आपको आगे सफलता प्राप्त करने से कोई नहीं रोख सकता. एक अच्छे और स्वस्थ शरीर के कारण आप मानसिक और शारीरिक रूप से जागरूक रह पाएंगे.

उपचार की एक प्रणाली के रूप में नेचर के इलाज को Naturopathy कहा जाता है. नेचर इलाज में एक आम कहावत है कि Naturopathy से सभी बीमारियां नहीं होती हैं लेकिन सभी मरीज ठीक होते हैं. यह रोगियों की जीवन शक्ति पर निर्भर करता है. इसीलिए दोस्तों, आज के इस लेख के माध्यम से जो हमारे योग विज्ञान में प्राकृतिक रूप से बताया गया है, जैसे प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार [In nature, treatment of all diseases], प्रकृति रोग को नष्ट करने के लिए वरदान है [Nature is a boon to destroy the disease], प्राकृतिक रूप से करे रोगो को नष्ट [Naturally destroy diseases] यह सब जानने वाले.

 

प्रकृति सभी बीमारियों पर उपचार का एक भंडार है – Nature is a repository of treatments on all diseases :

 

आँवला से होने वाले फायदे :

Nature में पाए जाने वाले महत्वपूर्ण फल जो सभी तरिके के रोगो के उपचार के लिए उपयोग है. आँवला शरीर के लिए बहुत ही हितकारी है. आँवला से शरीर में होने वाले फायदे.

  • वजन कम करने में आंवला शरीर में मौजूद गंदगी को साफ करने और वजन कम करने में भी फायदेमंद होता है.
  • आवला के सेवन से ह्रदय की तेज धड़कन या ह्रदय की दुर्लबता में राहत मिलती है.
  • आंवला उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में कारगर होता है.
  • 100 ग्रा. सूखे आँवले का चूर्ण बनाकर 100 ग्रा. मिश्री  [sugar] के साथ अच्छी तरह मिला ले. इस चूर्ण के नमी को बर्खरार रखने के लिए शीशे के डिब्बे में भरकर ढक्कन लगाकर रख दे.
  • आँवले के मिश्रित चूर्ण को प्रतिदिन सुबह – शाम दो दो चम्मच शुद्ध जल के साथ सेवन करे.
  • आँवले का चूर्ण बनाकर पीसी हुई मिश्री में मिलाकर, इसे प्रतिदिन रात में सोने से पहले दो चम्मच की मात्रा पी ले. नींद अच्छी आएगी गलत विचार नहीं आएंगे.
  • कच्चे आँवले का सेवन करने से पाचन शक्ति नियमित हो जाती है.
  • आँवले में रोग प्रतिरोधक गुन होने से सभी रोगो से बचाव होता है.
  • आँवले को शहद के साथ नियमित सेवन से शरीर पर तेज और निखार बढ़ा जाता है, जिसकी वजह से इंसान तनदुरुस्त दिखने लगता है.
  • आंवले का जूस पेप्ट‍िक अल्सर में बहुत कारगर साबित होता है. हर सुबह इसके सेवन से आराम मिलता है.

 

निम्बू से होने वाले फायदे :

हर घर में पाए जानेवाला घटक याने निम्बू एक महत्त्वपूर्ण औषधि है. यह एक चमत्कारी रूप से परिपूर्ण है जो सारे बीमारिया दूर करने का यंत्र है. निम्बू से होने वाले फायदे.

  • आधे कप पानी में थोड़ा सा नींबू का रस, जीरा और एक इलायची पीसकर मिलाएं. दो-दो घंटे बाद इसे पीने से उल्टी होना बंद हो जाती है.
  • पेट में गैस की समस्या के लिए निम्बू फायदेमंद है.
  • गुनगुने पानी में नींबू का रस और थोड़ा नमक मिलाकर दो-दो घंटे बाद गरारे करें इससे गला ठीक हो जाता है.
  • 4-5 काली मिर्च को पीसकर गुनगुने पानी में मिलाएं और आधा नींबू निचोड़कर पिएं.
  • इस प्रकार के औषधि को हर दिन सुबह शाम सेवन करने से गैस की समस्या हल जाती है.
  • निम्बू एक प्राकृतिक रूप से रोग दूर करने में सक्षम है. हप्ते में एक बार निम्बू का रस निचोड़ कर बालो को लगाने से बाल सिल्की और तनदुरुस्त होने लगते है.
  • खाना खाने के कुछ देर बाद निम्बू का रस सेवन करने से पाचन शक्ति बढ़ती है.
  • अन्नानास की आंखों पर नींबू की दो-चार बूंद डालकर सेवन करने से टॉन्सिल में आराम मिल जाता है.
  • निम्बू का पानी सुबह सुबह पिने से पेट की चर्बी को कम करने में उपयोग करता है.

Read more – jiv vighyan ke sajio ka parichay

 

करेले से होने वाले फायदे :

करेला एक सबसे बड़ी औषधि है जिसे योग और विज्ञानं ने भी माना है. यह एक प्रकार चमत्कारी गुणों से भरपूर औषधि है. इसकी सब्जी या अन्य प्रकार से सेवन करने से रोगो में राहत मिलती है. करेले के बेहत ही गुणकारी फायदे.

  • दुनिया में तेजी से बढ़नेवाला रोग याने मधुमेह, जिस पर उपचार के तौर पर करेला का योपयोग कर के मधुमेह जैसा बड़ा रोग दूर किया जा.
  • प्राकृतिक रूप से मधुमेह को नष्ट किया जा सकता है, मधुमेह के रोगी को उबली हुई करेले की सब्जी खिलाए, करेले का जूस पिलाए.
  • इसके नियमित सेवन से मधुमेह जैसे रोग में राहत पा सकते है.
  • भूख को बढ़ाकर करेला हमारी पाचन शक्ति को सुधारता है.
  • करेले की सब्जी खाने और मिक्सी में पीस कर बना लेप रात में सोते समय लगाने से फोड़े-फुंसी और त्वचा रोग नहीं होते.

 

शहद से होने वाले फायदे :

प्रकृति में पाए जाने वाला अमृत जिसे शहद के नाम से जानते है. शहद के बेहत ही गुणकारी लाभ है, शहद गुणों से भरपूर एक महत्वपूर्ण औषधि है. किसी भी प्रकार के रोगो में शहद फायदेमंद है.

  • बदलते मौसम के कारण शरीर के क्रिया में बदलाव आते रहते है. इसी का कारण शरीर में रोगो का आगमन होने लगता है, जैसे अक्सर बुखार, सर्दी आदि बीमारिया होने लगती है.
  • रोजाना 2 चम्मच शहद खाने से खांसी में आराम मिलता है. साथ ही इसमें एंटीमाइक्रोबियल गुण होने के कारण इसका सेवन इंफेक्शन पैदा करने वाले बैक्टीरिया को भी खत्म करता है.
  • बुखार को प्राकृतिक रूप से दूर करना है तो सबसे आसान तरीका शहद है.
  • शहद में फ्रूट ग्लूकोज, आयरन, कैल्शियम, फॉस्फेट, सोडियम, क्लोरीन, पोटेशियम और मैग्नीशियम जैसे गुण होते हैं, जो शरीर को बैक्टीरिया से बचाने में मदद करते हैं.
  • शहद को गुनगुने जल के साथ, दो तीन निम्बू के बुँदे डालकर हर दिन सेवन करने से 4 – 5 दिन में बुखार में राहत मिलेगी.
  • इस औषधि को दिन में दो बार उपयोग करने से ओर भी लाभकारी प्राप्त होगी.
  • सफ़ेद बालो के समस्या का निवारण के लिए शहद बेहत ही फायदेमंद है.
  • शहद में आँवले का रस मिलाकर नियमित सेवन से सफ़ेद बालो की वृद्धि रुक जाती है. और बाल काले होने लगते है. हां लेकिन यह उपचार कुछ माह तक पुरे सावधानी से करना जरुरी है.
  • रोजाना 1 चम्मच खाने या गर्म पानी में इसे मिलाकर पीने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है.

 

मूंगफली से होने वाले फायदे :

peanut विटामिन ई और विटामिन बी 6 से भरपूर है जो एक जमीन के भीतर उत्पादन होने वाली गुणकारी वस्तु है.  जमीन के अंदर तैयार होकर बाहरी दुनिया में चमत्कार कर के रोगो को दूर भगाने में उपयोगी है.

  • मूंगफली कैल्शियम और विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा होती है. ऐसे में इसके सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं.
  • त्वचा रोग, जैसे आदि रोगो में राहत के लिए मूंगफली का तेल गुलाब जल में मिलाकर त्वचा पर मालिस करने से सुंदरता दिखने लगती है.
  • शरीर के कमजोरी को दूर करने में मूंगफली फायदेमंद है. प्रतिदिन मूंगफली का सेवन कर शरीर को शक्तिशाली बना सकते है.
  • मूंगफली खाने से दिल से जुड़ी बीमारियां होने का खतरा कम हो जाता है.
  • peanut का हलवा सेवन करने से शरीर में स्पूर्ति आती है.
  • मूंगफली खाने से शरीर को ताकत मिलती है. इसके अलावा ये पाचन क्रिया को भी बेहतर रखने में मददगार है.

 

नीम से होने वाले फायदे :

निम स्वाद में भले ही कड़वा हो, लेकिन इससे होने वाले लाभ अमृत के समान होते हैं. प्रकृति में पाए जाने वाला निम का एक अलग ही महत्व है. नीम के पेढ में ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में पाया जाता है.

  • Nim के पतों का अधिक मात्रा में काढ़ा तैयार करे, स्नान रोग 5 – 6 दिनों के भीतर समाप्त हो जाता है.
  • नीम के पतों को जलाकर अन्य प्रकार के किटक – जंतु को नष्ट कर सकते है.
  • नीम की छाल को चबाने से मुँह की बदबू से राहत मिलती है.
  • Nim के हरे पत्तो का सेवन करने से पेट में पैदा होने वाले जंतु को नष्ट किया जा सकता है.
  • नीम के द्वारा तैयार की गई औषधियां गर्भनिरोधक के रूप में प्रयोग की जाती है.
  • खून शुद्ध करने के लिए नीम सर्वोत्तम औषधि है. नीम के नाजुक कोमल पत्ते तोड़कर काली मिर्च के साथ चूर्ण बेसन की रोटी में मिलाकर पका ले, और सप्ताह में एक बार खाए, इससे रक्त के विकार दूर हो जायेंगे.
  • नीम के पत्ते का काढ़ा घावों को धोने में कार्बोलिक साबुन से भी अधिक उपयोगी है.
  • नीम के बीज के तेल को नियमपूर्वक 2-2 बूँद नाक में डालने से सफेद बाल काले हो जाते है.

 

conclusion

दोस्तों इसके अलावा प्रकृति में पाए जाने वाले औषधि सौंठ, हल्दी, मूली, केला, बादाम, पपीता, तुलसी, किसमिस, आदि जैसे औषधि गोणो से भरपूर फल फ्रूट्स इनके बारे अगले आर्टिकल में जानने वाले है.

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार [In nature, treatment of all diseases] के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप मुझे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें.

लेकिन दोस्तों यह उपचार करने से पहले किसी अच्छे चिकित्सक या डॉक्टर का सुझाव ले यह ओर भी आपके शरीर के लिए फायदेमंद होगा.

धन्यवाद ….

यह भी जरुर पढ़े

1.  RCC कॉलम तैयार करे

2.  इंजिन का कार्य 

3.  PUC कैसे बनाए 

4.  ट्रांसमिसन का कार्य

5.  मायक्रोमीटर का कार्य 

6.  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

7.  गुणकारी दही के लाभ 

8.  तुलसी है एक वरदान 

9.  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

10.  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

11.  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

12.  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

4.  रस्ता संकेत 

5.  वाहनों का आविष्कार 

6.  पहिए का आविष्कार 

7.  पढाई कैसे करे 

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

9.  मल्टीमीटर का उपयोग

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

11.  सफल होने का रहस्य 

12.  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

Post Comments

error: Content is protected !!