एमपीएससी परीक्षा पाठ्यक्रम की जानकारी – MPSC Examination Course

महाराष्ट्र राज्य साशन के सरकारी पद महाराष्ट्र लोकसेवा आयोग द्वारा भरी जाती है। जिसको MPSC इस नाम से पहचाना जाता है। आज के युग में युवाओ हेतु यह सबसे बड़ा करिअर प्लेटफार्म है। कुछ साल पहले बीए, बीकॉम के छात्र MPSC में अधिक रूचि दिखा रहे और सफलता प्राप्त कर रहे थे। लेकिन आज के युग में सभी जगह के छात्र MPSC में अधिक सफलता प्राप्त कर रहे है।

एमपीएससी परीक्षा पाठ्यक्रम की जानकारी - MPSC Examination Course

आज, हर कोई अपने भविष्य की रक्षा करना चाहता है क्योंकि जीवन अनिश्चितताओं से भरा है। अधिकांश लोग समय के नियमित अंतराल पर आय और विकास का निरंतर प्रवाह रखते हुए अपने जीवन में बसना चाहते हैं। आज के युवाओं के लिए उज्ज्वल भविष्य के लिए, हमें कड़ी मेहनत करनी है क्योंकि हम सभी जानते हैं कि निजी कंपनियां लंबे समय तक काम करने की मांग करती हैं। जीवन के कुछ बिंदु पर, हम में से कई लोग जीवन के इस क्षेत्र को स्वीकार करना शुरू करते हैं और निजी क्षेत्र में एक ही नौकरी के साथ जाते हैं।

लेकिन ऐसे कई लोग हैं जो स्मार्ट कार्य करते हैं और सरकारी नौकरियों का चुनाव करते हैं। यह कभी भी एक रहस्य नहीं रहा है कि सरकारी नौकरियों ने कामकाजी घंटों को तय किया है और इसके अलावा कर्मचारियों को कई सुविधाएं और लचीलापन प्रदान किया है। दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश होने के नाते, भारत में 2 9 राज्य शामिल हैं, जो संयुक्त रूप से सरकारी नौकरियों की पेशकश करते हैं। हर साल, विभिन्न सिविल सेवा परीक्षा आयोजित की जाती है। इन सभी परीक्षाओं में से कुछ राज्य स्तर पर हैं जबकि कुछ राष्ट्रीय स्तर पर हैं। राज्य स्तरीय सेवा परीक्षा में, MPSC परीक्षा भारत में प्रमुख नागरिक सेवा परीक्षाओं में से एक है।

एमपीएससी MPSC परीक्षा पाठ्यक्रम – MPSC Examination Course :

MPSC महाराष्ट्र लोक सेवा आयोग के द्वारा भरी जाती है। भारत के संविधान द्वारा तैयार, MPSC एक ऐसा माध्यम है जो महाराष्ट्र राज्य में सिविल सेवा नौकरियों के लिए उम्मीदवारों का चयन करता है। हर साल, महाराष्ट्र सरकार MPSC परीक्षा आयोजित करती है जिसके माध्यम से यह प्रशासन, पुलिस, वन और इंजीनियरिंग जैसे विभिन्न विभागों के तहत योग्य उम्मीदवारों को नौकरियों के लिए चुनती है।

MPSC के syllabus में इतिहास, भूगोल, ( महाराष्ट्र, भारत, विश्व ) भारतीय सविधान, अर्थशास्त्र, विज्ञान, चालू स्थिति, गणित, बुद्धिमता परीक्षा, अंग्रेजी और मराठी आदि विषयो का समावेश होता है। यह विषय सभी परीक्षा के उद्देश्य से ही नहीं बल्कि वैयक्तिक जीवन में भी इसका अमूल्य स्थान है।

MPSC के लिए विषयो की जानकारी :

इतिहास :

सभी विषयो में सबसे दिलचस्प आधुनिक और संस्कृति, आर्य तथा गनार्याकर संघर्ष, वैदिक काल, उत्तर वैदिक काल, और उस काल में घटी हुई घटनाओं की जानकारी रहती है। उस काल में देश पर हुए आक्रमण, सांस्कृतिक, सामाजिक व आर्थिक विकास यह सभी विषय MPSC के Syllabus में आते है।

भूगोल : 

इस विषय में प्राकृतिक भूगोल, राजकीय भूगोल, जिसमे चाँद, सूरज, गृह, तारे, पृथ्वी, उत्पत्ति, ज्वालामुखी, भूकंप, मृदा, नदिया, पर्वत, जंगल, उद्यान, रस्ते, परिवहन, लोकसंख्या, रेल्वे, आदि विषयो का पाठ्यक्रम आता है।

राज्यघटना : 

MPSC में यह आर्थिक गहराई का विषय है, जिसमे भारतीय सविधान की पढाई की जाती है। भारतीय सविधान का निर्माण, सविधान सभा, रचना, उद्देश, नागरिकतत्व, मानवी अधिकार, कर्तव्य, संसद, सर्वोच्च न्यायालय, देश के विभिन्न आयोग, आनिबानी घटनाये आदि विषयो का पाठ्यक्रम MPSC परीक्षा में आता है।

अर्थशास्त्र : 

सबसे मुश्किल विषयो में से एक है अर्थशस्त्र। अर्थशास्त्र इसका स्वरूप है, राष्ट्रिय उत्पन्न, चलन, अर्थसंकल्प, RBI भारतीय व्यापारी बैंक की आयात – निर्यात, व्यापार समिति भाव जागतीकरण, खाजकीकरण, पंचवार्षिक योजना यह मुद्दे इस MPSC पाठ्यक्रम में आते है।

विज्ञान: 

इस विषय में Physics, Chemistry, Biology, और 10 वि कक्षा के स्तर का पाठ्यक्रम की पढाई की जाती है।

गणित : 

इस विषय में Reasoning Average, Percentage, Blood Telation, Coding, Decoding, Decision making, Comprehension आदि का समावेश होता है।

सामयिकी ( Current affairs ) : 

महाराष्ट्र, भारत, और अंतरराष्ट्रीय स्तर के चालू स्तिथिओं को पूछे जाते है।

अंग्रजी तथा मराठी :

इन विषयो का अधिकतर व्याकरण और निबंध का समावेश होता है।

एमपीएससी परीक्षा पाठ्यक्रम की जानकारी - MPSC Examination Course

उपरोक्त विषय यह हुआ MPSC का पाठ्यक्रम, इसके अलावा MPSC Pattern के बारे में सोचे तो यह तीन स्तर पर नियोजित किया है।  

➣ पूर्व परीक्षा, 

➣ मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू, 


पूर्व और मुख्य परीक्षा के प्रश्न Objective रहते है। ( निबंध के सिवा)

क्लास 1 ऑफिसर की 24 विभिन्न पदों की भर्ती होती है। सबसे बड़ा पद Deputy Collector और अन्य DYSP, BDO, STO, तहसीलदार आदि। 

पूर्व परीक्षा 400 गुणों की रहती है। जिसमे पेपर 1 में इतिहास, भूगोल, अर्थशास्त्र, विज्ञान, सामयिकी यह विषय का समावेश होता है। और CSAT में गणित के Reasoning Average, Percentage, Blood Telation, Coding, Decoding, Decision making यह विषयो का समावेश रहता है।

 

प्राथमिक परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवार मुख्य परीक्षा के लिए सफलता प्राप्त करते हैं। मुख्य परीक्षा में, छह पत्र होंगे; दो अध्ययन पत्र (अंग्रेजी और मराठी) और सामान्य अध्ययन में चार पत्र। 

➤ इतिहास और भूगोल (महाराष्ट्र के संदर्भ में),

➤ भारतीय संविधान और राजनीति,

➤ मानव संसाधन विकास और मानवाधिकार,

➤ अर्थव्यवस्था और योजना, विकास और कृषि और विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास के अर्थशास्त्र। 

पूर्व परीक्षा पास होने के बाद मुख्य परीक्षा 800 हूणों की होती है। जिसमे 4 पेपर 150 गुण के होते है। और मुलाखत 100 गुणों का होता है। गुणों की संख्या के अनुसार पद प्राप्ति होती है।

इसके अलावा MPSC क्लास 2 में PSI, SIT, ASSD इन सभी पदों का समावेश होता है। जिसको अभी Combine Exam के नाम से जाना जाता है। इसकी पूर्व परीक्षा 100 गुण और मुख्य परीक्षा 200 गुण की होती है।

मुलाखत सिर्फ PSI हेतु होती है। MPSC द्वारा TAX, ASST, EXISE, SUB INSPECTOR, MPSC CLERK, महिला बाल विकाश अधिकारी, तलाठी आदि पदों के लिए परीक्षाये होती है।

Tags :-  Technology, Technical Study, Online job, Future Tech, Internet, Online Study, Computer, Health, Science . 


संबंधित कीवर्ड: 

एमपीएससी परीक्षा पाठ्यक्रम की जानकारी – MPSC Examination Course, MPSC के लिए विषयो की जानकारी। 

दोस्तों, उम्मीद है की आपको एमपीएससी परीक्षा पाठ्यक्रम की जानकारी – MPSC Examination Course यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगता है, तो निश्चित रूप से इस लेख को आप अपने दोस्तों एवं परिचितों के साथ साझा करें। और ऐसे ही Technical रोचक आर्टिकल की जानकारी प्राप्ति के लिए हमसे जुड़े रहे।

धन्यवाद।                                                                                                       

                                                                                                         Author by : रजत सर … 

यह भी जरुर पढ़े 

➬  RCC कॉलम तैयार करे 

➬  इंजिन का कार्य 

➬  PUC कैसे बनाए 

➬  ट्रांसमिसन का कार्य 

➬  मायक्रोमीटर का कार्य 

➬  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके 

➬  गुणकारी दही के लाभ  

➬  तुलसी है एक वरदान 

➬  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे 

➬  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

➬  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

➬  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

➬  पनीर सलाद कैसे बनाए 

➬  रक्त और हिमोग्लोबिन 

➬  विटामिन के लाभ 

➬  संतुलित आहार के फायदे 

➬  5 ” S ” का महत्व 

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग 

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

➬  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

➬  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

➬  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

➬  जी आय पाइप फिटिंग 

➬  दमदार टेक्नोलॉजी 

Post Comments

error: Content is protected !!