विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी – Information about electric current

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी – Information about electric current, विद्युत धारा की जानकारी-Information of electric current, कैथोड किरणों की जानकारी-Information on cathode rays, प्रतिरोधकता याने क्या है-What is resistivity, इलेक्ट्रिकल ऊर्जा का उपयोग कहा किया जाता है-The use of liters of energy is called?

नमस्कार दोस्तों, हमारे Web Portal APNASANDESH.COM में आपका स्वागत है। जैसे की आप जानते है की हम आपके लिए नए – नए टेक्नीकल बाते लाया करते है। वैसे ही आज हम एक नए लेख के साथ आये है, हमारा यह उद्देश्य है की हमारे Web Site से जुड़े लोगो को, टेक्निकल की कुछ Basic चीजो के बारे में पता होना चाहिए। इसलिए आजका हमारा टॉपिक है विद्युत धारा के बारे में, जिसकी जानकारी हम इस लेख के माध्यम जानने वाले है।

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी - Information about electric current

 

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी – Information about electric current :-

किसी चालक में विद्युत आवेश की प्रवाह की दर को विद्युत धारा कहते है। विद्युत धारा की दिशा धन आवेश की गति की दिशा मानी जाती है। इसका S.I. UNIT, एम्पेयर ( AMPERE ) है, यह एक आवेश राशी है।

यदि किसी तार में एक एम्पेयर ( Ampere ) में ( 1A ) विद्युत धारा प्रवाहित हो रही है तो इसका अर्थ है की उस तार में प्रति सेकंड 6.25 ×10¹⁸ इलेक्ट्रॉन एक सिरे से बाहर निकल जाते है।

 

☘प्रतिरोध ( Resistance ) :-

किसी तार में विद्युत धारा प्रवाहित होने पर किसी कारण से उस विद्युत धारा को खंडित करने के लिए लगाए गए Instrument को  Resistance कहते है।

 

☘ ओहम का नियम :-

यदि चालक की भौतिक अवस्था जैसे ताप आदि में कोई परिवर्तन न हो तो चालक के सिरों पर लगा गया विभवांतर उनके प्रवाहित धारा के अनुकमाणा पाती होता है। यदि किसी चालक के दो बिंदुओं का विभवांतर V व्होल्ट हो तथा उसमे प्रवाहित धारा I Ampere हो, तो ओहम के नियम नुसार।

V × I ➩ V = RI

V = Volt

I = Current

R = Resistance

 

☘ ओमिक प्रतिरोध ( ohmic resistance ) :-

जो चालक ओहम के नियम का पालन करते है उनके प्रतिरोध को ओमिक प्रतिरोध कहते है। For Ex. मैग्नीज का तार।

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी - Information about electric current

☘ चालकता ( Conductance ) :-

किसी चालक के प्रतिरोध के न्युत्कम को चालक की चालकता कहते है। इसे G से सूचित करते है।

G = IR

इसका S.I Unit = Ohm⁻¹ होता है।

❅ Electronic Power :-

विद्युत परिपथ में ऊर्जा की क्षय होने की दर को शक्ति कहते है।

इसका S.I Unit = Volt होता है।

1 unit या 1 KW :-

एक यूनिट ऊर्जा की वह मात्रा है जो की किसी परिपथ में 1 घंटे में व्यय होती है।

 

1 Unit = V ×A × तास / 1000

= Watt × तास / 1000

❅ अमीटर ( Ammeter ) :-

विद्युत धारा को एम्पीयर में मापने के लिए Ammeter नामक यंत्र का प्रयोग किया जाता है। एक आदर्श Ammeter का प्रतिरोध शून्य होना चाहिए।

❅ व्होल्ट्मीटर ( Voltmeter ) :-

व्होल्ट्मीटर का प्रयोग दो बिंदुओं के बिच का विभवांतर माप के लिए किया जाता है।

❅ विद्युत फ्यूज ( Electric Fuse ) :-

विद्युत फ्यूज का प्रयोग परिपथ में लगे विद्युत उपकरणों की सुरक्षा के लिए किया जाता है। यह Tin 63 %, सीसा 37 % और मिक्स धातु का बना होता है।

❅ Galvanometer :-

विद्युत परिपथ में विद्युत धारा की उपस्थिति बताने वाला एक यंत्र है। इसकी सहायता से 10 ⁶ Amp को विद्युत धारा को समाया जा सकता है।

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी - Information about electric current

Conductance

❅ A.C. Dynamo ( जनरेटर ) :-

यह यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत ऊर्जा में परिवर्तित करता है।  यह विद्युत चुंबकीय तरंग के सिद्धांत पर कार्य करता है।

❅ Electric Motor :-

यह एक ऐसा यंत्र है जो विद्युत ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में परिवर्तित करता है।

❅ Microphone ( माइक्रोफोन ) :-

यह ध्वनि ऊर्जा को विद्युत् ऊर्जा में परिवर्तित करता है।

❅ परमाणु भौतिकी ( Atom ) :-

परमाणु ( Atom ) यह एक सूक्ष्मजनक कण है, जो रासायनिक क्रिया में भाग ले सकता है। लेकिन स्वतंत्र अवस्था में नहीं रहते। यह मुख्यता तीन में कणो से बना होता है ( Electron, Proton, Neutron )

परमाणु में प्रोटोन और इलेक्ट्रान की संख्या सामान एवं आवेश विपरीत होते है। जिसके कारण ये उदासीन होते है।

 

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी - Information about electric current

❅ मुक्त कणो की विशेषताएं ❅

 कणपरमाणु ( की.ग्रा. )आवेशखोजकर्ता
 प्रोटोन1. 672 * 10 ⁻²⁷ + 16 * 10 ⁻¹⁹ गोलस्टीन
 न्यूट्रॉन1. 675 *  10 ⁻²⁷ 0 चैडविक
 इलेक्ट्रॉन9. 108 * 10 ⁻³¹ ⁻ 1.6 * 10⁻¹⁹जे.जे.थामसन

आज मूल कणो की संख्या ३० के ऊपर जा चुकी है।

 

✦ कैथोड किरण ( Cathode Ray ) :-

जब विसर्जन नलिका ( Discharge Tube ) के सिरों पर 20 kw का विभवांतर कराया जाता है और उसका दाब 0. 1 किलो मीटर के हवा के स्तम्भ के बराबर होता है, तो उसके केथोड से एक इलेक्ट्रॉन फ्यूज ( केबल ) निकलने लगता है, इसे केथोड किरण कहते है। अंत : केथोड किरणे केवल अन्य दर्जा वाले इलेक्ट्रॉन का फ्यूज है।

गुण :-

➢ केथोड किरण केवल गैस का प्रयोग करके पैदा किया जाता है।

➢ कैथोड किरण ऋणात्मक ( -Ve ) होती है, इसलिए कैथोड से एनोड की तरफ गरम करती है।

➢ कैथोड किरण अदृश्य होती है, और सीधी रेखाओ में चलती है।

➢ कैथोड किरण का वेग प्रकाश के वेग का 1110 गुण होता है।

जब कैथोड किरणे किसी उच्च परमाणु वाली धातु ( जैसे टंगस्टन ) पर गिरती है, तो यह X – किरणे उत्पन होती है।

तो दोस्तों इसप्रकार हमने कुछ विद्युत धारा के बारे में जाना है, और उसी के साथ कैथोड के बारें में जाना है। तो आशा करते है की आपने यह आर्टिकल पसंद किया होगा और आगेही ऐसे टेक्निकल आर्टिकल आते रहेंगे तो हमारे Website को visit करते रहें। तब तक के लिए धन्यवाद मित्रहो……

 

संबंधित कीवर्ड :

विद्युत प्रवाह के बारे में जानकारी – Information about electric current, विद्युत धारा की जानकारी, कैथोड किरणों की जानकारी, प्रतिरोधकता याने क्या है, इलेक्ट्रिकल ऊर्जा का उपयोग कहा किया जाता है ?

Author By : सचिन सर…

यह भी जरुर पढ़े

➬  RCC कॉलम तैयार करे

➬  इंजिन का कार्य 

➬  PUC कैसे बनाए 

➬  ट्रांसमिसन का कार्य

➬  मायक्रोमीटर का कार्य 

➬  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

➬  गुणकारी दही के लाभ 

➬  तुलसी है एक वरदान 

➬  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

➬  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

➬  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

➬  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

➬  पनीर सलाद कैसे बनाए 

➬  रक्त और हिमोग्लोबिन 

➬  विटामिन के लाभ 

➬  संतुलित आहार के फायदे 

➬  5 ” S ” का महत्व 

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

➬  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

➬  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

➬  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

➬  जी आय पाइप फिटिंग

➬  दमदार टेक्नोलॉजी

Post Comments

error: Content is protected !!