ओवरहीटिंग क्या है इन हिंदी – What is Overheating in Hindi

इंजन ओवरहीटिंग क्या है? What is engine overheating?, इंजन ओवरहीटिंग को कैसे रोके? How to prevent engine overheating?, वाहनों के काले धुवे से बचने के उपाय, वाहनों का धुवा कैसे रोका जाये – how to stop the smoke of vehicles, इंजन की जाँच कैसे करे – how to check the engine, इंजन मेंटेनन्स कैसे करे – engine maintenance,

ओवरहीटिंग क्या है - What is Overheating

 

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का apnasandesh.com पर स्वागत है। आज के लेख में हम Automobile वाहनों में होने वाली Overheating Processes के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे।

 

ओवरहीटिंग क्या है – What is Overheating :-

आज के ऑटोमोबाइल के युग में हम ज्यादातर समय वाहनों का उपयोग करते हैं। लेकिन क्या हमने कभी सोचा है, कि वाहनों का उपयोग और अच्छी तरह से कर सकते हैं ? नहीं ना, क्योकि हमे उसके बारे में अधिकतर जानकारी प्राप्त ही नही है। या हमे उसका उपयोग कैसे करना है यह पता नहीं होता। इसलिय हमारी वाहन तंदुरुस्त नही रहा पाती। दोस्तों, आपने देखा होगा की वाहनों के सभी भागों का मुख्य रूप से एक अलग ही महत्व है लेकिन आज हम इस लेख के माध्यम से वाहनों के ओवर हीटिंग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे, तो आइए जानते हैं कि ओवरहीटिंग क्या है ? ओवरहीटिंग के बारें में जानकारी और कार्ययोजना क्या है।

 

ओवरहीटिंग – Overheating :-

इंजिन कम समय में ही Normal टेम्परेचर से अधिक गरम होता है इसे ओवरहीटिंग कहते है।

 

ओवरहीटिंग के नुकसान – Overheating Losses :-

☘ Engine Parts जल्द ही ख़राब होना,

☘ Engine की Speed कम होना,

☘ Engine के प्रदुषण की मात्रा बढ़ना,

☘ इंजिन का आवाज अधिक आना,

☘ Coolant system ख़राब होना आदि।

ओवरहीटिंग क्या है - What is Overheating

इंजिन ओवरहिटिंग कैसे होती है?

इंजिन ओवरहिटिंग के बहुत सारे नुकसान है, इससे हमारे वाहन का Maintenance और Servicing खर्च बढ़ जाता है और फिर गाड़ी का Mileage भी कम होने लगता है।

वास्तव में, यदि इंजिन गर्म या अधिक हिट होता है, तो इसका Cooling प्रणाली पर सीधा असर पड़ता है। आपको पता होगा कि वाहनों का इंजिन दो तरह से गर्मी के प्रवाह को कम करने में मदद करता है, पहला है एयर कूलिंग और दूसरा वाटर कूलिंग सिस्टम। एयर कुलिंग सिस्टिम में इंजिन अधिक ओवर हिट होता है तो वाटर कूलिंग सिस्टिम में कम होता है। लेकिन अगर वाटर कूलिंग सिस्टिम में कोई डिफेक्ट आया तो यह एक बहुत ही गंभीर विषय हो सकता है।

और दूसरी बात Traffic में वाहन चलाना यह भी गाड़ी के इंजिन ओवर हिट होने का एक मुक्य कारण हो सकता है। Traffic में फसे हुए गाड़ी की स्पीड कम-ज्यादा होने लगती है, इससे इंजिन के RPM में बदलाव होते रहता है।

इंजिन ओवरहिटिंग

इंजिन ओवर हिट होने का तीसरा कारण है की गाड़ी चालु करते ही डायरेक्ट गियर पर गाड़ी चलाना। जी हा दोस्तों यह एक बड़ा कारण है, जिसे हम आसानी से सुधार सकते है।

वास्तव में जब हम गाड़ी शुरू करते है तब हमे गाड़ी को Ideal गिअर में चालू रहने देना है। जिससे इंजिन की lubrication system चालू होकर इंजिन के पार्ट्स को वंगन कर सके और इंजिन नार्मल टेम्परेचर में आ सके यानि की इंजिन का Warm up हो जाता है। इस प्रॉब्लम को इनिशियल इंजिन स्टार्ट Problem कहा जता है।

कार्बुरेटर में Thin Mixture और Think Mixture का problem आ जाय तो यह इंजिन ओवर हिटिंग का कारण हो सकता है। कार्बुरेटर में एयर फ्यूल mixture proper मिक्स नही होने से वह Mixture इंजिन के Combustion Chamber में जाता है और वह mixture proper Burn न होकर इंजिन के Temperature को बढ़ाता है। इससे इंजिन अधिक गर्म होने लगता है। यह एक बड़ा कारण है जिससे इंजिन ओवरहीट होता है।

 

इंजिन ऑयल लेवल की जाँच – Engine Oil Level Check :-

कंपनी ने Recruit किया है वही Oil हमे इंजिन में Use करना चाहिए। Synthetic, Semi synthetic Cool Oil या अन्य SAE Grade के अनुसार ही हमे इंजिन Oil used करना चाहिए। अगर इंजिन Oil की level कम हो, तो यह Overheating का बड़ा कारण हो सकता है। अगर Oil की level कम हो तो सभी पार्ट को ऑइल Lubrication नहीं हो पायेगा, इससे इंजिन गर्म होने लगेगा।

ओवरहीटिंग क्या है - What is Overheating

 

कूलेंट चेक – Coolant Check :-

ख़राब Coolant उपयोग करना, Coolant अच्छे से District Water के साथ मिक्स न होना, Coolant Leak होना आदि, यह Overheating का सबसे बड़ा कारण हो सकता है। Radiator में पानी की Layer कम होना, पानी की Layer कम होने के बावजूद इंजिन चालु करना, इंजिन गर्म होने पर भी रेडियेटर में ठंडा पानी डालना यह सभी Overheating के कारण बन सकते है।

ओवरहीटिंग क्या है - What is Overheating

 

Riding at high speed (तेज गति से दौड़ना) :-

लगातार हाई speed में गाड़ी को चलाने से भी इंजिन Overheating कारन हो सकता है।

 

Silencer से Black Smock निकलना – Getting Black Smoke From Silencer :-

हम जब रोड से चलते है तो देखते है की बहुत सी गाड़िया Black Smoke निकालती है और इससे हमे सांस लेने में तकलीफ होती है। अगर आप इससे छुटकारा पाना चाहते हैं, तो आपको मॉर्निंग वॉक के लिए सुबह उठना चाहिए और आधे घंटे Morning Walk के बाद हम अच्छा महसूस करेंगे क्योंकि हम शरीर में ताजी हवा लेते हैं और यही अगर हम शाम को टहलने के लिए जाते हैं, तो थका हुआ महसूस करते है।

इसका कारण दिन-प्रतिदिन यातायात का परिवहन और इससे निकलने वाला धुआं है। यह उत्सर्जन नियंत्रण अधिनियम के खिलाफ है, इसलिए भारत सरकार ने BS-3 को बंद कर दिया है और BS-4 को लागू कर दिया है। यह प्रदूषण नियंत्रण के लिए किया गया है। हम अन्य लेखों में प्रदूषण के बारे में जानेंगे अब हम जानते हैं कि गाड़ियों से काला धुआं क्यों निकलता है।

ब्लैक स्मोक ज्यादातर Diesel इंजिन गाड़ियों के सिलेंडर से निकलता है। और इसका कारण है इंजिन फ्यूल इंजेक्ट करने वाला इंजेक्टर का ख़राब होना। Air fuels मिश्रण का Improper Ratio होना, अगर इससे एयर के प्रमाण से फ्यूल ज्यादा हो, या फ्यूल के प्रमाण से एयर ज्यादा हो, तो यह प्रॉब्लम डायरेक्ट इंजिन से काले धुर के रूप में बाहर निकलती है।

इसका दूसरा कारण है Piston ring का ख़राब होना। Piston ring ख़राब हो गई तो फ्यूल लीकेज होने लगता है और कम्प्रेशन स्ट्रोक के दौरान एयर फ्यूल मिश्रण उतना Compressed नहीं हो पाता, इस का कारण यह है की फ्यूल काले धुवे के रूप में बहार निकलता है।

तीसरा कारन है की इंजिन में Dust पार्टिकल का जमा हो जाना, यह भी इंजिन हीटिंग का मुख्य कारण हो सकता है।

 

काले धुवे से बचने के उपाय – Measures to avoid black smoke :-

✦ गाड़ी की टाइम to टाइम सर्विसिंग करना जरुरी है।

✦ इंजिन में ऑइल की मात्रा Maintain रखना जरुरी है।

✦ २ से ३ सर्विसिंग के बाद इंजिन को फ़्लैश ऑइल से फ्लास आउट करना अत्यधिक आवश्यक है।

✦ इंजेक्टर के खराबी को देखना जरुरी है अगर इंजेक्टर ख़राब है तो उसे तुरंत रिप्लेस करें।

✦ अच्छे Mechanic से एयर फ्यूल मिश्रण की सेटिंग करना चाहिए।

यह सभी उपाय गाड़ी से निकलने वाले धुवे के बचाव के लिए है। साथ ही अगर इंजिन का कार्य योग्य तरीके से हो तो वह ओवरहीट भी नहीं होगा और गाड़ी के इंजिन की लाइफ भी बढ़ाएगा तथा गाड़ी का Mileage भी Maintain रखने में मदत करेगा।

conclusion

तो आशा करते है की आप अपने गाड़ियों का इस ऑटोमोबाइल के युग में अपने फॅमिली के तरह ध्यान रखेंगे और बाइक हमेशा कम स्पीड में ही चलाएंगे।

दोस्तों, उम्मीद है की आपको ओवरहीटिंग क्या है – What is Overheating यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

दोस्तों नमस्कार,….

फिर मिलते है,

 

 

संबंधित कीवर्ड :-

इंजन ओवरहीटिंग क्या है? What is engine overheating?, इंजन ओवरहीटिंग को कैसे रोके? How to prevent engine overheating?, वाहनों के काले धुवे से बचने के उपाय,

Author By :- Sachin Sir…

यह भी जरुर पढ़े

➬  RCC कॉलम तैयार करे

➬  इंजिन का कार्य 

➬  PUC कैसे बनाए 

➬  ट्रांसमिसन का कार्य

➬  मायक्रोमीटर का कार्य 

➬  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

➬  गुणकारी दही के लाभ 

➬  तुलसी है एक वरदान 

➬  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

➬  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

➬  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

➬  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

➬  पनीर सलाद कैसे बनाए 

➬  रक्त और हिमोग्लोबिन 

➬  विटामिन के लाभ 

➬  संतुलित आहार के फायदे 

➬  5 ” S ” का महत्व 

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

➬  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

➬  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

➬  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

➬  जी आय पाइप फिटिंग

➬  दमदार टेक्नोलॉजी

Post Comments

error: Content is protected !!