Information of Micrometer – (use micrometer) माइक्रोमीटर का सच क्या है?

माइक्रोमीटर का सच क्या है – What is the truth of micrometer, माइक्रोमीटर का उपयोग कैसे करे – How to use micrometer, माइक्रोमीटर की जानकारी  – Information of Micrometer, माइक्रोमीटर के प्रकार (TYPES OF MICROMETER), माइक्रोमीटर का उपयोग कैसे करें – USES OF MICROMETER, माइक्रोमीटर क्या है – What is micrometer, माइक्रोमीटर का लिस्ट काउंट क्या है – What is the list count of micrometer? सभी जानकारी हिंदी में

नमस्कार दोस्तों APNASANDESH.COM में आप सभी का हार्दिक स्वागत करते है, आज के लेख में हम आपको माइक्रोमीटर (MICROMETER) के बारे में जानकारी देंगे,

माइक्रोमीटर का सच क्या है - What is the truth of micrometer

 

माइक्रोमीटर की जानकारी हिंदी में – Information of Micrometer :-

दोस्तों माइक्रोमीटर का अविष्कार यार्कशायर के विलियम गैसकायन (WILLIAM GASCOIGNE) ने १६३९ में किया था, इसका उपयोग खगोलीय शास्त्रम, इंजिनियर, और साइंन्टिफीक कार्यो में करते है, किसी भी जॉब को बनाने के लिए हमें उस जॉब की लम्बाई, मोटाई, चौड़ाई, मालूम होनी बहुत जरूरी है, इसके लिए हम स्टील रूल का प्रयोग करते है, या फिर साधारण टेप का भी प्रयोग करते है,

 

लेकिन क्या आप को पता है की छोटी से छोटी कोई भी चीज का Measurement करने के लिए माइक्रोमीटर की जरुरत पड़ती है, माइक्रोमीटर ०.००१ से लेकर ०.०१ MM तक माप ले सकते है,

Read more – micrometer ka mula parichay

 

माइक्रोमीटर के प्रकार (TYPES OF MICROMETER)

1. आउटसाइड माइक्रोमीटर

2. इनसाइड माइक्रोमीटर

3. थ्रेडिंग टाइप्स माइक्रोमीटर

4. डेप्थ टाइप्स माइक्रोमीटर

 

आउटसाइड माइक्रोमीटर (OUTSIDE MICROMETER)

1. दोस्तों आउटसाइड माइक्रोमीटर से हम किसी भी जॉब का बाहरी भाग Measurement सकते है जैसे की, गोल, रेक्टांगुलर, चौरस, या फिर प्लेन भाग का Measurement ले सकते है,

2. माइक्रोमीटर के कुछ भाग है जिसके नाम इस प्रकार है, फ्रेम, अन्विल, स्पिंडल, लॉक नट, स्लीव, थिम्बल, बैरल स्प्रिंग, स्पिंडल नट, अड्जस्टिंग नट, रैचट स्प्रिंग, रचट स्क्रू,

3. माइक्रोमीटर पर ४० चुडिया १ इंच पार काटी जाती है,

4. माइक्रोमीटर यह १ इंच, १-२ इंच, और २-३ इंच के होते है, और साथ ही साथ यह ०-२५ MM, २-५० MM, ५०-७५ MM या फिर उनसे भी जादा साइज़ के होते है,

5. किसी भी जॉब का बाहरी भाग नापने के लिए हमें आउट साइड माइक्रोमीटर की जरूरत होती है,

6. सबसे पहले हमें बैरल पर पड़े डिविजन को पढ़ना चाहिए,

7. थिम्बल के छोटे निशान को पढ़ना चाहिए जो हमें लाइन पर मिलते है,

8. इसके बाद स्लीव के १ इंच के ४० वे भाग को भी गिना जाना चाहिए,

9. इन तीनो रीडिंग से हमें माइक्रोमीटर का Measurement मिल जायेगा,

 

इनसाइड माइक्रोमीटर (INSIDE MICROMETER)

1. इनसाइड माइक्रोमीटर से हम किसी भी जॉब के, अन्दर के भाग का Measurement कर सकते है,

2. गोल जॉब के अन्दर का डायमीटर या फिर किसी बोर का नाप लेते समय, इस माइक्रोमीटर में बेरल की लम्बाई १/२ इंच होती है,

3. इसमें आउटसाइड माइक्रोमीटर की तरह फ्रेम नहीं होती,

4. बेरल की तरह एक्सटेंशन पिस और अलग अलग साइज़ की एक्सटेंशन रॉड होती है,

 

थ्रेडिंग टाइप्स माइक्रोमीटर :-

1. थ्रेडिंग माइक्रोमीटर यह आउटसाइड माइक्रोमीटर की तरह होता है,

2. इसका स्पिंडल का एक भाग ५५ डिग्री अंश के बराबर होता है,

3. इसके अन्विल पर ६० डिग्री के कोण में V ग्रूव बना होता है,

4. कुछ थ्रेडिंग माइक्रोमीटर के स्पिंडल और अन्विल में छेद होता है,

5. इस माइक्रोमीटर में रीडिंग लेते समय साधारण मैट्रिक आउट साइड माइक्रोमीटर की तरह रीडिंग लेते है,

 

डेप्थ टाइप्स माइक्रोमीटर :-

1. डेप्थ माइक्रोमीटर की स्लीव और थिम्बल पर आउटसाइड माइक्रोमीटर की तरह होती है,

2. मीट्रिक पद्धति में डेप्थ माइक्रोमीटर की रॉड २५ MM में पाई जाती है,

3. डेप्थ माइक्रोमीटर हमेशा सेट में पाए जाते है,

4. इसमें अलग अलग साइज़ के रॉड होते है, जैसे की, २५ से ५०, ५० से ७५, ७५ से १००,

5. डेप्थ माइक्रोमीटर में ० से १५० MM सेट वाला उपयोग में लाया जाता है,

6. डेप्थ माइक्रोमीटर का उपयोग करने से पहले उसे अछि तरह चेक कर लेना चाहिए,

 

MM माइक्रोमीटर और इंच माइक्रोमीटर में अंतर (DIFFERENCE BETWEEN MM MICROMETER AND INCH MICROMETER)

 MM माइक्रोमीटर INCH माइक्रोमीटर
 १) इसकी पिच ०.५ MM की होती है,माइक्रोमीटर के स्लिव के अन्दर और स्पिंडल के ऊपर २५ MM साइज़ की ५० चुडिया कटी होती है, १) इसकी पिच १/४० की इंच की होती है, और इस माइक्रोमीटर के स्लीव के अन्दर और स्पिंडल के ऊपर ४० चुडिया इंच में होती है,
 २) इसमें कम से कम माप ०.०१ MM तक ले सकते है,२) इसमें कम से कम माप ०.००१ इंच तक ले सकते है,
 ३) इसकी रेंज मिलीमीटर तक होती है,३) इसकी रेंज इंच में होती है,
 ४) MM माइक्रोमीटर के स्लीव पर १ MM और १/२ MM इसके निशान होते है, ४) इंच माइक्रोमीटर के स्लीव पर १/१० और १/४० इंच के निशान होते है,

माइक्रोमीटर का उपयोग (USES OF MICROMETER)

1. माइक्रोमीटर का प्रयोग किसी भी घूमते हुए जॉब पर नहीं करनी चाहिए,

2. रीडिंग लेने के बाद लॉक नट को तुरंत लॉक कर देना चाहिए, रीडिंग कम या जादा ना हो इसलिए,

3. माइक्रोमीटर का उपयोग करने से पहले उसकी एक्यूरेसी चेक कर लेना चाहिए,

4. अगर माइक्रोमीटर में कुछ एरर दिखाई दे तो तुरंत स्पिंडल को घुमाके ठीक कर लेना चाहिए,

5. कोई भी जॉब को नापने से पहले उसको साफ़ कर लेना हाहिये,

6. माइक्रोमीटर को चलती हुई कोई भी मशीन पर इसका उपयोग नहीं करना चाहिए,

7. माइक्रोमीटर का जब भी उपयोग हो तब रेचट का उपयोग करना चाहिए,

8. माइक्रोमीटर को लकड़ी के बॉक्स में अच्छी तरह रखना चाहिए,

9. अन्य औजारों से माइक्रोमीटर को अलग रखना चाहिए,

 

माइक्रोमीटर का काम होने के बाद उसे अच्छी तरह साफ़ करना चाहिए.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको माइक्रोमीटर की जानकारी हिंदी में – Information of Micrometer यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

धन्यवाद।

हसते रहे – मुस्कुराते रहे।

 

Author By :- Prashant Sayre Sir

 

यह भी जरुर पढ़े :-

1. RCC कॉलम तैयार करे

2. इंजिन का कार्य

3. PUC कैसे बनाए

4. ट्रांसमिसन का कार्य

5. मायक्रोमीटर का कार्य

6. फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

7. गुणकारी दही के लाभ

8. तुलसी है एक वरदान

9 घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

10. रेसिपीज बनाने के तरीके

11. नीबू के महत्वपूर्ण गुण

12. पुदीना के जबरदस्त फायदे

13. पनीर सलाद कैसे बनाए

14. रक्त और हिमोग्लोबिन

15. विटामिन के लाभ

Post Comments

error: Content is protected !!