How to do primary treatment on burn – जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें

primary treatment on burn. प्राथमिक उपचार क्या है – What is the primary treatment ? प्राथमिक चिकित्सा का महत्वपूर्ण साहित्य – Important literature of first aid, प्राथमिक उपचार विधि – Primary treatment method, प्राथमिक उपचार के लिए ली जाने वाली सावधानी – Caution taken for first aid, प्राथमिक उपचार का परिचय – Introduction to first aid, प्राथमिक उपचार का महत्व – Importance of first aid सभी जानकारी हिंदी में।

नमस्कार, apnasandesh.com पर आप सभी का स्वागत है। दोस्तों पिछले लेख में हमने प्राथमिक चिकित्सा कैसे करें – first aid तथा महत्व जाना था। आज के लेख में हम प्राथमिक उपचार का परिचय, और जलने पर प्रथम उपचार इलाज कैसे करें इसके बारे में जानकरी प्राप्त करेंगे।

जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें - How to do primary treatment on burn

 

How to do primary treatment on burn – जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें :-

प्राथमिक उपचार को दुर्घटना पीड़ित या अचानक बीमारी के लिए दिए गए तत्काल Treatment के रूप में परिभाषित किया गया है, चिकित्सा सहायता उपलब्ध होने से पहले जल्दी और सही तरीके से की जाने वाली प्राथमिक चिकित्सा याने प्रथम उपचार है।

लगातार बढ़ती आबादी और दिन-प्रतिदिन की दिनचर्या की जटिलताओं के परिणामस्वरूप, व्यक्ति को आकस्मिक चोटों से मिलने की संभावना बढ़ रही है। दुर्घटनाएं किसी भी समय और किसी भी स्थान पर हो सकती हैं, आमतौर पर किसी समय पर या किसी स्थानों पर जहां डॉक्टर आमतौर पर उपलब्ध नहीं होते हैं। वहा प्राथमिक रूप में प्रथम उपचार किया जा सकता है।

 

प्रथम उपचार के कुछ महत्वपूर्ण साहित्य :-

1. बैंडेज ऑफ़ डिफरंट साइज,

2. ट्राइंगुलर बैंडेज,

3. अङेजिव बैंडेज,

4. बरऑइंटमेंट,

5. एंटी सेफ्टिक सोलुशन ( डेटोल, मक्यूरो क्रोम ),

6. सीजर और फोरशिप,

7. एरोमेटिक स्पिरिट ऑफ़ अमोनिया,

8. स्टेराइल गेज,

9. इमेरजैंसी ड्रग्स (पेनकिलर, एन्टीबॉटिक और पैकेट ऑफ़ ors ),

Read More – first aid kaise kare

 

जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें – How to do primary treatment on burn :-

1. जले हुए जगह को तत्काल ठंडे या अधिक मात्र के पानी में या पूरी तरह भीगे हुए कपडे में रखे.

2. यह जले हुए भाग से प्रभावित क्षेत्र से अविशिष्ट गर्मी को हटाकर आग की क्षति को शेकता है.

3. जले हुए जगह से रोगी के कपडे काटकर हटा दे.

4. रोगी को लेटने की स्तिथि में रखे.

5. रोगी को आश्वस्त करे और छाले (blister) को परेशान न करे.

6. जले हुए क्षेत्र को बड़ी ड्रेसिंग या साफ कपडे से ढके.

7. जले पैर आटा, तेल, मख्खन, लोसन, बेकिंग सोडा या श्याही नहीं लगाना है.

8. जलने वाले क्षेत्र को छुआ नहीं जाना चाहिए यह सावधानी बरते.

9. अंगूठी, चूड़ी, बेल्ट, जुते, जैसी शरीर की चीजो को तुरंत हटा डे क्योकि (शोफ़ (edema) के कारण) अंग पर सुजन आने से मांस का सडाव हो सकता है.

10. अगर रसायनिक पदार्थ से जला हुआ है तो अधिक मात्रा के पानी से धो ले, उससे रसायनिक पदार्थ घुल कर निकल जाते है.

11. यदि जलने का प्रभाव आख पर पड़ता है तो उसे तत्काल धो ले और उसके बाद जीवाणुहीन मरहमपट्टी कर ले.

12. यदि व्यापक जलन हो तो रोगी को साफ़ कपडे से लपेट ले और तत्काल अस्पताल में ले जाए.

 

झटका (shock ) लगने पर प्रथम उपचार इलाज :-

1. सबसे पहले रोगी को अच्छी तरह हवादार क्षेत्र में ले जाए.

2. उचित हवा देने के लिए भीड़ को चतुराई से हटाए और मरीज को डर और चिंता से राहत दिलाए.

3. रोगी को शांत रखे और ह्युदय के साथ सपाट स्थिति में लिटाकर और एक तरफ कर डे. रोगी के पैर के बिच तकिया रखकर पैर थोडासा उपर कर दे उससे रक्तसंचार ठीक से होता है

4. यदि साँस लेने में तकलीफ होती है तो मरीज के मस्तिक्स और छाती को ऊपर करे.

5. रोगी के कपड़ो को ढीला करे लेकिन उन्हें हटाए नहीं.

6. रोगी को कम्बलसे गर्म रखे

7. रोगी को गरम या ठंडा पेय ना दे क्योकि उसे डॉक्टर द्वार आपत्कालीन जाँच की आवश्यकता हो सकती है.

8. मरीज को तुरंत अस्पताल में शिप्ट कर ले.

यह सभी प्राथमिक उपचार करने से पहले आप सावधानी बरते या फिर प्राथमिक उपचार करने का प्रशिक्षण प्राप्त करे इससे आप अच्छे प्राथमिक चिकित्सक बन सकते है और रोगी को जीवन दान दे सकते है.

 

How to do primary treatment on burn – जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें

दोस्तों, उम्मीद है की आपको जलने पर प्राथमिक उपचार कैसे करें यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

धन्यवाद।

हसते रहे – मुस्कुराते रहे।

 

यह भी जरुर पढ़े

1. नीबू के महत्वपूर्ण गुण

2. पुदीना के जबरदस्त फायदे

3. पनीर सलाद कैसे बनाए

4. रक्त और हिमोग्लोबिन

5. विटामिन के लाभ

6. संतुलित आहार के फायदे

7. 5 ” S ” का महत्व

8. नए आविष्कार वाले हेलमेट

9. BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

10. इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है

11. रस्ता संकेत

12. वाहनों का आविष्कार

13. पहिए का आविष्कार

14. पढाई कैसे करे

15. ट्रांसफोर्मर का कार्य

16. मल्टीमीटर का उपयोग

Post Comments

error: Content is protected !!