साहसी बालक की कहानी – Story of a brave boy in Hindi

साहसी बालक की कहानी – Story of a brave boy in Hindi,कहानी से क्या सीखते है-What do we learn from a story, कहानी क्यों लिखते है -Why write a story.

नमस्कार दोस्तों APNASANDESH.COM में आप सभी का स्वागत करते है, आज के लेख में हम आपको एक साहसी बालक के बारे में जानकारी देंगे.

साहसी बालक की कहानी - Story of a brave boy

 

साहसी बालक की कहानी – Story of a brave boy :-

बात बहुत पुराणी है दोस्तों, एक गाव में एक बालक रहता था, उसे पढ़ने लिखने का बहुत शौक था. और वह पढाई में पूरी तरह निपुण था. पर आर्थिक तंगी के कारण उसे बहुत कठिनाइयो का सामना करना पड़ता था. वर्षा का मोसम था. एक दिन बहुत वर्षा हुई और गंगा नदी में बाढ़ आई हुई थी. बालक के स्कूल के सारे बच्चे स्कूल जाने को तैयार थे, इसलिए गाव के सभी बालक नाव व्दारा नदी पार विद्यालय जा रहे थे, पर एक बालक गंगा नदी के किनारे बैठा था. वह बहुत उदास था, उसे भी विद्यालय जाना था, पर वह जा नहीं सकता था. क्युकी नाववाले को देने के लिए उसके पास पैसे नहीं थे.

कुछ समय पश्चात उसके मित्र बालक के पास आये और उसे उसकी उदासी का कारण पूछा. बालक ने कहा उसे विद्यालत जाना है पर उसके पास पैसे नहीं है नाववाले को देने के लिए, बालक के मुख से ये सब सुनकर उसके मित्र हस पड़े और बोले – इसमें उदास होने की क्या बात है. तू चुपचाप जाकर नाव में पीछे बैठ जा, इतने बच्चो में नाववाले को क्या पता चलेंगा की तूने पैसे दिए है या नहीं.

साहसी बालक की कहानी 

मित्रो की ये सब बाते सुनकर बालक ने कहा, नहीं मैं किसी को धोका नहीं दूंगा, तभी उनमे से एक बच्चे की आवाज आई वह बोला- दोस्त तुम नाव में बैठ जाओ, तुम्हारे पैसे मैं दे दूँगा, पर बालक को यह मंजूर नहीं था. बालक ने कहा – धन्यवाद मित्र, किन्तु मैं कभी किसी का एहसान नहीं ले सकता, बालक ने बड़े ही दृढ़तापूर्वक कहा. उसके मित्रो ने बालक को बहुत समझाया किन्तु बालक नहीं माना. उसके सारे मित्र नाव में बैठकर विद्यालय चले गए, और बालक उनको देखते हुए अकेला रह गया.

बालक के मन में विचार आ रहा था की विद्यालय कैसे जाये, उसके पास नाववाले को देने के लिए पैसे नहीं है. वह अकेला ही नदी किनारे बैठ कर सोच विचार कर रहा था, थोड़ी देर सोच विचार करने के बाद उसके मन में एक विचार आया, और बालक ने विद्यालय जाने का पूरी तरह मन बना लिया था. आखिर उसने एक निश्चय किया की तहरकर नदी पार करके विद्यालय पंहुचा जाये. बालक ने अपने सारे कपडे उतारकर अपने बस्ते में रख दिए. अब उसने बस्ते को अपने सिर पर कस कर बांध लिया, और नदी में कूद गया. नदी पार करते करते वह थक भी रहा था, पर बालक ने हार नहीं मानी और देखते ही देखते बालक तहरकर नदी पार पहुच गया, नदी पार करने के बाद बालक ने अपने कपडे पहने और चेहरे पर जीत की ख़ुशी लिए वह विद्यालय की और दौड़ पडा.

Read more – chatur thag ki kahani jane hindi me 

साहसी बालक की कहानी 

दोस्तों क्या आप जानते हो की यह स्वाभिमानी और साहसी बालक कौन था, यह बालक था नन्हे, जो आगे चलकर लालबहादुर शास्त्री के नाम से प्रसिद्ध हुए और यह बालक हमारे भारत का दूसरे प्रधानमंत्री बने,

लालबहादुर शास्त्री का जन्म २ अक्टूम्बर, १९०४ को हुआ था, इनके बचपन में ही पिता का देहांत हो गया जिसके कारण इनका जीवन बड़ी ही कठिनाइयो में बिता। पर इन्होने कभी भी हार नहीं मनी, वह शरीर से दुबले पतले होने के बाद भी इनमे साहस, निडरता, और ईमानदारी जैसे गुण कूट कूट कर भरे थे. हमारे भारत देश को स्वतंत्र दिलाने में इन्होने महात्मा गांधीजी का साथ दिया, ऐसे महान व्यक्ति जिनका निधन ११ जनवरी, १९६६ को हुआ था, किन्तु आज भी हम उनका नारा “जय जवान, जय किसान” सुनकर एसा लगता है की ये हमारे बिच में आज भी है, एसे महापुरुष को हम सब शत-शत नमन करते है,

conclusion

दोस्तों, उम्मीद है की आपको साहसी बालक की कहानी – Story of a brave boy यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

धन्यवाद।

हसते रहे – मुस्कुराते रहे।

संबंधित कीवर्ड :-

साहसी बालक की कहानी – Story of a brave boy, लालबहादुर शास्त्री जी की कहानी, भारत के दूसरे प्रधानमंत्री, लालबहादुर शास्त्री Story of a brave boy .

Author By :- Prashant Sayre Sir

यह भी जरुर पढ़े

➬  RCC कॉलम तैयार करे

➬  इंजिन का कार्य 

➬  PUC कैसे बनाए 

➬  ट्रांसमिसन का कार्य

➬  मायक्रोमीटर का कार्य 

➬  फेरोसिमेंट बनाने के तरीके

➬  गुणकारी दही के लाभ 

➬  तुलसी है एक वरदान 

➬  घुटने दर्द होने पर ट्रीटमेंट करे

➬  रेसिपीज बनाने के  तरीके 

➬  नीबू के महत्वपूर्ण गुण 

➬  पुदीना के जबरदस्त फायदे 

➬  पनीर सलाद कैसे बनाए 

➬  रक्त और हिमोग्लोबिन 

➬  विटामिन के लाभ 

➬  संतुलित आहार के फायदे 

➬  5 ” S ” का महत्व 

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

➬  अंग्रेजी बोलने के तरीके 

➬  प्रदुषण कैसे नियत्रण करे 

➬  अंग्रेजी बोलने के टिप्स 

➬  जी आय पाइप फिटिंग

➬  दमदार टेक्नोलॉजी

Post Comments

error: Content is protected !!