What is the truth of the circuit – (circuit Diagram) सर्किट का सच क्या है?

सर्किट का सच क्या है – What is the truth of the circuit, सर्किट क्या है – What is the circuit, सर्किट के प्रकार – Types of circuits, सर्किट की मुख्य व्याख्या – The main interpretation of the circuit, सर्किट का परिचय – Introduction to circuits, सर्किट को कैसे परिभाषित करें – How to define a circuit, सभी जानकारी हिंदी में।

नमस्कार, apnasandesh.com पर आप सभी का स्वागत है। दोस्तों आज इस पोस्ट में हम आपको इलेक्ट्रिक सर्किट के बारे में हिंदी भाषा में बताएंगे। जैसे शॉर्ट सर्किट क्या है? सर्किट क्या है? इलेक्ट्रिक सर्किट किसे कहा जाता है? इलेक्ट्रिक सर्किट के बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले है।

सर्किट का सच क्या है - What is the truth of the circuit

 

What is the truth of the circuit – (circuit Diagram) सर्किट का सच क्या है?

जब बैटरी, सेल या जनरेटर द्वारा उत्सर्जित धनात्मक धारा ऋणात्मक तार से लौटकर उसी स्थान पर पहुँचती है, तो उसे विद्युत परिपथ या सर्किट कहा जाता है। इसका सबसे आसान उदाहरण हमारे घर में इस्तेमाल होने वाले सभी उपकरण या एक छोटी मशाल है जिसमें एक सेल, एक बटन और एक बल्ब होता है। इसलिए जैसे ही हम बटन दबाते हैं, यदि सेल के पॉजिटिव टर्मिनल का करंट बटन के माध्यम से करंट छोड़ता है और नेगेटिव टर्मिनल से सेल में जाता है, तो यह एक पूर्ण विद्युत सर्किट है।

बिजली के प्रवाह का निर्धारण करते समय, उस कंडक्टर के माध्यम से बहने वाली बिजली को “सर्किट” के रूप में व्यक्त किया जाता है।

 

सर्किट के कुछ मुख्य प्रकार :-

शॉर्ट सर्किट :-

बिजली का प्रवाह जब कुछ भी काम न रहने के बावजूद भी अगर उसके पास से गुजरता है और सर्किट पूरा करता है उसको ”शॉर्ट सर्किट” व्यक्त किया जाता है।

ओपन सर्किट :-

बजिली प्रवाह मंडल सर्किट के बिच कटा हुआ हो तो वह सर्किट ”ओपन सर्किट” व्यक्त किया जाता है।

सर्किट के Important अन्य प्रकार :-

Series circuit – सीरिज़ सर्किट,

Parallel circuit – समानांतर सर्किट,

Compounder circuit – कम्पाउंडर सर्किट,

 

सीरीज सर्किट :-

इस सर्किट में दीपक समान सर्किट कंडक्टर तार से जुड़ा हुआ है। एक सर्किट दूसरे सर्किट डिवाइस से पुश होता है। इस वजह से, बिजली के प्रवाह का एक ही तरीका है। यदि सर्किट काट दिया जाता है, तो पूरे सर्किट का अनुसरण इस प्रकार के सर्किट में किया जाता है।

इस सर्किट के कार्य निम्नलिखित प्रकार में दिए है।

सर्किट द्वारा दिए गए सटीक विद्युत प्रवाह को उस सर्किट में जोड़े गए विद्युत प्रतिरोध प्रवाह के अपने प्रतिरोध की लागत में विभाजित किया गया है। इसीलिए बिजली से लेकर सभी विरोधी जगहों पर मिलाने के कारण वे ”+” होता है।

सर्किट में से जानेवाला बिजली प्रवाह एकसमान होता है।

इसका विरोध बताने के बाद ही पुरे सर्किट का विरोध बढ़ जाता है।

Exa. पुरे विरोध (RT) = R₁ + R₂ + R₃

(इसलिए सर्किट का विरोध रुकने के बाद सर्किट का प्रवाह कम होता है)

Exa. 230 व्होल्ट सप्लाय दिए हुए एक सर्किट में 500 ओहम विरोध के दो Lamp सीरीज लगाए है उन सर्किट से कितना एम्पियर प्रवाह जायेगा?

पहिये सर्किट का पूरा विरोध,

पूरा विरोध = 500 * 2 = 1000 Ohm

 

आनेवाला प्रवाह = दबाव/विरोध  =230/1000

= 0.232 एम्पियर

सर्किट का सच क्या है - What is the truth of the circuit

दिय गए आरेख में विरोध सीरीज का उदाहरण व्यक्त किया है।

Read More – Electrical testing equipment aur parichay

 

समानांतर सर्किट :-

इस सर्किट में, लैंप को एक दूसरे के सर्किट में जोड़ा जाता है। प्रत्येक विरोध में सकारात्मक और नकारात्मक तार जोड़े जाते हैं।

समानांतर सर्किट दिया गया सर्किट का मुख्य दबाव (Pressure) यही सभी विरोधोंको मिलता है। इसकारण सभी का दबाव एक जैसा ही रहता है।

सर्किट का प्रवाह (बिजली) = सर्किट का सभी विरोधोके प्रवाहो की ”+” किया जाता है।

समानांतर सर्किट में के सर्किट का विरोध कैसे निकाले?

 

1/Rt = 1/R₁ + 1/R₂ + 1/R₃

 

सर्किट का सच क्या है - What is the truth of the circuit

कम्पाउंडर सर्किट :-

कम्पाउंडर सर्किट श्रृंखला और समानांतर सर्किट के मिश्रण में व्यक्त किए जाते हैं। यह सर्किट श्रृंखला और समानांतर सर्किट दोनों का उपयोग करता है। डीसी जनरेटर, मोटर और सभी प्रकार की वायरिंग बैटरी का उपयोग ऐसे सभी कंपाउंडर सर्किट में किया जाता है।

इस प्रकार के सर्किट में सर्किट एक कोने से शुरू होता है और चरण दर चरण, प्रतिरोध और बिजली के दबाव की कीमत जोड़ी जाती है।

सर्किट का सच क्या है - What is the truth of the circuit

दिए गए आरेख में सर्किट के सभी विरोध बिजली दबाव और प्रवाह के बारे में विस्तृत किया है।

सर्किट का पूरा विरोध निकाले :-

Starting से R₁, R₂ सीरीज में रहने से (8 + 8 = 16 Ω) R₃ से R₁ और R₂ के कम्पाउंडर में रहते है,

= 1/16 + 1/16   = 2/16  = 1/8  = 8 Ω

 

R₁, R₂ और R₃ सीरीज में रहने से पूरा विरोध = 8 + 12 = 20 Ω

R₁, R₂, R₃ R₄ इनके कम्पाउंडर रहने से R₅ आने से पूरा विरोध यह,

= 1/20 + 1/20  = 2/20  = 10 Ω

R₁, R₂, R₃, R₄ और R₅ के सीरीज में R₆ आने से,

= 10 + 10

= 20 Ω

अब सर्किट का पूरा विरोध = V/R

= 80V/20R

= 4A

R₆ प्रवाह = 4A

Pressure = I * R₆

= 4 * 10

= 40V

R₅ प्रवाह = 40V

प्रवाह = 40V/20Ω

= 2A

R₄……….प्रवाह = 4A – 2A ………R₅ प्रवाह

= 2Ω

दबाव = 1 * R₄ = 1 * 12Ω  = 12V

R₃ ……..दबाव = 40V – 24V = 16V

प्रवाह = 16V/16R = 1A

R₂ ……… प्रवाह = 2 – 1 = 1A

दबाव = 1 * R₂

= 1 * 8

= 8V

R₁ ……….. = 16V – 8V = 8V

प्रवाह = 8V/8

= 1A

 

What is the truth of the circuit – (circuit Diagram) सर्किट का सच क्या है?

दोस्तों, उम्मीद है की आपको सर्किट का सच क्या है – What is the truth of the circuit यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

धन्यवाद।

हसते रहे – मुस्कुराते रहे।

 

Author By :- Yogesh Chaudhari

 

यह भी जरुर पढ़े

1. नीबू के महत्वपूर्ण गुण

2. पुदीना के जबरदस्त फायदे

3. पनीर सलाद कैसे बनाए

4. रक्त और हिमोग्लोबिन

5. विटामिन के लाभ

6. संतुलित आहार के फायदे

7. 5 ” S ” का महत्व

8. नए आविष्कार वाले हेलमेट

9. BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

10. इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है

11. रस्ता संकेत

12. वाहनों का आविष्कार

13. पहिए का आविष्कार

14. पढाई कैसे करे

15. ट्रांसफोर्मर का कार्य

16. मल्टीमीटर का उपयोग

Post Comments

error: Content is protected !!