How to use fasteners – Automobile फास्टनर्स का उपयोग कैसे करे?

फास्टनर्स क्या है – What is fasteners, फास्टनर्स का उपयोग कैसे करे – How to use fasteners, नट का परिचय – Introduction of nut, बोल्ट का परिचय – Introduction to Bolts, नट और बोल्ट का उपयोग कैसे करे – How to use nuts and bolts, फास्टनर्स का महत्व – Importance of Fasteners, फास्टनर्स का परिचय – Introduction to Fasteners, फास्टनर्स के बारे में जानकारी – Information about fasteners, फास्टनर्स के विविध प्रकार – Miscellaneous types of fasteners, इंजीनियरिंग वर्कशॉप में फास्टनर्स का उपयोग – Fasteners access to engineering workshops, सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर से आप सभी का apanasandesh.com पर हार्दिक स्वागत है, आज के इस लेख में हम आपको फास्टनरों के बारे में बताएंगे, तो चलिए दोस्तों जानते हैं फास्टनरों के बारे में विस्तृत जानकारी:

फास्टनर्स का उपयोग कैसे करे - How to use fasteners

 

How to use fasteners – Automobile फास्टनर्स का उपयोग कैसे करे? :-

फ़ास्टनर्स का परिचय – Information about fasteners

दोस्तों आप को बता दे की जब कभी दो पार्ट्स को जोड़ने का काम होता है तब वह फ़ास्टनर्स का कार्य होता है. जैसे की ऑटोमोबाइल के पार्ट्स को आपस में जोड़ने और उसे एक अलग ही रूप, मतलब गाड़ी का रूप दिया जाता है. इन सरे पार्ट्स को आपस में जोड़ने के अनेक प्रकार प्रयोग में लाये जाते है, जिसे फ़ास्टनर्स कहते है, गाड़ी जब रस्ते पर चलती है तब उसमे कंपन (Vibration) के साथ साथ नट बोल्ट खुल जाते है, लेकिन एडवांस ऑटोमोबाइल टेक्नोलॉजी में जब गाड़ी बनाई जाती है, तब नट, बोल्ट, स्टड, मशीन क्रू, शिट मेटल स्क्रू, रेवेंट इन सभी का उपयोग किया जाता है, और जब कभी नट बोल्ट ख़राब हो जाता है तब बाजार से इसे खरीदते समय इस सारी चीजो की जानकारी होनी चाहिए.

 

फ़ास्टनर्स के प्रकार – Types of Fasteners :-

1. हेक्सागोनल हैड बोल्ट – Hexagonal Head Bolt,

2. स्क्वेयर हैड बोल्ट – Square head bolt,

3. कप हैड बोल्ट – cup Head Bolt,

4. टी हैड बोल्ट – T Head Bolt,

5. ऑय बोल्ट – Eye Bolt,

6. हुक बोल्ट – Hook Bolt,

 

हेक्सागोनल हैड बोल्ट – Hexagonal Head Bolt :-

इस तरह का बोल्ट बहुत अधिक मात्रा में उपयोग में लाया जाता है, इस बोल्ट का हैड 6 साइड वाला होता है. इस तरह के बोल्ट हाई कार्बन स्टील के बने होते है. इस बोल्ट को प्रयोग में लाने के बाद कभी जंग लग जाये और जिसके वजह से कभी बोल्ट ख़राब हो जाये तो जॉब को बाहर नहीं निकलते और उसी जगह पर बोल्ट को हैमर और छेनी की मदत से तोड़ दिया जाता है, इस तरह के बोल्ट पर ३० डिग्री का कोण बनाया जाता है.

 

In the country we use ISO metric thread and the basic profile –

D = Major diameter of internal thread (Nut)

d = Major diameter of external thread (bolt)

D2 = Pitch diameter of internal thread

d2 = Pitch diameter of external thread

D1 = Minor diameter of internal thread

d1 = Minor diameter of external thread

P = Pitch

H = Height of fundamental triangle

d = D = nominal diameter

d2 = D2 = d – 0.6495 P

H = 0.866 P

d1 = D1 = d – 1.0825 P

P = Pitchr = 0.1443 P

 

स्क्वेअर हैड बोल्ट – Square head bolt :-

इस तरह का बोल्ट चौरस होता है, और इस बोल्ट का उपयोग हेक्सागोनल बोल्ट की तुलना में कम उपयोग में लाया जाता है. इस बोल्ट को कसी झिरी में फंसाकर उपयोग में लाया जाता है, ताकि नट को खोलने और कसने पर घूम न सके इस तरह का बोल्ट हाई कार्बन स्टील का बना होता है. नर्म धातु के बने होने के कारन यह कभी भी हतोड़ी के जोरदार चोट मारने के कारन टूट जाता है, इस तरह का बोल्ट का उपयोग साधारण से बेअरिंग या सॉफ्ट के लिए किया जाता है.

Read More – Spanner ka upyog kaise kare aur tips

Read More – Torque wrench kya hai

 

कप हैड बोल्ट – cup Head Bolt :-

इस तरह के बोल्ट का उपयोग लकड़ी से बने कार्यो के लिए किया जाता है. इस बोल्ट का गोलाकार भाग अर्ध गोल होता है, और हैड के निचे छोटा सा C जैसा गोल नैक बनी रहती है. इस बोल्ट को जादा प्रयोग में नहीं लाते, इस बोल्ट का मटेरियल हाई कार्बन स्टील का बना होता है, और यह रेवेंच जैसा दिखने में लगता है. इस बोल्ट पर कुछ भाग में थ्रेड्स भी बनी रहती है, जो किसी पार्ट्स को जोड़ने का काम करते है.

 

टी हैड बोल्ट – T Head Bolt :-

इस तरह का बोल्ट इंग्लिश शब्द के T जैसा होता है, और इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग मशीन टेबल में जॉब को कसने के लिए किया जाता है, और साथ ही साथ हैड मशीन के टेबल में टी आकार में अच्छी तरह फिट किया जाता है. इस बोल्ट का मटेरियल भी हाई कार्बन स्टील का बना रहता है, जो जरुरत पड़ने पर आसानी से टूट जाता है.

 

ऑय बोल्ट – Eye Bolt :-

ऑय बोल्ट का हेड गोल बना होता है, और इसमें एक होल किया रहता है, जिसके कारन इसे ऑय बोल्ट कहते है, इस तरह के बोल्ट का उपयोग भारी चीजे जैसे की भारी मशीन, और हैवी इंजन इस तरह के भारी सामान को उठाने के लिए किया जाता है, यह मशीन के भार के अनुसार मोटे और पतले बनाये जाए है, इस तरह के बोल्ट हाई कार्बन स्टील के बने होते है, जो सॉफ्ट मटेरियल से बनने के कारन नर्म रहते है, इस तरह के बोल्ट पर पूरी बोदी पर थ्रेड्स बनी रहती है, बिजली के मीटर के उपर भी इस बोल्ट को लगाया जाता है.

 

हुक बोल्ट – Hook Bolt :-

इस तरह का बोल्ट का हेड पूरा गोल नहीं होता है, मतलब थोडा सा एक तरफ से कटा हुआ रहता है, इसके कटे हुए सिरे पर एक हुक बनी रहती है, और दुसरे एंड पर थ्रेड्स बनी रहती है, इस प्रकार के बोल्ट का उपयोग क्रेन के साथ किया जाता है जो की बहुत भारी भारी मशीनो को उठा सके, और उन भारी सामानों को एक जगह से दुसरे जगह उठा कर रख सके इस तरह के बोल्ट का उपयोग छत पर लगे सीमेंट की शिट पर किया जाता है, जिससे नट लगाकर टाईट कर सके.

 

फ़ास्टनिंग अन्य तिन प्रकार की होते है,

1. टेम्पररी फ़ास्टनिंग – temporary fastening

2. सेमी परमानेंट फ़ास्टनिंग – semi parmanent fastning

3. परमानेंट फ़ास्टनिंग – permanent fastning

 

टेम्पररी फ़ास्टनिंग – temporary fastening :-

इस तरह के फ़ास्टनिंग में अलग-अलग प्रकार के पार्ट्स को जोड़ा और खोला जा सकता है, यह फ़ास्टनर्स टेम्पररी कार्यो में प्रयोग किया जाता है.

 

सेमी परमानेंट फ़ास्टनिंग – semi permanent fastening :-

इस तरह के फ़ास्टनिंग को खोलते समय आसानी से नहीं खुलते क्योंकि इसे सोल्डरिंग करके फिट किया रहता है.

 

परमानेंट फ़ास्टनिंग – permanent fastening :-

इस तरह का फ़ास्टनिंग अलग-अलग नहीं किया जा सकता, अगर करने की कोशिश करे तो पार्ट्स और उससे जुड़े जॉब को भी टूटना पड़ सकता है क्योंकि यह वेल्डिंग करके दो पार्ट्स को जोड़ा जाता है.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको फास्टनर्स का उपयोग कैसे करे – How to use fasteners यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें. और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे…..

 

Author By :- Prashant Sayre Sir

 

यह भी जरुर पढ़े  :-

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

4.  रस्ता संकेत 

5.  वाहनों का आविष्कार 

6.  पहिए का आविष्कार 

7.  पढाई कैसे करे 

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

9.  मल्टीमीटर का उपयोग 

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

11. सफल होने का रहस्य 

Post Comments

error: Content is protected !!