How to use reamer – Workshop रीमर का उपयोग कैसे करे

रीमर क्या है – What is Reamers, रीमर का उपयोग कैसे करे – How to use reamer, रीमर का परिचय – Reamer introduction, Work shop me reamer ka upyog kaise kare? रीमर का महत्व – Importance of Reamer, रीमर  के बारे में जानकारी – Information about Reamer, रीमर के विविध प्रकार – Various types of reamer, इंजीनियरिंग वर्कशॉप में रीमर का उपयोग सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर से आपका स्वागत है apnasandesh.com में, आज के इस लेख में हम Reamers के बारे में बात करते हैं, इस लेख के माध्यम से आपको Reamers के बारे में विस्तृत जानकारी ”अपना संदेश” टीम द्वारा दि जा रहा है, उम्मीद है यह जानकारी आपके लिए उपयोगी हो.

रीमर का उपयोग कैसे करे - How to use reamer

 

How to use reamer – Workshop रीमर का उपयोग कैसे करे :-

रीमर का परिचय – Information about Reamers :-

Reamers ka Upyog बड़े बड़े इंडस्ट्री और ऑटोमोबाइल कंपनी में किया जाता है, जहा पर एक्यूरेसी और फिनिशिंग की बात आती है वही पर रीमर का इस्तमाल करते है, वैसे तो ड्रिल बिट से कितनी भी सावधानी से होल करे तो भी होल करते समय ड्रिल के कम्पन के कारन सुराख़ बड़ा और साइज़ में अंतर आ ही जाता है. ड्रिल व्दारा कम्पन होने के कारन सुराख़ सही तरह से नही आता और उसके अन्दर फिनिशिंग भी नहीं होती है.

इसलिए अच्छी फिनिशिंग के लिए रीमरका उपयोग करते है. आप को बता दे की ऑटोमोबाइल में जब फ्रंट एक्सेल में किंग पिन और स्टब एक्सेल, बुश को फिट करते है, तब उस समय स्टब एक्सेल के बुश का अन्दर वाला साइज़ छोटा हो जाता है, और बुश के साइज़ को ठीक करने के लिए एडजस्टेबल वाला रीमर उपयोग में लाया जाता है. रीमर हमेशा हाई कार्बन स्टील और हाई स्पीड स्टील के बने होते है.

 

रीमर के प्रकार – Types of Reamers

1. हैण्ड रीमर (Hand Reamer)

2. टेपर रीमर (Taper Reamer)

3. एक्सपेंशन रीमर (Expansion Reamer)

4. एडजस्टेबल रीमर (Adjustable Reamer)

5. पायलट रीमर (Pilot Reamer)

6. रोज रीमर (Rose Reamer)

7. मशीन रीमर (Machine Reamer)

8. शैल रीमर (Shell Reamer)

9. फ्लूटेड रीमर (Fluted Reamer)

10. टेपर पिन रीमर (Taper pin Reamer)

 

हैण्ड रीमर – Hand Reamer :-

किसी भी जॉब पर जब होल करते है, तब उस होल को अन्दर से पॉलिश और एक्यूरेसी साइज़ में बनाने के लिए हैण्ड रीमर का उपयोग किया जाता है, रीमर की शेंक पर टेग बना होता है, जिसपर हेंडल फिट करके या टेप रेंच की सहायता से इसे हाथो ससे घुमाया जाता है, इसकी बोडी पर कुछ ग्रूव कटी हुई होती है, इसके एज पीछे की और टेपर किये होते है जिससे काटते समय कही फंसे नहीं.

 

टेपर रीमर – Taper रीमर :-

रीमर हमेशा स्ट्रैट और टेपर में बनाया जाता है, इसका उपयोग किसी ड्रिल होल को टेपर बनाने की लिए किया जाता है. कुछ रीमर रफ होते है मतलब रफ्फिग का कार्य करते है और कुछ रीमर फिनिशिंग का कार्य करते है, रुफ्फिंग रीमर में दात कुछ मोटे होते है और फिनिशिंग रीमर में दांत पतले और जादा होते है. यह सब रीमर टेपर साइज़ में उपलब्ध होते है, इस रीमर का उपयोग बड़ा ही ध्यानपूर्वक करना चाहिए, इसके दांतों में फंसे चिप्स को साफ करते रहना चाहिए.

types of reamer

एक्सपेंशन रीमर – Expansion Reamer :-

इस तरह के रीमर में एक होल होता है, और इसकी बोदी पर स्प्लिट किया होता है, और इसके टेपर सुराख़ में टेपर प्लग फिट किया जाता है, इसका प्लग हेड वर्गाकार बना रखते है, इसकी थ्रेड्स कटी होने के कारन फ़ैल जाती है, और इस प्रकार से रीमर को पकड़ने के कारन प्लग को ढीला या कसने पर रीमर का साइज़ कम ज्यादा किया जा सकता है.

types of reamer

एडजस्टेबल रीमर – Adjustable Reamer :-

इस तरह के रीमर में एडजस्ट करने के कारन दूसरे रीमर की तुल्लना में अधिक होती है, क्योंकि इस रीमर की सीमा कम ज्यादा करने के कारन इसके साइज़ को कम और ज्यादा किया जा सकता है. इसके ब्लेड के उपर और निचे दो नट लगे होते है जिसके कारण इसे ढीला और कसने पर कम या ज्यादा किया जा सकता है, इस रीमर का प्रयोग करने से बहुत अधिक ताकत नहीं लगती, और इससे एडजस्ट करने से थोडा-थोडा करके मटेरियल काटा भी जा सकता है, इस तरह के रीमर अलग-अलग साइज़ में मिलते है और इसका अधिकतम उपयोग रिपेयर के लिये किया जाता है.

Read More – Workshop me drill bit ka upyog kaise kare

 

पायलट रीमर – Pilot reamer :-

पायलट रीमर का उपयोग एक या एक से अधिक होल को रेमिंग करने के लिए किया जाता है, इस रीमर का बॉडी का सामने वाला भाग ड्रिल जैसे बना होता है. इसके बीच वाले एज का भाग कटा हुआ होता है, जिससे कटाई का कार्य करते है, इस रीमर का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल ऑटोमोबाइल पार्ट्स और मशीन Assembly में किया जाता है.

reamer ka upyog kare

रोज रीमर – Rose Reamer :-

इस तरह के रीमर का तिरछा सिरा होता है, और इसकी ब्लेड बहुत चौड़ी होती है जिससे तिरछी कटिंग करती है, और इस रीमर के बॉडी शैल पर कुछ भाग टेपर किया हुआ होता है. इस तरह के रीमर फिनिशिंग नहीं करते इसका प्रयोग होने के बाद हैण्ड रीमर का उपयोग करते है.

reamer ka upyog kare

मशीन रीमर – Machine Reamer :-

मशीन रीमर के शेंक पर टेपर बनी होती है, और इसके एज कुछ फ्लैट जैसी घुमती हुई होती है, और इसके सिरे पर मतलब टेग फ्लैट होती है. इस रीमर को मशीन के स्पिंडल में पकड़कर अधिक से अधिक उपयोग में लाया जाता है, और इसे फिनिशिंग करने के लिए कार्य किया जाता है.

reamer ka upyog kare

टेपर पिन रीमर – Taper pin Reamer :-

इस तरह के रीमर जब प्रयोग में लाये जाते है जब रीमर का काम किसी जॉब पर होल में टेपर पिन फिट करनी हो. और इसकी बॉडी में कुछ दुरी तक टेपर पिन बनी हुई होती है, इस तरह के रीमर पर किसी भी प्रकार की कट नहीं होनी चाहिए.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको रीमर का उपयोग कैसे करे – How to use reamer यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे…..

types of reamer

Author By :- Prashant Sayre Sir

 

यह भी जरुर पढ़े  :-

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

4.  रस्ता संकेत 

5.  वाहनों का आविष्कार 

6.  पहिए का आविष्कार 

7.  पढाई कैसे करे 

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

9.  मल्टीमीटर का उपयोग 

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

11. सफल होने का रहस्य 

Post Comments

error: Content is protected !!