Introduction to washer and nut – Automobile वॉशर और नट का परिचय

वॉशर और नट क्या है – What is washer and nut, नट का परिचय – Introduction of nut, वॉशर और नट का उपयोग कैसे करे – How to use washer and nut, वॉशर का परिचय – Washer introduction, वॉशर और नट का महत्व – The importance of washer and nut, वॉशर और नट का परिचय – Introduction to washer and nut, वॉशर और नट के बारे में जानकारी – Information about washer and nut, वॉशर और नट के विविध प्रकार –  Various types of washer and nut, इंजीनियरिंग वर्कशॉप में वॉशर और नट का उपयोग – सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार दोस्तों हम आप सभी का apnasandesh.com पर स्वागत करते हैं. आज के लेख में, हम वॉशर और नट के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे, तो चलिए दोस्तों हम वॉशर और नट के बारे में विस्तृत जानकारी के बारे में जानते हैं:

वॉशर और नट का परिचय - Introduction to washer and nut

 

Introduction to washer and nut – Automobile वॉशर और नट का परिचय :-

जब भी हम नट और बोल्ट का प्रयोग करते है तब इनके बिच में वॉशर जरुर डालते है इसका कारण यह है की, किसी पार्ट्स को नट के व्दारा कसते समय पार्ट्स की सरफेस को ख़राब होने से बचाने के लिए और अधिक दबाब बनाने के लिए नट के निचे जो गोलाकार पतली सी पट्टी लगाई जाती है, उसे हम वॉशर कहते है. इस तरह की वॉशर धातु के शीट से बनाए जाते है. लेकिन इसके कार्य के अनुसार ब्रास, कॉपर, Aluminumऔर भी अलग-अलग मेटल की वॉशर बनाए जाते है.

 

वॉशर के प्रकार – Types of Washer :-

प्लेन वॉशर (Plain Washer)

लॉकिंग वॉशर (Locking Washer)

स्प्रिंग वॉशर (Spring Washer)

 

प्लेन वॉशर – Plain Washer :-

यह धातु के शिट से बने होते है, और इसका आकार गोलाकार होता है, इसके सेंटर में एक होल होता है, जो की अलग-अलग साइज़ के अनुसार बनाये जाते है, इसका उपयोग बोल्ट और नट के बिच में रखकर किया जाता है, वॉशर को लगाने से नट की थ्रेड्स अच्छी बनी रहती है और नट को खोलने और कसने का काम भी आसानी से करती है.

 

लॉकिंग वॉशर – Locking Washer :-

इस तरह के वॉशर कई प्रकार के होते है, और यह नट के अनुसार ही बनाये जाते है. इस तरह के वॉशर का उपयोग वहां करते है जहा नट और बोल्ट को कम्पन के व्दारा खुलने का डर लगा रहता है. इस वॉशर से नट बोल्ट ढीला नहीं होता इसलिए इसे ज्यादा से ज्यादा ऑटोमोबाइल वाहनों पर किया जाता है.

यह भी पढ़े

1. हैमर का उपयोग कैसे करे

2. वाइस का उपयोग कैसे करे

3. Chisel का उपयोग कैसे करे

 

स्प्रिंग वॉशर – Spring Washer :-

इस तरह का वॉशर का उपयोग जहा बहुत ज्यादा कम्पन लगा हो और झटके लगते हो वहां करते है, क्योंकि इसे लगाने के बाद नट और बोल्ट ढीले नहीं होती, इस वॉशर को हार्ड और सख्त बनाया जाता है. और इनका मुह खुला होने के कारन यह नट की थ्रेड में अधिक दबाव देती रहती है जिसके कारन नट टाईट रहते है.

 

नट – Nut aur Nut ke prakar :-

Nut यह एक येसा टुकड़ा है जिसके अन्दर थ्रेड्स होती है, इस नट की मदत से बोल्ट या स्टड पर चढ़ाकर एक या एक से अधिक पार्ट्स को कसा जा सकता है,

 

नट के प्रकार – TYPES OF NUT :-

हेक्सागोनल नट (Hexagonal Nut)

स्क्वायर नट (Square Nut)

कप नट (Cup Nut)

फ्लैंज नट (Flanged Nut)

डोम नट (Dome Nut)

रिंग नट (Ring Nut)

काप्स्तान नट (Capstan Nut)

नुर्ल्ड नट (Knurled Nut)

थुम्ब नट (Thumb Nut)

फ्लाई नट (Fly Nut)

 

हेक्सागोनल नट – Hexagonal Nut :-

इस तरह का नट 6 साइड वाला होता है, और इस नट का उपयोग ज्यादा होता है, इस नट को स्पंनेर की सहायता से आसानी से खोला और कसा जा सकता है.

Read More – Fasteners ka upyog kaise kare

 

स्क्वायर नट – Square Nut :-

इस तरह का नट चार साइड वाला होता है, और इस नट का उपयोग Hexagonal नट के बाद ज्यादा किया जाता है. इस नट की मोटाई कम होने के कारन इसे हलके कार्यो में अधिक प्रयोग में लाया जाता है.

 

कप नट – Cup Nut :-

इस नट के उपर एक टोपी बनी हुई होती है, और इसमें भी 6 साइड होते है, इस नट को टोपी होने के कारन यह नट ढका रहता है और इसे जंग भी नहीं लगता, प्रेशर वाली जगह पर इस नट का इस्तेमाल किया जाता है.

 

फ्लैंज नट – Flanged Nut :-

इस तरह के नट में वॉशर की आवश्यकता नहीं पड़ती क्योंकि इसके Hexagonal साइड के साथ ही एक वॉशर जैसे चिपका रहता है, मतलब वॉशर बना रहता है इसलिए इसका उपयोग करते समय वॉशर का इस्तेमाल नहीं करते.

यह भी पढ़े

1. प्लायर्स का उपयोग कैसे करे

2. Electrical कलर कोड का परिचय

3. टार्क रेंच का उपयोग कैसे करे

 

डोम नट – Dome Nut :-

इस तरह का नट, कप नट के जैसा ही उपयोग में लाया जाता है, इसमें भी टोपी बनी हुई होती है,

 

रिंग नट – Ring Nut :-

इस तरह का नट गोलाकार बना रहता है, इसमें एक स्लॉट बना रहता है, इसे हुक की सहायता से खोला और कसा जा सकता है, इसे लॉकिंग के लिए उपयोग में लाया जाता है.

 

कैप्सटन नट – Capstan Nut :-

इस तरह का नट गोलाकार होता है और बाहरी भाग पैर होल किये रहते है, इस तरह के नट को सी स्पेनर की मदत से खोला और कसा जा सकता है.

 

नुर्ल्ड नट – Knurled Nut :-

इस तरह का नट पर लर्निग की रहती है, और यह भी नट गोलाकार बना रहता है, लर्निग के व्दारा यह आसानी से हात से खोला और कसा जा सकता है, इसका उपयोग बार बार खोलने और कसने के काम में प्रयोग में लाया जाता है.

 

थुम्ब नट – Thumb Nut :-

इस तरह का नट का उपयोग भी बार-बार खोलने और कसने के लिए किया जाता है, इस नट पर भी लर्निग स्क्रू रहती है और इसे कॉम्बिनेशन सेट में ब्लेड को कसने के लिए उपयोग में लाया जाता है.

 

फ्लाई नट – Fly Nut :-

इस नट को विंग नट भी कहते है और इसकी बाहर वाले भाग में पंखुड़िया जैसी बनी रहती है जिसके कारन इसे आसानी से खोला और कसा जा सके, इसका उपयोग वहां किया जाता है जहा बार-बार खोले और कसने का काम हो, जैसे की Hacksaw फ्रेम की ब्लेड में किया जाता है.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको वॉशर और नट का परिचय – Introduction to washer and nut यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें. और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे…..

 

Author By :- Prashant Sayre Sir

 

यह भी जरुर पढ़े  :-

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

4.  रस्ता संकेत 

5.  वाहनों का आविष्कार 

6.  पहिए का आविष्कार 

7.  पढाई कैसे करे 

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

9.  मल्टीमीटर का उपयोग 

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग 

11.  सफल होने का रहस्य 

Post Comments

error: Content is protected !!