Result of electric current – विद्युत (power) प्रवाह का परिणाम

बिजली का परिणाम – Result of electricity, विद्युत प्रवाह का परिणाम – Result of electric current, बिजली दबाव का सच क्या है – What is the truth of the electric pressure, विद्युत प्रवाह क्या है – What is current, बिजली प्रवाह क्या है – What is the flow of electricity, बिजली का विरोध क्या है – What is the opposition of electricity, विद्युत विरोध का परिचय – Introduction to electrical resistance, शक्ति का मतलब क्या है – What is power सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार, apnasandesh.com पर आप सभी का स्वागत है. दोस्तों आज के लेख में विद्युत प्रवाह का परिणाम तथा विद्युत प्रवाह संबंधित जानकारी प्राप्त करेंगे.

विद्युत प्रवाह का परिणाम - Result of electric current

 

Result of electric current – विद्युत (power) प्रवाह का परिणाम:-

बिजली का प्रवाह – Electricity flow :-

इलेक्ट्रॉनों का प्रवाह बिजली के प्रवाह में व्यक्त किया जाता है। इस प्रवाह को Ampere द्वारा भी संबोधित किया जाता है.

 

बिजली का दबाव – Electricity pressure :-

इसके दबाव को विद्युत प्रेरणा भी कहा जाता है, जिस प्रेरणा के कारण जो इलेक्ट्रॉनों को स्थानांतरित करने और प्रवाह करने का कारण बनता है, उस प्रेरणा को बिजली दबाव (Electricity pressure) के रूप में व्यक्त किया जाता है.

 

बिजली प्रतिरोध – Power resistance :-

एक मंडल से बिजली प्रवाह बहते हुए रहता है और उसको विरोध करने वाला घटक यानी बिजली विरोध है बिजली विरोध यह Ohm (रजिस्टर) में परिणामित किया जाता है.

 

कंडक्टर – Conductor :-

मंडल से बिजली प्रवाह बहते हुए रहने के कारण धातु के प्रवाह के बहाने को मदद करता है उस गुणधर्म को ”कंडक्टर्स” व्यक्त किया जाता है. धातु का यह गुणधर्म विरोध और रजिस्टर से उलझा रहता है, उस कारण विरोध के परिणाम से उल्टे रहते हैं.

1. विरोध परिणाम Ohm में रहता है और कंडक्टर के परिणाम Mho में रहता है.

2. विरोध का चिन्ह रजिस्टेंस ऐसा रहता है और कंडक्टर का चिन्ह रजिस्टेंस के विपरीत रहता है.

3. विरोध R से संबोधित करते हैं और कंडक्टर G से संबोधित करते हैं.

 

शक्ति (Power) :-

सभी उपकरण और यंत्र की एक शक्ति होती है. इस शक्ति के लक्ष्मणरेखा पर सभी उपकरण और यंत्र कार्य करते हैं. फिर वो उपकरण घर या कंपनी के उपकरण रह सकते हैं. कार्य करने के दर को शक्ति या पावर व्यक्त किया जाता है. (Power is the rate of doing work)  बिजली शक्ति यह Watt से परिणामीत की जाती है और W यह नाम संबोधित किया जाता है. बिजली पावर जब ज्यादा रहती है तो उसे Kilo Watt से परिणामित किया जाता है.

1. Kilo Watt = 1000 Watt

2. अधिक शक्ति (Power) यह Mega Watt में गिनी जाती है.

3. 1 Mega Watt = 1000000(10 ⁶) Watt

पावर को वैट से संबोधित किया जाता है. जब 1 वोल्ट बिजली दाब एक मंडल से जब 1 Ampere इतना प्रवाह करता है तब उस मंडल से खर्च हुई बिजली की शक्ति 1 Watt इतनी होती है.

Power = दाब * प्रवाह और दाब = प्रवाह * विरोध

Power = प्रवाह * प्रवाह * विरोध

= (प्रवाह)² * विरोध

प्रवाह = दाब / विरोध

पावर = (दाब)² / विरोध

 

कार्य शक्ति और ऊर्जा :-

Coulomb के बिजली के सर्किट से हर सेकंड आने वाले Ampere को Coulomb व्यक्त करते हैं

1 Ampere Hour = 3600 Coulomb

 

प्रेरणा :-

पदार्थ को स्थिति को और गति बदलने के बल को प्रेरणा व्यक्त किया जाता है. CGS पद्धति के परिणाम ”डाइन” है और MKS पद्धति ”न्यूटन” यह है. 1 किलोग्राम Watt रहने वाले पदार्थ के गति में एक मीटर प्रति सेकंड प्राप्त से कम इतना बदल निर्माण करने हेतु लगने वाले प्रेरणा को एक न्यूटन प्रेरणा से संबोधित किया जाता है.

Newton = किलोग्राम * मीटर (प्रति सेकण्ड )²

Read More – Electrical Resistance aur full Jankari

 

कार्य – Work :-

निश्चित ऐसे अंतर पर और थोड़ा डीस्टर्ब होने पर कार्य और एक ही पदार्थ के बाहर के हिस्से में दिए गए प्रेरणा के दिशा से पदार्थ सतलांतर होते हैं.

कार्य = प्रेरणा * अंतर (In meter)

कार्य को Newton Meter में गिना जाता है. एक Newton Meter कार्य यानी एक ”ज्यूल” कार्य होता है.

 

यांत्रिक शक्ति :-

यंत्र शक्ति से जो पावर मिलती है वह यांत्रिक शक्ति है. यांत्रिक शक्ति के परिणाम ”अश्वशक्ति” याने ”Horsepower” यह है.

1. ब्रिटिश पद्धति में 1 अश्वशक्ति यानी 746 Watt और

2. मैट्रिक पद्धत में 1 अश्वशक्ति यानी 735.5 Watt

 

मैट्रिक अश्वशक्ति :-

जिस वक्त 4500 मीटर किलोग्राम इतना कार्य 1 मिनट और 550 मीटर किलोग्राम इतना कार्य 1 सेकंड में होता है, उस वक्त एक अश्व शक्ति खर्च हुई होती है. मोटर के नेम प्लेट पर उसको मिलने वाली अश्वशक्ति दी गई होती है. उसको ब्रेक हॉर्सपावर याने BHP कहा जाता है. मोटर के सॉफ्ट को मिलने वाली अश्वशक्ति से उसको दिए हुए इनपुट बिजली अश्वशक्ति अधिक रहती है.

 

कार्य क्षमता :-

यंत्र से मिलने वाली उपयुक्त शक्ति आउटपुट और यंत्र चलाने के लिए लगने वाली पूरी शक्ति इनपुट इनके प्रमाण को अंतर की कार्यक्षमता कहा जाता है.

कार्यक्षमता = आउटपुट / इनपुट

दोस्तों, उम्मीद है की आपको विद्युत प्रवाह का परिणाम – Result of electric current यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें। और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ।

 

धन्यवाद।

हसते रहे – मुस्कुराते रहे।

 

Author By :- Yogesh Chaudhari

 

यह भी जरुर पढ़े

1. नीबू के महत्वपूर्ण गुण

2. पुदीना के जबरदस्त फायदे

3. पनीर सलाद कैसे बनाए

4. रक्त और हिमोग्लोबिन

5. विटामिन के लाभ

6. संतुलित आहार के फायदे

7. 5 ” S ” का महत्व

8. नए आविष्कार वाले हेलमेट

9. BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

10. इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है

11. रस्ता संकेत

12. वाहनों का आविष्कार

13. पहिए का आविष्कार

14 पढाई कैसे करे

15 ट्रांसफोर्मर का कार्य

16. मल्टीमीटर का उपयोग

Post Comments

error: Content is protected !!