बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips

जानिए कैसे चार्ज करें बैटरी – How to charge battery, बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips, बैटरी चार्ज करने की प्रमुख विधि – The main method of charging batteries, Eco-Friendly वाहन में बैटरी चार्जिंग कैसे करें – How to charge the battery in the Eco-Friendly vehicle, सेकेंडरी सेल की चार्जिंग प्रक्रिया – Secondary cell charging process, बैटरी चार्जिंग की सेंटिंग कैसे करे, सभी जानकारी हिंदी में.

बैटरी चार्ज करने के टिप्स - Battery Charging Tips

तंत्रज्ञान के युग में आप सभी जानते है की पर्यावरण के रक्षा के लिए आयें दिन विकास होते आ रहे है. इस को ध्यान में रखते हुए हम बात करते है आपके परिचित वाहन के बारे में, मित्र हो सरकार अब पर्यावरण अनुकूल बनाने के लिए Pollution prevention program का आयोजन करता है. हमारे वैज्ञानिको ने इसी आधार पर ऑटोमोबाइल क्षेत्र में विकास किया और Eco-friendly vehicles का निर्माण किया है. इस वाहन को charging की जरुरत होती है. और इसके लिए अलग-अलग जगह Car Charging Stations (ev charging stations) भी उपलब्ध किये जा रहे है. दोस्तों यह था कुछ Electric vehicle charging सिस्टम के बारे में क्योकि आज का लेख उसी से रिलेटेड ‘Battery charging’ के बारे है, जिसकी जानकारी अपना संदेश टीम द्वारा देने का प्रयास किया जा रहा है. उम्मीद है की यह जानकारी आपके लिए महत्वपूर्ण हो, बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips

बैटरी चार्ज करने की प्रमुख विधि :-

सेकेंडरी सेल का प्रमुख उद्देश्य यह है कि वह कभी भी चार्ज कर सकते हैं,

बैटरी चार्जिंग के प्रमुख दो पद्धत होते हैं,

✦ कायम प्रवाह पद्धत – Permanent flow method,

✦ कायम दबाव पद्धत – Permanent pressure method,

Permanent flow method :-

जैसे ही बैटरी चार्ज करना शुरू होता है, वैसे ही बैटरी का EMF बढ़ जाता है, क्योंकि इसकी चार्जिंग का दबाव बदलने के लिए चार्जिंग चार्ज को स्थिर रखा जाता है. जब Generator से चार्जिंग प्रेशर लिया जाता है, तो फील्ड फ्लो बदलने के बाद, विशेष स्टेबल को प्राप्त किया जाता है. जब डीसी आपूर्ति दी जाती है, तो आपूर्ति से समर्थन के साथ चार्जिंग प्रतिरोध और दीपक बैंक से आपूर्ति स्थिर हो जाती है.

बैटरी चार्ज करने के टिप्स - Battery Charging Tips

Permanent pressure method :-

चार्जिंग के लिए यह प्रवाह सभी Cell की पॉजिटिव प्लेट गन 1 एम्पियर होना चाहिए, समझें कि एक सेल में 15 प्लेटें हैं और इसके 7 पॉजिटिव प्लेट है और 8 प्लेट निगेटिव है. इसलिए चार्जिंग फ्लो 7 एम्प्स का रहना चाहिए, जब अधिक बैटरी चार्ज करना या अलग सेप की सेटिंग करना, सर्किट से सबसे छोटी बैटरी के प्रमाण में चार्जिंग फ्लो रखना पड़ता है. इस पद्धति में, यदि बैटरी के तापमान में तीन सेंटीमीटर से अधिक है, तो चार्जिंग प्रवाह को कम करना होगा. बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips

कायम दबाव पद्धत –

इस विधि में चार्जिंग चार्ज को फ्लो को चार्जिंग के लिए स्थिर रखकर चार्ज किया जा सकता है. इस कारण से, यदि स्टार्टअप में बैटरी Eb कम होने पर चार्जिंग प्रभाव कम होता है, तो Eb बढ़ने के बाद चार्जिंग प्रवाह कम होता है, ठीक उसी तरह जैसे बैटरी चार्ज होती है.

बैटरी चार्ज करने के टिप्स - Battery Charging Tips

चार्जिंग के पद्धत में चार्जिंग टाइम कम रहती है. इसीलिए Charging power बढ़ती है और इसकी दक्षता कम होती है. इस विधि में, यदि बैटरी के तापमान में वृद्धि होती है, तो इसे ध्यान से देखना होगा और बैटरी चार्ज करने की विधि करनी होगी.

बैटरी चार्जिंग का प्रवाह –

= E – Eb / R + Rb

E – चार्जिंग विद्युत दबाव

Eb – बैटरी विद्युत दबाव

R – सर्किट का बाह्य प्रतिरोध

Rb – बैटरी प्रतिरोध

ट्रिकल चार्जिंग –

बैटरी चार्ज करने के दौरान, कम प्रवाह होता है. यदि आप बैटरी चार्ज करने के बाद बैटरी का उपयोग नहीं करते हैं, तो पूर्ण चार्ज Open circuit के घर के कारण नहीं रह सकता है, इस स्थिति में, तत्काल समय पर पूर्ण चार्ज होने की आवश्यकता होती है.

सेल चार्ज के लक्षण –

➢ पॉजिटिव Plate पर Dark तपकिरी रंग की परत बनती है और नेगेटिव प्लेट पर काले-सफेद कलर की परत बनती है,

➢ सभी सेल का विद्युत दबाव 2.28 इतना रहता है,

➢ सिल्की इलेक्ट्रोलाइट की ग्रेविटी 1220-1250 इतनी रहती है और Discharge के समय 1180 इतनी रहती है,

➢ नेगेटिव प्लेट पर Hydrogen और पॉजिटिव प्लेट पर Oxygen के बबल्स होते हैं,

➢ इलेक्ट्रोलाइट का रंग सफेद रहता है,

बैटरी की क्षमता –

बैटरी की क्षमता सभी सेल में रहने वाली प्लेट और प्लेट का सेप और सेप का एसिड इन सभी घटको पर आधारित रहता है.

बैटरी सेटिंग –

एम्पीयर में बैटरी सेटिंग दी गई है. बैटरी का 27 से 80F तापमान 20 घंटे में तैयार होने वाले प्रवाह पर निर्भर करता है. समझें, 6 V की बैटरी की क्षमता 100 Amp. Hour होगी, तो इसके V20 का मतलब 5 amp; और 20 घंटे में 5.25 वोल्ट इसका निर्वहन करता है. बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips

बैटरी की कार्य क्षमता –

✧ Quality and Empire Hour functioning,

✧ Energy and Weather Functioning,

Ampere Hour कार्य क्षमता  –

= बैटरी Discharge होते समय Amp. Hour /बैटरी Charge होते समय Amp. Hour

इसकी कार्य क्षमता 90 से 95 % होती है,

Energy और Watt Hour कार्य क्षमता –

कार्य क्षमता Discharging के समय बटेरी के विद्युत दबाव और चार्जिंग के समय 91 % विद्युत दबाव पर अवलंबित रहती है.

E.W.h = डिसचार्ज प्रवाह * दबाव * समय / चार्जिंग प्रवाह * दबाव * समय

दोस्तों, उम्मीद है की आपको बैटरी चार्ज करने के टिप्स – Battery Charging Tips यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें. और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे….

 Tags :- TechnologyTechnical Study, Online job, Future Tech, Internet, Computer, Health, Science, Electrical, Design,

संबंधित कीवर्ड :-

How to charge battery, बैटरी कैसे चार्ज करें, बैटरी चार्ज करने की प्रमुख विधि – The main method of charging batteries, Eco-Friendly वाहन में बैटरी चार्जिंग कैसे करें, Car Charging Stations, Electric vehicle charging,


यह भी जरुर पढ़े  :-

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग 

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

Post Comments

error: Content is protected !!