How to use drill bits – Workshop ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे

How to use drill bits? drill bits kis kam me use hota hai? ड्रिल बिट क्या है? ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे? Workshop me drill bits ka upyog kaise kare? वर्कशॉप में ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे? ड्रिल बिट का परिचय? ड्रिल बिट का महत्व, ड्रिल बिट के बारे में जानकारी – Information about drill bits, ड्रिल बिट के विविध प्रकार – Miscellaneous types of drill bits, सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार दोस्तों, एक बार फिर से सभी का स्वागत है apnasandesh.com में, आज के इस लेख में हम drill bits के बारे में बात करते हैं, तो आइये जानते है ड्रिल बिट के बारे में विस्तृत जानकारी.

ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे - How to use drill bits

 

How to use drill bits – Workshop ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे :-

ड्रिल बिट का परिचय – Information about drill bit

ड्रिल बिट का उपयोग क्या है? वैसे तो ड्रिल बिट का उपयोग वहाँ किया जाता है जहाँ पर किसी जॉब में होल करना हो. ड्रिल एक प्रकार का Cutting Tools है, और इसका उपयोग बिजली और हात वाली ड्रिल मशीन की सहायता से किया जाता है, इसका इस्तेमाल सुराख़ करने के लिए किया जाता है. ड्रिल बिट हाई कार्बन स्टील के बने होते है और इसलिए यह ड्रिल बिट नर्म धातु के होने के कारन साधारण से मटेरियल में उपयोग में लाया जाता है. कास्ट स्टील या Cast iron के मटेरियल पे यह ड्रिल चल नहीं पाते और ख़राब हो जाते है, इसी तरह, उच्च गति के स्टील से बना “ड्रिल बिट” किसी भी सामग्री में आसानी से उपयोग किया जाता है.

 

ड्रिल बिट के प्रकार – Types of Drill bit

ड्रिल बिट के प्रकार उनके साइज़ और शेंक पर निर्भर होता है, जैसे

1. स्ट्रेट शेंक (Straight Shank)

2. टेपर शेंक ( Taper Shank )

3. स्क्वायर शेंक (Square Shank )

यह भी पढ़े 

1. हैमर का उपयोग कैसे करे

2. वाइस का उपयोग कैसे करे

3. Chisel का उपयोग कैसे करे

 

स्ट्रेट शेंक – Straight Hank :-

Straight Shank के ड्रिल साइज़ में छोटे होते है, और दोनों सिरे से एक समान्तर लाइन में होते है, इसका उपयोग हमेशा ड्रिल चक के माध्यम से किया जाता है. साइज़ में छोटे होने के कारन हैण्ड Power Drill मशीन में एक चक होता है, उसी चक में यह फिट किया जाता है और इसका उपयोग किया जाता है, इस ड्रिल को Parallel शेंक ड्रिल भी कहा जाता है. इसका साइज़ कम से कम 0.5 मिलीमीटर से लेकर 12 मिलीमीटर तक के होते है.

 

टेपर शेंक – Taper Shank :-

टेपर शेंक mag drill bit बड़े साइज़ में मिलते है, इनकी शेक का आकार टेपर होता है, और यह टेपर होने के कारन मशीन में फिट किया जाता है. सीधे मशीन में फिट नहीं हो सकता इसलिए इसे मशीन के स्पिंडल में फिट किया जाता है, और शेंक के टेपर जैसे ही टेपर स्पिंडल अन्दर बनी हुइ होती है. टेपर शेंक ड्रिल की पकड़ मजबूत होती है, इसलिए इसे मशीन के स्पिंडल में आसानी से और जल्दी से सेंटर में फिट हो जाते है, और इसकी चौरस टेंग मशीन के स्पिंडल में फंस जाती है.

जिसके कारन टेपर शेंक Power Drill मशीन के स्पिंडल से बाहर नहीं निकलते, ड्रिलिंग करते समय जितना अधिक प्रेशर से दाब दिया जायेंगा उतना ही ज्यादा प्रेशर से अन्दर की और जाता है, और मजबूती से फिट हो जाता है. क्योंकि शेंक टेपर के होने के कारन आसानी से बाहर निकल आती है, टेपर शेंक के उपर शेंक पर एक और Socket भी फिट किया जाता है और इस Socket में साइड से दो होल होते है जिसके कारन ड्रिल बिट को बाहर निकाला जाता है.

 

स्केअर शेंक – Square Shank :-

चौरस होने के कारन इसका शेंक टेपर होता है, इस तरह के ड्रिल बिट को रेचीट ब्रेस में बांधकर इसका उपयोग किया जाता है, इस तरह के ड्रिल बहुत कम उपयोग में लाया जाता है.

 

Step Drill – ड्रिल कुलंट प्रक्रिया :-

Power Drill करते समय कुछ पानी जैसा पदार्थ ड्रिल करते वक्त प्रयोग में लाया जाता है. लेकिन दोस्तों क्या आप को मालूम है की यह पानी की तरह दिखने वाला पदार्थ क्या है? जबी कभी Technician ड्रिल करता है तब वह यह जानकारी रखता है की ड्रिल की लाइफ कैसे आगे बढाई जाये इसलिए ड्रिलिंग करते समय जब ड्रिल को गर्मी से बचाने के लिए और अच्छी ड्रिलिंग के साथ साथ अच्छी फिनिशिंग करने के लिए, ड्रिल की लाइफ बढ़ाने के लिए, कूलैंट का उपयोग करते है. कूलैंट पानी के द्वारा और कटिंग ऑइल के द्वारा की जाती है, हार्ड मेटल को कूलैंट करना जरुरी है, कूलैंट का उपयोग करने से ड्रिल बहूत दिनों तक नए जैसा ही रहता और कटिंग भी करता है.

यह भी पढ़े

1. प्लायर्स का उपयोग कैसे करे

2. Electrical कलर कोड का परिचय

3. टार्क रेंच का उपयोग कैसे करे

 

सावधानिया – Safety Precaution :-

1. किसी भी जॉब पर काम सुरु करने से पहले ड्रिल बिट की धार को अच्छी तरह देख लेना चाहिए,

2. अगर ड्रिल की धार ख़राब हो तो ड्रिल को पहले ग्राइंडिंग पर धार लगाये,

3. ग्राइंडिंग पर धार लगाते समय ड्रिल बिट की कटिंग एज वाली लम्बाई बराबर होनी चाहिए,

4. किसी भी जॉब पर होल करने से पहले सेंटर पंच से निशान कर लेना चाहिए,

5. Divider की सहायता से जितना साइज़ का होल करना हो उतना ही साइज़ का गोल circle कर लेना चाहिए,

6. ड्रिल बिट को ड्रिल चक में फिट करना हो तो key के द्वारा अच्छे से Tight कर लेना चाहिए,

7. ड्रिल चक को स्पिंडल में फिट करने से पहले उसे अच्छे से साफ़ कर लेना चाहिए, और शोकेट के साथ साथ स्पिंडल को भी साफ़ रखना चाहिए,

8. टेपर शेंक वाले ड्रिल बिट को लेथ मशीन पर लगाने से पहले हल्का सा लकड़ी का दबाव देना चाहिए,

9. कम diameter वाले ड्रिल को जादा और उसपर दबाव कम रखना चाहिए,

Read More – Screwdriver ka sahi upyog kaise kare

 

How to use drill bits – Workshop ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे

10. ड्रिलिंग करते समय हमेशा कूलैंट का उपयोग करना चाहिए,

11. ड्रिल करते समय जॉब के निचे लकड़ी रख देना चाहिए,

12. छोटे जॉब को ड्रिल करना हो तो बेंच वाईस में फसकर ड्रिल कर सकते है,

13. ड्रिलिंग का काम पूरा हो चूका हो तो ड्रिल को अच्छी तरह साफ़ करना चाहिए,

14. मशीन का काम पूर्ण हो चूका हो तो उसे हल्का सा आयल या तेल लगा लेना चाहिए,

 

दोस्तों, उम्मीद है की आपको ड्रिल बिट का उपयोग कैसे करे यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे…..

 

Author By :- Prashant Sayre Sir

 

यह भी जरुर पढ़े  :-

1.  नए आविष्कार वाले हेलमेट

2.  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

3.  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है

4.  रस्ता संकेत

5.  वाहनों का आविष्कार

6.  पहिए का आविष्कार

7.  पढाई कैसे करे

8.  ट्रांसफोर्मर का कार्य

9.  मल्टीमीटर का उपयोग

10.  पिस्टन रिंग का उपयोग

11 सफल होने का रहस्य

Post Comments

error: Content is protected !!