Introduction to Economic Environment – आर्थिक पर्यावरण का परिचय

Arthik paryavaran kya hai? Introduction to Economic Environment. भारतीय आर्थिक वातावरण – Indian Economical Environment, पर्यावरण के विभिन्न घटक – Financial articles ki Jankari, आर्थिक पर्यावरण का परिचय, Global Economy क्या है? Economic kya hai aur mahatva? पर्यावरण व् आर्थिक रचना – Indian Economy का परिचय सभी जानकारी हिंदी में.

नमस्कार, www.apnasandesh.com पर आप सभी का स्वागत है. दोस्तों वर्तमान युग में हर एक इंसान Income कमाने के लिए अलग-अलग तरीको का उपयोग करता है. कोई Business के माध्यम से पैसे कमाता है, तो कोई नौकरी के माध्यम से. दुनिया में इसी आय को सुरक्षित रखने तथा ”Global Economy” को समझने के लिए ”Apna Sandesh” टीम द्वारा आज के लेख में बताने का प्रयास किया है, उम्मीद है की हमारे प्रिय पाठको को इस लेख के माध्यम से शिक्षाप्रद जानकारी मिले, यह हमारा प्रयास है.

आर्थिक पर्यावरण का परिचय - Introduction to the Economic Environment

यह भी पढ़े –

1. नर्सरी का व्यवसाय कैसे करे

2. मशरूम की खेती कैसे करें

3. फलों की रक्षा कैसे करें

Introduction to Economic Environment

Introduction to Economic Environment – आर्थिक पर्यावरण का परिचय :-

पर्यावरण एक व्यापक और अवधारणा है. पर्यावरण के आसपास सभी प्राकृतिक और मानव निर्मित वस्तुएं पर्यावरण में शामिल हैं. कुछ परिस्थिति तंत्र के घटक Animated movies जैसे, उदा. मनुष्य, पशु, पौधे, आदि कुछ घटक गैर-जीवित, भूमि, खनिज, मिट्टी आदि हैं. पर्यावरण में सभी जीवित (living environment regents review) और निर्जीव तत्व उत्पन्न होते हैं. ऐसा वातावरण Living environment और Non-living elements के बीच रहने वाले घटक को ही पर्यावरण (Environment) कहते हैं.

देश की परिस्थितियों में कई तत्व हैं. यदि सभी घटक सही मात्रा और प्रकार में उपलब्ध है तो पर्यावरण अच्छा होता है. हम देखते हैं कि अलग-अलग जगहों पर पर्यावरण अलग होता है. हर घटक को पर्यावरण का ध्यान रखना है, महाराष्ट्र के लिए महाराष्ट्र का पर्यावरण उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है जिनका Economic Environment of Business सीमित है.

अंतरराष्ट्रीय व्यापार के वैश्विक व्यापार के संदर्भ में आयात-निर्यात व्यवसाय महत्वपूर्ण है. पर्यावरण में विभिन्न नैसर्गिक और सांस्कृतिक तथा मानव निर्मित तत्व होते हैं.

 

आर्थिक पर्यावरण का परिचय - Introduction to the Economic Environment

पर्यावरण में प्राकृतिक और सांस्कृतिक या मानव निर्मित वातावरण के बारे में जानकारी मिलती है. पर्यावरण के प्राकृतिक और सांस्कृतिक पहलुओं का पता लगाएंगे, पर्यावरण के अर्थ को समझने के लिए हमने कुछ नियमावली देखना है तो आइए जानते हैं पर्यावरण के कुछ रोचक सत्य,

यह भी पढ़े

1. What is interest?

2. How to practice Tally?

3. Bhartiy arthshashtra ki jankari

 

पर्यावरण के विभिन्न घटक –

1. पर्यावरण एक व्यापक अवधारणा है. इसमें Economic Analysis, सामाजिक, राजनीतिक, भौगोलिक, प्राकृतिक, शैक्षिक, तकनीकी और ऐसे सभी पर्यावरण के घटक शामिल हैं.

2. पर्यावरण के आसपास रहने और निर्जीव कारणों के बीच एक संबंध है. Environmental Change तत्वों में मानव, पशु, पौधे आदि शामिल हैं और निर्जीव तत्वों में भूमि, खनिज, मौसम और पानी की आवश्यकता, परिवहन और संचार शामिल हैं.

3. पर्यावरण में प्राकृतिक और सांस्कृतिक तत्व होते हैं. पर्यावरणीय तत्वों में जलवायु, मिट्टी, खनिज, प्राकृतिक पौधे, पानी, ये सभी प्राकृतिक घटक शामिल होते हैं. तो सांस्कृतिक तत्वों में परिवहन, समाज और संस्कृति शामिल हैं.

4. पर्यावरण संबंधी घटकों का उपलब्ध विभिन्न देशों के बीच राज्य अंतर उपलब्ध उनके संदर्भ में पर्यावरण हवामान, भूमि, खनिज, प्राकृतिक पौधे, सूर्य के प्रकाश, परिवहन, प्रौद्योगिकी, समाज, व्यवसाय, संस्कृति के विभिन्न ऐसे तत्व है.

दुनिया भर में विभिन्न पर्यावरणीय विविधताएँ हैं. इराक, कुवैत जैसे देशों में खनिज तेल भंडार पाए जाते हैं. प्राकृतिक साधनों में अंतर के कारण, विभिन्न देशों में अलग-अलग व्यवसाय उत्पन्न होते हैं. डेनमार्क शहर में दूध व्यापार परिदृश्य के साथ अच्छा माहौल होने के कारण वहां दूध का कारोबार विकसित हुआ है. भारत में, कपास का उत्पादन उसी तरह से बढ़ा है जैसे कि साखर, ताग और कपड़ा उद्योग.

यह भी जरुर पढ़े :-

1. डिप्लोमा इंजीनियरिंग (Polytechnic) की प्रवेश प्रक्रिया

2. अभियांत्रिकी (Engineering) में प्रवेश कैसे प्राप्त करें

3. बायोइंजीनियरिंग में रोजगार के अवसर

4. कैसे बने इलेक्ट्रिकल इंजीनियर

5. पेस्टीसाइड वैज्ञानिक कैसे बने

6. कृषि इंजीनियर कैसे बने

7. घर बैठे मीसो ऐप से पैसे कैसे कमाए

8. सरकारी रोजगार प्रोत्साहन केंद्र (SRPK) क्या है

9. सरकारी प्रमाण पत्र बनाने के लिए लगने वाले डाक्यूमेंट्स

 

✦ पर्यावरण के प्रकार – Types of environment

अलग-अलग प्रकार के पर्यावरण को हम पढ़ते हैं लेकिन उसके मुख्य दो प्रकार है,

➢ प्राकृतिक पर्यावरण – Natural Environment,

➢ सांस्कृतिक और मानव निर्मित पर्यावरण – Cultural and Man-made Environment,

 

Natural Environment :-

उनके परिवेश की उपलब्ध प्रकृति के तत्वों को शामिल किया गया है और एक प्राकृतिक वातावरण है. देश में प्राकृतिक वातावरण और उस देश का स्थान और देश का भू-विज्ञान कई तत्वों जैसे प्राकृतिक पौधे खनिजों की शुरूआत से शुरू होता है. प्रकृति के सभी तत्व प्राकृतिक वातावरण, खेती से संबंधित प्राकृतिक जीवन पर्यावरण बनाते हैं. ”Environmental Health”

आर्थिक पर्यावरण का परिचय - Introduction to the Economic Environment

Cultural and Man-made Environment :-

1. सांस्कृतिक पर्यावरण के निर्माण में मानव की भागीदारी होती है. इसे मानव निर्मित वातावरण भी कहाँ जाता है. हमारे परिवेश में रहने वाली सांस्कृतिक परिस्थितियों का अर्थ है ”सांस्कृतिक वातावरण”.

2. मनुष्य समाजप्रिय पशु है. मनुष्य उस समूह में रहता है, जहाँ से गाँव शहर में आकार लेता है.

3. मानव जीवन में ”सांस्कृतिक बदल” करने में एक सुखद कारण है. प्राकृतिक वातावरण में, मनुष्य की क्रिया का परिवर्तन होता है, इसे सांस्कृतिक वातावरण कहा जाता है.

4. प्राकृतिक और सांस्कृतिक वातावरण के बारे में जानने के लिए उद्योग के दृष्टिकोण से प्राकृतिक पर्यावरण के क्षेत्र में ऐसा तत्व महत्वपूर्ण है.

5. उद्योग के दृष्टिकोण से, प्राकृतिक पर्यावरण और कच्चे माल, ऊर्जा उपकरण और पानी की आपूर्ति पर प्रभाव पड़ता है.

6. यदि हम प्राकृतिक अवयवों को देखें, तो इसमें कई प्रकार के प्राकृतिक तत्व होते हैं, जैसे कि मौसम, भूमि की संरचना, जल, भूमि, प्राकृतिक तत्व और अन्य प्राकृतिक तत्व.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको आर्थिक पर्यावरण का परिचय यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे…..

 

यह भी जरुर पढ़े :-

1. नए आविष्कार वाले हेलमेट

2. BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स

3. इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है

4. रस्ता संकेत

5. वाहनों का आविष्कार

6. पहिए का आविष्कार

7. पढाई कैसे करे

8. ट्रांसफोर्मर का कार्य

9. मल्टीमीटर का उपयोग

10. पिस्टन रिंग का उपयोग

11. सफल होने का रहस्य

Post Comments

error: Content is protected !!