खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके – organic farming benefits

नमस्कार दोस्तों, apnasandesh.com पर आप सभी का स्वागत है. जैसा कि आपने पिछले लेख में जैविक खेतीके बारे में जाना है, उसी लेख को आगे बढ़ाते हुए आज के लेख में हम खेती के लिए उपयुक्त जैविक टीको (organic farming benefits) के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे.

खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके - organic farming benefits

कृषि तंत्रज्ञान की जानकारी – Agricultural technology information, खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके – Useful vaccine for farming, जैविक टिके के प्रकार, कृषि तंत्रज्ञान का उपयोग in Hindi, agriculture industry में जैविक टिके उपयोग, जैविक टिका क्या है? कृषि उत्पादन प्रणाली – Agricultural production system, सभी जानकारी हिंदी में.

आजकल, अधिकांश कई प्रकार के रासायनिक उर्वरकों (types of fertilizers) और कीटनाशकों का उपयोग कृषि के लिए किया जा रहा है. जो एक बार प्रभावित करता है, लेकिन यह लंबे समय तक नहीं रहता है. यह मिट्टी की उपज शक्ति को भी कम करता है, साथ ही धीरे-धीरे मिट्टी की उर्वरता को कम करता है. इस मामले में, यदि आप जैविक टीका का उपयोग करते हैं, तो फसल में आपका उत्पादन बढ़ जाएगा. साथ ही, इसका प्रभाव कई वर्षों तक जारी रहेगा और उपजाऊ भूमि उपयोग के लायक होगी, भूमि की उर्वरता बनी रहेगी. तो फिर आइए जानते हैं जैविक खेती के बारे में.

यह भी पढ़े  नर्सरी का व्यवसाय कैसे करे

यह भी पढ़े ☛ मशरूम की खेती कैसे करें

यह भी पढ़े ☛ फलों  की रक्षा कैसे करें

खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके – organic farming benefits :-

Agricultural production system – 

EPS डिवाइस क्या है? यह डिवाइस कैसे काम करता है? EPS डिवाइस क्षेत्र में क्यों है, तो आइए जानते हैं EPS के बारे में. Agricultural production system जो खेती की निगरानी करती है, कहा जा सकता है कि जब किसान मोबाइल में अपना पूरा खेत देख सकते हैं. इस प्रकार की प्रणाली में किसान घर बैठे अपने मोबाइल पर अपनी खेती देख सकता है. खेत को किस उर्वरक की जरूरत है, फसलों पर किट के हमले या खेतों में आवारा जानवरों के आने से, मिट्टी की नमी की मात्रा, पीएच मान और तापमान के पूरा होने तक तापमान का पता चलता है, यह उपकरण मोबाइल के माध्यम से संचारित होता है, तथा खेत संबंधित जानकारी किसानो तक पहुँचता है.

Technology EPS Devise के फायदे :-

➢ यह उपकरण आम तौर पर छोटे और लघु उद्योगों के लिए उपयुक्त है,

➢ डिवाइस में माइक्रोप्रोसेसर चिप बेड होती है, इसमें Humidity Censorship, Fire Sensor, Temperature Sensor, Irrigation Census and Weather Sensor भी लगा है.

➢ यह सौर ऊर्जा से चलने वाला और बिजली से चलने वाला उपकरण है, ये सभी सेंसर खेत की हर गतिविधि पर नजर रखते हैं.

➢ यह 1 एकड़ के क्षेत्र में हर काम कर सकता है, इससे ज्यादातर क्षेत्रफल पर अतिरिक्त डिवाइस खेत में लगानी होगी.

➢ खेती में सेंसर युक्त उपकरणों का उपयोग किया जाएगा, जबकि नियंत्रण ट्यूब में डिवाइस किसानों के मोबाइल से जुड़ा होगा.

➢ खेत में ट्यूबवेल चल रही होगी और बारिश हो जाती है तो सेंसर अपना काम करना सुरु कर देता है, और ट्यूबवेल को बंद कर देता है. यदि बारिश नहीं हुई तो मिट्टी सूखने लगती तब सेंसर मोटर को चालू कर देता है. इसमें वाटर लेवल चेक करने का विकल्प भी दिया होता है. इस तरह अनेक प्रकार के कार्य किए जा सकते है.

➢ खेत में, कितने इंच पानी की आवश्यकता होती है, डिवाइस इसे अपने सिस्टम में सेट कर लेता है और सेंसर के माध्यम से खेती में पानी का तल बराबर होने पर मोटर बंद हो जाएगी.

➢ डिवाइस यह भी बताता है कि खेती में कब और किस खाद्य की जरूरत है.

➢ यदि रात या दिन के दौरान जंगली जानवर खेती में आते हैं, तो Motion sensor मोबाइल पर अलर्ट हो जाता है. और अगर तार खेत में लगाए गए हैं, तो किसान इस बीच इसे सक्रिय कर सकता है. इस डिवाइस के जरिए इसे अलर्ट भी किया जाता है. इसलिए यह किसानों के लिए एक उपयोगी उपकरण है, जो आम तौर पर भारत के किसानों के लिए एक उपयुक्त उपकरण है, जिसके माध्यम से किसान अपनी फसलों की अच्छी खेती कर सकते हैं.

यह भी पढ़े ☛ फल खरीदने से पहले इन बातों को जान लें

यह भी पढ़े ☛ जैविक खेती करने का नया तरीका

खेती के लिए महत्वपूर्ण जैविक टीके – Important Biological Vaccines for Farming

✦ हरा खाद्य (Green food),
✦ एजोला वैक्सीन (azolla vaccine),
✦ नील हरित शैवाल वैक्सीन (neel green algae vaccine),
✦ कम्पोस्ट वैक्सीन (compost vaccine),
✦ राइजोबियम वैक्सीन (rhizobium vaccine),
✦ एज़ोटोबैक्टर वैक्सीन (azotobacter vaccine),
✦ फॉस्फोरस आणविक जीवाणु वैक्सीन (phosphorus molecular bacterial vaccine)
आदि,

सबसे पहले तो जानते हैं कंपोस्ट टिके के बारे में, कंपोस्ट टिका क्या है? यदि टीके के प्रकार में उपयोग किया जाता है, तो धान का गूदा 6 से 9 सप्ताह के भीतर बहुत अच्छा खाद बन जाता है. इसके एक पैकेट से 1 टन कृषि अवशेषों की खाद बनाने के लिए उपयुक्त होता है.

इसलिए Benefits of organic food निर्माण करने के लिए इस टीके का अधिकतर इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि यह कम समय में अधिक जैविक खत कृषि के लिए उपयुक्त खाद तैयार करने में मदद करता है.

नील हरित शैवाल टीका –

यह टीका धान के लिए बहुत फायदेमंद है. यह जैविक कार्बन और पौधों के विकास के लिए भी पदार्थ प्रदान करता है. एक कंकर धान की फसल का इलाज करने के लिए, यह 500 ग्राम या 1000 ग्राम का पैकेट बाजार में उपयुक्त होता है. अधिकांश किसान इस वैक्सीन का उपयोग करते हैं क्योंकि प्रति हेक्टेयर 30 किलोग्राम के आसपास नत्रजन फायदेमंद होता है, क्योंकि यह टीका एक लाभकारी वैक्सीन है जो धान्य के लिए फायदेमंद है और इससे Organic farming एवं पदार्थों की वृद्धि में बढ़ोतरी करता है.

अजोला टीका –

इस प्रकार की वैक्सीन एक आदर्श जैविक प्रणाली है, जो गर्म दिशाओं में धान के खेत में वायुमंडलीय नत्रजन के जैविक स्थिरीकरण को नियंत्रित करती है और यह प्रति हेक्टेयर 30 किलोग्राम के आसपास नत्रजन प्रति हेक्टेयर योगदान देने के लिए उपयोगी है, जो फसल को नत्रजन की तिथि से बचाता है.

एजोटोबेक्टर टीका –

यह एक स्वतंत्र जीवित जीवाणु है, यह ज्यादातर धान, मक्का, गेहूं, बाजरा और टमाटर, आलू, प्याज, कपास, सरसों आदि के लिए उपयोग किया जाता है. इस टीके का उपयोग आमतौर पर प्रति हेक्टेयर 25 से 30 ग्राम नत्रजन के लिए उपयुक्त होता है. इससे फसल की संभावना 20% बढ़ जाती है। इसलिए, इस टीके के इस्तेमाल को ज्यादातर बड़े किसान कहते हैं.

राइजोबियम टीका –

इस प्रकार का टीका दालों, अनार और चारा फसलों में उपयोग किया जाता है. नत्रजन की मात्रा से प्रति हेक्टेयर जैविक स्थितिकरण के लिए राइजोबियम टीके का उपयोग होता है. यह आमतौर पर 25 से 30 प्रतिशत फसल का उत्पादन बढ़ाता है. इसीलिए इस टीके का ज्यादातर इस्तेमाल किसानी में किया जाता है

फ़ॉस्फ़रस विलयी जीवाणु टीका –

इस प्रकार के टीके में फास्फोरस पौधों के लिए मुख्य पोषक तत्व होते हैं. इस टीके का प्रयोग करने से मुद्रा में मौजूद अघूणशील फास्फोरस जो घूणशील होकर पौधों को उपयुक्त बनाती है. इसलिए फ़ॉस्फ़रस टिके का उपयोग यह खेती के लिए फायदेमंद साबित होता है.

एजोस्पिरिलम टीका –

इस प्रकार के टीके का उपयोग अनाज की फसलों में किया जाता है. चारे की फसलों पर भी इसका उपयोग लाभदायक है. इसलिए यह नत्रजन बचाता है. इस फसल का उपयोग ज्यादातर चारा उत्पादन के लिए किया जाता है.

दोस्तों, उम्मीद है की आपको खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके – organic farming benefits यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें. और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे….

 Tags :- TechnologyTechnical Study, Online job, Future Tech, Internet, Computer, Health, Science, Agricultural, Design,

संबंधित कीवर्ड :-

कृषि तंत्रज्ञान की जानकारी – Agricultural technology information, खेती के लिए बहुत उपयोगी टिके – Useful vaccine for farming, जैविक टिके के प्रकार, कृषि तंत्रज्ञान का उपयोग in Hindi, agriculture industry में जैविक टिके उपयोग, जैविक टिका क्या है?


यह भी जरुर पढ़े  :-

➬  नए आविष्कार वाले हेलमेट 

➬  BS-4 वाहन के स्ट्रोंग फीचर्स 

➬  इलेक्ट्रिकल कैसे कम करती है 

➬  रस्ता संकेत 

➬  वाहनों का आविष्कार 

➬  पहिए का आविष्कार 

➬  पढाई कैसे करे 

➬  ट्रांसफोर्मर का कार्य 

➬  मल्टीमीटर का उपयोग 

➬  पिस्टन रिंग का उपयोग 

➬  सफल होने का रहस्य 

➬  वाहन मेंटेनन्स बनाए रखे 

Post Comments

error: Content is protected !!