gandhi jayanti ke bare me jankari – गाँधी जयंती के बारे में जानकारी

गाँधी जयंती के बारे में जानकारी. gandhi jayanti ke bare me jankari, गाँधी जी के बारे में जानकारी. gandhi ji ke bare me jankari in hindi, Gandhi jayanti kaise manaye, Celebrate kaise kare, गाँधीजी के बारे में रोचक जानकारी Hindi में.

Gandhi jayanti ke bare me jankari – गाँधी जयंती

नमस्कार दोस्तों जानिए इस गाँधी जयंती पर उनके बारे में कुछ महत्वपूर्ण बाते, Information about Gandhi Jayanti in Hindi, गांधीजी मोहन से महात्मा कैसे बने – Mohan se mahatma kab bane, गांधीजी के जीवन की पूरी बाते –  Gandhi ji ke jivan ki puri bate, गाँधी जी के बारे में जानकारी – gandhi ji ke bare me jankari in hindi, गाँधी जी के बारे में रोचक जानकारी, गांधी जयंती के बारे में बताइए, महात्मा गांधी जयंती पर भाषण तैयारी, सभी जानकारी आपकी भाषा में.

gandhi jayanti ke bare me jankari - गाँधी जयंती के बारे में जानकारी
Gandhi Jayanti

Gandhi Jayanti ke bare me jankari – गाँधी जयंती के बारे में जानकारी:

मोहन से महात्मा तक – महात्मा गांधी जी को छोड़े हमें लगभग 72 साल हो चुके हैं. लेकिन उनका जीवन और आत्मा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को पार करके मानवता को बनाए रखते हैं. मानव विकास में उनका योगदान बहुत महान है, जिसे वर्तमान में भुला दिया गया है या अनदेखा किया गया है. दुनिया आज उन्हें मानवता से अधिक सम्मोहक सामाजिक नवोन्मेषक के रूप में पहचानती है.

1. मोहनदास करमचंद Gandhi का जीवन मानव जीवन में सत्य और अहिंसा के मूल्यों को स्थापित करने के वीर प्रयास की कहानी है. इस उद्देश्य को आगे बढ़ाने में गांधीजी केवल ‘मोहन’ से महात्मा बन गए,

2. वह बीसवीं सदी में हिंसा की आग से घिरे दुनिया के लोगों के लिए एक संदेशवाहक बन गए,

3. उनके महान व्यक्तिमत्व से वह ‘राष्ट्रपिता‘ के नाम से जाने गए,

4. उन्होंने भारत और ब्रिटेन को स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष में सत्य और अहिंसा के प्रयोग का सहारा लेकर आपसी द्वेष और बदले से बचाया,

5. उन्होंने एक ऐसा वातावरण बनाया जिससे एशिया और अफ्रीका के अन्य देशों के लिए रक्तपात के बिना यूरोपीय देशों की पकड़ से मुक्त होना संभव हो गया, जो उन्नीसवीं शताब्दी में उनके नियंत्रण में आ गए थे.

Read More – Communication ke bare me Jankari

Gandhi jayanti ke bare me jankari – गाँधी जयंती के बारे में जानकारी :

गांधीजी की जीवनी – Gandhi jayanti par Gandhi ji ki Jivani

1. जन्म तिथि: 2 अक्टूबर, 1869,

2. जन्म स्थान: पोरबंदर, ब्रिटिश भारत (अब गुजरात),

3. पिता: करमचंद उत्तमचंद गांधी – Karamchand Uttamchand Gandhi,

4. माँ: पुतलीबाई गाँधी – Putlibai Gandhi,

5. पेशे में: वकील, राजनीतिज्ञ, कार्यकर्ता, लेखक,

6. पत्नी: कस्तूरबा गांधी – Kasturba Gandhi,

7. बच्चे: हरिलाल गांधी, मणिलाल गांधी, रामदास गांधी,

8. मृत्यु तिथि: 30, जनवरी 1948.,

9. मृत्यु का स्थान: दिल्ली, भारत,

दोस्तों, जैसा कि आप जानते हैं, यह महान व्यक्तित्व महात्मा है जिनका जन्म एक मध्यम वर्ग के वैष्णव परिवार में हुआ था. इस महात्मा के बारे में जानकारी प्राप्त करना और उनके सिद्धांतों का पालन करना बहुत शक्तिशाली है. तो आइए जानते हैं उनके बारे में रोचक सच्चाई जो सायद ही आप जानते है. Gandhi Jayanti ke bare me jankari in Hindi.

दिनांक वर्ष विवरण – वर्ष 1869 to 1896 का कार्य परिचय –

2 अक्टूबर 1869 – गाँधी जी का जन्म (पोरबंदर),

1882 – कस्तूरबाई के साथ विवाह, (13 वर्ष की आयु में),

जून 1888 – बेटे, हरिलाल का जन्म,

29 सितंबर 1888 – इंग्लैंड, (साउथम्पटन पहुंचे),5.

6 नवंबर 1888 – इनर टेम्पल में प्रवेश किया, (कोर्ट ऑफ इन),

28 अक्टूबर 1892 – बेटे, मणिलाल का जन्म,

मई 25 1893 – डर्बन, (नेटाल पहुँचे),8.

26 मई 1893 – अपनी पगड़ी को हटाने से इनकार कर दिया,

1893 – टॉल्स्टॉय की ‘किंगडम ऑफ गॉड विदाउट यू’,

22 अगस्त 1894 – ‘नटाल इंडियन कांग्रेस’ की स्थापना,

9 जुलाई 1896 – राजकोट में ‘ग्रीन पैम्फलेट’ लिखने की आज्ञा,

16 नवंबर 1896 – पूना में सार्वजनिक व्याख्यान,

वर्ष 1897 to 1913 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti ka Parichay

4 मई 1897 – बेटे, रामदास का जन्म,

11 अक्टूबर 1899 – बोअर युद्ध के दौरान भारतीय एम्बुलेंस कॉर्प की स्थापना,

4 जून 1903 – ‘इंडियन ओपिनियन’ का पहला अंक प्रकाशित,

दिसंबर 1904 – ‘फीनिक्स सेटलमेंट’ की स्थापना,

20 जुलाई 1906 – ब्रह्मचर्य का व्रत,

11 सितंबर 1906 – जोहान्सबर्ग के एम्पायर थिएटर में सत्याग्रह का आयोजन,

1 अक्टूबर 1906 – भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य के रूप में इंग्लैंड के लिए रवाना,

22 मार्च 1907 – एशियाई पंजीकरण विधेयक ट्रांसवाल संसद में पारित हुआ,

1908 मगनलाल गांधी के ‘सदग्रह’ के आधार पर ‘सत्याग्रह’ शब्द को अपनाया गया,

10 जनवरी 1908 – पंजीकरण प्राप्त करने से इनकार करने के लिए दो महीने का साधारण कारावास,

30 जनवरी 1908 – स्वैच्छिक पंजीकरण पर जनरल स्मट्स के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए गए,

10 फरवरी 1908 – मीर आलम और अन्य लोगों ने गांधीजी पर हमला किया,

अगस्त 16 1908 – विश्वास और प्रमाण पत्र के अलाव का उल्लंघन,

14 अक्टूबर 1908 – ट्रांसवाल में प्रवेश के बिना दो महीने की कठोर कारावास की सजा,

23 जून 1909 – भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य के रूप में इंग्लैंड के लिए रवाना,

नवंबर 1909 – जहाज ‘किल्डोनन कैसल’ में ‘हिंद स्वराज्य’ लिखा,

दिसंबर 1909 – ‘हिंद स्वराज्य’ ‘इंडियन ओपिनियन’ में प्रकाशित,

22 अक्टूबर 1912 – गोपालकृष्ण गोखले का दक्षिण अफ्रीका दौरा शुरू हुआ,

सितंबर 23 1913 – कस्तूरबा को 3 महीने की कठोर कारावास की सजा,

22 दिसंबर 1913 – कस्तूरबा जेल से रिहा, Gandhi Jayanti ke bare me jankari in Hindi.

वर्ष 1914 to 1918 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti ka Parichay

26 जून 1914 – भारतीयों का राहत विधेयक पारित हुआ,

18 जुलाई 1914 – गोखले से मिलने के लिए लंदन की यात्रा की; शांतिनिकेतन में फीनिक्स पार्टी,

17 फरवरी 1915 – शांतिनिकेतन का दौरा किया,

5 अप्रैल 1915 – कुंभ मेला, हरिद्वार का दौरा किया,

20 मई 1915 – ‘सत्याग्रह आश्रम’, कोचरब की स्थापना,

26 जून 1915 – ‘कैसरे हिंद’ पदक से सम्मानित किया गया,

11 सितंबर 1915 – दुदभाई, दानिबेहण और लक्ष्मी के पहले हरिजन परिवार आश्रम में शामिल हुए,

6 फरवरी 1916 – बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में व्याख्यान दिया,

26 दिसंबर 1916 – लखनऊ कांग्रेस में पहली बार जवाहरलाल नेहरू से मुलाकात,

10 अप्रैल 1917 – इंडिगो किसानों की स्थिति की जांच करने के लिए राजकुमार शुक्ल के साथ पटना की यात्रा,

17 जून 1917 – साबरमती आश्रम की स्थापना हुई,

20 अक्टूबर 1917 – द्वितीय गुजराती शिक्षा सम्मेलन, भरूच की अध्यक्षता,

3 नवंबर 1917 – प्रथम गुजरात राजनीतिक सम्मेलन, गोधरा की अध्यक्षता,

7 नवंबर 1917 – महादेव देसाई सचिव के रूप में शामिल,

14 फरवरी 1918 – अहमदाबाद के मिल-मालिकों और मिल-हाथों के बीच विवाद को मध्यस्थ बनाने के लिए नियुक्त किया गया,

15 मार्च 1918 – हड़ताली मिल-हाथों के संकल्प को जारी रखने के लिए अनिश्चितकालीन उपवास,

22 मार्च 1918 – नडियाद में 5000 किसानों की जनसभा को संबोधित किया,

वर्ष 1919 to 1925 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti ka Parichay

24 फरवरी 1919 – ‘रोलेट एक्ट’ के खिलाफ सत्याग्रह प्रतिज्ञा,

6 अप्रैल 1919 – रौलेट एक्ट के खिलाफ नेशनल हार्टल और सत्याग्रह,

9 अप्रैल 1919 – पलावल स्टेशन पर गिरफ्तार,

13 अप्रैल 1919 – जलियांवाला बाग में नरसंहार; अहमदाबाद में तीन दिन का उपवास,

7 सितंबर 1919 – ‘नवजीवन’ का पहला अंक प्रकाशित,

8 अक्टूबर 1919 – ‘यंग इंडिया’ का पहला अंक प्रकाशित,

15 नवंबर 1919 – कांग्रेस ने हंटर कमीशन का बहिष्कार किया और स्वतंत्र जांच की स्थापना,

2 अगस्त 1920 – सरकार को सम्मान लौटाया, गैर-सहयोग की शुरूआत,

18 अक्टूबर 1920 – गुजरात विद्यापीठ की स्थापना,

24 दिसंबर 1921 – अहमदाबाद में कांग्रेस के शासनकाल को देखते हुए,

10 मार्च 1922 – गांधीजी और शंकरलाल बैंकर गिरफ्तार,

11 मार्च 1922 – यंग इंडिया में तीन लेखों के लिए राजद्रोह का आरोप लगाया गया,

18 मार्च 1922 – अहमदाबाद सर्किट हाउस में आयोजित ट्रायल; न्यायाधीश ब्रूमफील्ड ने गांधीजी को छह साल के कारावास की सजा सुनाई,

21 मार्च 1922 – येरवडा जेल स्थानांतरित,

12 जनवरी 1924 – ससून अस्पताल, पूना में परिशिष्ट के लिए संचालित,

6 अप्रैल 1924 – नवजीवन में ‘दक्षिण अफ्रीका के सत्याग्रहो इतिहस’ का प्रकाशन,

26 दिसंबर 1924 – बेलगाम कांग्रेस की अध्यक्षता,

22 सितंबर 1925 – ‘ऑल इंडिया स्पिनर्स एसोसिएशन’ की स्थापना,

7 नवंबर 1925 – मैडेलीन स्लेड ने मिरबेहन नाम के सत्याग्रह आश्रम में प्रवेश,

29 नवंबर 1925 – नवजीवन में याना सत्यं प्रयागो अथावा अत्मकथा ’का प्रकाशन,

3 दिसंबर 1925 – ‘आत्मकथा या सत्य के साथ मेरे प्रयोगों की कहानी’ का प्रकाशन, (यंग इंडिया में हंगामा),

वर्ष 1928 to 1931 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti Ka Parichay

3 फरवरी 1928 – साइमन कमीशन का बहिष्कार,

27 जून 1929 – ‘अनासक्तियोग’ का परिचय लिखा,

31 अक्टूबर 1929 – वायसराय लॉर्ड इरविन ने गोलमेज सम्मेलन की घोषणा,

27 दिसंबर 1929 – लाहौर कांग्रेस में पूर्ण स्वराज संकल्प को अपनाया गया,

15 फरवरी 1930 – साल्ट लॉ को तोड़ने के अपने इरादे के बारे में वायसराय को लिखा,

12 मार्च 1930 – दांडी मार्च सत्याग्रह आश्रम से शुरू हुआ,

6 अप्रैल 1930 – नमक कानून को तोड़ा,

5 मई 1930 – गिरफ्तार किया गया और येरवडा जेल भेज दिया गया,

26 जनवरी 1931 – जेल से रिहा,

5 मार्च 1931 – गांधी-इरविन संधि पर हस्ताक्षर,

12 सितंबर 1931 – दूसरे दौर में कांग्रेस के एकमात्र प्रतिनिधि के रूप में लंदन में टेबल सम्मेलन,

13 सितंबर 1931 – अमेरिका के लोगों के लिए एक अपना संदेश रिकॉर्ड किया,

9 अक्टूबर 1931 – मेट मारिया मोंटेसरी,

20 अक्टूबर 1931 – ‘गॉड इज रिकॉर्डेड’

5 नवंबर 1931 – सम्राट जॉर्ज पंचम के निमंत्रण पर बकिंघम पैलेस में द्वितीय गोलमेज सम्मेलन के प्रतिनिधियों के लिए शाही स्वागत,

13 नवंबर 1931 – प्रस्तावित सांप्रदायिक पुरस्कार के लिए अपने विरोध की घोषणा,

1 दिसंबर 1931 – दूसरा गोलमेज सम्मेलन समाप्त हुआ,

6 दिसंबर 1931 – रोमेन रोलैंड के साथ,

12 दिसंबर 1931 – वेटिकन में रोम में मुसोलिनी से मुलाकात, gandhi jayanti ke bare me jankari in Hindi.

 

वर्ष 1932 to 1936 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti Ka Parichay

जनवरी 1932 – कांग्रेस कार्यसमिति ने सविनय अवज्ञा का संकल्प अपनाया,

17 अगस्त 1932 – प्रीमियर रामसे मैकडोनाल्ड ने सांप्रदायिक पुरस्कार की घोषणा,

18 अगस्त 1932 – रामसे मैकडोनाल्ड को पत्र दिया गया कि वे अपने इरादों को खत्म करने के लिए आमरण अनशन,

20 सितंबर 1932 – उपवास शुरू हुआ

सितंबर 24 1932 – पूना पैक्ट ने हस्ताक्षर किए,

26 सितंबर 1932 – उपवास तोड़ दिया

30 सितंबर 1932 – ‘हरिजन सेवक संघ’ की स्थापना,

11 फरवरी 1933 – ‘हरिजन’ का प्रकाशन, ‘हरिजन सेवक ’(हिंदी), 23 फरवरी को प्रकाशित प्रकाशन और 12 मार्च को an हरिजनबंधु’ (गुजराती) प्रकाशन,

29 अप्रैल 1933 – आधी रात को 21 दिनों के लिए उपवास करने का संकल्प लिया,

1 मई 1933 – उपवास के बारे में एक बयान जारी किया; बिना शर्त और आत्म-शोधन के लिए,

8 मई 1933 – उपवास की सजा दी, जेल से रिहा,

29 मई 1933 – फास्ट टूट गया,

31 जुलाई 1933 – व्यक्तिगत सत्याग्रह की पेशकश करने के अपने इरादे की घोषणा,

1 अगस्त 1933 – अहमदाबाद में गिरफ्तार हुआ और साबरमती जेल भेज दिया गया; बाद में येरवडा में स्थानांतरित कर दिया गया,

14 सितंबर 1933 – राजनीति में खुद को शामिल न करने के निर्णय के साथ वर्धा चले गए,

30 सितंबर 1933 – सत्याग्रह आश्रम, साबरमती हरिजन सेवक संघ को दिया गया,

7 नवंबर 1933 – राष्ट्रव्यापी हरिजन यात्रा शुरू हुई,

25 अप्रैल 1934 – लालनाथ शास्त्री की शह पर बिहार में भीड़ ने हमला किया,

9 मई 1934 – उड़ीसा की पैदल यात्रा,

18 मई 1934 – सामूहिक सत्याग्रह वापस ले लिया,

17 सितंबर 1934 – कांग्रेस से सेवानिवृत्त होने के अपने इरादे की घोषणा,

30 अक्टूबर 1934 – कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया,

14 दिसंबर 1934 – ‘ऑल इंडिया विलेज इंडस्ट्रीज एसोसिएशन’ की स्थापना, Gandhi Jayanti ka Parichay

 

वर्ष 1936 to 1942 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti Ka Parichay

30 अप्रैल 1936 – वर्धा से सेगाँव चले गए,

31 अक्टूबर 1936 – 12 वीं गुजराती साहित्य परिषद की अध्यक्षता,

12 नवंबर 1936 – त्रावणकोर मंदिर हरिजनों के लिए खुले,

2 फरवरी 1939 – कस्तूरबा को राजकोट में ठाकोरसाहेब ने गिरफ्तार किया,

3 मार्च 1939 – विश्वास के उल्लंघन के खिलाफ राजकोट में उपवास की सजा,

7 मार्च 1939 – मुख्य न्यायाधीश मौरिस ग्वेयर ने मध्यस्थ नियुक्त किया,

23 जुलाई 1939 – एडोल्फ हिटलर को एक पत्र लिखा,

31 अक्टूबर 1939 – कांग्रेस मंत्रालयों का इस्तीफा,

5 मार्च 1940 – सेवागांव नाम सेगांव,

11 अक्टूबर 1940 – कांग्रेस सेवा समिति की बैठक सेवाग्राम में; व्यक्तिगत सत्याग्रह प्रस्तावित,

17 अक्टूबर 1940 – विनोबा ने पहली व्यक्तिगत सत्याग्रही के रूप में चुना,

13 दिसंबर 1941 – ‘ऑन कंस्ट्रक्टिव प्रोग्राम’ प्रकाशित,

30 दिसंबर 1941 – बारडोली में कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने गांधीजी के अनुरोध को स्वीकार किया कि उन्हें कांग्रेस का मार्गदर्शन करने की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए,

15 जनवरी 1942 – सेवाग्राम में कांग्रेस कार्य समिति को सूचित किया कि जवाहरलाल नेहरू उनके राजनीतिक उत्तराधिकारी,

27 मार्च 1942 – क्रिप्स मिशन को इंग्लैंड लौटने के लिए सलाह,

14 जुलाई 1942 – कांग्रेस कार्य समिति ने भारत से अंग्रेजों को तत्काल वापस लेने का प्रस्ताव अपनाया,

8 अगस्त 1942 – ‘भारत छोड़ो’ संकल्प को अपनाया गया; ‘करो या मरो’ का नाम दिया,

9 अगस्त 1942 – गांधीजी और कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य गिरफ्तार; गांधीजी आगा खान पैलेस जेल,

15 अगस्त 1942 – महादेव देसाई की मृत्यु, आगा खान पैलेस कारागार में अंतिम संस्कार,

 

वर्ष 1942 to 1948 का कार्य परिचय – Gandhi Jayanti Ka Parichay

10 फरवरी 1943 – 21 दिन का उपवास किया,

22 फरवरी 1944 – कस्तूरबा की मृत्यु; आगा खान पैलेस जेल में अंतिम संस्कार,

6 मई 1944 -बिना शर्त रिहा,

14 जून 1945 – लॉर्ड वेवेल ने वार्ता,

15 जून 1945 – अहमदनगर फोर्ट जेल से कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्यों को रिहा किया गया,

14 जुलाई 1945 – वायसराय ने शिमला सम्मेलन को विफल घोषित कर दिया,

23 मार्च 1946 – तीन सदस्यीय ब्रिटिश प्रतिनिधिमंडल दिल्ली पहुंचा,

25 जून 1946 – कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने गठन को स्वीकार करने के लिए संकल्प अपनाया,

4 जुलाई 1946 – वायसराय ने अंतरिम सरकार का गठन किया,

16 अगस्त 1946 – कलकत्ता में सांप्रदायिक दंगे,

2 सितंबर 1946 – पंडित नेहरू के नेतृत्व में 12 सदस्यीय अंतरिम सरकार का गठन,

15 अक्टूबर 1946 – मुस्लिम प्रतिनिधि अंतरिम सरकार में शामिल हुए,

27 अक्टूबर 1946 – बिहार में सांप्रदायिक दंगे,

6 नवंबर 1946 – नोआखली के लिए प्रस्थान,

19 नवंबर 1946 – काका कालेलकर, किशोरीलाल मशरूवाला और नरहरि पारिख को हरिजन जर्नल्स की जिम्मेदारी सौंपी गई,

30 मार्च 1947 – बिहार के हिंसा प्रभावित गांवों का दौरा,

31 मार्च 1947 – नए वायसराय लॉर्ड माउंटबेटन से मुलाकात,

1 अप्रैल 1947 – एशियाई संबंध सम्मेलन को संबोधित किया,

जून 13 1947 – कांग्रेस कार्य समिति ने विभाजन स्वीकार करने का संकल्प अपनाया,

15 अगस्त 1947 – उपवास और प्रार्थना में दिन बिताया,

31 अगस्त 1947 – कलकत्ता में सांप्रदायिक हिंसा के खिलाफ अनिश्चितकालीन उपवास,

4 सितंबर 1947 – उपवास तोड़ दिया,

12 जनवरी 1948 – दिल्ली में उपवास की सजा,

18 जनवरी 1948 – उपवास तोड़ दिया,

20 जनवरी 1948 – प्रार्थना सभा के दौरान बम फेंका गया,

30 जनवरी 1948 – उनके सीने पर तीन गोलियां लगीं (गोडसे द्वारा)

31 जनवरी 1948 – रामदास द्वारा यमुना के तट पर अंतिम संस्कार,

 

महात्मा गांधी पर पूरी जानकारी जानिए : ☛ www.mkgandhi.org

इस साइट को महात्मा गांधी के कार्यों, जीवन, शिक्षाओं और दर्शन के बारे में जानकारी का सर्वोच्च संग्रह बनाने में जबरदस्त प्रयास किया है.

इस में विषय शामिल है :

गांधीजी के दर्शन जीवनी उदा. लेख, फोटो गैलरी, गांधी ई-पुस्तकें, ऑनलाइन पुस्तकें और सीडी गांधी जर्नल चर्चा समूह गांधी आज वर्तमान समाचार संबंधित लिंक ग्रीटिंग कार्ड पुस्तकें ऑनलाइन और भी अधिक …

गाँधी जी के बारे में अधिक जानकारी तथा उनके महान कार्यो को बड़े दर्शकों तक पहुँचाने के लिए HINDI,
www.hindi.mkgandhi.org  में गांधी वेबसाइट भी शुरू की है.

 

गांधीनगर क्षेत्र की प्रगति :

लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए, विभिन्न सार्वजनिक स्थानों, स्कूलों, कॉलेजों और संस्थानों में पुस्तक प्रदर्शनी लगाकर गांधी, विनोबा और सर्वोदय से संबंधित नैतिक साहित्य की बिक्री को बढ़ावा देते हैं. अन्य लेखकों और बच्चों की पुस्तकों के बारे में सोचा उत्तेजक और आध्यात्मिक किताबें भी बेचते हैं, ताकि उनका  ”अपना संदेश”जनता तक पहुंचे, हर साल, 2 अक्टूबर – गांधी जन्म वर्षगांठ और 30 जनवरी – शहीद दिवस जैसे विशेष अवसरों पर गांधी की पुस्तकों की एक सप्ताह की प्रदर्शनी-सह-बिक्री आयोजित करते हैं और पुस्तकों को 50 प्रतिशत की विशेष छूट पर प्रदान करते हैं. गांधीजी द्वारा लिखित बुक्स

 

दोस्तों, उम्मीद है की आपको gandhi jayanti ke bare me jankari – गाँधी जयंती के बारे में जानकारी यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ साझा करें और हमारे साथ जुड़े रहें और इसी तरह के दिलचस्प लेखों से अवगत होकर अपने ज्ञान को बढ़ाएं.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे….

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

information articleinformation article
1. बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये1. Rain Gage बनाने के आसान तरीके
2. मेडिकल इंजीनियर कैसे बने2. Ranu Mondal के बारे में रोचक बाते
3. माइक्रोबायोलॉजी में करियर कैसे बनाये

4. पेस्टीसाइड वैज्ञानिक कैसे बने

5. मीडिया डायरेक्टर कैसे बने

3. सौर ऊर्जा का महत्व

4. Dhvani Bhanushali के बारे में रोचक बातें

5. यातायात के नए नियम 2019

 

Post Comments

error: Content is protected !!