What is the definition of magnetic field in Hindi – चुंबकत्व और परिभाषा क्या है?

Chumbakatv kya hai? What is the definition of magnetic field. (चुंबकीय क्षेत्र की परिभाषा क्या है) electromagnetic force kya hai? विद्युत चुंबकीय बल की परिभाषा क्या है? magnetic field kaise Generate hoti hai in Hindi.

वर्तमान में सभी प्रकार के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर बनने (How to become an electrical engineer) के लिए, संबंधित जानकारी होना आवश्यक है. तो जानते हैं कि How to classify magnetic materials – चुंबकीय पदार्थों के वर्गीकरण कैसे करे? What is a magnetic material called – चुंबकीय पदार्थ किसे कहते हैं? चुंबकीय पदार्थ क्या है? What is the intensity of a magnetic field – चुंबकीय क्षेत्र की तीव्रता किसे कहते है ? magnetism at the center of a bar magnet is सभी जानकारी आपकी भाषा में.

What is the definition of magnetic field in Hindi - चुंबकत्व और परिभाषा क्या है?

What is the definition of magnetic field in Hindi – चुंबकत्व और परिभाषा क्या है?

वर्तमान युग में चुंबकत्व एक परिचित शब्द बन गया है. चुंबक तत्व बिजली के संबंध में एक महत्वपूर्ण कारक बन गया है. जिसमें चुंबकीय क्षेत्र के माध्यम से बिजली का उत्पादन किया जाता है. वर्तमान युग में शानदार बिजली बनाई जा रही है, जिसका श्रेय केवल मैग्नेट को ही दे सकते है.

चुंबकत्व – Magnetism

चुंबक का Use 4000 बरस पहले किया गया था ऐसा वैज्ञानिकों का मानना है. यह इसका Use चीनी लोगों से समृद्ध जहाज पर दिशा दिखाने के लिए किया गया था. उस समय ऐसी चुंबक को Lode Stone और Landing Stone (दिशा दर्शक – Direction viewer) कहते थे. मैग्नीशिया में यह स्टोन मिलने के कारण उसे मैग्नेट नाम भी दिया गया. धातु शास्त्र (Metallurgy)में इसे मैग्नेटाइट बोला गया था, जब मैग्नेटाइज यह एक खनिज संपत्ती है. जिसमें ऑक्साइड अंतर्भूत होता है. इस कारण Iron oxide की रासायनिक अभिक्रिया Fe₃O₄ होती है.

इसकी एक प्रमुख शाखा भी है, वशिष्ठ का मतलब इसके पास एक लोहे की धातु लेकर जाने से, वह इसकी ओर आकर्षित होता है और यह उसकी ओर खींचा जाता है. इसलिए, इस माध्यम को एक चुंबक का नाम दिया गया है जिसका अर्थ है कि किसी भी लोहे की वस्तु को उसकी ओर खींचा जाना.

Read More – Bijali ka Avishakar kaise huaa

 

चुंबकीय ध्रुव – Magnetic pole

चुंबकीय शक्ति चुंबक के दोनों किनारों पर मौजूद है, इसे चुंबकीय ध्रुव के रूप में व्यक्त किया जाता है. चुम्बक उत्तर और दक्षिण दिशाओं में वायुमंडल में स्थिर रहता है, जो उत्तर दिशा की ओर Indicated करता है. उत्तरी ध्रुव और दक्षिणी ध्रुव जो दक्षिण दिशा को दर्शाता है, इस प्रकार वर्णित हैं. इस प्रणाली का आविष्कार प्राचीन वर्ष में महान वैज्ञानिक के कारण किया गया था, जो वर्तमान युग में इसका उपयोग ज्यादातर बिजली उत्पादन के लिए किया जाता है. What is the definition of magnetic field in Hindi ( चुंबकीय क्षेत्र की परिभाषा क्या है?)

चुंबकीय आस/अक्ष – चुंबक के दोनों ध्रुवों को जोड़ने वाले स्ट्रेट लाइन को चुंबकीय आस कहा गया है.

 

Magnetic Field – चुंबकीय क्षेत्र :-

चुंबकीय क्षेत्र वह क्षेत्र है जिसमें चुंबक शक्ति Magnetosphere में कार्य करती है. इस क्षेत्र के माध्यम से Atmosphere का बल जो चुंबकीय क्षेत्र के चारों ओर कार्य करता है जिसके माध्यम से चुंबकीय क्षेत्र उत्पन्न होता है.

 

चुंबकीय विकर्ष लाइन – Magnetic radiation line

इस प्रकार के चुंबक विकर्ष लाइन एक प्लेन बोर्ड पर और उस पर Iron के किस रहते हैं. वह किसी एक पद्धत से स्थिर होते हैं और उस पर वक्राकार लाइन निर्माण होती है. दिखाई गई लाइन को चुंबकीय विकर्ष लाइन कहा गया है.

 

चुंबक चालक प्रेरणा – Magnet Driver Motivation

मैग्नेटो मूवमेंट फॉर चुंबकीय विक्रेता के निर्मिती को जो प्रेरणा कारिणीभूत होती है. उस प्रेरणा को चुंबक चालक प्रेरणा कहते हैं. इस प्रेरणा का परिणाम नील बर्ड यह है. चुंबक चालक प्रेरणा मतलब MMF और EMF से करते आती है.

 

चुंबकीय प्रवाह – magnetic flux

चुंबक के आसपास रहने वाले चुंबकीय लाइन को चुंबकीय प्रवाह कहा जाता है. CGS पद्धत में चुंबकीय Line का परिणाम ”मैक्सवेल – Maxwell” है. तो MKS पध्दत में ”weber – वेबर” है.

चुंबकीय प्रवाह एक सतह से गुजरने वाली चुंबकीय क्षेत्र लाइनों की संख्या है (जैसे कि तार की एक लूप) एक बंद सतह (जैसे गेंद) के माध्यम से चुंबकीय प्रवाह हमेशा शून्य होता है. What is the definition of magnetic field in Hindi ( चुंबकीय क्षेत्र की परिभाषा क्या है?)

magnetic flux की SI इकाई वेबर (Wb) (व्युत्पन्न इकाइयों में: वोल्ट-सेकंड) है.

चुंबकीय प्रवाह का उपयोग कभी-कभी विद्युत इंजीनियरों द्वारा इलेक्ट्रोमैग्नेट्स या Designing govtडायनामोस के साथ डिजाइनिंग सिस्टम द्वारा किया जाता है. कण त्वरक डिजाइन करने वाले भौतिक विज्ञानी भी चुंबकीय प्रवाह की गणना करते हैं.

चुंबकीय अनिच्छा – Magnetic reluctance चुंबकीय लाइन के होने वाले प्रतिरोध को Magnetic reluctance कहा जाता है. Magnetic reluctance को ℜ दर्शाया जाता है.

 

चुंबकीय अभिवाह धनता –

एक विशेष क्षेत्रफल में रहने वाले चुंबकीय लाइन को flux density व्यक्त किया है. flux density को ‘ℬ’ नाम से दर्शाया जाता है. flux density का CGS पध्दति परिणाम ‘Maxwell’ है.

 

चुंबकीय क्षेत्र तीव्रता –

Flux Intensity जो बल एक विशेष छेद पर Flux density निर्मित करता है. उसे Field Intensity व्यक्त किया है. यह ‘ℋ’ से दर्शाया जाता है.

 

पार्यता (permeability) –

विद्युत चुंबकत्व में, पारगम्यता एक सामग्री की क्षमता का माप है जो अपने भीतर एक चुंबकीय क्षेत्र के गठन का समर्थन करता है, अन्यथा ट्रांसमिशन लाइन सिद्धांत में वितरित अधिष्ठापन के रूप में जाना जाता है. इसलिए, यह चुंबकत्व की डिग्री है जो एक लागू चुंबकीय क्षेत्र के जवाब में एक सामग्री प्राप्त करता है.

पार्यता को ‘μ’ में दर्शाया जाता है.

नीचे दी गई संज्ञा बिजली से संबंधित है.

जैसे,

विद्युत प्रवाह – चुंबकीय विकिरण
विद्युत दबाव – चुंबकीय चालक प्रेरणा
बिजली प्रतिरोध – चुंबकीय क्षालन

जिस तरह से इलेक्ट्रिक प्रेशर बढ़ता है उसके बाद इलेक्ट्रिक करंट प्रवाहित होता है. इसी तरह, जब चुंबकीय संवाहक प्रेरणा बढ़ती है, तो प्रवाह कम हो जाता है जब चुंबकीय प्रवाह (Flux बढ़ता है) और विद्युत प्रतिरोध बढ़ जाता है. इसी तरह, चुंबकीय प्रतिक्रिया कम हो जाती है जब चुंबकीय (Magnetic) प्रतिक्रिया बढ़ने लगती है.

 

दोस्तों, उम्मीद है की आपको What is the definition of magnetic field in Hindi – चुंबकत्व और परिभाषा क्या है? यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ साझा करें और हमारे साथ जुड़े रहें और इसी तरह के दिलचस्प लेखों से अवगत होकर अपने ज्ञान को बढ़ाएं.

धन्यवाद…

हसते रहे – मुस्कुराते रहे….

Author By :- Yogesh Sir

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े….

information articleinformation article
1. बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये1. Rain Gage बनाने के आसान तरीके
2. मेडिकल इंजीनियर कैसे बने2. Ranu Mondal के बारे में रोचक बाते
3. माइक्रोबायोलॉजी में करियर कैसे बनाये

4. पेस्टीसाइड वैज्ञानिक कैसे बने

5. मीडिया डायरेक्टर कैसे बने

3. सौर ऊर्जा का महत्व

4. Dhvani Bhanushali के बारे में रोचक बातें

5. यातायात के नए नियम 2019

 

 

Post Comments

error: Content is protected !!