How to become master of Surya Namaskar – सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने

सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने, How to become master of Surya Namaskar, मेडिटेशन (सूर्य नमस्कार) में भविष्य कैसे बनाये? Surya Namaskar ke master kaise bane? सूर्य नमस्कार के उपयोग. मेडिटेशन और योग में करियर कैसे बनाये – Surya namaskar kaise kare In Hindi.

How to become master of Surya Namaskar - सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने

Surya namaskar kaise karate hai : दोस्तों अगर आपका योग के क्षेत्र में करियर बनाने का सपना है. तो हम आपको सूर्य नमस्कार के फायदे के बारे में जानकारी देंगे, Surya namaskar ke upyog kya hai, सूर्य नमस्कार करने के टिप्स, सूर्य नमस्कार योग में रोजगार कैसे करे, सूर्य नमस्कार प्रार्थना क्या है? सूर्य नमस्कार का अर्थ क्या है? जाने.

 

How to become master of Surya Namaskar – सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने :

सदियों से, सभी लोगों ने सूर्य को प्रार्थना की पेशकश की है – जीवन और ऊर्जा का अंतिम स्रोत सूर्य ही है. ऐसा ही एक अभ्यास सूर्य नमस्कार का योगिक क्रम है. तो आइए, इस अनोखी प्रथा को बेहतर ढंग से जानें और इसके बहुमुखी लाभों को समझें :

 

सूर्य नमस्कार क्या है?

Sun Salutation या सूर्य नमस्कार सूर्य को सम्मान देने की एक प्राचीन तकनीक है. 12 अलग-अलग मुद्राओं का निर्माण, यह पृथ्वी पर सभी जीवन के इस स्रोत के लिए आभार व्यक्त करने का एक रूप है.

वास्तव में, इस प्राचीन तकनीक के पीछे के विज्ञान को समझना आवश्यक है. यह आपको इस शक्तिशाली योग अभ्यास को सही दृष्टिकोण के साथ करने में मदद करता है. प्राचीन भारतीय ऋषियों ने कहा है कि विभिन्न ऊर्जाएं शरीर के विभिन्न हिस्सों को नियंत्रित करती हैं. उदा, सौर जाल जो नाभि के पीछे स्थित होता है, और यह सूर्य से जुड़ा होता है. सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास सौर जाल के आकार को बढ़ाता है. यह, बदले में, आपकी रचनात्मकता, सहज क्षमताओं, निर्णय लेने, आत्मविश्वास और नेतृत्व कौशल को बढ़ाता है. यही कारण है कि सूर्य नमस्कार का अभ्यास अत्यधिक अनुशंसित है.

यह भी पढ़े 

1.एक्यूप्रेशर चिकित्सा में करियर कैसे बनाये

2. योग में करियर कैसे बनाये

3. योग प्रशिक्षक में भविष्य कैसे बनाये

 

गति से इसका अभ्यास कर सकते हैं?

धीमी गति: यह आपके शरीर को लचीला बनाने में मदद करेगा

मध्यम गति: यह आपकी मांसपेशियों को टोन करने के लिए उपयोगी है

तेज गति: यह एक उत्कृष्ट कार्डियोवस्कुलर कसरत और वजन घटाने में सहायक के रूप में कार्य करता है

 

आसन कब करना है :-

1. आप सूर्य नमस्कार दिन के किसी भी समय कर सकते हैं.

2. हालांकि, यह सूर्योदय के समय करना सबसे अच्छा है.

3. यह तब होता है जब सूर्य की किरणें शरीर को पुनर्जीवित करने और मन को ताज़ा करने में मदद करती हैं.

4. दिन के अन्य समय में भी सूर्य नमस्कार करने के लाभ हैं. यदि आप दोपहर में इसका अभ्यास करते हैं, तो यह आपके शरीर को तुरंत ऊर्जावान करता है.

5. शाम को किया जाता है, तो यह आपको आराम करने में मदद करता है.

 

सूर्य नमस्कार – आसन करने के चरण (Surya Namaskar – Steps) :-

Surya namaskar kaise kare - How to become master of Surya Namaskar

 

सूर्य नमस्कार के लाभ –

Surya Namshkar के लाभ कई गुना अधिक हैं. यह शरीर और मानसिक संकायों के बेहतर कामकाज में मदद करता है. सूर्य नमस्कार के कुछ लाभ :

1. मुद्राएं वार्म-अप और आसनों का एक सही मिश्रण हैं,

2. यह आपको रोग मुक्त और स्वस्थ रखने में मदद करता है,

3. नियमित अभ्यास शरीर में संतुलन को बढ़ावा देता है,

4. रक्त परिसंचरण में सुधार करता है,

5. दिल को मजबूत बनाता है,

6. पाचन तंत्र को टोन करता है,

7. पेट की मांसपेशियों, श्वसन प्रणाली, लसीका प्रणाली, रीढ़ की हड्डी और अन्य आंतरिक अंगों को उत्तेजित करता है,

8. रीढ़, गर्दन, कंधे, हाथ, हाथ, कलाई, पीठ और पैर की मांसपेशियों को टोन करता है, जिससे समग्र लचीलेपन को बढ़ावा मिलता है,

9. मनोवैज्ञानिक रूप से, यह शरीर, सांस और मन की अंतर्संबंध को नियंत्रित करता है, इस प्रकार आपको शांत बनाता है और तेज जागरूकता के साथ ऊर्जा के स्तर को बढ़ाता है,

10. वजन कम करने, स्किनकेयर और बालों की देखभाल के लिए भी सूर्य नमस्कार बेहद फायदेमंद है.

 

Glowing skin (दमकती त्वचा) के लिए सूर्य नमस्कार के फायदे :

1. सूर्य नमस्कार शरीर के सभी हिस्सों में रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, इस प्रकार त्वचा को युवा रखता है,

2. यह ऊर्जा और जीवन शक्ति को बढ़ाता है, जिससे आपका चेहरा चमक के साथ चमकता है. यह त्वचा को अपनी दृढ़ता बनाए रखने में मदद करता है,

3. सूर्य नमस्कार शरीर और मन को तनाव से मुक्त करके झुर्रियों की शुरुआत को रोकता है,

 

यह भी पढ़े

1. एक्यूप्रेशर कोर्स क्या होता है?

2. योग में अपना सफल करियर कैसे बनाये

3. मेडिटेशन में करियर कैसे बनाये

 

वजन घटाने के लिए सूर्य नमस्कार के लाभ :

1. यह एक गहन शारीरिक व्यायाम है जो शरीर के हर हिस्से पर काम करता है,

2. आप धीरे-धीरे राउंड की संख्या बढ़ा सकते हैं और पाउंड को गायब होना शुरू कर सकते हैं.

 

बालों के लिए सूर्य नमस्कार के फायदे :

1. सूर्य नमस्कार खोपड़ी को रक्त परिसंचरण में सुधार करता है, जिससे बालों के झड़ने को रोकता है,

2. बढ़ा हुआ रक्त परिसंचरण सिर को पोषण देता है और एक स्वस्थ बाल विकास को सक्षम करता है,

3. अलग-अलग पोज़ बालों को ग्रे करने से रोकने में मदद करते हैं.

 

महिलाओं के लिए सूर्य नमस्कार के लाभ :

सूर्य नमस्कार किसी भी स्वास्थ्य-जागरूक व्यक्ति के लिए एक वरदान है. सन साल्यूटेशन पोज़ में से कुछ पेट के चारों ओर अतिरिक्त वसा खोने में मदद करते हैं और आपको स्वाभाविक रूप से आकार में रहने देते हैं. ये पोज़ थायरॉयड ग्रंथि की तरह सुस्त ग्रंथियों को उत्तेजित करते हैं और इसे हार्मोनल स्राव को बढ़ाने के लिए प्रेरित करते हैं. सूर्य नमस्कार का नियमित अभ्यास महिलाओं को अनियमित मासिक चक्र को नियंत्रित करने और प्रसव में सहायता करने में मदद करता है. इसके अलावा, यह चेहरे की चमक में मदद करता है और झुर्रियों को भी रोकता है.

इसलिए, सूर्य नमस्कार का नियमित रूप से अभ्यास करे और इसके कई गुना लाभों का अनुभव प्राप्त करे.

दोस्तों इस लेख में हमने आपको बताया कि How to become master of Surya Namaskar – सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने, यदि आपके पास इस जानकारी से संबंधित किसी भी प्रकार का प्रश्न है, या इससे संबंधित कोई अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो हमे टिप्पणी बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते हैं.

धन्यवाद…

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. Maha Career Portal par Login kaise kare

2. मौसम विज्ञानी कैसे बनें

3. खाद्य प्रौद्योगिकी (Food Technology) में career कैसे बनाये

4. 12th के बाद पैरामेडिकल साइंस में करियर कैसे बनाये

5. शहरी नियोजन में करियर कैसे बनाये

6. ऑटोमोटिव इंजीनियर कैसे बने

7. 10th ka result kaise check kare

8.बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये

9. मेडिकल इंजीनियर कैसे बने

10.माइक्रोबायोलॉजी में करियर कैसे बनाये

11. पेस्टीसाइड वैज्ञानिक कैसे बने

12. मीडिया डायरेक्टर कैसे बने

13. Rain Gage बनाने के आसान तरीके

14. Ranu Mondal के बारे में रोचक बाते

15. सौर ऊर्जा का महत्व

16. Dhvani Bhanushali के बारे में रोचक बातें

Post Comments

error: Content is protected !!