Archaeology Course me career – पुरातत्व में करियर कैसे बनाये

पुरातत्व में करियर कैसे बनाये. puratatv me career kaise banaye, archaeologists kaise bane, Archaeology Course me career, अर्चयोलॉजिस्ट कैसे बने, Archaeologist banakar lakhon kamaye, अर्चेओलॉजी में भविष्य (Future) कैसे बनाये, जाने.

Archaeology Course me career - पुरातत्व में करियर कैसे बनाये

 

Archaeologist Course me career kaise banaye puri jankari:

Archaeology me Career:- क्या आप पुरातत्त्ववेत्ता में अपना सुनहरा करियर बनाना चाहते हैं? क्या आप एक अच्छा ”Archaeologist” बनना चाहते है? क्या आप चाहते है की Archaeology me career kaise banaye, तो आप सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं. जी हां दोस्तों इसके पहले वाले लेख में आपने ”एपिग्राफी में करियर कैसे बनाये” इसके बारे में जाना है. और उसी लेख पर आधिरित अर्चेओलॉजी के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिससे आप आसानी से अपना सुनहरा करियर बना सकते हैं.

 

Archaeology me career kaise banaye – अर्चेओलॉजी में भविष्य बनाये:

दोस्तों, अर्चेओलॉजी में वैज्ञानिक बनने से पहले आपके जानकारी के लिए बता देते है की अर्चेओलॉजी का एक्चुअल अर्थ क्या है? सीधे भाषा में कहा जाये तो अर्चेओलॉजी वह शाखा है जिसमे पुरातत्व उन संस्कृतियों का अध्ययन है जो अतीत में रहते थे. यह मानव विज्ञान का एक उपक्षेत्र है, मानव संस्कृतियों का अध्ययन, अन्य उपक्षेत्र सांस्कृतिक नृविज्ञान हैं जो जीवित संस्कृतियों, भौतिक नृविज्ञान का अध्ययन करते हैं जो मानव जीव विज्ञान का अध्ययन करते हैं और जहां मानव हमारे परिवार के पेड़ की जीवित और विलुप्त प्रजातियों के बीच फिट होते हैं, और मानव भाषा का अध्ययन करने वाले भाषाविज्ञान, पुरातत्व मुख्य रूप से पिछले मानव व्यवहार के भौतिक अवशेषों, या लोगों द्वारा बनाई गई या उपयोग की जाने वाली वस्तुओं और पीछे छोड़ दिए गए विलुप्त संस्कृतियों को फिर से बनाने से संबंधित है. इन अवशेषों को कलाकृतियां कहा जाता है.

READ MORE:

एपिग्राफिस्ट कैसे बनें

मृदा (प्लांट) विज्ञानी कैसे बनें

खगोल विज्ञानी कैसे बनें

 

पुरातत्व क्या है?

Archaeological Materials, अवशेष और पर्यावरण डेटा की पुनर्प्राप्ति, विश्लेषण और प्रलेखन के माध्यम से मानव संस्कृतियों का वैज्ञानिक और क्रमबद्ध अध्ययन है, जैसे कलाकृतियों, मुहरों, शिलालेखों, स्मारकों, संपादनों, परिदृश्य और जैव-तथ्य. भारत के अधिकांश पुरातत्वविदों ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के अन्वेषण, उत्खनन, उपसंहार, पूर्व-इतिहास और संग्रहालय शाखाओं में काम किया जाता है.

पुरातत्व में विभिन्न स्थानों की यात्रा करने के लिए कई अवसर प्राप्त होता है,

संस्कृति और इतिहास में योगदान करने का अवसर,

 

पुरातत्व अभ्यासक्रम पात्रता:

1. पुरातत्व बनने लिए मुख्य विषयों के रूप में इतिहास के साथ कुल 60% अंकों के साथ 10 + 2 पूरा करना अनिवार्य है.

2. अधिकांश कॉलेज में कक्षा 12 वीं में न्यूनतम 50% कुल अंकों की पात्रता मानदंड हैं.

3. अगर इस क्षेत्र में छात्र को अपना करियर बनाना है तो, कक्षा 12 वी में इतिहास से जुड़े विषयों में रूचि होनी चाहिए,

4. स्नातकोत्तर के लिए अधिकांश संस्थानों को इतिहास और संबंधित विषयों में स्नातक की आवश्यकता होती है.

5. बी. ए. पुरातत्व, एम.ए. पुरातत्व और पुरातत्व में स्नातकोत्तर डिप्लोमा केवल चयनित कॉलेजों में एक पाठ्यक्रम के रूप में उपलब्ध है.

6. पुरातत्व में व्याख्यान के लिए, राष्ट्रीय शैक्षिक परीक्षण (नेट) या पीएचडी अनिवार्य है.

7. अधिकांश कॉलेज / संस्थान कक्षा 12 वीं के प्रतिशत के आधार पर प्रवेश प्रदान करते हैं. कुछ संस्थान साक्षात्कार भी आयोजित करते हैं.

Read More – B.Sc Computer course kaise kare

 

पुरातत्व कार्य विवरण:

A. फील्ड वॉकिंग, जियोफिजिकल सर्वे और एरियल फ़ोटोग्राफ़ी सहित कई तरह की विधियों का प्रयोग करके साइटों की जाँच,

B. खुदाई उपकरणों की एक श्रृंखला का उपयोग करते हुए, आमतौर पर एक टीम के हिस्से के रूप में क्षेत्र की खुदाई या खोदने पर काम करते हैं.

C. परियोजना खुदाई का प्रबंधन करती है, जिसमें खुदाई करने वालों की टीम शामिल होती है.

D. ड्राइंग, विस्तृत नोट्स और फोटोग्राफी का उपयोग,

E. खोज और परिदृश्यों को रिकॉर्ड और व्याख्या करने के लिए कंप्यूटर अनुप्रयोग, जैसे- कंप्यूटर एडेड डिजाइन (सीएडी) और भौगोलिक सूचना प्रणाली (जीआईएस) का उपयोग करते है.

F. साइटों के अनुसंधान और डेस्क-आधारित आकलन,

G. सुनिश्चित करें कि महत्वपूर्ण इमारतें, स्मारक और स्थल संरक्षित और संरक्षित हैं.

H. प्रचार सामग्री तैयार और अनुसंधान, साइट व्याख्या या उत्खनन के बारे में लेख प्रकाशित करते है.

 

पुरातत्व में कैरियर के अवसर:

मुद्राशास्त्री,

Epigraphists,

पुरालेखपाल,

Museologist,

विरासत और पर्यावरण प्रबंधन,

एथनो पुरातत्व,

 

पुरातत्व वेतन और सैलरी:

पेशेवर अर्चयोलॉजिस्ट के लिए औसत वार्षिक वेतन लगभग 30,00,000/- के आस पास हो सकता है.

अर्चयोलॉजि वैज्ञानिक को शुरआती वेतन सीमा 3,00,000/- से 4,00,000/- प्रति वर्ष तक हो सकती है. और, अनुभवी अर्चयोलॉजिस्ट को 15,00,000/- और 50,00,000/- के बीच कमा सकते हैं.

तथा एक पेशेवर अर्चयोलॉजिस्ट को सार्वजनिक और निजी उद्योगों में रोजगार के व्यापक अवसर उपलब्ध होने के कारण वेतन में बहुत अंतर हो सकता है.

 

Inspection supervision:

Overview:- Archaeology Course me career – पुरातत्व में करियर कैसे बनाये (पुरातत्व में करियर टिप्स और ट्रिक्स)

Name:- पुरातत्व में भविष्य (Future) कैसे बनाएं,

Educational Qualification:- इंजीनियरिंग, बीएससी, और पुरातत्व में MSc, Ph.D.

Skill:- नए विषयों की जानकारी प्राप्त करना,

Job location:- इंडिया, और Other Country.

Job Category:- Archaeologist,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. आरटीओ में करियर कैसे बनाये

2. दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बेस्ट उपाय

3. फास्टैग के लिए आवेदन कैसे करे

4. इंधन बचाने के तरीके

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Archaeology Course me career – Archaeologist Kaise bane और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

Post Comments

error: Content is protected !!