Novel Corona Virus ka Itihas – 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास

2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास, History of 2019 novel coronavirus, Novel Corona Virus (COVID-19) की हिस्ट्री, Novel Coronavirus se bachane ke tarike जाने, [COVID-19 ka itihas] Guide in Hindi.

Novel Corona Virus ka Itihas - 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास

 

Read More:

1. कोरोना वाइरस का इलाज पूरी इनफार्मेशन

2. कोरोना वाइरस से बचने के उपाय

3. कोरोना वायरस के बारे में जानकारी

 

Novel Corona Virus ka Itihas – नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास:

वुहान कोरोना वायरस का प्रकोप (2019–20) चीन के वुहान शहर में दिसंबर 2019 में नए प्रकार के कोरोनावायरस (2019-nCoV) संक्रमण के रूप में शुरू हुआ, बहुत से लोगों को बिना किसी कारण के निमोनिया होने लगा और यह देखा गया कि ज्यादातर लोग जो ह्यून सीफूड मार्केट से पीड़ित हैं वे मछली बेचते हैं और जीवित जानवरों का व्यापार भी करते हैं.

चीनी वैज्ञानिकों ने बाद में कोरोनोवायरस की एक नई नस्ल की पहचान की जिसे 2019-nCoV प्रारंभिक पदनाम दिया गया था,

इस नए वायरस में कम से कम 70 प्रतिशत वही जीनोम अनुक्रम पाए गए जो सार्स-कोरोनावायरस में पाए जाते हैं.

संक्रमण का पता लगाने के लिए एक विशिष्ट नैदानिक पीसीआर परीक्षण के विकास के साथ कई मामलों की पुष्टि उन लोगों में हुई जो सीधे बाजार से जुड़े हुए थे और उन लोगों में भी इस वायरस का पता लगा जो सीधे उस मार्केट से नहीं जुड़े हुए थे, लेकिन अभी स्पष्ट नहीं है कि यह वायरस सार्स जितनी ही गंभीरता या घातकता का है अथवा नहीं,

Read More – Epigraphy me career kaise banaye

 

History of 2019 novel coronavirus – कोरोना वायरस से जुड़े इतिहास की सत्य बाते:

कोरोनावायरस का पहली बार वर्ष 1931 में वर्णन किया गया था, जिसमें पहला कोरोनावायरस (HCoV-229E) 1965 में मनुष्यों में पाया गया था, 2002 के अंत में गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम का प्रकोप होने तक, केवल दो ह्यूमन कोरोनावायरस (HCoV) ज्ञात थे – पहला HCoV-229E और HCoV. -OC43

एक बार SARS कोरोनावायरस (SARS-CoV) की पहचान हो जाने के बाद, मानव में कोरोनावायरस की पहचान की गई.

1. SARS का पूर्ण रूप – Severe Acute Respiratory Syndrome

2. वर्ष 2002 में SARS का पहला केस सामने आया.

3. यह चीन के गुआंगडोंग प्रोविंस से आया.

4. 8000 से ज़्यादा लोगों में फैला,

5. और इस वायरस की वजह से लगभग 750 से ज़्यादा लोगों की जान गई है,

ये कोरोनावायरस जानवरों से इंसानों तक पहुंचा ऐसा कुछ रिसर्च से पता लगा है. पक्का तो नहीं बता सकते, लेकिन रिसर्च के अनुसार अंदाज़ा ये है कि ये चमगादड़ों से बिल्लियों में पहुंचा और वहां से इंसानों में. बाद में मुख्य रूप से ये इंसानों से इंसानों में फैला. क्योंकि यह वायरस बहुत तेज और सुर्खिला है.

1. MERS का पूर्ण रूप – Middle East Respiratory Syndrome

2. वर्ष 2012 में MERS का पहला केस सामने आया.

3. यह सऊदी अरब से आया है (इसलिए इसे मिडल-ईस्ट नाम पड़ा),

4. यह 2000 से ज़्यादा लोगों में फैला है.

5. इस वायरस के वजह से 600 से भी ज़्यादा लोगों की जान गई है,

रीसर्च के के अनुसार यह वायरस चमगादड़ों में भी मिला है. और ऐसा समझा गया कि ये MERS वायरस चमगादड़ों से ही आया था.

 

नोवेल कोरोनावायरस का इतिवृत्त (History of 2019 novel coronavirus):

जब अनुसंधान मानव कोरोनवायरिस के रोगजनकता और महामारी विज्ञान का पता लगाने के लिए आगे बढ़ रहा था, तब पशु कोरोनवायरिस की संख्या और महत्व तेजी से बढ़ रहा था, कोरोनवायरस का वर्णन किया गया था जो कि चूहों, मुर्गियों, टर्की, बछड़ों, कुत्तों, बिल्लियों, खरगोशों और सूअरों सहित कई जानवरों की प्रजातियों में बीमारी होती है. लेकिन यह वायरस केवल उन तक सीमित नहीं थे, अनुसंधान जो श्वसन संबंधी विकारों पर केंद्रित थे, अध्ययन के बाद जठरांत्र, हेपेटाइटिस और चूहों में एन्सेफलाइटिस जैसे विकार शामिल थे; चूहों में न्यूमोनाइटिस और सियालोडैक्रायोएडेनाइटिस; और बिल्लियों में संक्रामक पेरिटोनिटिस, ब्याज विशेष रूप से माउस हेपेटाइटिस वायरस और बिल्लियों में संक्रामक पेरिटोनिटिस वायरस द्वारा उत्पादित पेरिटोनिटिस द्वारा निर्मित एन्सेफलाइटिस के क्षेत्रों के बारे में पता लगा था.

इन रोग के रोगजनन विभिन्न और जटिल थे, यह दर्शाता है कि एक पूरे के रूप में जीन रोग तंत्र की एक विस्तृत विविधता के लिए सक्षम था. (Novel Corona Virus ka Itihas – 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास)

कोरोनावायरस के तीन समूह मौजूद हैं: समूह 1 (HCoV-229E और HCoV-NL63), समूह 2 (HCoVOC43 और HCoV-HKU1), समूह 3 (अभी तक कोई मानव CoVs नहीं), SARS-CoV तीनों समूहों के लिए एक अलग जगह है, हालांकि कुछ इसे समूह 2 में रखते हैं.

नोट — दोस्तों आपके जानकारी के लिए बता दे की, यह उपयुक्त माहिती का उपयोग हो सके तो एक ही बार में सभी उपाय न करें, और अच्छे चिकित्सक और WHO से सहायता लें,

Read More – History me career kaise banaye

 

Novel Coronavirus se bachane ke Gharguti totake aur tarike:

दोस्तों आपके जानकारी के लिए बता दे की अगर सँँनिटाइज़र ना मिले या फिर ख़त्म हो जाये तो सँँनिटाइज़र के रूप में आप फिटकरी का इस्तेमाल कर सकते है. यह ”फिटकरी (तुरटी)” में पारंपारिक (हाइड्रेटेड पोटेशियम अल्युमिनियम सल्फेट) की तुलना में अधिक फायदेमंद है. (K2SO4.AI2(SO4)3.24H2O) इस सयुग को हिंदी में ”फिटकरी” कहा जाता है. अगर इसका इस्तेमाल आप अपने पिने के पानी और नहाने के पानी में करते है तो कोई भी वायरस आपके शरीर पर नहीं टिक सकता,

कोरोना घातक वायरस के प्रसार को रोकने के लिए, हमारी भारतीय संस्कृति, धर्मशास्त्र और आयुर्वेद विज्ञान ने भी कहा है कि होमोलॉजी अग्निहोत्र की तरह है. कुछ उचित आशा के तरल पदार्थ और दवाओं को आग में डालकर, उनका धुआं वायु में मौजूद दूषित पदार्थों को नष्ट करके वातावरण को शुद्ध कर देता है. वातावरण निष्फल और सकारात्मक ऊर्जा हर जगह महसूस की जाती है.

 

Novel Coronavirus

इसलिए यदि आपको और आपके आस-पास के परिसर को सकारात्मक ऊर्जा से आच्छादित करना है तो, इसके लिए यह सामग्री का चयन करे,

1. बेलपत्र, (बेल के पत्ते)

2. कडु निम्ब के पत्ते,

3. गुग्गुल (धूप)

4. अखंड चावल

5. गाय का घी,

6. पीली सरसों, आदि

यह सभी द्रव्यमान एकजुट करके और सुके हुए गाय के गोबर को जलाकर धुप बनाये और वातावरण तथा अपने परिसर में सकारात्मक ऊर्जा तैयार करे, यह सिर्फ सकारात्मक उर्जा उत्पन करने में सहायता प्रदान करता है. लेकिन इस वायरस से बचने के लिए कृपया होम कोरोनटाइन में रहे. और सरकार द्वारा बताये सूचनाओ का पालन करे.

अर्थात्, कोई भी जीवित, अदृश्य प्राणी, रोगाणु, बैक्टीरिया, वायरस, अन्य जीव, सूक्ष्म जीव, अन्य शक्तियां, पृथ्वी, आकाश और रसातल में कहीं भी रहना, किसी के भी नाम से संरक्षित किसी को भी नुकसान पहुंचा सकता है. इसीलिए सावध और सतर्क रहे,

नोट : दोस्तों फिर से आपकी जानकारी के लिए बता दे रहे है की किसी भी अफवाओं पर विश्वास ना करे और सही राह और सही चिकित्सक और डॉक्टर की सलाह जरूर लें, और हर एक व्यक्ति से दुरिया बनाये रखे.

 

अवलोकन:

Overview:- Novel Corona Virus ka Itihas – 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास (Novel Coronavirus se bachane ke Gharguti totake aur tarike).

Name:- Novel coronavirus se bachne ke gharguti upay,

How does it spread:- कोरोना पेसेंट के खांसी, छींक से, या फिर एक दूसरे के संपर्क से.

Come from:- China.

Resource – https://www.sciencedirect.com/topics/neuroscience/coronavirus
Resource – https://www.thelallantop.com/

 

Search Keyword:-

1. Novel coronavirus se bachne ke gharguti upay,
2. कोरोना वाइरस से बचने के घरगुती उपाय,

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Novel Corona Virus ka Itihas – 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

2 thoughts on “Novel Corona Virus ka Itihas – 2019 नोवेल कोरोनावायरस का इतिहास”

    • हमारा लेख पढ़ने के लिए आपका तह दिल से धन्यवाद, आप इस इनफार्मेशन को जनसमुदाय तक जरुर शेअर करे.

      Reply

Post Comments

error: Content is protected !!