Tachometer ka parichay kaise kare – टैकोमीटर का उपयोग कैसे करे

टैकोमीटर का परिचय कैसे करे, Tachometer ka parichay kaise kare, टैकोमीटर का अर्थ क्या है. Tachometer ka mahtv. टैकोमीटर का उपयोग कहा होता है, Tachometer ki paribhasha Kya Hai, टैकोमीटर के प्रकार क्या है?

Tachometer ka parichay kaise kare - टैकोमीटर का उपयोग कैसे करे

 

टैकोमीटर का उपयोग कैसे करे – Tachometer ka parichay kaise kare :-

Tachometer ka Upyog Kaise kare:- नमस्कार दोस्तों, लंबे समय के बाद आज फिर आपके लिए ऑटोमोबाइल तंत्रज्ञान के संबंधित लेख प्रकाशित करने जा रहे है. उम्मीद है की आप इस लेख को भी उतना ही पसंद करेंगे, जितना पहले के लेख को पसंद किया. क्योंकि हमारा यही प्रयास है की आप तक सही और बेहतर जानकारी पंहुचा सके.

दोस्तों, क्या आप ऑटोमोबाइल में use होने वाले Tachometer के बारे में जानते है? क्या आप टैकोमीटर का उपयोग जानते है? टैकोमीटर के प्रकार क्या है? क्या आप टैकोमीटर के बेसिक महत्व जानते है? या फिर टैकोमीटर के बारे में जानना है तो आप सही आर्टिकल पढ़ रहे हैं. जी हां दोस्तों आज के इस लेख में, हम आपको टैकोमीटर के बारे में विस्तार से बताएंगे, और जानेंगे की कैसे इंजन कार्य गति को टैकोमीटर गणना करता है.

टैकोमीटर के प्रकार और उसके उपयोग के बारे में जानने से पहले आपको टैकोमीटर के महत्व और परिचय से वाकिब होना जरुरी है. इसलिए सबसे पहले हम टैकोमीटर का परिचय कराते है.

 

टैकोमीटर का परिचय:

वाहन के डैशबोर्ड पर, चालक की सीट पर इंजन की गति या RPM निर्धारित करने के लिए टैकोमीटर प्रदान किया जाता है जब वाहन गति में हो या इंजन स्थिर अवस्था में बंद हो,

इसका उद्देश्य आर्थिक रूप से सस्ती रेंज में ड्राइवर इंजन की गति को बनाए रखना है.

Read More – Automobile Vehicle Dashboard ki Jankari

 

टैकोमीटर क्या है?

Tachometer एक उपकरण है जिसका उपयोग किसी भी घूमने वाले body के RPM या revolution प्रति मिनट को मापने के लिए किया जाता है. टैकोमीटर संपर्क आधारित या गैर-संपर्क वाले हो सकते हैं. गैर-संपर्क या संपर्क-कम ऑप्टिकल टैकोमीटर आमतौर पर किसी भी body के रोटेशन की निगरानी के लिए लेजर या इन्फ्रारेड बीम का उपयोग करते हैं. यह एक रोटेशन के समय की गणना करने के लिए उपयोग किया जाता है.

टैकोमीटर यह एक इलेक्ट्रिकल या फिर इलेक्ट्रॉनिक सिस्टिम पर कार्य करने वाला यंत्र है जो इंजिन कार्य गति को मापन करता है. यह मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है. पहला डिजिटल टाइप और दूसरा एनॉलॉग टाइप,

 

एनॉलॉग टाइप टैकोमीटर:

एनॉलॉग टाइप टैकोमीटर में अन्य इलेक्ट्रिक मुव्हिंग Coil मेझरिन्ग मीटर जैसे डायल गेज पर 1 से 12 तक या फिर 12 से आगे स्थिर अंक रीडिंग दर्शाने ने के लिए होते है. डायल गेज के निचले हिस्से पर एक योग रिंग होती है और इस योग रिंग पर परमानेंट मैगनेट होता है और चुंबकीय क्षेत्र में एक आर्मेचर पर पिव्होट से स्पायरल हेअर स्प्रिंग के साथ फिक्स किया होता है. जिसे स्प्रिंग के सहारे आर्मेचर कॉइल को सप्लाई किया जाता है.

आर्मेचर शाफ़्ट के उप्परी हिस्से पर एक पॉइंटर लगा होता है. जो टैकोमीटर के माध्यम से कार्य को अंजाम देने के लिए पेट्रोल इंजिन में इग्निशन कॉइल से होते हुए हाय वोल्टेज प्रवाह के साथ उसका रूपांतर CDI या फिर ECU यूनिट के इलेक्ट्रॉनिक सर्किट के माध्यम से लो वोल्टेज डी. सी. में किया जाता है.

यह कम वोल्टेज डीसी मोटर से टैकोमीटर के आर्मेचर को प्रदान किया जाता है. इंजन की गति के कारण, इग्निशन कॉइल से आर्मेचर का प्रवाह आर्मेचर के चारों ओर एक चुंबकीय क्षेत्र बनाता है.

दोस्तों आपके जानकारी के लिए बता दे की आर्मेचर के चारों ओर का चुम्बकीय क्षेत्र और स्थित चुम्बकीय क्षेत्र इसका परिणाम स्वरूप आर्मेचर में डिफ्लेक्टिंग टॉर्क निर्माण होता है. और इससे आर्मेचर खुद के चारों ओर घूमने लगता है. लेकिन स्पायरल हेअर स्प्रिंग के माध्यम से कंट्रोलिंग टॉर्क निर्माण होता है. जिससे पूर्णतः गोलाकार स्तिथि में न घूमते हुए एक विशिष्ट स्थिति पर घूमने लगता है. और यही स्थिति उसपर लगे पॉइंटर के माध्यम से डायल पर रीडिंग दिखाती है.

डायल गेज के ऊपर दी गई रीडिंग यह मल्टी रेंज होती है. और यह डायल गेज के पॉइंटर के माध्यम से इंजिन का आरपीएम Measurement करती है.

 

डिजिटल टाइप टैकोमीटर:

दोस्तों आपके जानकारी के लिए बता दे की एनॉलॉग टैकोमीटर से रीडिंग मेझर करते समय बहुत ही सावधानी जरुरी होती है क्योंकि इस टैकोमीटर से अधिकतर मिस्टेक होती रहती है. इसलिए वर्तमान युग में ऑटोमोबाइल टू व्हीलर और फोर व्हीलर में डिजिटल टाइप टैकोमीटर का इस्तेमाल होता है.

इलेक्ट्रिक पल्स सिग्नल एक डिजिटल टैकोमीटर के कामकाज के लिए पेट्रोल इंजन वाहन में एक टर्मिनल के माध्यम से इग्निशन कॉइल से माइक्रो कंप्यूटर तक पहुंचाया जाता है. और इसी माइक्रो कंप्यूटर से, इंजन के दो Revolution पूरा होने के लिए लगने वाले प्ररूपी समय की गणना करता है. इस परिवर्तित इंजन की गति को RPM के रूप में जाना जाता है.

डिजिटल टैकोमीटर यह माइक्रो कंप्यूटर के इंटरनल ब्राइटनेस एडजेस्टमेंट सर्किट के साथ जुड़ा हुआ होता है. इसमें विविध पांच सेगमेंट्स होते है जो हर समय अलग-अलग लाइट की गति को टैकोमीटर सेगमेंट के स्क्रीन पर दर्शाता है. शुरुआत के समय में इंजिन सिगमेंट स्लो स्पीड व्यक्त करता है. (Tachometer ka parichay aur upyog kaise kare)

जिस समय सेगमेंट की गति अधिक होती है उस समय बाद बढ़ते गति के अनुसार क्रम से जुड़े अन्य सेगमेंट की तीव्रता कम होती है. RPM रीडिंग के समय स्क्रीनपर दिखाए गए अंक 100 या 1000 से गुणांक करने पर एक्यूरेट इंजन RPM मिलता है.

Tachometer ka parichay kaise kare - टैकोमीटर का उपयोग कैसे करे

नोट: डिझेल इंजिन कार या फिर डिझेल इंजिन वेहिकल इंजिन फ्लायव्हील पर स्थित इंजिन स्पीड सेंसर से ECU तक और फ्लायव्हील के आरपीएम से रिलेटेड संदेश दिया जाता है. और इस संदेश के अनुसार ECU से टैकोमीटर कार्य करता है.

 

टैकोमीटर का उपयोग कैसे करे:

1. टैकोमीटर का उपयोग करके चालक प्रत्येक गियर पर इंजन और पहिया की गति के बीच संबंध को समझना शुरू कर सकता है और स्थानांतरण करते समय अगले गियर परिवर्तन के लिए इंजन की गति को अधिक उचित रूप से मिलान कर सकता है.

2. जिस गति से गियर को शिफ्ट किया जाता है उसी गति से सड़क की गति को कम किया जाता है, क्योंकि गियर तेज होता है इसलिए इंजन की गति कम होनी चाहिए,

3. जब शिफ्टिंग को रेव मैचिंग के रूप में जाना जाता है, तो प्रत्येक गियर पर सड़क की गति के साथ संरेखित करने के लिए इंजन की गति का उपयोग करना जरूरी है.

4. विशेषज्ञ चालक तेजी से वाहन की गति को अपशिफ्ट और डाउन शिफ्ट के रूप में मिलान कर सकते हैं, ताकि पहियों को बहुत सुचारू रूप से स्थानांतरित किया जा सके,

5. यदि वे कर्षण की सीमा पर पहले से ही टायरों के साथ कठोर रूप से स्थानांतरित हो जाते हैं, तो वे वाहन का नियंत्रण खो सकते हैं.

 

टैकोमीटर की विशेषताएं:

A. यह 20k से अधिक RPM को माप सकता है,

B. सेंसर रेंज 7 ~ 8 सेमी तक फैली हुई होती है.

C. निष्क्रिय होने पर अधिकतम RPM प्रदर्शित करता है.

D. “आइडल” से “रीडिंग” तक स्वचालित रूप से टॉगल मोड,

E. परिवेश प्रकाश की स्थिति से मेल खाने के लिए समायोजित किया जा सकता है.

F. यह तुलनात्मक रूप से सस्ता और बनाने में आसान है.

G. बिना एलसीडी के काम कर सकते हैं.

H. प्रोग्राम करने योग्य और अनुकूलन का समर्थन करता है.

 

Author by: Savi

 

Inspection supervision:

Overview:- Tachometer ka parichay Kaise Kare – Automobile me Tachometer ka Parichay.

Name- टैकोमीटर का उपयोग कहा होता है, (Tachometer ka parichay Kaise Kare – टैकोमीटर का महत्व और अर्थ)

Use:- Automobile Engine Work speed,

Type of Tachometer:- Contact and non-contact, Digital and analog-type tachometer, Handheld and Panel Mount Tachometer

Search Keyword:-
1. टैकोमीटर का उपयोग,
2. Automobile me Tachometer ka Upyog in Hindi,

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. आरटीओ में करियर कैसे बनाये

2. दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बेस्ट उपाय

3. फास्टैग के लिए आवेदन कैसे करे

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Tachometer ka parichay kaise kare – Automobile me Tachometer ka Upyog और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

Post Comments

error: Content is protected !!