Chassis Kya Hai iske bare me jankari – चेसिस का परिचय और जानकारी

चेसिस क्या है. Chassis Kya Hai iske bare me jankari, चेसिस का उपयोग कैसे करे (Uses of Chassis), चेसिस के प्रकार कितने होते है (Chassis ke prakar kitane hai), ऑटोमोबाइल चेसिस का आविष्कार, ऑटोमोबाइल चेसिस का परिचय और जानकारी.

Chassis Kya Hai iske bare me jankari - चेसिस का परिचय और जानकारी

 

Chassis Kya Hai Iske bare me jankari – चेसिस का परिचय और जानकारी:

नमस्कार दोस्तों, लंबे समय के बाद, आज फिर आपके लिए ऑटोमोबाइल टेक्नोलॉजी से संबंधित एक लेख प्रकाशित करने जा रहे हैं, उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल उतना ही पसंद आएगा, जितना कि आपको पहले वाला आर्टिकल पसंद आया होगा, क्योंकि यह हमारी कोशिश है कि आपको सही और बेहतर जानकारी मिले,

दोस्तों, क्या आप ऑटोमोबाइल में उपयोग होने वाले चेसिस के बारे में जानते है, क्या आप चेसिस के उपयोग के बारे में जानते है, क्या आप चेसिस के प्रकार जानते है? और क्या आप चेसिस के महत्व और चेसिस के अन्दर फिट होने वाले जनरल असेम्बली और मेजर असेंबली के बारे में जानते है, अगर नहीं जानते और जानना चाहते है तो आप सही आर्टिकल पढ रहे है. जी हाँ दोस्तों आज के इस लेख में, हम आपको चेसिस के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे, और जानेंगे की कैसे चेसिस बहुत ही जरुरी और लाभकारी होती है.

 

ऑटोमोबाइल का परिचय:-

दोस्तों, चेसिस के बारे जानने से पहले आपके जानकारी के लिए बता दे की ऑटोमोबाइल का एक्चुअल अर्थ क्या होता है? ऑटोमोबाइल यह शब्द एक अंग्रेजी शब्द से बना है और यह दो शब्दों के श्रृंखला से मिलकर बना है, ऑटो का मतलब है अपने आप में शक्ति शाली, और मोबाइल का मतलब है, साथ चलने वाला, यानी एक ऐसी मशीन जो सड़क पर अपनी शक्ति से चल सके, उसे ऑटोमोबाइल कहते है,

Read More – Accident Chassis Repair kaise kare

 

ऑटोमोबाइल वाहनों का अविष्कार:-

दोस्तों, आप में से कई लोग शायद जानते होंगे की, निकोलस जोजफ सर ने सबसे पहले एक स्टीम इंजन से चलने वाली 3 पहिये वाली गाड़ी का आविष्कार फ्रांस में सन 1760 में किया था. जिसकी स्पीड बहुत ही कम माने तो 3 किलोमीटर प्रति घंटा थी. इसके काफी समय बाद 4 पहियों वाली गाड़ी सर एवन ने 1805 में बनाई, और फिर स्टीम से चलने वाली गाडिया बनाने लगे,

फिर कुछ समय पछात एक जर्मन नागरिक डेमलर बेनज्स ने स्टीम इंजन के बदले फोर स्ट्रोक पेट्रोल इंजन लगाकर गाड़ी बनाई, और इसी तरह फ्रांस की दो कंपनीयो ने भी गाड़िया बनाना शुरु की जिसका नाम है, रोनाल्ट और पिगाट और अमेरिका के सर हेन्नेरी फोर्ड ने फोर्ड मोटर्स की स्थापना की, और बहुत सी गाड़िया बनाई, और इसी तरह से अपने भारत में भी नई नई गाड़िया बनाने का काम सुरू हुआ,

मित्रों, इस तरह हमारे ऑटोमोबाइल क्षेत्र में एक नई क्रांति आई और फिर एक दिन ऐसा आया कि यह ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री (IDEF) एक नामांकित उद्योग बन गया. लेकिन दोस्तों, हर व्यक्ति इसके आविष्कार के बारे में सार्वजनिक है, लेकिन क्या आप में से कोई भी इस बात से अवगत है कि इस बड़ी मशीन यानी वाहन को बनाने के लिए, चेसिस बेहत महत्वपूर्ण होता है. और आज के लेख में हम इस बारे में ही विस्तृत जानकारी देने जा रहे हैं. आशा है आपको पसंद आएगी, तो चलिए जानते हैं कि चेसिस क्या है.

 

चेसिस के बारे में जानकारी:-

दोस्तों शायद आप जानते होंगे की, अगर किसी भी गाड़ी की बॉडी को गाड़ी से अलग कर दिया जाये तो निचे के बचे भाग को चेसिस कहते है. चेसिस भी अपने शक्ति से सड़क पर चल सकती है, क्योंकी इस चेसिस के अन्दर सभी जनरल असेंबली और मेजर असेम्बली लगी होती है, आप इसका एक अच्छा उदाहरण टाटा ट्रक में देख सकते है, जो सिर्फ ड्राईवर सिट लगाकर इस चेसिस को चलाते है, और तो और मारुती ओमनी व्यान की बॉडी को भी अलग करके देखा जा सकता है.

 

चेसिस के अन्दर लगने वाले भाग:-

1. चेसिस फ्रेम (chassis frame)

2. ट्रांसमिशन सिस्टम (Transmission system)

3. सस्पेंशन सिस्टम (Suspension System)

4. फ्रंट एक्सेल (Front Axel)

5. रियर एक्सेल (Rear Axel)

6. स्टियरिंग सिस्टम (Steering System)

7. इंजन (Engine)

8. फ्यूल सिस्टम (Fuel System)

9. एग्जॉस्ट सिस्टम (Exhaust System)

10. कुलिंग सिस्टम (Cooling System)

11. इलेक्ट्रिकल सिस्टम (Electrical System)

12. ब्रेक सिस्टम (Brake System)

 

चेसिस के प्रकार:-

1. फुल फारवर्ड चेसिस (Full Forward Chassis)

2. सेमी फारवर्ड चेसिस (Semi Forward chassis)

3. बस चेसिस (Bus Chassis)

 

फुल फारवर्ड चेसिस (Full Forward Chassis):

फुल फारवर्ड चेसिस यह वो चेसिस होती है, जिनमे इंजन ड्राइवर केबिन के बाहर या फिर सिट के बाहर लगे होते है, इस तरह के चेसिस से, ड्राइवर सामने वाले पहिये से काफी पीछे की तरफ बैठते है, और इसी कारण से ड्राइवर की नजर इंजन के बोनट और पहिये में लगे गार्ड से लगने के कारण गाड़ी आगे की तरफ की सडको पर नहीं होती है. और इसी कारण से, गाड़ी के पहिये की गार्ड को अगल से आगे की और स्लोप दी जाती है,और चेसिस का काफी सारा भाग जिसमे इंजन लगा होता है, ओ किसी और काम में नहीं आता, इस तरह के चेसिस को फुल फारवर्ड चेसिस कहते है, उदाहरण के तौर पर कारों में और ट्रकों में लगा होता है.

 

सेमी फारवर्ड चेसिस (Semi Forward chassis):

दोस्तों आपको मालूम हो न हो, लेकिन मैं आपको एक बात बताना चाहूँगा की, सेमी फारवर्ड चेसिस इसमें आधा इंजन ड्राइवर के केबीन में होता है, और आधा इंजन ड्राइवर केबिन के बाहर निकला हुआ होता है, इस तरह के चेसिस में ड्राइवर अच्छी तरह से सड़क की और नजदीक से देख सकता है, और इस तरह के चेसिस में फ्लोर के तरफ काफी अधिक मात्रा में जगह बढ़ जाती है, जिसके कारण ड्राइवर को गाड़ी चलने में बहुत असानी होती है. और गाड़ी चलने में किसी दिक़्क़तों का सामना नहीं करना पड़ता, उदाहरण के तौर पर, पिक-अप और टाटा ट्रक,

 

बस चेसिस (Bus Chassis):

इस तरह के चेसिस में ड्राइवर काफी नज़दीक से सड़क की और पहिये की तरफ देख सकता है, इसमें इंजन ड्राइवर कम्पार्टमेंट में ही लगा रहता है, जिसके कारण फ्लोर में काफी जगह बढ़ जाती है, और इसी कारण वश बस ड्राइवर के पास दो से तिन लोगो की बैठने की जगह बढ़ जाती है,

 

चेसिस के फायदे:-

1. इंजन फिटिंग के अनुसार ही चेसिस के फायदे क्या हो सकते है यह पता चलता है,

2. चेसिस में आगे की और लगा हुआ इंजन.

3. इंजन के साथ क्लच, गियर बाक्स इंजन के साथ ही लगा रहता है,

4. गाड़ी का पूरा वजन गाड़ी के पहियों पर पूरा बराबर मात्रा में बाँटा जाता है ,

5. पिछली सिट के पीछे सामान रखने के लिए काफी जगह मिल जाती है,

6. इस तरह की गाड़ियों में रेडियेटर आगे की और फिट किया रहता है, जिससे कुलिंग सिस्टम की क्षमता बढ़ जाती है,

7. इस सिस्टम के कारण स्टीयरिंग व्हील को घुमने के लिए जगह मिल जाती है,

8. इंजन आगे की और लगे रहते है इस कारण पहिये ड्राइव दोनों तरफ दे सकते है.

9. चेसिस वाहन में बैलेंसिंग बनाये रखता है.

दोस्तों यह कुछ निम्न चेसिस के बारे में जानकारी जो आपने इस लेख के माध्यम से जाना है. उम्मीद है की यह लेख आपके लिए लाभकारी हो, दोस्तों जल्द ही हम एक्सीडेंट के बाद चेसिस की दुरुस्ती और मेंटेनेंस कैसे करे इसके बारे में लेख प्रकाशित करेंगे, तो हमारे साथ जुड़े रहे.

 

Author By: Prashant

 

Inspection supervision:

Overview:- Chassis Kya Hai iske bare me jankari – चेसिस का परिचय और जानकारी (Automobile me chassis ka Upyog)

Name- चेसिस का उपयोग, (Chassis ka parichay Kaise Kare – चेसिस का महत्व और अर्थ)

Use:- Automobile,

Material:- Aluminum, Still, alloy metal,

Search Keyword:-
1. चेसिस का उपयोग कैसे करे,
2. Automobile me Chassis ka Upyog in Hindi,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. आरटीओ में करियर कैसे बनाये

2. दुर्घटनाओं को रोकने के लिए बेस्ट उपाय

3. फास्टैग के लिए आवेदन कैसे करे

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Chassis Kya Hai iske bare me jankari – Automobile me Chassis ka Upyog और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

2 thoughts on “Chassis Kya Hai iske bare me jankari – चेसिस का परिचय और जानकारी”

Post Comments

error: Content is protected !!