Types of Leaf Spring – लीफ स्प्रिंग के प्रकार kitane hai

लीफ स्प्रिंग और उसके प्रकार leaf spring aur prakar, लीफ स्प्रिंग की जानकारी (leaf spring ki jankari), लीफ स्प्रिंग का परिचय कैसे करे, लीफ स्प्रिंग का महत्व. Types of Leaf Spring सस्पेंसन सिस्टम की पूरी जानकारी पढ़िए हिंदी में.

Types of Leaf Spring - लीफ स्प्रिंग के प्रकार

 

Types of Leaf Spring – लीफ स्प्रिंग के प्रकार:

ऑटोमोबाइल के गाडियों में प्रयोग होने वाले लीफ स्प्रिंग (leaf spring) के बारे में अधिक जानकारी? लीफ स्प्रिंग के प्रकार (Types of Leaf Spring) इसके बारे में अधिक जानकारी, क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Quarter Elliptical Spring) के बारे में जानकारी, थ्री क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Three Quarter Elliptical Spring) के बारे में जानकारी, फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग (Full Elliptical Spring) के बारे में पूरी जानकारी पढने के लिए जरुर पढ़े, जी हा दोस्तों आज के इस लेख में, हम आपको लीफ स्प्रिंग के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे.

क्योंकि यह बेहतर है और एक चालक को अपने वाहन के सभी प्रकार के सिस्टम का कार्य और ज्ञान प्राप्त हो, यह हमारी टीम का प्रयास है. तथा आप तक सभी ऑटोमोबाइल प्रणालियों का अधिकार और ज्ञान प्राप्त हो, तो आइये आज के लेख में सस्पेंसन सिस्टम की जानकारी प्राप्त करेंगे.

 

लीफ स्प्रिंग (leaf spring) का परिचय:

लीफ स्प्रिंग स्टील के पट्टियों के बने होते है, यह पट्टिया सारी एकदूसरे के साथ बंधे होते है. इन लीफ पट्टे के साइड पर V CLAMP Clip के व्दारा एक-दूसरे को जकड़े रखते है, जिसके कारण इनकी पोजीशन जैसे की वैसी बनी रहती है.

उपर वाले लीफ को मेन लीफ स्प्रिग कहते है, इस मेन लीफ को साइड की और से गोल घुमाया जाता है, जिसे हम eye hole भी कहते है. इस ऑय होल के अन्दर एक ब्रोंज का बुश लगा रहता है. और स्प्रिंग पिन के अन्दर होल करके ग्रीस गन के द्वारा इस बुश को लुब्रीकेंट्स किया जाता है.

इस लीफ स्प्रिंग में पाच से लेकर साथ पट्टे लगाते है, इन सारे पट्टे को आपस में जोड़ने पर इन्हें लीफ स्प्रिंग असेंबली कहते है, इनको बाधने का काम सेण्टर में यू बोल्ट द्वारा किया जाता है, और दूसरा हिस्सा शेकल से बांधा जाता है, दोस्तों आपको मालूम होंगा की टाटा की गाड़ी में लीफ स्प्रिंग असेंबली को V CLAMP लगे हुए होते है, और दूसरी लीफ को मेन लीफ के उपर मरोड़ दिया जाता है.

Read this too: सस्पेंसन सिस्टिम का मेंटेनन्स
Read this too: लीफ स्प्रिंग का रखरखाव कैसे करें

इस स्प्रिंग को सेकंड हेल्पर लीफ स्प्रिंग भी कहते है. क्योंकि यह लीफ मेन लीफ की मदत करता है. पुराने वाहनों में, आपको लीफ स्प्रिंग की असेंबली दिखाई देगी, लेकिन नए वाहनों में इस तरह के पांच-पत्ते वाले और सात-पत्ते वाले स्प्रिंग असेंबली देखने को नहीं मिलेगी, क्योंकि आधुनिक वाहनों की नई तकनीक में उन्नत तकनीक की मदद से ये पत्तो को कम कर दिया गया है, और मारुति कार के अंदर समान पत्ती स्प्रिंग का उपयोग किया गया है.

 

लीफ स्प्रिंग के प्रकार (Types of Leaf Spring):-

1. सेमी एलिप्टीकल स्प्रिंग (Semi Elliptical Spring)

2. क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Quarter Elliptical Spring)

3. थ्री क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Three Quarter Elliptical Spring)

4. ट्रान्सवर्स एलिप्टीकल स्प्रिंग (Transverse Elliptical Spring)

5. फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग (Full Elliptical Spring)

 

सेमी एलिप्टीकल स्प्रिंग (Semi Elliptical Spring):-

सेमी एलिप्टीकल स्प्रिंग (Semi Elliptical Spring) इस तरह की लीफ स्प्रिंग भारत और विदेशो में बनी तक़रीबन सभी गाडियों में उपयोग में लाये जाते है. सबसे पहले यह मोटर कारो में आगे की साइड, और पीछे की साइड दोनों ओर लगाकर इसका प्रयोग किया करते थे, लेकिन आज कल तो सिर्फ और सिर्फ पिछले एक्सेल पर ही इन लीफ स्प्रिंग को फिट किया जाता है, और सामने की और लीफ स्प्रिंग के जगह इंडिपेंडेंट सस्पेंशन सिस्टम का प्रयोग किया जाता है.

लेकिन इसका मतलब ये नहीं की इनका उपयोग कम हो गया हो, भारी और हैवी गाडियों में इनका उपयोग आज भी पहले जैसा ही करते है, जैसे की बस, ट्रक, और बड़े बड़े मशीनरी लोडिंग गाडियों में आगे और पीछे दोनों तरफ इसी टाइप के सेमी लीफ स्प्रिंग लगे होते है, जिसके कारण इस प्रकार के स्प्रिंग को फिट करने में स्प्रिंग एक्सेल की रेंज बढ़ी रहती है, इनकी लागत कम रहती है, और इसी वजह से यह सस्ती और आसानी से मिल जाती है. इसे रिपेयर करके फिर से इसका उपयोग भी कर सकते है, जिसके कारण यह आसानी से कई सालो तक टिकी रहती है, और काफी समय तक चलती रहती है.

Read More – Suspension system ki servicing kaise kare

 

क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Quarter Elliptical Spring):-

दोस्तों शायद आप जानते होंगे की क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Quarter Elliptical Spring) का उपयोग पुराने ज़माने के छोटी कारो के अन्दर किया जाता था. इस तरह के स्प्रिंग सामने की एक्सेल और पीछे की एक्सेल के बिच में फिट किया करते थे, जैसे की आपने देखा होंगा की क्रॉसले कारो में इनका उपयोग किया करते है. इसमें आधा स्प्रिंग उल्टा फिट किया जाता है, और उसे किसी बोल्ट के द्वारा चेसिस फ्रेम से बांध दिया जाता है. जब गाड़ी सड़क पर चलने लगती है, तब यह अपना कार्य बड़ी आसानी से पूरा करती रहती है.

 

थ्री क्वार्टर एलिप्टीकल स्प्रिंग (Three Quarter Elliptical Spring):-

इस तरह के स्प्रिंग हाफ राउंड शेप में होते है, यह स्प्रिंग अपना कार्य करते ही रहते है, इस तरह का स्प्रिंग बनाने के लिए इन्हें दो अलग-अलग लीफ पट्टे का सहारा लेना पड़ता है, इसमें सेमी एलिप्टीकल और क्वार्टर एलिप्टीकल इन दोनों को मिलाकर बनाया जाता है, यह भी औरो की तरह सस्पेंशन का कार्य बढ़ी आसानी से करती है.

 

ट्रान्सवर्स एलिप्टीकल स्प्रिंग (Transverse Elliptical Spring):-

इस तरह के ट्रान्सवर्स एलिप्टीकल स्प्रिंग के अन्दर स्प्रिंग की एक ऑय एक्सेल से जुडी रहती है, और चेसिस के साथ बोल्ट लगाया जाता है, इसकी दूसरी स्प्रिंग ऑय एक्सेल से जुडी रहती है, जब गाड़ी रस्ते पर चलती हो तब यह अपना कार्य बड़ी अच्छी तरह से कार्य करती है, और सड़क पर मिलने वाले झटके को बड़ी आसानी से अब्सोर्ब कर के यात्रियों को सुरक्षा प्रदान करती है, जिसके कारण यात्रियों को कई घंटो तक प्रवास करने में कोई तकलीफ नहीं होती.

 

फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग (Full Elliptical Spring):-

इस तरह के फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग इसके अन्दर दो सेमी एलिप्टीकल स्प्रिंग लगाये जाते है, यह राउंड शेप में अंडे के आकार का होता है, जैसा की आपने कभी साइकिल रिक्शा देखा होंगा, इस साइकिल रिक्शे के दोनों साइड के पहिये के उपर फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग लगाये जाते है, जिसके कारण यह रिक्शा प्रवास और माल ढोने के दोनों कार्यो में उपयोग में लाया जाता है, पर गाडियों में इस तरह के फुल एलिप्टीकल स्प्रिंग प्रयोग में नहीं लाया करते और इसका उपयोग भी नहीं करते.

 

Author by: Prashant

 

Inspection supervision:

Overview:- Types of Leaf Spring – लीफ स्प्रिंग के प्रकार (Leaf spring Suspension system ke fayde).

Name:- लीफ स्प्रिंग सस्पेंशन सिस्टम का उपयोग कैसे करे.

Benefits of Suspension system: वाहन का अधिक लोड सहन करना. आराम प्रदान करना,

Type of leaf spring: Semi Elliptical Spring, Quarter Elliptical Spring, Three Quarter Elliptical Spring.

Search Keyword:-
1. Leaf spring Suspension system ke prakar,
2. Leaf spring ki servicing kaise kare in Hindi,
3. लीफ स्प्रिंग का उपयोग कैसे करे,

 

READ MORE ARTICLE…

1. सस्पेंशन सिस्टम की जानकारी

2. सस्पेंशन सिस्टम के प्रकार

3. व्हील बैलेंसिंग कैसे करे

4. टायर की लाइफ कैसे बढ़ाये

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Types of Leaf Spring – Leaf spring ki servicing kaise kare और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद….

Post Comments

error: Content is protected !!