Tyre ki jankari – (Pneumatic Tyre) टायर की जानकारी Guide in Hindi

टायर के बारे में जानकारी. Tyre ki jankari, टायर किसे कहते है? A Tyre Kya Hai, टायर का उपयोग जानिए, solid Tyre kya hai, लोहे या फिर लकड़ी के पहिये की जानकारी, न्युमाटिक टायर का क्या उपयोग है, (Pneumatic Tyre ka kya upyog hai).

Tyre ke bare me jankari - टायर की जानकारी

 

Tyre ki jankari – (Pneumatic Tyre) टायर की जानकारी Guide in Hindi:

नमस्कार दोस्तों, लम्बे समय के बाद आज फिर आपके लिए ऑटोमोबाइल तंत्रज्ञान से संबंधित लेख प्रकाशित करने जा रहे है, उम्मीद है आप इस लेख को भी उतना ही पसंद करेंगे, जितना पहले के लेख को पसंद किया, क्योंकि हमारा यही प्रयास है की आप तक सही और बेहतर जानकारी पंहुचा सके.

दोस्तों, क्या आप ऑटोमोबाइल के गाडियों में प्रयोग होने वाले टायर (Tyre) के बारे में जानते है? क्या आप टायर का क्या मतलब होता है यह जानते है? सॉलिड टायर (Solid Tyre) के बारे में जानते है? क्या आप पहिये पर लगे लोहे की परत क्यों लगायी जाती है. यह जानते है? क्या आप टायर के अंदरूनी और बाहरी वाले हिस्से के बारे में जानते है? और क्या आप न्युमाटिक टायर के बारे जानते है? (Pneumatic Tyre), के बारे में जानते है? अगर नहीं जानते और जानना चाहते है तो आप सही आर्टिकल पढ रहे है. जी हाँ दोस्तों आज के इस लेख में, हम आपको टायर और रिम के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे, और जानेगे की कैसे टायर और रिम बहुत ही जरुरी और लाभकारी होती है.

 

टायर का परिचय:-

दोस्तों आप तो जानते ही होंगे की, पुराने ज़माने में लोहे के, या फिर लकड़ी के पहिये बनाते थे, और उसे बैलगाड़ी, हातगाडी, रथ के पहिये और मोटर गाडियों के पहिये में लगाकर प्रयोग में लाया जाता था. कुछ समय बाद इन पहियों पर लोहे की परत चढ़ा दी गई, गाड़िया जैसे जैसे प्रयोग में आ रही थी, वैसे ही, गाडियों में बैठें यात्रियों को पथरो के बिच में गाड़ी का पहिया आने से, झटके लगने लगे, इन झटको और वाइब्रेशन को रोकने के लिए इन पहियों पर सॉलिड रबर के बने रिंग चढायें गए, क्यूकी रबर थोडा नरम होता है.

इसलिए कुछ झटके कम हो गए, पर जैसे ही गाड़ी की स्पीड जादा बढायें यह झटके फिर आना सुरु हो गए और साथ ही साथ वाइब्रेशन, और आवाज भी आने लगी, कुछ समय बाद यह पहिये मोटर गाडियों में लगाना बंद कर दिए और छोटे बच्चो के गाडियों में लगाना सुरु किया गया.

 

न्युमाटिक टायर का प्रयोग (use of pneumatic Tyre):-

आपके जानकारी के लिए बता दे की, हमारे गाडियों में जो टायर लगे है यह सब न्युमाटिक टायर है, जो की सभी प्रकार की टू व्हीलर और फोर व्हीलर और इसी प्रकार की गाडियों में न्युमाटिक टायर ही प्रयोग में लाया जाता है. 1920 में पहली बार न्युमाटिक टायर का उपयोग किया गया और आज तक सभी प्रकार की मोटर गाडियों में यह टायर लगा हुआ है. आपको मालूम ही होंगा की, ऑटोमोबाइल सभी प्रकार की गाडियों में जो रिम होते है, इसी रिम के उपर वाले भाग में टायर लगाया जाता है. इसमें दो भाग होते है, एक भाग बाहर होता है, जिसे टायर कहते है, और दूसरा भाग जो अन्दर होता है.

उसे टयूब कहते है, इसी ट्यूब के अन्दर हवा भरी जाती है जिससे आपके गाड़ी का पूरा भार या वजन सहन करने के क्षमता होती है, और इसके साथ में बाहर की और टायर वाला भाग इसकी मदत करता है.

 

टायर और पहिये के गुणवत्ता:-

1. पहिये और टायर यह गाड़ी का पूरा भार अपने उपर उठाये रखता है.

2. टायर रोड पर बड़ी आसानी के साथ दौड़ता है,

3. छोटे छोटे पथरो से बचाव करके आपको सुरक्षितता प्रदान करते है,

4. गाड़ी में आने वाली वाइब्रेशन को भी यह कम कर देता है,

5. टायर पर अलग-अलग प्रकार की बनी ग्रिप्स, सड़क को पकड़ कर चलने का काम करती है,

6. रोड के हिसाब से अलग अलग प्रकार की टायर ग्रिप्स बनाई जाती है,

7. मौसम कैसा भी हो, ठंडी, धुपकाला या फिर बरसात का मौसम हो सभी प्रकार के मौसम में और कच्ची पक्की सड़क पर चलने के लिए अलग अलग ग्रिप्स वाली टायर लगायी जाती है,

8. जब हम ब्रेक लगाते है, तब टायर, तब तक घसीटता रहता है, जब तक की गाडी रूक न जाये,

9. ब्रेक लगाने से गाड़ी का पहिये रुक जाते है,

10. इंजन की और से आयी हुई ताकत, ड्राइविंग व्हील की वजह से, टायर तक पहुचती है,

11. और इसी कारण से टायर रोड पर चल सकता है.

 

टायर कैसे बनता है:-

अब सोचने वाली बात यह है की टायर किस तरह से बनाया जाता है, टायर को बनाते समय आप देखेंगे की इसके अन्दर बहुत सारे स्टील के तार टायर के अन्दर लगे रहते है. यह तार गोल टायर की तरह ही गोल करके बिठाया जाता है, तार लगाने का प्रमुख कारण यह है की, टायर रिम के अन्दर अछि तरह से बैठ सके, और कभी जब ट्यूब फुट जाये या पंचर हो जाने पर टायर, बाहर की और न निकले, इन तारो के साथ साथ टायर के अन्दर प्लायंज भी लगे रहते है. (Tyre ke bare me jankari – टायर की जानकारी)

जिसके कारण टायर की पकड़ अच्छी मजबूत रहती है, यह प्लायंज नायलोन मांजे के जैसे दिखाई देते है, इस प्लायंज के उपर एक मोटी रबर की परत लगायी जाती है, जो की अलग अलग प्रकार की बनी होती है, और इसी मोटी रबर की परत के कारन, टायर हमेशा सड़क को पकड़ के चलता है, और हम एक जगह से दुसरे जगह पर आसानी से जा सकते है.

Read More – Tyre ke Prakar aur jankari

 

टायर के ग्रिप्स:-

टायर की ग्रिप अलग अलग प्रकार की होती है, और हम हमारे पसंद नापसंद के हिसाब से इसे खरीद कर हमारे गाडियों में लगाते है, इसे बनाने वाली अलग अलग कम्पनी अपने अपने तरीके से बनाकर बाजार में बेचती है, जैसे की सीअट, ऍम आर एफ, टी वि एस, और भी बहुत सी कंपनी है जो टायर बनाती है. (Tyre ke bare me jankari – टायर की जानकारी)

इनमे ग्रिप बनाते समय यह ध्यान रखा जाता है, किस गाड़ी के लिए कोण से टायर का ग्रिप बनाना चाहिए, कच्चे पक्के सड़क पर चलने वाली ग्रिप, बर्फ बार चलने वाली ग्रिप, रेतीली सड़क पर चलने वाली ग्रिप, पहाड़ो और फिसली सड़क पर चलने वाली ग्रिप, और कॉमन ग्रिप जो सभी प्रकार की गाडियो के उपयोग में लायी जाती है.

 

Author by: Prashant

 

Inspection supervision:

Overview:- Tyre ke bare me jankari – टायर की जानकारी (solid Tyre ke bare me jankari).

Name:- न्युमाटिक टायर का उपयोग कैसे करे.

Benefits of Tyre: वाहन का अधिक लोड सहन करना. वाहन को स्थलांतर करना,

Type of Tyre: solid Tyre, Pneumatic Tyre

Search Keyword:-

1. Tyre Kya Hai,

2. Tyre ke bare me jankari,

3. टायर का क्या उपयोग है,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. फास्टैग के लिए आवेदन कैसे करे

2. चेसिस का परिचय और जानकारी

3. चेसिस फ्रेम की रिपेयरिंग

4. ड्राइविंग में करियर कैसे बनाये

5. आंतरिक दहन इंजन के प्रकार

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Tyre ke bare me jankari – टायर की जानकारी और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद….

Post Comments

error: Content is protected !!