108 Ambulance ke bare me jankari – एम्बुलेंस की जानकारी

एम्बुलेंस की जानकारी Ambulance ke bare me jankari, 108 आपतकालीन एम्बुलेंस का उपयोग, ambulance ka upyog kahan hota hai, 108 Ambulance ke bare me jankari, एम्बुलेंस को कैसे बुलाये पूरी जानकारी, (update ambulance ka prayog hota hai)

Ambulance ke bare me jankari - एम्बुलेंस की जानकारी

 

Ambulance ke bare me jankari – एम्बुलेंस की जानकारी:

दोस्तों, एम्बुलेंस के बारे में प्राथमिक जानकारी तो कोई भी बता सकता है, लेकिन दोस्तों क्या आप जानते है की अपडेटेड अम्बुलेंस कैसी होती है? (How is the updated ambulance) उस एम्बुलेंस में कोण-कोण सी सुविधाएँ होती है? (Ambulance ki suvidhanye) एम्बुलेंस कैसी होनी चाहिए? तो आइये प्रिय पाठक, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से पूरी जानकारी देने जा रहे हैं. उम्मीद है इस लेख को भी उतना ही पसंद करेंगे जितना पहले के लेख को किया, .तो आइये दोस्तों जानते है.

बीमार या घायल लोगों को अस्पताल ले जाने और विशेषकर आपात स्थिति में ले जाने के लिए सुसज्जित वाहन का मतलब है एम्बुलेंस.

 

आसान शब्दों में एम्बुलेंस की परिभाषा:

दूसरे शब्दों में, बहुत बीमार व्यक्ति को जल्द, आरामदायक तरीके से अस्पताल ले जाने वाली गाड़ी याने एम्बुलेंस है. ज्यादातर यह सफेद रंग में पाई जाती है कभी-कभी उसमे नीले रंग का चमकीला दिया भी होता है . बीमार इन्सान को उसमे सुला कर ले जाने की भी व्यवस्था होती है. तथा उसके साथ महत्वपूर्ण व्यक्ति या फिर रिश्तेदार बैठ सके ऐसी सुविधा होती है. इस पूरी सिस्टम को एम्बुलेंस याने रुग्ण वाहिका कहते है.

एम्बुलेंस वाहन जिसे हर एक व्यक्ति अलग अलग नाम से जानता है: कोई इसे

1. ऐम्बुलेंस,

2. अस्पताल गाड़ी,

3. घायल और बीमार आदमियों को ले जाने वाली गाड़ी,

4. रुग्ण वाहिनी,

5. रोगी-वाहन, इस नाम से जानते है.

Ambulance को हिंदी भाषा में रोग वाहिनी कहते है. इसे चिकित्सा गाडी के नाम से भी जाना जाता है.

वैसे एम्बुलेंस को कई नाम से पुकारा जाता है, जिसमे मुख्य रूप से उसके हिंदी नाम कुछ इस प्रकार है:–

1. सैनिक चलचिकित्सालय,

2. रोगी-वाहन,

3. रुग्ण-यान,

4. रोगीगाड़ी और

5. अस्पताल गाड़ी, तथा वर्तमान में अब कई लोग इसे 108 नाम से पहचानते है. लेकिन दोस्तों बता दे की एम्बुलेंस वही है सिर्फ उसे अपडेट किया गया है. मतलब एडवांस युग की updated ambulance.

 

update ambulance ki jankari (अपडेटेड एम्बुलेंस की जानकारी):

दोस्तों, यह जानकारी तो एम्बुलेंस के बारे में हो गयी. लेकिन दोस्तों क्या आप जानते है की अपडेटेड एम्बुलेंस (updated ambulance) कैसी होती है? उसमे क्या सुविधाए होती है? इस बारे में आपको ज्ञात होना बेहत जरुरी है. इसीलिए प्रिय पाठक इस लेख को पूरा जरूर पढ़े. जिससे आप बड़े ही आसान भाषा में समझ सकेंगे की अपडेट एम्बुलेंस (updated ambulance) क्या होती है और उसमे कैसे सुविधाएँ प्राप्त होती है.

Read More – Nind me hone vali kriya

 

अपडेटेड एम्बुलेंस की सुविधाएँ:

उस आत्याधुनिक एम्बुलेंस के ड्रायवर तथा मदतनीस यह खास तौर पर एक उत्कृष्ठ मदतनीस होते है (trained paramedical personnel). वह पूरी तरीके से प्रशिक्षित होते है, मरीज को कैसे उठाया जाये, इस बारे में उनको प्रशिक्षण दिया जाता है. मरीज की हालत कैसी है, इस बारे में पता लगाकर जल्दी से वायरलेस की मदत से अस्पताल के स्पेशलिस्ट डोक्टर को बताना आना चाहिये यह उम्मीद उनसे की जाती है. तथा उनको इसकी ट्रेनिंग दी जाती है.

अगर मरीज का दिल बंद पड़ जाये या फिर उसकी सास बंद हो जाये, तो फिर से चालू करने के लिए उनको कृतिम तरीके से चालू रखना इसका पूर्ण रूप से उनको ज्ञान प्राप्त होता है. इस तकनीक को (कार्डियो पल्मोनरी रिससिटेशन – Cardiopulmonary Resuscitation), CPR कह सकते है. वैसे ही ABC ऐरवे, ब्रीडिंग, सर्कुलेशन इनकी देखभाल कैसे की जाये इसकी पूर्ण रूप से जानकारी उनको दी जाती है. स्वासंलिका और श्वसनमार्ग खुला रहे इसके लिए जरुरी रहने वाली सक्सन मशीन वहां उपलब्ध रहती है. मरीज के मुह में नली डाल के उसकी जीभ स्वसन में रुकावट पैदा करती है इसलिए उसको बाजू कर के अगर जरूरत हो तो प्राण वायु का संचार सुरु किया जाता है.

 

108 आपतकालीन अपडेट एम्बुलेंस का उपयोग:

इसके अलावा अगर दिल की धड़कने अचानक रुक जाये या बंद हो जाये तो, उसको इलेक्टिक शोक दे कर दिल को चालू करने की मशीन (defibrillator) भी वहां होती है. उस वक्त वह जरुरी सलाइन, दवाइया उनके साथ होती है.

अगर बहुत बड़े पैमाने पर दर्द हो रहा है तो वह पेनकिलर – इंजेक्शन भी साथ में होते है. अगर हड्डिया टूटी हो तो उनको अलग-अलग तरीके से सहारा देने के लिए साधन रहते है. या फिर गुब्बारों की मदत से आधार दिया जाता है. यह सब चलते रहने के बावजूद मरीज की परिस्थिति अस्पताल में पहुचने का समय, यह सब वायरलेस की मदत से डोक्टर को बताया जाता है. इन सब की जरुरतो को जानना थोडा मुश्किल ही है. लेकिन फिर भी मरीज की जान बचाने के 50% चांस होते है. सैलूट है ऐसी सेवा प्रदान करने के लिए.

 

Author By: APARNA

 

Inspection supervision:

Overview:- Ambulance ke bare me jankari – एम्बुलेंस की जानकारी (108 आपतकालीन अपडेट एम्बुलेंस का उपयोग कैसे करे)

Name- update ambulance ka prayog hota hai

Ambulance Hindi Name:- एम्बुलेंस को हिंदी में “रुग्ण वाहिनी (Rugna Vahini)” कहते हैं,

Ambulance Marathi Name:- एम्बुलेंस को मराठी में “रुग्ण वाहिका (Rugna Vahika)” कहते हैं

location:- all इंडिया,

Search Keyword:-
1. एम्बुलेंस से संपर्क कैसे करे,
2. 108 Update Ambulance ki jankari in Hindi,
3. Ambulance ki suvidhanye Kaise prapt Kare,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. बायोमेडिकल इंजीनियरिंग में करियर कैसे बनाये

2. Rain Gage बनाने के आसान तरीके

3. मेडिकल इंजीनियर कैसे बने

4. माइक्रोबायोलॉजी में करियर कैसे बनाये

5. पेस्टीसाइड वैज्ञानिक कैसे बने

6. मीडिया डायरेक्टर कैसे बने

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Ambulance ke bare me jankari – 108 ke bare me jankari और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

Post Comments

error: Content is protected !!