Steering box ke prakar – स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार

स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार. Steering box ke prakar. स्टीयरिंग बॉक्स के वेरायटीज, वार्म एंड सेक्टर (worm and sector kya hai), worm and roller ki jankari. स्टीयरिंग किसे कहते है. Steering kise kahte hai. वार्म एंड नट की जानकारी. worm and nut ki jankari. स्टीयरिंग बॉक्स के प्रकार इन हिंदी.

Steering box ke prakar - स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार

 

स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार – Steering box ke prakar

दोस्तों, इसके पहले हमने ऑटोमोबाइल के गाडियों में प्रयोग होने वाले स्टीयरिंग सिस्टम के बारे में जानकारी दी है और उसके अलग अलग भागो के बारे में भी जानकारी हासिल की है. दोस्तों उसी लेख को विस्तार से आगे बढ़ाते हुए आज हम आपको स्टीयरिंग सिस्टम के विविध प्रकार की जानकारी देंगे,

तो प्रिय पाठक, वार्म एंड सेक्टर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम के बारे में जानते है, (type steering system Varieties), वार्म एंड रोलर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (worm and roller type steering system) वार्म एंड नट (worm and nut) टाइप स्टीयरिंग सिस्टम, वार्म एंड वार्म व्हील टाइप (worm and worm wheel type) स्टीयरिंग सिस्टम, कैम एंड लीवर टाइप (cam and lever type) हाइड्रोलिक मैकेनिकल स्टीयरिंग (hydraulic mechanical steering) और कॉम्प्रेस एयर मैकेनिकल स्टीयरिंग सिस्टम (compress air mechanical steering) और यह जानकारी पढने के लिए आप सही आर्टिकल पढ रहे है. जी हाँ आज के इस लेख में, हम आपको स्टीयरिंग सिस्टम के विविध प्रकार के बारे में विस्तृत जानकारी देंगे, और जानेंगे की कैसे स्टीयरिंग सिस्टम हर गाड़ी में बहुत ही जरुरी और लाभकारी होती है.

नमस्कार दोस्तों, लंबे समय के बाद, आज फिर आपके लिए ऑटोमोबाइल साइंस से संबंधित लेख प्रकाशित करने जा रहे हैं, उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल उतना ही पसंद आएगा, जितना कि आपको पहले वाला आर्टिकल पसंद आया, क्योंकि हमारी कोशिश यह रहती है कि आपको सही और बेहतर जानकारी मिले,

Steering ki jankari

स्टीयरिंग बॉक्स के प्रकार (type of Steering box):-

1. वार्म एंड सेक्टर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (worm and sector),

2. वार्म एंड रोलर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (worm and roller),

3. वार्म एंड नट टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (worm and nut),

4. वार्म एंड वार्म व्हील टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (worm and worm wheel type),

5. कैम एंड लीवर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (cam and lever type),

6. रैक एंड पिनियन टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (rack and pinion type),

7. हाइड्रोलिक मैकेनिकल टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (hydraulic mechanical steering),

8. कॉम्प्रेस एयर मैकेनिकल टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (compress air mechanical steering),

9. वैकुम मैकेनिकल टाइप स्टीयरिंग सिस्टम (vacum mechanical steering),

Steering ki jankari

वार्म एंड सेक्टर (worm and sector):-

इस तरह के वार्म और सेक्टर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम के अन्दर लगे शाफ़्ट पर वर्म कटे रहते है, और इस शाफ़्ट को बेरिंग के द्वारा आसानी से घुमाया जा सकता है, उपर वाले बेरिंग के उपर एडजस्ट करने के लिए नट लगाया जाता है, जिससे की ढीला या टाइट किया जा सकता है. सेक्टर के उपर वाले दाते भी कटे रहते है, स्टीयरिंग बॉक्स के अन्दर दोनों साइड में बेरिंग या बुश लगाकार चलाया जाता है, स्टीयरिंग बी बॉक्स के अन्दर लुब्रीकेंट्स करने के लिए आयल भर दिया जाता है.

 

वार्म एंड रोलर (worm and roller):-

इस तरह के वार्म और रोलर टाइप स्टीयरिंग वॉक्स के अन्दर दो टेपर रोलर बेरिंग के द्वारा हाउसिंग पर किये जाते है, इसमें स्टीयरिंग रोड फिक्स करके फिट किये जाते है,सेक्टर शाफ़्ट स्टीयरिंग हाउसिंग की दोनों साइड पर लगाये गए बुशो पर घुमती रहती है, और लुब्रीकेंट्स के लिए हाउसिंग के अन्दर आयल भरा रहता है.

 

वार्म एंड नट (worm and nut):-

इस तरह के वार्म और नत टाइप स्टीयरिंग सिस्टम के अन्दर स्टीयरिंग शाफ़्ट सिंगल पिस में लगी रहती है, स्टीयरिंग ट्यूब के अन्दर स्टीयरिंग व्हील बेर्रिंग से लटकी रहती है, इस दोनों बेरिंग को एक के उपर एक करके फसाया जाता है, और उपर से लॉक करके टाइट कर दिया जाता है, इसके भी स्टीयरिंग होउजिंग के अन्दर आयल भरा रहता है,

 

वार्म एंड वार्म व्हील टाइप (worm and worm wheel type):-

इस तरह के वार्म और वार्म व्हील टाइप सेक्टर स्टीयरिंग सिस्टम सेक्टर टाइप की होती है, इसमें फर्क सिर्फ इतना होता है की, इसमें पूरा गियर फिट किया जाता है, इसमें वार्म और सेक्टर स्टीयरिंग की तरह एडजस्टमेंट करना पड़ता है.

 

कैम एंड लीवर टाइप (cam and lever type):-

इस तरह के कैम और लीवर टाइप स्टीयरिंग सिस्टम को भी उसी प्रकार से फिट किया जाता है जैसे की बाकियों को फिट करते है, इसमें सिर्फ इतना फर्क पड़ता है की टेपर बेरिंग की जगह थ्रस्ट बेरिंग लगाये जाते है, और इसमें वार्म की पिच सेण्टर में राखी जाती जाती है, इस सेण्टर शाफ़्ट की आर्म पर एक पैग लगाया जाता है, वार्म को घुमाने में एक लीवर आगे पीछे चलता रहता है, जिससे सेक्टर शाफ़्ट घूमता रहता है, इसके भी सेंटर शाफ़्ट के उपर एक एडजस्ट करने के लिए नट लगाया जाता है, इसके कैप में एडजस्टिंग स्क्रू लगाया जाता है,

 

रैक एंड पिनियन टाइप (rack and pinion type):-

इस तरह के रैक और पिनियन टाइप स्टीयरिंग बॉक्स के अन्दर बॉल जॉइंट से जुड़े रहते है, स्टीयरिंग व्हील के व्दारा स्टीयरिंग शाफ़्ट को घुमाया जाता है, इसके साथ लगा पिनियन भी घूम पाता है, रैक हाउसिंग और पिनियन हाउसिंग में ग्रीस निप्पल लगे रहते है, इसके साथ में तायरोड़ और हाउसिंग के उपर रबर के बुश लगाये जाते है, जिससे सड़क की मिटटी हाउसिंग के अन्दर न जा सके, इसमे एक स्पिंग लोडिंग डैम्पर रैक के निचे लगा रहता है,जिससे गियर की बैकलिश एडजस्ट की जाती है,

 

हाइड्रोलिक मैकेनिकल स्टीयरिंग (hydraulic mechanical steering):-

इस तरह के मेकेनिकल स्टीयरिंग सिस्टम दस-बारह टन क्षमता वाली गाडियों में उपयोग में लाया जाता है, इस तरह के स्टीयरिंग को घुमाने में वाहन चालक को ज्यादा जोर नहीं लगाना पड़ता, लेकिन आज कल हल्की और भारी गाडियों मे इस तरह के हाइड्रोलिक मैकेनिकल स्टीयरिंग सिस्टम का प्रयोग किया जाता है, इस तरह के गाडियों को चलाने में बहुत सुविधा होती है,

worm and nut Steering

Inspection supervision:

Overview:- Steering box ke prakar – स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार.

Name:- स्टीयरिंग सिस्टम का उपयोग कैसे करे.

Benefits of a Steering system: वाहन का अधिक लोड सहन करना. आराम प्रदान करना,

Type of Steering system: Worm and roller, Rack and Pinion, worm and nut,

Search Keyword:-
1. Steering system ka mahatva jankari,
2. स्टीयरिंग सिस्टम के अलग अलग प्रकार in Hindi,
3. स्टीयरिंग बॉक्स के प्रकार,

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. सस्पेंशन सिस्टम की जानकारी

2. सस्पेंशन सिस्टम के प्रकार

3. व्हील बैलेंसिंग कैसे करे

4. टायर की लाइफ कैसे बढ़ाये

5. स्टीयरिंग सिस्टम के पार्ट की जानकारी

6. Power window ke bare me jankari

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Steering box ke prakar – स्टीयरिंग बॉक्स के विविध प्रकार और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद….

Post Comments

error: Content is protected !!