Yoga karate samay jaruri savdhaniyan – योग करते समय सावधानियां

योग करते समय सावधानियां, Yoga karate samay jaruri savdhaniyan. योग करते समय रखें ये 12 सावधानियां. Yogasan karte samay Follow kare yah tips in hindi, योग के लिए जरुरी टिप्स, yoga ka mahatva in hindi.

Yoga karate samay jaruri savdhaniyan - योग करते समय सावधानियां

 

Yoga karate samay jaruri savdhaniyan – योग करते समय सावधानियां:

Yoga Vidya se judi mahatvapurn savdhaniyan: नमस्कार, आज फिर एक बार ”Apna Sandesh वेबपोर्टल” पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है. दोस्तों हर बार हम आपको नई जानकारी से अवगत कराते है. तो दोस्तों आज आपके लिए इस लेख में योगा अभ्यास के बारे में जानकारी बताने जा रहे है.

जी हां दोस्तों इस लेख में आप योग करते समय ली जाने वाली सावधानियां इसके बारे में जानेंगे, तथा (yoga ka mahatva janate hai), Yoga याने क्या होता है? Yoga विद्या की ट्रेनिंग? [Yoga ke 12 savdhaniyan] योग करते समय क्या निर्देश और सावधानिया होनी चाहिए? क्योंकि किसी भी कार्यो को करने के लिए उचित ज्ञान और मार्गदर्शन जरुरी है. तो दोस्तों आईये जानते है .

दोस्तों, मुझे आशा है कि यह लेख आपको पसंद आएगा, और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि यह लेख आपको कैसा लगा. तो दोस्तों आइये जानते है. अपने शारीरिक जीवन ने Yoga की क्या भूमिका क्या है? और योग करना क्यों जरुरी है और योग करते समय कौनसी जरूरी बाते है? इनका अभ्यास करते है.

योग करते समय के निर्देश और सावधानियां:

तो दोस्तों, जैसे की आप जानते है की आजकल की भागदौड़ की जिन्दगी में योगासनों को एक अति महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त हो गया है. Yoga हमारे शरीर को आंतरिक और बाह्य दोनों तरफ से मजबूत बनता है.

आज हमारा जीवन पूर्ण रूप से मशीनों पर निर्भर हो गया है. हमारा खानपान भी पूर्ण रूप से कृत्रिम हो गया है. जिसकी वजह से हमारे शरीर का संतुलन बिघड रहा है.

इस वजह से हमारे लिए Yoga करना बहुत ही महत्त्वपूर्ण बन गया है. लेकिन दोस्तों क्या आप जानते है की योगासन करते समय क्या निर्देश और सावधानियां बरतनी चहिये? तो दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम आपको बताने जा रहे है.

 

Yogasan karte samay Follow kare yah tips in hindi:

Yoga के आसनों को सीखना प्रारम्भ करने से पहले जो निर्देश और सावधानियो का अध्ययन बहुत अच्छे तरीके से कर लेना चाहिए. अगर कोई व्यक्ति योगसन की रुर्वत भी कर लेता है लेकिन वह आसन जो आप करने वाले है वह आसन तब तक प्रभावशाली या फिर वास्तव में लाभकारी नही साबित होगा जब तक आप उसे सही तरीके से नही करते. वह तभी लाभकारी साबित होंगे जब उनकी तयारिया सही ढंग से की जाये.

 

1. आंतो को खाली रखना:

आसन का अभ्यास करने से पहले मूत्राशय और आतों को खाली कर लिया जाय तो ठीक रहता है. अगर आपको कब्ज है तो आप दो-तिन गिलास नमकीन पानी पि कर आसनों का अभ्यास करे. इससे कब्ज को राहत मिलती है. अगर इससे आपको आराम नही मिलता है तो आप के लिए पवनमुक्तासन यह अवश्य लाभकारी साबित होगा. आसनों से पहले मल-त्याग का एक निश्चित समय जरुर बना ले.

 

2. पेट को खाली रखना:

आसन करते समय पेट खाली होना चाहिए. इस लिए भोजन करने के 3 से 4 घंटे तक आसन नही करना चाहिए. यही कारण है की सुबह-सुबह आसन करना योग्य माना जाता है. इस समय निश्चित रूप से पेट यह खाली होता है.

 

3. श्वास-प्रश्वास:

हमेशा नाक से श्वास लीजिये. आप जो आसन कर रहे है उस आसन के विवरण में जैसे निर्देश दिए गते हो उस प्रकार से श्वास की प्रक्रिया जारी रखे.

 

4. कम्बल:

आसनों का अभ्यास करने के लिए कम्बल को चारो ओर से मोड़ कर प्रयोग कीजिये. ऐसे बिछावन का प्रयोग न करे जो की मुलायम हो या फिर जिस में हवा भरी हो.

 

5. आसन का स्थान:

आसन करते समय यह सबसे महत्त्वपूर्ण घटक है. आसन का स्थान यह ऐसे खुले हुए हवादार कमरे में आसन कीजिये जहा वातावरण शांत हो. यह आसन आप बाहर भी कर सकते है लेकिन वातावरण सुहाना होना चाहिए. घर के साज-सामान के पास आसनों का अभ्यास न करे.

 

6. तनाव:

आसन करते समय आवश्यक जोर मत लगाईये, तनाव की स्थिति से बचिए.

 

7. आयु-सीमा:

आसन विभिन्न आयु स्त्री-पुरुषो द्वारा किये जा सकते है. योग के दरवाजे सभी के लिए खुले है.

 

8. सीमाए:

वे लोग पेट में छाले, टी,बी. अगर ऐसे कीसी भी रोगों से पीड़ित है या फिर जिनकी हड्डी टूट गयी हो. उन्होंने आसनों अभ्यास सुरु करने से पहले किसी योग शिक्षक या डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

yoga ka mahatva

9. अभ्यास का समय:

भोजन के समय के बाद आसन कभी भी किये जा सकते है. वैसे भी यौगिक अभ्यासों को करने का सही समय प्रात:४ से ६ बजे है. संस्कृत में इस समय को ब्रम्ह-मुहूर्त कहा गया है. इस समय का वातावरण शांत, शुद्ध व सौर किरणों से परिपूर्ण रहता है. पेट और आतों की गतिविधिया रुक चुकी होती है.

yoga ka mahatva

10. क्रम:

आसनों का अभ्यास करते समय आसन किस क्रम से किये जा रहे है यह भी मायने रखता है. सर्वप्रथम आसन, फिर प्राणायाम, और अंत में ध्यान करे .विशेस आसन क्रम के लिए योग शिक्षक की सलाह ले.

 

11. शारीरिक चेतना:

आप जब भी आसन करे उन्हें बहुत धीरे धीरे करे और पुरे शरीर के प्रति सचेत रहे यदि आप दर्द या सुख का अनुभव करे तो बिना किसी प्रतिक्रिया के इस भावना के प्रति केवल सचेत और जागृत रहे. इस प्रकार आपमें एकाग्रता और सहनशक्ति विकसित होती है.

 

12. वस्त्र:

आसन करते समय ढीले, हल्के और आरामदायक वस्त्र धारन करना अधिक सुविधाजनक रहता है. अभ्यास प्रारंभ करने के पहले चस्मा, घडी, आभुसंन आदि उतार दीजिये. फिर योग का अभ्यास करे,

 

Author by- RITIK 

Inspection supervision:

Overview:- Yoga karate samay jaruri savdhaniyan – योग करते समय सावधानियां,

Name- योग के लिए जरुरी टिप्स, (योग विद्या की ट्रेनिंग)

Search Keyword:-

1. योग करते समय रखें ये 12 सावधानियां,

2. Yogasan karte samay Follow kare yah tips in hindi.

 

यह आर्टीकल जरूर पढ़े…

1. बबूल के गुणधर्म और लाभ

2. एक्यूप्रेशर कोर्स क्या होता है?

3. सूर्य नमस्कार के मास्टर कैसे बने

4. योग में करियर कैसे बनाये

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की Yoga karate samay jaruri savdhaniyan – Yoga करते समय सावधानियां और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…

Post Comments

error: Content is protected !!