B.Sc Pharmacy specialist me Career – फार्मासिस्ट कैसे बने in Hindi

फार्मेसी स्पेशलिस्ट कैसे बने [How to become a Pharmacy specialist], B.Sc Pharmacy me Career kaise banaye, [बीएससी फार्मेसी में करियर कैसे करे], B.Sc Pharmacy me Future – फार्मासिस्ट कैसे बने. Pharmacist kaise bane. B.Sc Pharmacy specialist me Career. Guide In Hindi.

B.Sc Pharmacy specialist me Career - Pharmacist kaise bane in Hindi

 

B.Sc. Pharmacy specialist me Career – फार्मासिस्ट कैसे बने in Hindi:

नमस्कार प्रिय पाठक, ”Apna Sandesh Web portal” पर आप सभी का स्वागत है. दोस्तों अगर आपको भी 12th के बाद मेडिकल विज्ञान [Medical science] में Sarkari Job करना चाहते है. तो इस लेख में, हम आपको फार्मेसी में अधिकारी कैसे बने, [फार्मासिस्ट की नौकरी कैसे करे], फार्मेसी स्पेशलिस्ट बनकर कितना कमा सकते है? यदि आप मेडिकल विज्ञान से संबंधित सभी जानकारी चाहते हैं, तो इस लेख के अंतिम चरण तक जरूर बने रहें, तो आइये प्रिय पाठक जानते है.

जैसा कि हम विज्ञान और तकनीक [Science and Technology] के बारे में लिखना पसंद है और आज उसी संबंधी लेख को प्रकाशित करने जा रहे है, उम्मीद है, हमारे प्रिय पाठकों को इस लेख के माध्यम से ज्ञानवर्धक जानकारी मिले, यह हमारा प्रयास है. तो चलिए दोस्तों,  फार्मेसी इंजीनियर [Pharmacy engineer] क्या है, और इस क्षेत्र में करियर कैसे बनाये? अधिक जानकारी के लिए आगे पढ़ें. B.Sc harmacy me Career kaise banaye

 

फार्मेसी इंजीनियर [Pharmacy engineer] क्या है:

एक फार्मासिस्ट दवाओं के वितरण और प्रबंधन के लिए महत्वपूर्ण व्यक्ति होता है. फार्मेसी इंजीनियर रोगियों को दवाओं और संभावित दवा के दुष्प्रभावों के सही उपयोग पर शिक्षित करता है, और फार्मेसियों और औषधालयों की स्थापना में रोगियों / ग्राहकों की संपूर्ण स्वास्थ्य देखभाल या कल्याण का प्रबंधन करता है.

फार्मासिस्ट को पता होना चाहिए कि रोगी की सुरक्षा के लिए दवाओं को कैसे संभालना है और सही खुराक कैसे देना है.

फार्मासिस्ट को रोगियों के साथ बातचीत और स्मभासन करना आम है, इसलिए फार्मासिस्ट को दवा के बारे में सवालों के जवाब देने की आवश्यकता हो सकती है.

इसके अलावा, निर्धारित दवा से संबंधित कानूनों को जानना और उनका पालन करना सभी फार्मासिस्टों का कर्तव्य और कानूनी दायित्व है.

फार्मास्युटिकल डेवलपमेंट में नए शोधों और उनकी सुरक्षा में बने रहने के लिए फार्मेसी इंजीनियर की अधिक मांग है.

इसीलिए वर्तमान युग का मेडिकल फार्मेसी विभाग बेहतर करियर विकल्प तथ जॉब प्रदान करता है.

 

फार्मेसी स्पेशलिस्ट पात्रता मापदंड [Pharmacist eligibility criteria]

Pharmacy में नौकरी पाने के लिए आपको बहुत मेहनत की जरूरत होती है. जितना आप इस विषय को सरल मानते हैं, उतना सरल नहीं है, इसके लिए आपको दसवीं कक्षा से अध्ययन करना होगा जो इस विषय से संबंधित है. तभी आप फार्मेसी स्पेशलिस्ट बन सकते हैं.

फार्मेसी स्पेशलिस्ट बनने के लिए आपको कक्षा 12th को Physics, Chemistry, Biology के साथ अच्छे अंको से पास होना है. तभी आप इस फील्ड के चयन प्रक्रिया में सहभाग ले सकते है.

1. फिजिक्स, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान (PCB),

2. भौतिकी, रसायन और गणित (PCM),

3. फिजिक्स, रसायन विज्ञान, गणित और जीव विज्ञान (PCMB),

फार्मासिस्ट बनने के लिए न्यूनतम आवश्यकताएं आमतौर पर फार्मेसी का डिप्लोमा D.Pharm. न्यूतनम दो साल का कार्यक्रम होता है.

और बैचलर ऑफ फार्मेसी B.Pharm. साढ़े चार साल का प्रोग्राम होता है.

दोनों फार्मेसी पाठ्यक्रमों में छह महीने की फार्मेसी इंटर्नशिप की आवश्यकता होती है.

प्रशिक्षण और शिक्षा के पूरा होने पर, स्नातक को अपने राज्य के फार्मेसी काउंसिल के साथ पंजीकृत होने के लिए  फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया ने फार्मेसी कॉलेजों को मंजूरी दे दी है,

मास्टर ऑफ़ फार्मेसी [M.Pharm.] या डॉक्टर ऑफ़ फ़ार्मेसी [D.Pharm.] प्राप्त करके अपनी शिक्षा जारी रखना भी संभव है, लेकिन इस प्रकार की फार्मेसी डिग्री फार्मासिस्ट के बजाय अनुसंधान और / या शिक्षण पदों के लिए आवश्यक है.

 

अंडरग्रेजुएट फार्मेसी कोर्स कैसे करे [Undergraduate pharmacy course]

1. फार्मेसी का डिप्लोमा [Diploma in pharmacy]: भारत में व्यापक रूप से डी.फार्मा पाठ्यक्रम के रूप में मान्यता प्राप्त, यह न्यूनतम यूजी पाठ्यक्रम स्तर है जिसे छात्रों को लाइसेंस प्राप्त फार्मासिस्ट बनने के लिए पूरा करना है. D.Pharm एक दो साल का कोर्स है जिसके दौरान छात्रों को फार्मास्युटिकल साइंस का मौलिक ज्ञान प्राप्त होता है. जो छात्र D.Pharm का अध्ययन करते हैं, वे भी B.Pharm का अध्ययन करने के पात्र हैं.

2. बैचलर ऑफ फार्मेसी [Bachelor of Pharmacy]: यह बी.फार्मा के रूप में जाना जाता है, यह चार साल का कोर्स है जहां छात्र हेल्थकेयर और बायोमेडिकल साइंस से संबंधित विषयों को सीखते हैं ताकि वे दवा अनुसंधान और निर्माण में काम कर सकें.

 

स्नातकोत्तर फार्मेसी कोर्स कैसे करे [Postgraduate pharmacy course]

1. फार्मेसी के मास्टर [Master of pharmacy]: फार्मेसी के स्नातक पूरा करने के बाद छात्रों के पास फार्मेसी विषय पर विशेषज्ञ होने का अवसर होता है. यह एक दो साल का स्नातकोत्तर डिग्री कोर्स है जो अनुसंधान पर जोर देता है. निम्नलिखित विषय में मास्टर डिग्री कोर्स पूरा कर सकते है

[Pharmaceutics, Pharmaceutical Analysis, Pharmacology, Pharmaceutical Technology, Pharmacy Practice, Industrial Pharmacy, Pharmacognosy, Pharmaceutical Chemistry, Regulatory Affairs, Quality Assurance. आदि.]

2. डॉक्टर ऑफ़ फ़ार्मेसी (पोस्ट-बैकलॉउरिएट): डॉक्टर ऑफ़ फ़ार्मेसी (Ph.D) का न्यूनतम तीन वर्षीय पाठ्यक्रम छात्रों के लिए होता है. जो
फार्मेसी के अनुसंधान उद्योग में शामिल होने के लिए अत्यधिक आशावादी हैं. इसके अतिरिक्त, छात्रों को जर्नल क्लब, सेमिनार में शामिल होने का मौका मिलता है. उन्हें शोध लेख प्रकाशित करने का अवसर भी मिलता है.

 

फार्मेसी में करियर की संभावनाएँ [Career prospects in pharmacy]

भारत में फार्मासिस्ट सामुदायिक और आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी (आयुष) औषधालयों में, निजी और सार्वजनिक दोनों अस्पतालों में और साथ ही खुदरा फार्मेसियों में काम कर सकते हैं.

फार्मास्युटिकल कंपनियां उन्हें अपने उत्पादों के विपणन और गुणवत्ता नियंत्रण में काम करने के साथ-साथ अनुसंधान के लिए भी अच्छा भुगतान करती है.

M.Pharm कार्यक्रम में विभिन्न विशेषज्ञताएँ उपलब्ध हैं. आप अपनी रुचि के अनुसार कोई भी विशेषज्ञता चुन सकते हैं. छात्रों के पास मास्टर और डॉक्टरेट फार्मेसी पाठ्यक्रमों में विशेषज्ञता का विकल्प चुनने का विकल्प होता है.

1. फार्मास्युटिकल रसायन शास्त्र,

2. फार्मास्युटिकल टेक्नोलॉजी,

3. फार्मास्यूटिकल विश्लेषण और गुणवत्ता आश्वासन,

4. रोग विष्यक औषधालय,

5. औषध बनाने की विद्या,

6. फार्मेसी का अभ्यास,

7. फार्माकोग्नॉसी,

8. औषध निर्मिति,

9. फार्मास्युटिकल मार्केटिंग मैनेजमेंट,

10. गुणवत्ता आश्वासन,

11. फाइटोफार्मास्युटिकल्स और प्राकृतिक उत्पाद,

12. ड्रग डिस्कवरी और विकास,

13. औषधीय रसायन शास्त्र,

14. भारी मात्रा में ड्रग्स,

15. ड्रग रेगुलेटरी अफेयर्स,

16. Biopharmaceutics,

B.Sc Pharmacy me Future

फार्मेसी स्पेशलिस्ट के आवश्यक कौशल [skills of pharmacy specialist]

फार्मासिस्टों को सुरक्षा निर्देशों, संभावित दुष्प्रभावों के बारे में बताने और ओवर-द-काउंटर के साथ-साथ नुस्खे दवाओं के बारे में सामान्य सलाह देने में कुशल होना चाहिए.

फार्मासिस्ट दैनिक आधार पर बीमार रोगियों के साथ काम करते हैं, इसलिए उन्हें धैर्यवान, शांत, आश्वस्त, समझदार और दयालु भी होना चाहिए.

उनके पास विश्लेषणात्मक कौशल और फार्मेसी अनुसंधान में रुचि भी होनी चाहिए, ताकि वे उन दवाओं के बारे में जानकारी के बारे में अद्यतित रहें, जो वे वितरण कर रहे हैं.

अस्पतालों में काम करने वाले फार्मासिस्टों के.लिए, डॉक्टरों के साथ-साथ नर्सों के साथ काम करने की क्षमता महत्वपूर्ण हो सकती है, इसलिए बुनियादी चिकित्सा की जानकारी जरुरी है.

B.Sc Pharmacy me Future

फार्मासिस्ट का वेतन [Pharmacist’s salary]

फार्मासिस्टों का वेतन अनुभव और स्थान के आधार पर भिन्न होता है, लेकिन एक फार्मासिस्ट के लिए न्यूनतम स्टार्टअप वेतन, रूपये 15,000/- हो सकता है.

लेकिन किसी ने अपना प्रशिक्षण पूरा किया है, तो वह फार्मासिस्ट लगभग रु. 25,000/- प्रीति माह वेतन अर्जित कर सकता है.

भारत में सरकारी तथा निजी क्षेत्र में एक फार्मासिस्ट का वेतन भिन्न होता है.

फार्मेसी स्नातकों का शुरुआती वेतन रुपये 15000/ – से लेकर 25,000/- तक प्रति माह मिल सकता है.

 

Author By: सविता
Inspection supervision:

Overview:- B.Sc. Pharmacy specialist me Career – Pharmacist kaise bane in Hindi
Name- फार्मेसी इंजीनियरिंग में (Rojgar) रोजगार कैसे करे,
Educational Qualification:- B. Sc. डिप्लोमा, डिग्री, और मास्टर डिग्री.
Skill:- नए विषयों की जानकारी प्राप्त करना,
Job location:- इंडिया, and Other countries
Job Category:- Pharmacy specialist, Pharmacist, etc.

Search Keyword:-
1. Pharmacist kaise bane,

2. फार्मेसी इंजीनियरिंग में रोजगार कैसे करे,

फार्मेसी इंजीनियरिंग में करियर. B.Sc Pharmacy specialist kaise bane. B.Sc. Pharmacist में भविष्य (future).

 

Read More Article

1.Forest Ranger Officer kaise bane in Hindi – वनपाल की नौकरी कैसे करे

2. Conservation specialist kaise bane – संरक्षण विशेषज्ञ कैसे बने in Hindi

3. Hydraulic engineering me career – हाइड्रोलिक इंजीनियर कैसे बनें

4. Mobile engineering me career – मोबाइल इंजीनियर कैसे बनें

5. B.Sc Hospital Pharmacist course kaise kare

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की B.Sc. Pharmacy specialist me Career – Pharmacist kaise bane in Hindi और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…B.Sc Pharmacy me Future

Post Comments

error: Content is protected !!