12th Fisheries Me Career kaise banaye – फिशरी मैनेजर kaise bane Guide

Fishery Manager Kaise Bane in हिंदी, Fishery Officer kaise bane, 12th ke bad Bachelor of Fisheries kaise kare, Fisheries Me Career kaise banaye, फिशरीज में भविष्य [Future] कैसे बनाये – 12th Fisheries Me Career kaise banaye – फिशरी मैनेजर kaise bane Guide जाने डिटेल्स.

12th ke bad Fisheries Me Career - फिशरी मैनेजर kaise bane Full Guide

 

12th Fisheries Me Career kaise banaye – फिशरी मैनेजर kaise bane Guide

Hello, Friends Welcome To ”Apna Sandesh” Web Portal : दोस्तों, देश में कई ऐसे क्षेत्र हैं जो करियर के विकल्पों मे हर समय विकसित होते रहते हैं और रोजगार देने कें मामले में भी उनका कोई मुकाबला नहीं करता है. और इनमें से एक मछली उत्पादन का क्षेत्र भी है.

तेजी से बढ़ती जनसंख्या और लोगों की जीवन शैली में बदलाव, के कारण इस क्षेत्र का तेजी से विस्तार हुआ है.

इसीलिए Fisheries Business आज के युवाओं के लिए एक आकर्षक करियर विकल्प है. आने वाले समय में इस क्षेत्र में रोजगार की व्यापक संभावना है. इससे जुड़े करियर विकल्पों के बारे में अधिक जानकारी कें लिए कृपया पोस्ट कें अंतिम चरण तक जरूर बने रहें,

जी हाँ दोस्तों, आज के Career Magazine में Fisheries me career kaise banaye, [करियर विकल्प] की चयन प्रक्रिया संबंधी जानकारी देने जा रही हु, इस लेख मे, आप Fishery manager kaise bane और इससे जुडी शिक्षा, फिशरीज में भविष्य [Future] कैसे बनाये, फिशरी मैनेजर बनने की योग्यता, [Fisheries business], 12th विज्ञान के बाद क्या करें, 12th ke bad Bachelor of Fisheries kaise kare, रोजगार और करियर विकल्प क्या है? जाने स्टेप बाय स्टेप – तो आइये जानते है.

Read More Article – Agricultural field inspector kaise bane – कृषि क्षेत्र निरीक्षक कैसे बने

Read More Article – B.Sc Agriculture Course कैसे करे – Rancher kaise bane Full Details

 

फिशरी मैनेजर के रूप में करियर कैसे बनाये [How to make a career as a Fishery Manager]

फिशरी विज्ञान एक आकर्षक करियर रोजगार प्रदान करता है. दोस्तों आपके जानकारी के लिए बता दे की भारत दुनिया मे मछली कें निर्यात में तीसरे स्थान पर है. मत्स्य उद्योग में मछली को पकड़ना, प्रसंस्करण, विपणन और संरक्षण शामिल है.

इस क्षेत्र में एक प्रमुख व्यवसाय Fishery Officer के रूप में भी कर सकते है. एक फिशरी ऑफिसर की प्रमुख जिम्मेदारी जंगली मछली स्टॉक, नदियों, झीलों और अन्य आवासों की निगरानी, ​​प्रबंधन और सुरक्षा करना है, जहां वे रहते हैं.

अधिकांश Fishery Officer सरकारी एजेंसियों के लिए काम करते हैं, इसके बावजूद Fishery Officer के लिए निजी क्षेत्र में भी रोजगार कें अवसर प्रदान किये जाते हैं.

 

मत्स्य मैनेजर क्या करता है?

फिशरी मैनेजर एक मत्स्य पर होने वाली गतिविधियों की देखरेख करते हैं, जिसमें कई अलग अलग गतिविधिया शामिल हैं: जैसे –

A – फिश के खेती के क्षेत्रों की जांच,

B – मछली की वृद्धि की निगरानी करना,

C – उपकरण बनाए रखना,

D – भोजन को प्राथमिकता देना,

E – दवाओं का वितरण करना,

F – और संबद्ध मत्स्य पालन में अन्य प्रबंधकों के साथ समन्वय करना. आदि.

वे पर्यावरण एजेंसियों और संगठनों के साथ भी काम करते हैं. वे पानी की गुणवत्ता और स्वास्थ्य, मछली की आवाजाही और स्पानिंग कें खोजी सर्वेक्षण भी करते हैं.

तथा वे General management activities मे भी संलग्न होते है, जैसे कि श्रमिकों को कार्य सौंपना, नए श्रमिकों को प्रशिक्षित करना, समय-निर्धारण, रिकॉर्ड रखना और किसी भी मुद्दे को दूर करना, जो रोग उत्पन्न कर सकते हैं [रोग, कम गुणवत्ता की फसल, आदि]

 

मत्स्य अधिकारी बनने के लिए आवश्यक पात्रता [Eligibility to become a fisheries officer]

दोस्तों किसी भी क्षेत्र में पेशेवर बनना है तो आवश्यक शिक्षा अर्जित करना जरुरी है. Fishery Officer बनने के लिए, छात्रों को कक्षा 12th से ही शुरुआत करना होगा, यह एक पेशेवर फिशरी ऑफिसर बनने का पहला चरण है.

फिशरी साइंस पाठ्यक्रमों में उच्च अध्ययन कें लिए आवेदन करने के लिए कक्षा 12th में एक मुख्य विषय के रूप में जीव विज्ञान का अध्ययन करना जरुरी है.

भारत में, कई संस्थान Fishery Science में पोस्ट ग्रेजुएट और ग्रेजुएट पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं. इन संस्थानों में प्रवेश पाने के लिए, छात्रों को केंद्रीय एजेंसी इंडियन काउंसिल फॉर एग्रीकल्चर रिसर्च (ICAR) द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा के लिए उपस्थित होना पड़ता है.

कई राज्य सरकारें राज्य-स्तरीय विश्वविद्यालयों / कॉलेजों में मत्स्य पाठ्यक्रम मे प्रवेश के लिए प्रवेश परीक्षा भी आयोजित करती हैं. तो आइए जानते हैं बैचलर ऑफ फिशरीज साइंस कोर्स [B.F.Sc] के आवश्यक चरण,

[Note – 4 साल के बैचलर ऑफ फिशरीज साइंस कोर्स [B.F.Sc], B.Sc इंडस्ट्रियल फिश एंड फिशरीज (3 साल) / B.Sc फिशरीज (3 साल) / B.Sc फिशरीज में आवेदन करने के लिए न्यूनतम योग्यता 12 वीं साइंस में जिव साइंस के साथ पास होना जरूरी है.

उपर्युक्त मे से किसी भी पाठ्यक्रम में स्नातक की डिग्री पूरी करने के बाद, छात्र 2 साल का मास्टर्स ऑफ फिशरीज साइंस कोर्स / M.Sc in Aquatic Biology / Fishery Science / Aquaculture / Industries Fisheries / Limnology and Fisheries – Marine Biology and Fisheries तक की पढ़ाई कर सकते हैं.

 

मत्स्य मैनेजर बनने के लिए शैक्षिक आवश्यकताएं?

अधिकांश मत्स्य प्रबंधकों के लिए विशेष रूप से प्राकृतिक विज्ञान, एक्वाकल्चर, प्रौद्योगिकी या अन्य संबंधित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री होना आवश्यक है.

फिशरी मैनेजर बनने के लिए एक बेहतर अनुभव का अत्यधिक महत्व है. इस क्षेत्र मे करियर को आगे बढ़ाने से पहले कुछ वर्षों तक मछली फार्म में काम करना उचित हो सकता है.

दोस्तों एक पेशेवर फिशरी मैनेजर बनना है तो प्राकृतिक विज्ञान, सांख्यिकी, लेखा, प्रबंधन और डेटाबेस प्रशासन में आवश्यक पाठ्यक्रम पूरा करना होगा, तो आइये फिशरी में करियर के लिए आवश्यक पाठ्यक्रम और डिग्री कोर्स की स्टेप बाय स्टेप जानकारी जाने –

Read More Article – B.Sc Pharmacy assistant kaise bane Full Details

Read More Article – Medical assistant me career [MA] kaise bane Hindi

Bachelor of Fisheries

मत्स्य पालन पाठ्यक्रम और डिग्री कार्यक्रम:

मत्स्य पालन और एक्वाकल्चर के क्षेत्र मे विभिन्न स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं. मत्स्य विज्ञान में डिग्री एक विज्ञान की डिग्री है,

दोस्तों मत्स्य पालन कोर्स में दाखिला प्राप्त करने के लिए जब भी आप सोचते है तो एक जरुरी बात ध्यान में रखे की – विभिन्न विश्वविद्यालयों / कॉलेजों में प्रवेश कें लिए चयन प्रक्रिया या तो विश्वविद्यालय स्तर की परीक्षा (CUSAT) या राज्य स्तरीय प्रवेश परीक्षा के माध्यम से होती है.

जब आप फिशरीज मे करियर बनाने का विचार करते है तो आपको एक आवश्यक डिग्री कोर्स पूरा करना होता है. आप चार साल की बैचलर ऑफ फिशरीज साइंस [B.F.Sc] डिग्री प्राप्त कर सकते है. B.F. Sc के पूरा होने के बाद, उम्मीदवार M.F के लिए आवेदन कर सकते हैं.

फिशरीज साइंस में आप विभिन्न कोर्स पाठ्यक्रम पूरा कर सकते है – जैसे,

1. बैचलर ऑफ फिशरीज साइंस [B.F.Sc] – 4 साल,

2. विज्ञान स्नातक [औद्योगिक मछली और मत्स्य पालन] – 3 वर्ष,

3. बीएससी [B.Sc मत्स्य] – 3 वर्ष,

4. बीएससी [B.Sc एक्वाकल्चर] – 3 वर्ष,

Bachelor of Fisheries

मास्टर पाठ्यक्रम:

1. मत्स्य विज्ञान में मास्टर डिग्री (M.F.Sc) – 2 वर्ष,

2. विज्ञान में मास्टर डिग्री (M.Sc) – 2 वर्ष,

12th ke bad Fisheries Me Career - फिशरी मैनेजर kaise bane Full Guide

Bachelor of Fisheries

B.F.Sc कोर्स को पूरा कैसे करे – योग्यता और B.F.Sc प्रवेश प्रक्रिया:

डिग्री प्रोग्राम पूरा करने कें लिए, उम्मीदवार को विषयों के रूप में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के साथ विज्ञान स्ट्रीम में 12th पास की आवश्यकता होती है.

B.F.Sc. के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार पीसीबी समूह के साथ 12th के पूरा होने कें बाद मत्स्य पालन मे पाठ्यक्रम भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (ICAR) कॉमन एंट्रेंस टेस्ट द्वारा आयोजित प्रवेश परीक्षा शामिल हो सकते है.

कुछ कॉलेज और संस्थान उम्मीदवारों के व्यक्तिगत साक्षात्कार और अंकों के आधार पर सीधे प्रवेश प्रदान करते हैं.

Bachelor of Fisheries

मत्स्य पालन B.Sc. के लिए पात्रता – और B.Sc Fishing Admission Process:

B.Sc. Fisheries में प्रवेश प्राप्त करने कें लिए आपको किसी मान्यताप्राप्त शैक्षिक बोर्ड से विज्ञान स्ट्रीम में 12th स्तर का सफल समापन करना है,

ध्यान रखे B.Sc. Fisheries में दाखिला प्राप्त करना है तो 12th के स्तर पर 50% का न्यूनतम स्कोर (SC / ST उम्मीदवारों के लिए 45%), होना जरुरी है.

पाठ्यक्रम की पेशकश करने वाले अधिकांश संस्थान एक प्रासंगिक प्रवेश परीक्षा में प्रदर्शन कें आधार पर छात्रों को स्वीकार करते हैं, अक्सर व्यक्तिगत साक्षात्कार के दौर के बाद, जिसमें पाठ्यक्रम के लिए उनकी सामान्य योग्यता का परीक्षण किया जाता है.

प्रवेश प्रक्रिया आम तौर पर कॉलेजों में भिन्न होती है, कुछ संस्थान 12th स्तर पर उम्मीदवार के प्रदर्शन के आधार पर सीधे प्रवेश भी प्रदान करते हैं. [LPU-NEST, AUCET, GPAT, JEE आवश्यक प्रवेश परीक्षा]

Bachelor of Fisheries

मत्स्य अधिकारी के लिए रोजगार के अवसर:

मत्स्य विज्ञान में डिग्री प्राप्त छात्र सरकारी और निजी दोनों क्षेत्रों में रोजगार पा सकते है. वे मत्स्य विज्ञान से जुड़े विविध क्षेत्रों में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं.

1] फिश ब्रीडिंग फार्म,

2] खाद्य प्रसंस्करण और प्रौद्योगिकी,

3] खाद्य विभाग,

4] मत्स्य विकास बोर्ड,

5] पर्यावरण एजेंसियां,

मत्स्य विज्ञान में आवश्यक योग्यता प्राप्त करने के बाद उम्मीदवार अपना फिशरी व्यवसाय भी कर सकते हैं.

Bachelor of Fisheries

जॉब रोल्स – फिशरी ऑफिसर के प्रकार [Types of Fisheries Officer]

मत्स्य विज्ञान पाठ्यक्रम मे एक आवश्यक योग्यता वाला व्यक्ति सरकारी और निजी एजेंसियों में रोजगार प्राप्त कर सकता है. और इसे विभिन्न विभागों में विभाजित किया है जैसे –

  • मत्स्य विस्तार अधिकारी,
  • फिशरीज बायोलॉजिस्ट,
  • मत्स्य मैनेजर,
  • फिशरी सुपरवाइजर,
  • मत्स्य तकनीशियन
  • फिशरी ऑफिसर,
  • सहायक मत्स्य विकास अधिकारी,
  • जिला मत्स्य विकास अधिकारी,

 

फिशरी मैनेजर के आवश्यक जिम्मेदारिया:

1. मछली के सही प्रकार और मात्रा को सुनिश्चित करना,

2. नदियों का वार्षिक सर्वेक्षण करना,

3. बाहरी निकायों के साथ संचार करना और सलाह देना,

4. पर्यावरणीय प्रभाव आकलन का संचालन करना,

5. मछली की आवाजाही के लिए लाइसेंस जारी करना और जारी करना,

6. इलेक्ट्रो-फिशिंग और नेटिंग गतिविधियों को अंजाम देना,

7. वैज्ञानिक डेटा की निगरानी करना,

8. रिपोर्ट लिखना,

9. मनोरंजक कोण का समर्थन करना,

10. आवास सुधार योजनाओं मे योगदान करना,

 

फिशरी मैनेजर के कौशल [Fishery manager skills]

A] पर्यावरण को बेहतर बनाने मे रुचि,

B] मछली पकड़ने में रुचि,

C] डेटा का विश्लेषण और व्याख्या करने की क्षमता,

D] एक व्यावहारिक स्वभाव,

E] ड्राइविंग लाइसेंस, जो अंतर्देशीय काम के लिए उपयोगी है.

F] बोट चलाने का अनुभव, जो समुद्री कार्य के लिए सहायक है.

G] विश्लेषणात्मक,

H] अनुसंधान,

I] व्यवसाय प्रबंधन और प्रशासनिक कौशल

J] शानदार मौखिक संचार कौशल,

Fishery Manager Kaise Bane

फिशरी मैनेजर का वेतन [Fishery Manager salary]

1. फिशरी मैनेजर का शुरुआती मासिक वेतन औसत आधार पर लगभग 12,000/- रुपये से लेकर 50,000/- रुपये तक हो सकता है.

2. वे अधिक अनुभव प्राप्त करने कें साथ इससे अधिक इनकम कमा सकते हैं.

3. भारत में एक फिशरी ऑफिसर का औसत वेतन लगभग रूपये 12,00,000/- तक हो सकता है.

4. 1-4 साल के अनुभव कें साथ फिशरी ऑफिसर का वेतन रूपये 60,00,000/- तक हो सकता है.

Fishery Manager Kaise Bane

Author By- Savita

Inspection supervision:

Overview:- 12th ke bad Fisheries Me Career – फिशरी मैनेजर kaise bane Full Guide
Name- फिशरीज में (Rojgar) रोजगार कैसे करे,
Course level – स्नातक के तहत,
Period – 4 वर्ष,
Type of exam – सेमेस्टर प्रणाली,
Eligibility – 12th विज्ञान स्ट्रीम में 50% अंकों के साथ,

12th ke bad Fisheries Me Career – फिशरी मैनेजर kaise bane Full Guide, Fisheries Management me future banaye.

 

Read More Article

1. Food Engineering Me Career – फूड इंजीनियर

2. Video game designer Kaise Bane – गेम डिजाइनिंग

3. Catering Science में करियर कैसे बनाये – Catering Assistant

4. 12th ke bad Computer Engineer Kaise Bane – कंप्यूटर इंजीनियरिंग

5. Dairy Farming me career kaise banaye

 

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की [12th ke bad Fisheries Me Career – फिशरी मैनेजर kaise bane Full Guide] और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…Fishery Manager Kaise Bane

Post Comments

error: Content is protected !!