Ganesh Chaturthi Festival Celebrate | इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव kaise manaye?

गणेश फेस्टिवल की जानकारी. Ganesh Chaturthi Festival kaise manaye, Bhagwan Ganesha Pooja kaise kare. विनायक चतुर्थी का इतिहास. GANESHA FESTIVAL CELEBRATE, इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव Celebrate कैसे करे – Ganesh Chaturthi Festival Celebrate. जानिए अब हिंदी में.

Ganesh Chaturthi Festival और इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव kaise manaye. Bhagwan Ganesha Pooja In Hindi

 

Ganesh Chaturthi Festival Celebrate kaise kare | गणेश उत्सव In Hindi

गणेश चतुर्थी को भगवान गणेश के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है. तथा इस त्योहार को विनायक चतुर्थी और गणेशोत्सव के रूप में भी जाना जाता है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार यह भाद्रपद के उज्ज्वल आधे के चौथे दिन मनाया जाता है. गणेश चतुर्थी उत्सव के दौरान, मूर्तियों को बड़ी संख्या में बनाया जाता है. ये आमतौर पर सभी आकारों में मिट्टी या धातु से बने होते हैं; लोग भगवान विनायक की पूजा करते हैं और उन्हें अपने घरों में रखते हैं और एक से दस दिनों तक उनकी पूजा करते हैं.

इसके बाद मूर्तियों को (विशेषकर महाराष्ट्र में) में विसर्जित किया जाता है. शास्त्रीय संगीत और नृत्य प्रदर्शन, लोक नृत्य, कविता पाठ और फिल्म समारोहों जैसी मुख्य विशेषताओं के साथ सांस्कृतिक दावतों का भी आयोजन किया जाता है.

हाँ प्रिय पाठक आप सब शायद इन सभी बातो से परिचित है लेकिन क्या आप जानते है की शुरु में गणेश चतुर्थी का त्यौहार कब मनाया गया? क्या आप गणेश उत्सव का महत्व जानते है? क्या इसकी भी हिस्ट्री है? गणेश भगवान के सभी रूप समान है? यदि आप इस बारे में GOOGLE पर सर्च कर रहे है तो आप सही आर्टिकल पढ़ रहे है.

जी हाँ यदि आप Bhagwan Ganesh Chaturthi और इससे जुडी सभी जानकारी जानना चाहते है तो आज हम इस लेख में Ganesh Chaturthi ka tyohar कैसे करे [Ganesh Chaturthi Festival kaise manaye], गणेश जी की पूजा कैसे करे, [GANESH FESTIVAL KI JANKARI], Ganesh Pooja Kya Hai? [गणेश उत्सव की जानकारी] Lockdoun me Ganesh Pooja kaise kare Guide In Hindi. तो आइये आध्यात्मिक और इससे जुड़े रहस्य जानते है.

 

Ganesh Chaturthi Festival History – गणेश उत्सव का इतिहास जाने?

मित्र आपको बताना चाहेंगे कि यह स्पष्ट नहीं है कि पहली बार गणेश चतुर्थी कब मनाई गई थी. लेकिन इसपर हमने अध्ययन किया और हमें कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त हुई. आपको बताना चाहेंगे की हिस्ट्री में सन 1666-80 में मराठा साम्राज्य के संस्थापक शिवाजी के शासनकाल के दौरान पुणे में एक सार्वजनिक कार्यक्रम के रूप में मनाए जाने वाले त्योहार को रिकॉर्ड करता है.

वर्ष 1749 से 1818 तक, पेशवाओं ने पुणे में समारोह को प्रोत्साहित किया, लेकिन फिर पेशवाओं के पतन के साथ, गणेश चतुर्थी उत्सव ने अपना राज्य समर्थन खो दिया और फिर लोकमान्य तिलक द्वारा इसका नवीनीकरण किया गया, उसके बाद से ही यह विनायक उत्सव निजी पारिवारिक उत्सव बन गया.

1893 में, लोकमान्य तिलक ने पारिवारिक उत्सव को एक बड़े सार्वजनिक कार्यक्रम में बदल दिया, उन्होंने गणेश चतुर्थी को विभिन्न जातियों के बीच की खाई को रोकने और ब्रिटिश
शासन के खिलाफ लोगों में देशभक्ति का उत्साह पैदा करने के लिए एक प्रमुख त्योहार के रूप में लोकप्रिय बनाया.

कहा जाता है की एकता में हाथी की शक्ति होती है और इसी को कायम रखने के लिए लोकमान्य तिलक ने इस उत्सव का सुभारंभ किया,

Bhagwan Ganesha Pooja

गणेश चतुर्थी त्यौहार कहां मनाया जाता है?

यह त्योहार व्यापक रूप से महाराष्ट्र राज्य में मनाया जाता है, जहां इसकी उत्पत्ति 125 साल से अधिक पहले पुणे शहर में एक सार्वजनिक उत्सव के रूप में हुई थी.

हालाँकि यह रहस्य ही है कि इसे वहाँ किसने शुरू किया (सरदार कृष्णजी ख़ासगीवाले, या स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य तिलक), इसका मुख्य उद्देश्य विभिन्न वर्गों और जातियों के लोगों को एक साथ लाने के लिए उन्हें ब्रिटिश शासन के खिलाफ एकजुट करना था.

एक बात जरूर जाने की बुधवर पेठ में दगडूशेठ हलवाई गणपति मंदिर में मूर्ति बहुत लोकप्रिय और ऐतिहासिक है.

अधिक पढ़ें – Gudi Padwa ke bare me jankari – गुड़ी पड़वा के बारे में जानकारी

अधिक पढ़ें – Holika dahan ki jankari – होलिका दहन की जानकारी

Bhagwan Ganesha Pooja

गणेश उत्सव का आध्यात्मिक महत्व [Spiritual significance of Ganesh festival]

विनायक चतुर्थी को देश के अधिकांश हिस्सों में विशेष रूप से महाराष्ट्र और दक्षिण भारत के कुछ हिस्सों में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है.

त्योहार से एक – दो महीने पहले से तैयारियाँ शुरू हो जाती हैं.

गणेश की मूर्तियों को कुशल कारीगरों द्वारा तैयार किया जाता है और उन्हें खूबसूरती से सजाया जाता है.

ये मूर्तियाँ आकार में भिन्न होती हैं और प्रत्येक इलाके में मंडपों या पंडालों नामक घरों और अस्थायी निर्मित विशेष संरचनाओं में स्थापित करते हैं.

इन पंडालों को रोशनी, फूलों की माला आदि की वस्तुओं से सजाया जाता है. कुछ सजावट थीम पर आधारित होती हैं.

लेकिन इस वर्ष [2020] में COVID – 19 के कारण इस त्यौहार को इतने उत्साह के साथ नहीं मनाया जा सकता, आप इस त्यौहार को अपने घर में बिना कोई भीड़ बनाये गणेश पूजा कर सकते है. बस सभी का ध्यान रखे और साथ ही अपना,

Bhagwan Ganesha Pooja

गणेश उत्सव में विभिन्न कलाकृति [Various artwork in Ganesh festival]

यह त्यौहार विभिन्न सांस्कृतिक गतिविधियों, थिएटर प्रदर्शन, सामुदायिक गतिविधियों जैसे मुफ्त चिकित्सा जांच शिविर, गरीबों के लिए दान आदि के साथ भी मनाया जाता है. गणेश चतुर्थी एक महत्वपूर्ण आर्थिक घटना बन गई है. इस मेगा-इवेंट में कई उद्योग, व्यवसाय और कलाकार को काम मिलता हैं क्योंकि यह उन्हें समुदाय को अपनी कला प्रस्तुत करने के लिए एक उत्कृष्ट मंच प्रदान करता है.

गणेश चतुर्थी के इस शानदार त्यौहार में भगवान गणेश के प्रिय हाथी, भगवान गणेश के जन्म का सम्मान किया जाता है, जो बाधाओं को दूर करने और सौभाग्य लाने के लिए लोकप्रिय हैं. त्योहार बहुत ही सार्वजनिक तरीके से मनाया जाता है. स्थानीय समुदाय सबसे प्रभावशाली गणेश प्रतिमा और प्रदर्शन करने के लिए एक दूसरे के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं. और बहुत सारा संगीत स्पर्धा आयोजित करते है.

ध्यान दें कि इस वर्ष गणेश उत्सव इकोफ्रेंडली मनाने प्रयास करे. हालांकि COVID – 19 के कारण त्योहार को उतना जुलूस के साथ नहीं मनाया जायेगा लेकिन हम सभी को पर्यावरण के संरक्षण के लिए इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव मनाना चाहिए, पर्यावरण संरक्षण के लिए धीरे धीरे अब मूर्तियों का आकार कम हो रहा है. और यदि सार्वजनिक जुलूसों के बिना कृत्रिम तालाबों में मूर्ति विसर्जन करते है तो सही में पर्यावरण रखा हो सकती है.

Ganesh Chaturthi Festival Celebrate

गणेश चतुर्थी महोत्सव तिथियां [Ganesh Chaturthi Festival dates]

त्योहार अगस्त के अंत या सितंबर की शुरुआत में होता है, जो चंद्रमा के चक्र पर निर्भर करता है. यह हिंदू माह भाद्रपद में अमावस्या के बाद चौथे दिन आता है. 2020 में, गणेश चतुर्थी 22 अगस्त को है. यह त्योहार अनंत चतुर्दशी नामक आखिरी दिन पर होने वाले सबसे बड़े उत्सव के साथ 10 दिनों तक चलता है, जो 1 सितंबर 2020 को आता है.

Ganesh Chaturthi Festival Celebrate

अनुष्ठान क्या किया जाता है?

एक बार भगवान विनायक की मूर्ति स्थापित करने के बाद, उनकी मूर्ति में उनकी पवित्र उपस्थिति का आह्वान किया जाता है. इस अनुष्ठान को प्राण प्रतिष्ठा कहा जाता है, जिसके दौरान कई मंत्रों का पाठ किया जाता है.

इसके बाद, एक विशेष पूजा समारोह किया जाता है.

मिठाई, फूल, चावल, नारियल, गुड़, और सिक्के भगवान को अर्पित किए जाते हैं.

प्रतिमा का लाल चंदन पाउडर से अभिषेक भी किया जाता है.

त्योहार के दौरान हर दिन भगवान गणेश की प्रार्थना की जाती है.

भगवान गणेश को समर्पित मंदिर भी विशेष कार्यक्रमों और प्रार्थनाओं का आयोजन करते हैं.

जिनके घर में गणेश की प्रतिमा होती है, वे उनके लिए एक अति-प्रिय अतिथि के रूप में व्यवहार करते हैं और उनकी देखभाल करते हैं.

Ganesh Chaturthi Festival Celebrate

गणेश चतुर्थी का आध्यात्मिक इतिहास [Spiritual history of Ganesh Chaturthi]

कथा कहनियो से हमने जाना है की गणेश भगवान शिव और पार्वती के छोटे पुत्र हैं. उनके जन्म के पीछे कई कहानियां हैं लेकिन उनमें से दो सबसे आम हैं. तो आइये जानते है.

पहली कहानी के अनुसार, पार्वती ने शिव की अनुपस्थिति में अपनी रक्षा के लिए भगवान गणेश को अपने शरीर से मैल से बनाया था.

एक समय की बात है जब पार्वती माता स्नान करते समय दरवाजे की रखवाली का काम भगवान गणेश की दिया, इस बीच, शिव घर लौट आए और गणेश, जो नहीं जानते थे कि शिव कौन थे, तब गणेश जी ने उन्हें रोक दिया.

इससे शिव नाराज हो गए और दोनों के बीच युद्ध हो गया. इस बिच गणेश जी का सिर काट दिया.

इस बारे में पता चलने पर पार्वती बहुत क्रोधित हुईं; उनका क्रोध शांत करने के लिए बदले में, भगवान शिव ने गणेश जी को जीवन में वापस लाने का वादा किया.

फिर कहानी में कुछ इस तरह बताया है की उत्तर की ओर जो कोई अपना सिर करके सोया है उसे लाया जाये, लेकिन उन्हें केवल एक हाथी मिला जिसका सिर लगाकर गणेश जी को जीवनदान दिया गया.

दूसरी प्रचलित कहानी यह है कि देवों ने शिव और पार्वती से गणेश को बनाने का अनुरोध किया ताकि वह रक्षों (राक्षसों) के लिए विघ्नकर्त्ता (बाधाओं का निर्माता) बन सकें, इस प्रकार विघ्नहर्ता (बाधाओं का औसत) और देवों की सहायता करना.

Ganesh Chaturthi Festival Celebrate

Bhagwan Ganesha ke Different Avatar – भगवान गणेश के अवतार
  • Bala Ganesha – बाल गणेश,
  • Taruna Ganesha – तरुण गणेश,
  • Bhakti Ganesha – भक्ति गणेश,
  • Vira Ganesha – विरा गणेश,
  • Shakthi Ganesha – शक्ति गणेश,
  • Dvija Ganesha – द्विज गणेश,
  • Siddhi Ganesha – सिद्धि गणेश,
  • Ucchista Ganesha – उचिस्ता गणेश,
  • Vighna Ganesha – विघ्न गणेश,
  • Kshipra Ganesha – क्षिप्रा गणेश,
  • Heramba Ganesha – हरंबा गणेश,
  • Lakshmi Ganesha – लक्ष्मी गणेश,
  • Maha Ganesha – महा गणेश,
  • Vijaya Ganesha – विजया गणेश,
  • Nritya Ganesha – नृत्य गणेश,
  • Urdhva Ganesha – उर्ध्व गणेश,
  • Ekakshara Ganesha – एकक्षत्र गणेश,
  • Varada Ganesha – वरद गणेश,
  • Tryakshara Ganesha – त्र्यक्षरा गणेश,
  • Kshipra prasada Ganesha – क्षिप्रा प्रसाद गणेश,
  • Haridra Ganesha – हरिद्रा गणेश,
  • Ekadanta Ganesha – एकदंत गणेश,
  • Shristi Ganesha – श्रीस्ती गणेश,
  • Uddanda Ganesha – उदानंद गणेश,
  • Rinamochana Ganesha – रिनमोचन गणेश,
  • Dhuddhi Ganesha – शुद्धी गणेश,
  • Dwimukha Ganesha – द्विमुख गणेश,
  • Trimukha Ganesha – त्रिमुखा गणेश,
  • Sinha Ganesha – सिन्हा गणेश,
  • Yoga Ganesha – योग गणेश,
  • Durga Ganesha – दुर्गा गणेश,
  • Sankatahara Ganesha – संकटहरण गणेश,

 

Inspection supervision:

Overview:- Ganesh Chaturthi Festival और इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव kaise manaye In Hindi

Name- गणेश उत्सव सेलिब्रेट करे,

Ganesh Chaturthi Festival. इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव kaise manaye In Hindi, Bhagwan Ganesha Pooja. Eco-Friendly Ganesha Pooja,

 

Read More Article

1. Hanuman Jayanti ke bare me jankari – हनुमान जयंती की बारे में जानकारी

2. Akshay Tritiya ke bare me jankari – अक्षय तृतीय की जानकारी

3. Ram Navami ke bare me jankari – राम नवमी के बारे में जानकारी

4. Diwali ka Secret Kya Hai?

Bhagwan Ganesha Pooja

हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके लिए उपयोगी रहा है क्योंकि आपने जाना है की [Ganesh Chaturthi Festival और इकोफ्रेंडली गणेश उत्सव kaise manaye In Hindi] और यदि आपको इस लेख से कुछ मदद मिलती है, तो इसे अपने मित्रों तथा ज़रूरतमंद व्यक्ति को साझा करें ताकि हम भी इन लेखों को लिखना जारी रख सकें,

धन्यवाद…Ganesh Chaturthi Festival Celebrate

Post Comments

error: Content is protected !!