Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है?

Regional Transport Office (RTO) Registration kaise kare – आरटीओ ऑफिस का कार्य क्या है? RTO Office kyu hote hai?, Driving License ko Renewal kaise kare, RTO की जानकारी और Office me Konse Kam aur kaise hote hai, ड्राइविंग लाइसेंस में सुधार कैसे करें? RTO ka full form kya hai, In Hindi.

Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है?

 

Regional Transport Office (RTO) | RTO का पूर्ण रूप और अर्थ क्या है?

क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (आरटीओ) – शुल्क, डाउनलोड प्रपत्र – नमस्कार दोस्तों, टेक्नोलॉजी के इस युग में वाहन लोगों के जीवन का एक अभिन्न हिस्सा बन गया हैं. चाहे वह टू-व्हीलर हो, कार हो या टैक्सी, बता दू की हर एक व्यक्ति अपनी परिवहन जरूरतों को पूरा करने के लिए इन वाहनों पर निर्भर रहते हैं. तो आज हम ऐसेही महत्वपूर्ण टॉपिक को कव्हर करेंगे, तो आइये बिना देरी किये RTO Office me Vehicle Registration Kaise Hota Hai और जरुरी जानकारी जानते है.

तो दोस्तों जानकारी के लिए बता दू की आरटीओ वाहन उद्योग के अधिकांश परिचालन पहलुओं को संभालते हैं.

आरटीओ ऑफिस में आमतौर पर Driving license and car registration से जुड़े कार्य होते हैं; तथा, वे संपूर्ण वाहन पारिस्थितिकी तंत्र [Ecosystem] से संबंधित कई अन्य कार्यों को Executed करते हैं. 

दोस्तों आपको बताना चाहेंगे – Improve driving license और Renewal करने की प्रोसेस हमने हमारे पिछले लेख में प्रकाशित की है, और पढ़े – तो आइये जानते है RTO ka full form kya hai और कार्य,

 

RTO का पूर्ण रूप और अर्थ क्या है?

RTO ka full form kya hai – क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय – Regional Transport Office. इसे क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण (RTA) के नाम से भी जाना जाता है. यह एक Government Organization है जो ड्राइवर Database को बनाए रखता है.

यह Vahan Database के लिए भी महत्वपूर्ण है.

यह ड्राइवर और Vahan Database सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कवर करता है.

 

आरटीओ के कार्य क्या है?

दोस्तों जानकारी के लिए बता दू की मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार RTO Office work करते हैं. ड्राइविंग लाइसेंस से संबंधित कार्यों के अलावा, आरटीओ वाहन पंजीकरण, Revenue Collection, वाहन निरीक्षण, पर्यावरण मानदंडों के अनुपालन और सड़क सुरक्षा से संबंधित कार्य किये जाते हैं. यहाँ पूरे भारत में RTOs द्वारा किए गए प्रमुख कार्यों का अवलोकन किया गया है: जैसे –

 

ड्राइविंग लाइसेंस Kaha Banaye jate Hai:

दोस्तों RTO द्वारा चार प्रकार के ड्राइविंग लाइसेंस जारी किए जाते हैं – Learner’s License, Permanent License (शिक्षार्थी की लाइसेंस अवधि पूरी करने के बाद प्राप्त किया गया), Commercial Driving License and an International Driving Permit,

इन लाइसेंसों को जारी करने के अलावा, License renewal, Duplicate license और साथ ही ड्राइविंग परीक्षण करने का कार्य भी RTO ऑफिस में होता है. दोस्तों बताना चाहूंगा की हमारे पिछले लेख में लाइसेंस और लाइसेंस के सभी प्रकार की जानकारी प्रकाशित की है. यदि आप लाइसेंस के प्रकार जानना चाहते है तो यहां क्लिक करे,

आपको बताना चाहेंगे की वाहन के प्रकार के अनुसार ड्राइविंग लाइसेंस भी जारी किया जाता है. उदा. गियर वाले वाहन, बिना गियर वाले, यात्री वाले वाहन, माल परिवहन के लिए प्रयुक्त वाहन, ड्राइविंग लाइसेंस में चालक और वाहन के अधिकृत वर्ग के बारे में सभी आवश्यक जानकारी होती है.

 

सड़क टैक्स – Road tax kyu Liya Jata Hai :

सरकार वाहन से संबंधित कुछ कर लगाती है. सड़क कर एक ऐसा कर है जो रोड टैक्स की वसूली के लिए आरटीओ कार्यलय से लिया है. यह कार्य आमतौर पर पहली बार वाहन का पंजीकरण करते समय किया जाता है.

 

पर्यावरण संबंधी चिंताएं:

आरटीओ मोटर वाहन अधिनियम के अनुसार पर्यावरण संबंधी चिंताओं को दूर करना चाहता है. उदा, यह Compressed natural gas (CNG) / तरल पेट्रोलियम गैस रूपांतरण और PUC (प्रदूषण नियंत्रण नियंत्रण) परीक्षण केंद्रों से संबंधित गतिविधियों का संचालन करता है.

दोस्तों एक बात आपको बताना चाहूँगा की अब सरकार पर्यावरण और प्रदुषण नियंत्रण पर ध्यान दे रहे है. अब नये तंत्रज्ञान आने से प्रदुषण कम होने की संभावना है. BS6 एक इसका स्टोंग उदाहरण है.

 

Road Safety – सड़क सुरक्षा क्यों महत्वपूर्ण है:

सड़क दुर्घटनाएं दुनिया भर में मौत के प्रमुख कारणों में से एक हैं. आरटीओ सुनिश्चित करता है कि सड़क सुरक्षा उपाय मोटर वाहन अधिनियम में बताए गए हैं. दोस्तों सडक सुरक्षा क्या है और इसका महत्व कैसे जाने – Read More.

 

वाहन पंजीकरण कैसे करे – Vehical Registration Kaise kare:

RTO की प्राथमिक जिम्मेदारियों में से एक वाहन डेटाबेस को बनाए रखना है. यह वाहन पंजीकरण समारोह करते समय किया जाता है. सभी नए वाहनों को लागू आरटीओ में पंजीकृत होना जरुरी है. इसी से आपको अपने वाहन की लाइसेंस प्लेट मिलती है. आरटीओ एक वाहन की बिक्री से संबंधित वाहन पंजीकरण कार्यों को भी संभालते हैं, ऐसे मामलों में अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करते हैं जहां वाहनों को एक राज्य के आरटीओ से दूसरे राज्य के आरटीओ में पंजीकृत होने और परिवहन परमिट जारी करने की आवश्यकता होती है.

वाहन पंजीकरण से संबंधित आरटीओ कार्यों को समझने के लिए, आपको निम्नलिखित प्रक्रियाओं से गुजरना होगा, ध्यान दें कि नीचे प्रस्तुत की गई जानकारी सिर्फ आपकी  जानकारी के लिए है और बता दू की हर राज्य के आरटीओ ऑफिस के कार्य तथा रूल्स भिन्न हो सकते है. इसीलिए नजदीकी RTO ऑफिस जाकर Inquiry जरुर करे.

 

आरटीओ में वाहन पंजीकरण प्रक्रिया कैसे करे –

दोस्तों बता दू की ज्यादातर मामलों में, पंजीकरण प्रक्रिया वाहन डीलर द्वारा नियंत्रित की जाती है. तो आइये वाहन पंजीकरण की step बाय step जानकारी जानते है.

वाहन पंजीकरण के लिए पहला स्टेप याने की पंजीकरण फॉर्म भरकर और इसे जिला परिवहन कार्यालय में जमा करना है,

जब आप वाहन का पंजीकरण करते है तो आवश्यक दस्तावेज जमा करना जरुरी है.

1. Form 20,

2. vehicle sales certificate,

3. challan,

4. insurance policy for the vehicle,

5. photographs of the applicant and identity proof, आदि.

उसके बाद एक Inspection officer आपके फॉर्म और आवश्यक दस्तावेजों का मूल्यांकन करेगा,

स्वीकृति मिलते ही, आपको एक वाहन पंजीकरण संख्या और एक रसीद प्राप्त होगी,

सभी स्टेप को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद, आपको अपने वाहन का नया पंजीकरण नंबर प्राप्त होगा, और कुछ दिन बाद ही आपके परमानेंट एड्रेस पर आपकी RC बुक प्राप्त हो जाएगी, RTO me Driving License

 

वाहन बेचने से पहले – Vehical Bechane se Pahale :

दोस्तों यदि आप वाहन बेचना और खरीदना चाहते हो तो आपको लागू आरटीओ से संपर्क करना होगा और उन्हें अपने वाहन की बिक्री के बारे में बताना होगा, आपको वाहन के Ownership को नए मालिक को Transferred करने के लिए हस्तांतरण शुल्क का भुगतान करना होगा और जरुरी दस्तावेज जमा करने होंगे, जैसे –

  • आरटीओ फॉर्म 28,
  • आरटीओ फॉर्म 29,
  • फॉर्म 30,
  • बीमा योजना,
  • नियंत्रण प्रमाणपत्र के तहत प्रदूषण,
  • राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो प्रमाणपत्र, आदि.

 

आरटीओ प्रपत्र – फार्म उद्देश्य क्या है?
  • मोटर वाहन के पंजीकरण के लिए फॉर्म 20 आवेदन,
  • फॉर्म 21 बिक्री प्रमाण पत्र,
  • फार्म 23 पंजीकरण का प्रमाण पत्र,
  • मोटर वाहन का फार्म 24 पंजीकरण,
  • एक मोटर वाहन के स्वामित्व के परिवहन के फार्म 29 नोटिस,
  • फॉर्म 38 एक निरीक्षण की रिपोर्ट,
  • फार्म 50 बिल ऑफ लैडिंग,
  • फॉर्म 51 बीमा का प्रमाण पत्र,
  • प्रपत्र 54 दुर्घटना सूचना रिपोर्ट,
  • फॉरेन इंश्योरेंस के लिए फॉर्म 57 सर्टिफिकेट,

 

आरटीओ फॉर्म कैसे डाउनलोड करें:

आरटीओ के अधिकांश फॉर्म परिवाहन वेबसाइट से डाउनलोड किए जा सकते हैं. जी हाँ आपने सही पढ़ा. उदा. यदि आपको ड्राइविंग लाइसेंस के लिए RTO एप्लिकेशन फॉर्म की आवश्यकता है, तो आप https://parivahan.gov.in इस वेबसाइट से डाउनलोड कर सकते हैं या अपने निकटतम RTO पर जा सकते हैं. तो आइये ऑनलाइन फॉर्म डाउनलोड करने की प्रक्रिया क्या है जानते है.

Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है?

A. सबसे पहले सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की वेबसाइट [https://parivahan.gov.in/parivahan//en/content/all-forms] पर जाएँ,

B. उसके बाद मेनू से Services सूचना सेवाओं का चयन करें,

C. डाउनलोड करने योग्य फ़ॉर्म चुनें,

D. उस प्रकार का चयन करें जिसे आप डाउनलोड करना चाहते हैं. उदा. ड्राइविंग लाइसेंस फॉर्म,

E. सूची से उपयुक्त फ़ॉर्म का चयन करें और इसे डाउनलोड करने के लिए इसके नाम पर क्लिक करें,

F. अब आपके सामने जो फॉर्म चाहते हो ओ डाउनलोड हो जायेगा, RTO me Driving License

 

RTO वाहन सूचना मोबाइल ऐप:-

राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) ने आरटीओ से संबंधित जानकारी और मुद्दों के लिए एक सूचनात्मक ऐप को डिज़ाइन और विकसित किया है. इसे mParivahan कहा जाता है. यह ऐप एंड्रॉइड के साथ-साथ आईओएस प्लेटफॉर्म पर भी काम करता है और इसका उपयोग आरटीओ से जुड़ी जानकारी और उनके द्वारा दी जाने वाली सेवाओं का पता लगाने के लिए किया जा सकता है.

आप इस मोबाइल एप्लिकेशन की मदद से निकटतम प्रदूषण जांच केंद्र को भी ट्रैक कर सकते हैं.

RTO me Driving License | RTO ka full form और अर्थ क्या है?

 

mParivahan ऐप का इस्तेमाल प्रैक्टिस ड्राइविंग लाइसेंस टेस्ट शुरू करने के लिए किया जा सकता है, ताकि आप असली में भाग लेते समय आत्मविश्वास हासिल कर सकें, यदि आप एक इस्तेमाल की गई कार या Second hand वाहन खरीद रहे हैं तो यह ऐप बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है.

आप उस वाहन के विवरण को सत्यापित करने के लिए ऐप का उपयोग करे.

Play Stor – RTO Vehicle Information Mobile App Download

दोस्तों इस तरह आप बेहद ही सरल तरीके से RTO कार्यालय और उपयोग की जाने वाले app तथा सिस्टम को जान लिए है.

फिर भी आपके जानकारी के लिए एक इंपोर्टेंट टॉपिक शेअर करना चाहूँगा जो RTO और DTO के बीच अंतर बताता है. तो आइये जानते है.

 

RTO और DTO के बीच अंतर क्या है:

दोस्तों इसके नाम से ही विस्तार कर सकते है की दोनों में क्या अंतर है? फिर भी बताना चाहूँगा की क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय एक राज्य के लिए हैं और जिला परिवहन अधिकारी – District Transport Officer (डीटीओ) एक जिले के लिए हैं.

एक राज्य में कई जिले होते हैं; इसलिए, इसके कई DTO हो सकते हैं.

आरटीओ के मामले में, आमतौर पर प्रति राज्य केवल एक ही होता है,

लेकिन कार्य के प्रबंधन के लिए पूरे राज्य में विभिन्न आरटीओ कार्यालय हो सकते हैं.

 

Inspection supervision:

Overview:- Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है?
Name- RTO ka full form क्या है?

Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है? in Hindi, [Driving License ko Renewal kaise kare],

 

यह भी जरूर पढ़े:

1. ग्राहक सेवा का महत्व – Importance of customer service 

2. RC और DL की जानकारी पाए अपने मोबाइल पर देखे 

3. विंडस्क्रीन वाइपर का उपयोग – Use of windscreen wiper

4. यातायात के नए नियम – New traffic rules – road safety rules

5. RTO Office kaise bane

 

उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, आपने इस लेख में Regional Transport Office (RTO) | RTO ka full form और अर्थ क्या है? के बारे में पूरी जानकारी जाना है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

RTO me Driving License | RTO ka full form और अर्थ क्या है?

 

Thank you Dosto

Post Comments

error: Content is protected !!