BDS Course (बीडीएस कोर्स) kaise kare | After 12th Career in dentist

After 12th Bachelor of Dental Science [BDS] (बीडीएस कोर्स) kaise kare | BDS Course me career kaise banaye? Bds course fees क्या है? bds course details कैसे जाने? 12th ke baad medical course kaise kare? Salary और कोर्से के बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी तो आइये पढ़ते है.

 

BDS Course (बीडीएस कोर्स) kaise kare - Bachelor of Dental Science

 

BDS कोर्स क्या है कैसे करे? After 12th BDS Course me Career

दोस्तों, Bachelor of Dental Science कोर्स 4 साल का ग्रेजुएट Dental Degree courses है. यदि कोई छात्र इंटर्नशिप का विकल्प चुनकर बी. डी. एस. करना चाहता है तो बीडीएस कोर्स की अवधि 5 साल तक होती है. जानकारी के लिए बता दू की बीडीएस Dental Health and Hygiene पर केंद्रित है.

हाँ दोस्तों, Bachelor of Dental Science एकमात्र ऐसा कोर्स है, जो भारत में बीडीएस के सिलेबस को Indian Health Service द्वारा अनुशंसित किया जाता है, और बीडीएस एमबीबीएस [MBBS] के बाद सबसे अधिक मांग वाला Medical course है.

यदि bds course fees in government college के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो पोस्ट के अंत तक जरुर बने रहे. लेकिन उसके पहले बीडीएस कोर्स क्या है? के बारे में जानते है.

 

बीडीएस कोर्स के बारे में मुख्य जानकारी – After 12th Bachelor of Dental Science Course

बीडीएस कोर्स करने के लिए छात्र को कक्षा 12th में भौतिकी, रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान जैसे विषयों में कम से कम 50 प्रतिशत गुणों की आवश्यकता होती है और एनईईटी को कवर करना करुरी है.

दोस्तों बताना चाहेंगे – बीडीएस कोर्स (Syllabus) मुख्यतः मौखिक रोगों के उपचार, रोकथाम और निदान के लिए General dental practices से संबंधित ज्ञान और कौशल पर केंद्रित है. कुछ कॉलेज syllabus के एक भाग के रूप में इंटर्नशिप प्रदान करते हैं.

छात्र को बीडीएस परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए डेंटल कॉलेज में एक वर्ष के लिए भुगतान किया हुआ Rotating internship पूरा करना होता है.

यह दंत चिकित्सा पाठ्यक्रम छात्रों को Oral medicine and radiology, dental materials, surgical procedures, oral deformities, dental anatomy and oral histology and community dentistry जैसे विभिन्न उपचार से संबंधित जानकारी दी जाती है. यह पाठ्यक्रम छात्र की पसंद के आधार पर Full time and part time दोनों उपलब्ध होते है.

Read More – mass communication me career kaise banye

 

BDS दंत चिकत्सा कोर्स | बीडीएस क्या है?

बीडीएस (Bachelor of Dental Surgery) 5 साल का Graduate program है. यह सरकारी या निजी अस्पतालों में दंत चिकित्सकों के रूप में काम करने के इच्छुक छात्रों के लिए एक अनिवार्य पाठ्यक्रम है, भारत में MBBS के बाद बी.डी.एस. सबसे लोकप्रिय चिकित्सा पाठ्यक्रमों में से एक है.

बीडीएस मुख्य रूप से छात्रों को दंत विज्ञान और सर्जरी के प्रशिक्षण और परिचय पर केंद्रित है.

दोस्तों जैसा की हमने इस बारे में पहले भी उल्लेख किया है और यह 5 साल के कार्यक्रम में कक्षा की शिक्षा के 4 साल और अनिवार्य Rotating internship के लिए 1 वर्ष शामिल हैं.

एमबीबीएस के बाद Health sector में सबसे लोकप्रिय पाठ्यक्रमों में से एक Bachelor of Dental Science [BDS] कोर्स है.

इस डिग्री को Dental Council of India (DCI) द्वारा नियंत्रित किया जाता है. कार्यक्रम में पढ़ाए जाने वाले विभिन्न विषयों में Dental Histology, Oral Pathology, Oral Surgery आदि शामिल हैं.

 

BDS में करियर कैसे बनाये – MBBS ke Bad BDS me career kaise banaye?

बीडीएस दंत चिकित्सकों (डॉक्टरों) की सबसे लोकप्रिय और नामित डिग्री है. बीडीएस (बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी) भारत में दंत चिकित्सा सर्जरी का एकमात्र शैक्षिक और व्यावसायिक कार्यक्रम है. यह MBBS के बराबर है मेडिकल शैक्षणिक क्षेत्र में, MBBS कोर्स के बाद यह छात्रों की दूसरी पसंद है.

BDS की डिग्री चार वर्षीय अकादमिक शिक्षा के सफल समापन और दंत चिकित्सा शिक्षा में एक वर्ष के अनिवार्य इंटर्नशिप कार्यक्रम में बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी डिग्री कार्यक्रम के लिए अग्रणी है. अपने बीडीएस को पूरा करने के बाद, आप दंत चिकित्सक के रूप में अभ्यास करने के लिए योग्य हैं.

बीडीएस एक व्यक्ति को दी जाने वाली डिग्री है जो दांतों से संबंधित समस्याओं के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

दंत चिकित्सक सभी दंत और संबंधित रोगों को रोकता है, निदान करता है और ठीक करता है.

यदि कोई BDS में करियर बनाकर अपना फ्यूचर बनाना चाहता है तो उसे बहुत उत्साह अध्ययन, कड़ी मेहनत और पढाई करना है. साथ ही बीडीएस कोर्स करने के लिए एक केंद्रित दिमाग होना चाहिए.

दोस्तों एक बात जरुर बताना चाहेंगे की Dental programs के लिए Dental Council of India एकमात्र मान्यता प्राप्त भाग है. यह कोर्स मेडिकल क्षेत्र में 12 वीं के बाद छात्रों द्वारा भारी मांग में है.

 

बीडीएस के लिए योग्यता –

सबसे महत्वपूर्ण योग्यता – यदि बी.डी.एस. करना है तो  छात्र को कक्षा 10 वीं में अच्छे नंबर के साथ पास होना अनिवार्य है,

12 वीं में फिजिक्स केमिस्ट्री और बायोलॉजी विषय के साथ कम से कम 50% से उत्तीर्ण होना आवश्यक है.

Note – NEW SHIKSHA NITI में मेडिकल साइंस में कई बदलाव हुए है. दोस्तों इस बारे हमने दुसरे लेख में बताया है Click Now

बीडीएस कोर्स में प्रवेश लेने के लिए आवेदक की आयु 17 वर्ष होनी चाहिए.

यदि आपके पास दंत चिकित्सक के लिए आवेदन करने की सभी योग्यताएं हैं, तो आप इसके लिए आवेदन कर सकते हैं, इसके लिए एक प्रवेश परीक्षा होती है. हा दोस्तों सही पढ़ा. तो आइये इसके बारे में कुछ जरुरी बाते जानते है.

 

बीडीएस में प्रवेश कैसे करे –

BDS में प्रवेश आमतौर पर देश भर में आयोजित राष्ट्रीय स्तर की NEET परीक्षाओं के माध्यम से होता है.

जानकारी के लिए बताना चाहेंगे की (बी.डी.एस. में प्रवेश के लिए) 2016 के बाद से NEET अनिवार्य कर दिया गया है.

एमबीबीएस, बीडीएस आदि जैसे मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए छात्रों को NEET को स्कोर करना आवश्यक है.

छात्र को पाठ्यक्रम में शामिल होने के लिए, 12th में न्यूनतम 50% अंक प्राप्त करना जरुरी है.

पात्रता मानदंडों को पूरा करने पर ही उम्मीदवारों को कॉलेज की प्रवेश प्रक्रिया में प्रवेश करने की अनुमति दी जाती है.

फिर कट-ऑफ सेट होने पर एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं.

बीडीएस पाठ्यक्रम में Human anatomy, physiology and biochemistry, dental materials, prosthodontics, microbiology, embryology and histology, general and dental pharmacology and pathology, periodontics, pedodics, orthodontics and dentistry जैसे बुनियादी विषय शामिल हैं.

 

बैचलर ऑफ डेंटल साइंस (बीडीएस) का syllabus –

1st year –

  • Anatomy,
  • Physiology + Biochemistry,
  • Dental Anatomy + Dental Histology,

 

2nd year

  • Pharmacology,
  • Microbiology + Pathology,
  • Dental material,

 

3rd year –

  • General Medicine,
  • General Surgery,
  • Oral Pathology,

 

Final year (4th year) –

  • Oral Medicine and radiology,
  • Oral and maxillofacial Surgery,
  • Prosthodontics,
  • Periodontics,
  • Public health and community dentistry,
  • Conservative and endodontics,
  • Pedodontics,
  • Orthodontics,
  • Human Physiology,
  • Materials used in Dentistry,
  • Human Oral Anatomy, Physiology, Histology and Tooth Morphology,
  • Oral Pathology and Oral Microbiology,
  • Orthodontics,
  • Oral and Maxillofacial Surgery,

 

BDS me Future kaise banye – बीडीएस में फ्यूचर कैसे बनाये?

चिकित्सा क्षेत्र में रोजगार के अवसर बहुत अधिक है. इसका कारण यह है कि दंत रोगियों की बढती संख्या. इसीलिए यह फिल्ड दंत चिकित्सकों को बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान करना है.

कुछ सर्वे में यह पता चला है की भारत में दंत चिकित्सक की आवश्यकता अधिक हैं.

ऐसा इसलिए है क्योंकि कई दंत चिकित्सक शहरी क्षेत्रों में अपने कौशल का अभ्यास करते हैं, इसलिए यदि उनमें से कुछ को अपनी सेवाएं प्रदान करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में भेजा जाता है, तो दोनों क्षेत्रों में दंत चिकित्सकों की समान उपलब्धता होगी.

क्षेत्रों के इस हस्तांतरण से रोजगार के अवसरों में वृद्धि होगी और सार्वजनिक या सरकारी क्षेत्र में समान रोजगार वितरण भी होगा.

इसी से अनुमान लगा सकते है की आने वाले वर्षों में रोजगार दर में वृद्धि होने वाली है.

लेकिन कोई बीडीएस कोर्स में फ्यूचर बनाना चाहता है तो उसके मन में एक सवाल जरुर आता है और शायद सभी के मन में यह सवाल आता है. हाँ BDS Course Fees कितनी होती है.

 

बी.डी.एस. कोर्स Fees – कितनी होती है?

तो दोस्तों एस्पिरेंट के लिए बैचलर ऑफ डेंटल साइंस [बीडीएस] कोर्स की औसत कोर्स फीस INR 50,000/- से 4 लाख प्रतिवर्ष तक हो सकती है. यह मूल्यांकन कॉलेज या संस्थान के साथ-साथ सरकार और प्रबंधन कोटा के आधार पर भिन्न होता है.

 

बीडीएस कोर्स करने के फायदे (Benefits of BDS)

बीडीएस कोर्स करने के बाद कई लाभ हैं, लेकिन आपको कुछ जरुरी लाभों के बारे में बताना चाहेंगे, ताकि आप विचार कर सकें और अपने करियर को बेहतर बना सके तो आइये जानते है BDS कोर्स करने के फायदे (Benefits of BDS).

कोर्स (बीडीएस कोर्स) करने के बाद आपको डेंटल डक्ट में अच्छा ज्ञान प्राप्त होता है.

डेंटल स्कूल आपको सरकारी या निजी अस्पतालों में या दंत चिकित्सक के रूप में काम करने में सक्षम बनाता है.

आप समाज की सेवा करने के लिए अपना स्वयं का दंत अस्पताल खोल सकते हैं.

साथ ही दंत चिकित्सा विज्ञान में एक कैरियर बना सकते है.

बीडीएस कोर्स करने के बाद, आप किसी के डेंटल हॉस्पिटल में भी काम कर सकते हैं. आदि…

 

BDS के बाद नौकरियां –
  • Forensics,
  • Consultant,
  • Professors,
  • Dental surgeon,
  • Dental hygienist,,
  • Private practitioners,
  • Oral pathologist,
  • Dental assistant,
  • Public Health Specialists,
  • Medical Representative / Sales Representative,

 

बीडीएस कोर्स के बाद क्या करे | विकल्प सेवा

बी.डी.एस. के बाद Dental Surgery Graduate Operational Dentistry, Prosthodontics, Oral Medicine & Radiology, Periodontology & Oral Implantology, Oral & Maxillofacial Surgery, Orthodontics, Endodontics & Aesthetic Dentistryजैसी विशेषज्ञता हासिल करने के लिए चिकित्सकीय सर्जरी के मास्टर डिग्री कर सकते हैं.

 

BDS कोर्स में Career और वेतन | Salary कितनी है?

Bachelor of Dental Science के बाद एक दंत चिकित्सक का सुरुआती वेतन लगभग रु. 15,000/- से रु 30,000/- तक प्रति माह हो सकता है.

उसके बाद डेंटल फील्ड बीडीएस के उम्मीदवारों को पुरस्कृत नौकरी के अवसर प्रदान करता है.

यदि अनुभवी चिकित्सक है तो वह प्रति वर्ष 4 से 6 लाख तक का वेतन अर्जित कर सकता है.

या फिर अपना स्वयं का क्लिनिक स्थापित कर सकते हैं.

और लगभग रु 40,000/- से रु 1,00,000/- प्रति माह इनकम कमा सकते है.

 

Inspection supervision: 

Overview:- Optical engineer | ऑप्टिकल इंजीनियर kaise bane?
Course level:- स्नातक,
Eligibility:- New Education Policy After 12th,
Admission process:- ऑनलाइन, ऑफलाइन,
Skill:- नए विषयों की जानकारी प्राप्त करना,
Job location:- इंडिया, और अन्य देश,
Average starting salary:- INR 2,00,000/- से 20,00,000/- लाख,

 

Read More Article –

 

मुझे उम्मीद है कि आप लोगों को यह लेख जरूर पसंद आया होगा, मैंने अपनी तरफ से BDS Course (बीडीएस कोर्स) kaise kare | After 12th Career in BDS? के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है, फिर भी यदि इस बारे में जानकारी छूट गयी या मिस हो गई तो हमें कमेंट करके जरूर बताये,

दोस्तों अगर इस पोस्ट में कोई गलती है या तो आप हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके सूचित कर सकते हैं और दोस्तों इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे – सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram, WhatsApp, Twitter पर शेयर करें और अन्य सोशल मीडिया पर भी शेयर करें…

Thanks….

Post Comments

error: Content is protected !!